दबी ख्वाइश

Traffic signal की भिखारन को चोदने की ख्वाइश

 

Actor दीपम कुमार , सिनेमा जगत का बहुत बड़ा नाम , जा रहे थे अपनी अगली picture की shooting करने कलकत्ता। वैसे तो अपने निजी जीवन के बारे में किसी से बात नहीं करते थे दीपम , लेकिन पिछली रात अपनी बीवी के साथ हुए जगदे ने उन्हें काफी परेशां कर रखा था। शालिनी जो इस picture की director थी , दीपम की बहुत ही खास दोस्त भी थी। दीपम उन्हें हाले दिल बयां कर रहे थे।

 

“शालू यार क्या बताऊ तुम्हे , मम्ता ने तो मेरा जीना हराम कर रखा है। ”

 

“ऐसी भी क्या बात है तुम दोनों के बीच , तुम्हे इतना ज़यादा परेशां कभी नहीं देखा मेने आज तक। ”

 

“शालू , मम्ता को में काफी दिनों से चोड नहीं पा रहा हु यार। ”

 

शालिनी हैरान थी ये बात सुनकर , “चोड नहीं पा रहे हो का क्या मतलब है?”

 

“यार मेरा लंड खड़ा नहीं होता अब उसे नंगा देख कर , जब वह मेरे लंड को चुस्ती भी है , तब भी खड़ा नहीं होता। ”

 

शालिनी ये बात सुनकर और भी हैरान हो रही थी , “यार क्या कह रहा है , तेरी बीवी ४० में भी industry की सबसे sexy औरतो में से एक है। इतनी मस्त गांड है उसकी और चूचिया भी बड़ी बड़ी है और तू कह रहा है की तेरा लंड खड़ा नहीं होता। ”

bigboob

“शालू तुम्हारी बात सही है लेकिन मेने उसकी चुत और गांड बहुत बार मारी है और उसकी चूचियों को चूस चूस कर मेने ही बड़ा किया है , लेकिन आज कल मेरे मन की एक दबी ख्वाइश जागने लगी है और में अपनी बीवी को चोद नहीं पा रहा हु। ”

 

“ये कोनसी दबी ख्वाइश है ?”

 

“यार में किसी को बता नहीं पाउँगा ये बात। ” दीपम के चेहरे पर गम्भीरता थी , वह परेशां सा होगया था और उसके पसीने छूटने लगे थे। शालिनी उसे इस हाल में देखकर उसके लिए काफी चिंतित थी , उसने काफी कोशिश की की दीपम उसे अपने दिल की बात बताए, लेकिन दीपम कुछ बता नहीं पा रहा था। तब शालिनी ने सोचा की दोस्त होने के नाते वह दीपम का लंड चूसेगी।

 

“अच्छा दीपम सुन , एक बात कह रही हु , मना मत करना तेरी भलाई के लिए है। ”

 

“हाँ हाँ ज़रूर कहो , मुझे तुम्हारी सलहा की सख्त ज़रूरत है। ”

 

“तो फिर अपनी pant खोलो , में तुम्हारा लंड चुस्ती हु। शायद अगर बीवी के अलावा किसी और औरत की चूचिया और चुत देखोगे तो तुम्हारा लंड खड़ा हो जायेगा और अगर बीवी के अलावा कोई और औरत लंड चूसेगी तो तुम्हे माज़ा भी आएगा। ”

 

दीपम ने पहले तो थोड़ी सी झीजग दिखाई लेकिन फिर जब शालिनी नंगी होगई तो उसके मस्त बदन को देख कर दीपम से रहा नहीं गया। दीपम ने भी अपने कपडे खोले , शालिनी की चूचिया छोटी थी जिसकी वजह से वह लटक नहीं रही थी। उसका बदन काफी सुडोल और आकर्षित था क्युकी शालिनी अपनी fitness का बहुत ख्याल रखती थी।

 

शालिनी अपने घुटनो पर बैठ गई और दीपम का लंड चूसे लगी , दीपम की आखे बंद थी और उसका लंड खड़ा होने लगा था। बस कुछ ही पलो की चुसाई में दीपक का लंड पूरी तरह से खड़ा हो चूका था। शालिनी ने दीपक से कहा , “यार तेरे लंड में कोई खराबी नहीं है देख , तुजे बस किसी दूसरी औरत को चोदने का मन था। ”

 

“हाँ और नहीं भी , दूसरी औरत वाली बात तो है ही , लेकिन कुछ और भी है। चुदाई के बाद में तुजे ज़रूर बताऊंगा शालिनी , फ़िलहाल तू लंड चूस। ”

 

“हाँ , वैसे तेरा लंड चूसे में मज़ा आ रहा है , पुरानी यादे ताज़ा होगई। college के बाद आज तेरा लंड चूसने का मौका मिला है। ”

 

चुसाई का पूरा मज़ा लेते हुए , दीपम बस मुस्कुराया। दीपम शालिनी की चूचिया दबा रहा था और उसके निप्पल पर अपनी उंगलिया चला रहा था। शालिनी की भी चुत गीली होने लगी थी, अपनी चुत में ऊँगली करते हुए शालिनी ने दीपम से कहा , “चल अब मेरी चुत काफी गरम है , अपना लंड दाल। ”

 

“यार चल ना कुछ अलग करते है। ”

 

“क्या अलग करना है तुजे?”

 

“यार में तेरी गांड मरना चाहता हु , चुत में ऊँगली दाल कर और देख शायद में खुमारी में तुजे ज़ोर से चोदू, अगर तुजे परेशानी होती है तो मुझे बताना या फिर ज़ोर ढका देदेना। ”

 

“लगता है तेरा अंदर का जानवर आज जाग गया है। ”

 

“हाँ यार , तुजे नंगा देख पता नहीं क्यों तेरी ज़ोर से ठुकाई करने का मन कर रहा है। ”

 

“ठीक है , मार ले मेरी गांड। ”

 

फिर शालिनी बिस्तर का कोना पकड़ कर जुक गई , अपनी तांगे फैलाकर और दीपम ने अपने लम्बे खड़े लंड को शालिनी की गांड में डालना शुरू किया। लंड का बहारी हिस्सा ज़रा सा अंदर गया था की शालिनी की चीख निकल गई , “उफ़ , आ आ… दीपम आरामसे , मुझे दर्द हो रहा है। ”

 

दीपम ने लंड को तुरंत बहार निकाला और शालिनी से कहा , “अच्छा रुको में lubricant लगा लेता हु तुम्हारे गांड के छेद और मेरे लंड पर। ” lubricant लगाने के बाद धीरे धीरे लंड गांड में चला गया और फिर दीपम ने झटके लगाना शुरू किया। शालिनी की चुत में दीपम की उंगलिया भी चल रही थी , चुत पूरी तरह से गीली होगई थी। शालिनी अपनी आखे बंद करके गांड चुदाई का आंनद ले रही थी।

 

“ओहो , क्या माज़ा दे रहा है यार तेरा लंड गांड में। ”

“मेरे लंड को भी बहुत माज़ा आ रहा है तेरी गांड की ठुकाई करके शालू , क्या गांड है तेरी , बिलकुल मटके की तरह। ”

threesome

“जिस तरह से तू मुझे चोद रहा है , मेरे मटके को तोड़ मत देना। ”

 

तब दीपम ने दो चाटे लगाए शालिनी के गांड पर ज़ोर से और गांड लाल हो गई , शालिनी चीखी , लेकिन मज़े से। ऐसी चुदाई किसी ने नहीं की थी शालिनी की कही सालो से।

 

फिर दीपम ने अपना लंड शालिनी की गांड से निकाला और उसे सीधा किया और अपनी गोद में उठा लिया। शालिनी ने अपने दोनों हाथ दीपम के खंड में डाले और फिर दीपम का लंड शालिनी की गांड में दोबारा गया। शालिनी कराही , “उफ़ ” और दीपम ने दुबारा चुदाई शुरू कर दी। दीपम का लंड शालिनी की गांड में झड़ गया और शालिनी की चुत थी पानी पानी। दीपम ने उसे बिस्तर पर फेका और उसके पास लेट गया, “माज़ा आया तुजे शालू ?”

 

“यार सच कहु तो पहले थोड़ा डर लग रहा था , लेकिन जब तूने ज़ोर ज़ोर से चोदना शुरू किया , उसके बाद बस मज़े ही माज़े। ”

 

“चलो ये बढ़िया रहा फिर। बहुत बहुत शुक्रिया मेरे लंड को ज़रा सी शांति देने के लिए। ”

 

“pleasure was mine ” आँख मरती हुई शालिनी , अपनी गांड मटकते हुऐ bathroom की तरफ बड़ी अपनी गांड को साफ़ करने के लिए और फिर शालिनी ने दीपम से पूछा , “अच्छा अब मुझे खुल कर बता मन में क्या दबा बैठा है तू ?”

 

“यार में तुजे बताता हु , लेकिन तू ना मुझे judge मत करना। ”

 

“अरे बाबा नहीं करुँगी , खुलकर बात कर। ”

 

“यार कही दिनों से मुझे वो पुष्पक वाले signal पर एक भीकरण दिख रही है , मेरा मन बस उसी में बस गया है यार। क्या चूचिया है उसकी , फटी साड़ी से हलकी हलकी नज़र आती है और गांड भी मस्त है , उसका शरीर मस्त सुडोल है और रंग साफ़ सावला। शालिनी मुझे वह बिंदी को चोदना है यार। ”

 

शालिनी हैरान तो थी लेकिन उसने ज़यादा कुछ कहा नहीं , बस इतना ही बोली , “तू मुझे ज़रा दिखा , में भी देखना चाहती हु इस भिखारन को। ” “चल फिर।”

 

शालिनी और दीपम अपनी गाड़ी से पहुँच गए signal पर जहा वह भिखारन रोज़ भीक मांगती थी। कुछ वक़्त के इंतज़ार के बाद वह उन्हें दिखी थोड़ी सी दुरी पर किसी एक लड़के से झगड़ा करते हुऐ , तब शालिनी ने उससे गौर से देखा और कहा , “यार figure वगेरा तो सच में अच्छा है इसका , लेकिन ऐसी तो तुजे कोई call girl भी मिल जाएगी। तू इस गन्दी सी भिखारन को क्यों चोदना चाहता है। ” “यार वही तो माज़ा है की वह गन्दी है। यही तो मेरा kink है , में इस गन्दी औरत को चोदना चाहता हु , ज़रा उसकी भाषा और चाल ढाल पर गौर कर। किसी ऐसी सड़क छाप सी बंदी को चोदने का माज़ा कितना raw होगा। ”

 

“हम्म interesting।  तो चल एक काम करते है , इसके साथ threesome करते है। तू , में और ये भिखारन। ”

 

“क्या बात कर रही है तू। ” ख़ुशी वाली हैरानी ज़ाहिर की दीपम ने

 

“ठीक है फिर , में जाकर उससे पूछती हु। ”

 

फिर शालिनी गई उस  भिखारन से बात करने और कुछ देर की बात चित के बाद वह शालिनी के साथ गाड़ी में आगई। दीपम की तरफ देख कर उसने कहा , “साला अपुन को पता था की अपनी ज़िन्दगी में राज योग है , पत्नी ना सही एक superstar की रंडी बनने का मौका मिला आज अपुनको।  ”

दीपम और शालिनी उससे शालिनी के घर ले आये शालिनी ने उससे नहाने के लिए कहा और फिर शालिनी और दीपम उसका कमरे में इंतज़ार करने लगे। शालिनी ने दीपम से कहा , “साली है बहुत चालाक और चटकबाज़ , इसकी चुत में dildo strap on पहनकर चोददूंगी। “दीपम तो बस खामोश था , उसके लिए उसकी इतनी बड़ी fantasy का पूरा होना एक सपने जैसा था। जब भिखारन नहाकर आई तो उसने अपने शरीर पर towel लपेटा था। उसे देख शालिनी और दीपम ने अपने कपडे उतार दिए , दीपम का लंड सख्त खड़ा हुआ था उस भिखारन को देख कर। शालिनी और दीपम को देख कर वह बोली , “क्या गोरा गोरा बदन है रे तुम दोनों का और इसका लंड तो देख , ऐसा लंड अपुन ने ज़िन्दगी में कभी नहीं देखा , ऐसा लाल लंड और इतना लम्बा। साहब में आपके लंड को छू कर देखु क्या केसा लगता है। ”

 

“हाँ इदर आ और अपना towel खोल दे। ”

 

भिखारन दोनों की तरफ बड़ी , उसने towel उतार दिया था और अब वह पूरी नंगी थी , दीपम को बस उसे जल्दी से और ज़ोरो से चोदना था। जैसे ही वह दीपम के पास आई और अपने घुटनो पर बैठी , उसने लंड को पकड़ा और दीपम ने लंड उसके मुँह में डाला। चूस इससे अचे से , वह लंड को पकड़ कर चूसने लगी और दीपम और शालिनी चुम्मा चाती करने लगे। ”

 

“हाय हाय ,लंड इतना अच्छा भी स्वाद दे सकता है , ये तो आज पता चला मुझे। ”

 

कुछ वक़्त की लंड चुसाई के बाद शालिनी ने strap on पहना और भिखारन को बिस्तर का कोना पकड़ कर झुक कर खड़े रहने को कहा। दीपम बिस्तर के ऊपर आगया और लंड दोबारा उसके मुँह में दिया। भिखारन बोली , “ये madam नकली लंड से मुझे चोददेगी , क्या तुम आमिर लोगो को क्या क्या करके माज़ा आता है। ”

 

दीपम , “मैडम का होने दे , उसके बाद में लंड तेरी गांड में डालूंगा। ”

 

भिखारन , “गांड में बहुत बार लंड लिया है मेने साब। अपनों मेरी गांड मरने में बहुत माज़ा आएगा। ”

 

दीपम , “हम्म , चूस अभी , चुस्ती रे। ”

 

शालिनी उसकी चुत को pink dildo से चोद रही थी और दीपम उसका सर पकड़ कर चुसवा रहा था। भिखारन माज़े से कराह रही थी , लेकिन मुँह में लंड होने की वजा से उसकी आवाज़ निकल नहीं रही थी , फिर दीपम ने उसके मुँह से अपना लंड निकाला और कहा , “आजाओ अब , टंगे फैलाकर लेट जाओ। ”

तब दीपम ने उसकी गांड के छेद पर lubricant लगाया तो भिखारन बोली , “अरे साहब क्या कर रहे हो गुदगुदी सी हो रही है। ”

 

“बस अब होगया , ये आये मेरा लंड तेरी गांड में। ” और दीपम ने अपना लंड पूरी तरह से भिखारन की गांड में डाला और उसे दोबारा चोदने लगा , जब वह मज़े से कराह रही थी तब शालिनी उसके चेहरे पर खड़ी होगई और  उसे अपनी चुत चाटने कहा , शालिनी की गीली चुत उसने चाटी और फिर मज़े से अपनी भी चुत सहलाने लगी। तब कुछी पालो में दीपम उसकी गांड में झडगाया और उसने अपना लंड बहार निकाला। शालिनी और भिखारन 69 वाली position में एक दूसरे की चुत चाटते रहे, एक दूसरे को कुछ वक़्त तक माज़े देते रहे। चुदाई के बाद जब तीनो नहा रहे थे तब भिखारन ने शालिनी से पूछा। ”

 

“क्या तुमको बस लड़कियों को चोदना पसंद है ?”

 

“नहीं में bisexual हु , मुझे दोनों में माज़ा आता है। ” मुस्कुराते हुऐ शालिनी ने कहा।

 

“मस्त फिर , जल्दी से दोबारा चुत चाटते है एक दूसरे की और ये साहब का लंड चुत में भी थो लेना है अपनको। ”

 

शालिनी ने दीपम की तरफ देख कर कहा , “होगई अब तेरी ख्वाइश पूरी ?”

 

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *