मलाईदार चुत – भाग 3

 329 

रानी ने अपनी मलाईदार चुत के साथ माँ को भी चुदवा दिया- भाग 3

हेलो दोस्तों तो आपने देखा कि मेरी रानी दी कैसे मेरे लण्ड से अपनी चुत फड़वाई। उसके बाद वो अपने हस्बैंड यानी मेरे जीजा जी के साथ चली गई तो मेरा लन्ड चुत के लिए फड़फड़ाने लगा। लेकिन कुछ दिन बाद दी जब घर आई तो एक नया चुत का रस पिलाई। और वो चुत का रस था मेरी माँ का।

वैसे नए पाठकों के लिए बता दूँ की मेरा नाम विक्की है और मै भोपाल में रहता हूँ और अपने रानी दी और माँ को चोदता हूँ। ये कहानी कई भाग में है तो कृपया आप सभी पाठकों से निवेदन है कि सभी भाग को शुरू से पढ़ें ताकि आपको अच्छे से कहानी की सार समझ मे आए।

तो बिना देर किए चलिए चलतें हैं और जानते हैं:

कैसे रानी दी ने अपनी मलाईदार चुत के साथ माँ को भी चुदवा दी 

करीब एक हफ्ते तक तो रानी दी और मैं रोज कई कई बार चुदाई किए। यहां तक कि बाथरूम में किचन में बालकनी में

यहां तक कि मूवी देखते समय सिनेमा हॉल में भी। हम दिन रात बस चुदाई के बारे में सोचते रहते और जैसे ही मौका मिलता चुदाई का कार्यक्रम शुरू कर देते। क्योंकि हम दोनों हमेशा गर्म रहते थे। दिन भर किस करना चुत में उंगली डाल देना, लन्ड चूसना, चुचियाँ मसलना दिन भर लगा रहता था। लेकिन इस एक हफ्ते के दौरान मैंने नोटिस किया कि कई बार माँ हमदोनो को चुदाई करते हुए देख ली है। यहाँ तक कि रात में चुदाई करके एक दूसरे के बाहों में नंगे ही सो जाते थे।

कई बार तो मैं अपना लन्ड रानी दी के चुत में ही डाल के सो जाता था। और दरवाजा हमेशा खुला रहता था। मैं दरवाजा बंद करने बोलता तो दी बोलती कौन है यहां माँ सिर्फ है और वो यहां नही आएगी।और इस दौरान अब माँ भी बदली बदली सी लग रही थी। ( ये कहानी आप nightqueensstories पर पढ़ रहे हैं) काफी खुश रहती थी और तो और कभी कभी मुझसे मजाक भी कर देती थी। माँ हमेशा साड़ी ही पहनती थी लेकिन जबसे दीदी आयी थी तबसे वो भी मैक्सी पहनती थी। यहाँ तक कि रानी दी कि छोटी सी मैक्सी जो सिर्फ चूतड़ तक होता था उसे पहनती थी।

अब वो बाथरूम में नहाने जाती तो पर्दा नही लगाती और पूरा नंगे होकर ऐसे नहाती। जब मैं होता तो अक्सर वो किसी काम के बहाने झुकती जिससे उनका गांड तक का मैक्सी ऊपर हो जाता और उनका पैंटी साफ दिखाई देता।

माँ पैंटी नहीं पहनी थी और उनकी चुत साफ दिख रही थी

लेकिन एक बार ताज्जुब हुआ वो सिर्फ जालीदार चूतड़ों तक वाली मैक्सी पहनी थी। ना ब्रा ना पैंटी। उनकी चुचियाँ साफ दिखाई दे रही थी।  मैं सोफे पर बैठ के TV देख रहा था। और माँ आयी और टेबल को साफ करने लगी वो मेरे पास आकर टेबल साफ करने के लिए झुकी तो मैं हैरान रह गया माँ पैंटी नहीं पहनी थी और उनकी चुत साफ दिख रही थीउनकी चुत पर एक भी बाल नहीं थे ऐसा लग रहा था जैसे वो आज ही चुत की बाल साफ की थी। मॉम की चुत पानी पानी हो रखा था और साफ दिख रहा था। चुत में पानी के कारण चुत चमक रहा था। फिर माँ उठी और मेरे बगल से झुक के सोफे को झाड़ने लगी जिससे माँ की चुचियाँ मेरे गालों पर और मुँह पर लग रहे थे। क्या बताऊँ दोस्तों मेरे लन्ड महाराज ने तो सलामी देना शुरू कर दिया। और फिर मेरी माँ की नजरें मेरी उभरी हुई लोअर पर पड़ी जो लण्ड खड़ा था। माँ देख के मन ही मन मुस्कुराई। फिर माँ चली गई। उस दिन रानी दी अपने किसी दोस्त के यहां चली गई थी। तो अब मेरे लन्ड को चुत मिलने से रहा।  और मैं पूरा गर्म हो चुका था। फिर मैं बाथरूम गया और मुठ मार के ही ऊंड लन्ड को शांत किया।

फिर दिन बिता और शाम हो गई। ( ये कहानी आप nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं) और दीदी का माँ के फोन पर कॉल आया कि मैं आज अपने दोस्त के यहाँ ही रुकूँगी। तो खाना सिर्फ हमारा ही बना। रात को हम दोनों मॉम बेटे खाना खाए। माँ उस दिन बहुत खूबसूरत लग रही थी वो ढेर सारा मेकअप की हुई थी, और एक चॉकलेटी कलर की जालीदार नाइटी पहनी हुई थी जो बड़ी मुश्किल से उनके गांड चूतड़ों को ढक पा रहा था। वो ब्रा नही पहनी थी जिससे उनकी चुचियाँ साफ दिख रहा था। रात के करीब 10 बजे माँ बोली कि अब नींद आ रहा है। मैं सोने जा रही हूँ। और रानी भी नहीं है तो तुम मेरे पास ही आ के सो जाना मुझे डर भी लगता है। तो जब TV देख लोगे तो आ जाना। फिर माँ चली गई।

माँ की नाईटी कमर पर थी उनका गांड साफ दिख रहा था

 करीब आधे घंटे बाद मैं भी सोने के लिए माँ के रूम में गया तो हैरान रह गया क्योंकि माँ की नाईटी कमर पर थी उनका गांड साफ दिख रहा था और दोनों जांघो के बीच फसी उनकी फूली हुई चुत भी साफ दिखाई दे रहा था। क्योंकि माँ स्ट्रिप वाली पैंटी पहनी थी जो सिर्फ उनकी चुत को ढका हुआ था बाकी के पूरे चूतड़ खुले थे। उनकी गोरी गांड और जांघे देखकर मैं पागल हो गया माँ की एक चूची भी नाईटी से बाहर थी।

तभी माँ करवट ली और अपने नाईटी को ठीक करते हुए बोली आ गए बेटा। बेटा दिन भर काम करके मेरा पैर बहुत दुख रहा है जरा मेरे पैरों में आयल लगा दो। वही पे आयल की शीशी थी मैं ऑइल लगा के मालिश करने लगा थोड़ी देर बाद माँ बोली की हाँ बेटा अब थोड़ा आराम मिल रहा है लेकिन सारा बदन टूट रहा है तो मैने कहाँ की मॉम आप उल्टा हो के  लेट जाओ मैं आप की शरीर की भी मालिश कर देता हूँ।

माँ की चुचियाँ 16 साल की लड़कीं की तरह कड़क थी।

वो उल्टा होकर लेट गई तो मैने कहा माँ नाईटी में कैसे आयल लगाऊं तो वो उठी और उसे फट से निकाल दी और लेट गयी अब उनकी बदन पर सिर्फ उनकी स्ट्रिप वाली पैंटी थी। उनकी चुचियाँ नीचे दब गई लेकिन वो साइड से साफ दिखाई दे रही थी। फिर माँ बोली अब लगा दो बेटा। अब में उनकी कमर और पीठ पर तेल लगा कर मालिश करना शुरू किया। बीच बीच मे मेरी हथेली उनकी चूचियों के साइड मे भी लग रही थी, क्या बताऊँ ईस उम्र में माँ की चुचियाँ 16 साल की लड़कीं की तरह कड़क थी। मैं जोर से उनके पीठ को मसल रहा था अब माँ के मुँह से हल्की सी मादक आवाजें ससीईईईईईईकीईईई aaaaaahhhhhhhh सुनाई देने लगी। उनकी आँखें बंद हो चुकी थी।

( ये कहानी आप nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं)

फिर माँ ने कहा विक्की बेटा  ज़रा मेरे पैरो की पिंडलीयों मे और तेल लगा दो ताकि और आराम मिल जाए। और फिर माँ बेशर्म की तरह पीठ के बल लेट गयी मैने देखा जब वो सीधी हुई तो उनकी चुचियाँ बिल्कुक गोरी और कड़क थी। निप्पल मोटे मोटे हो चुके थे। और उनकी साँसे भी थोड़ी तेज थी इस कारण उनकी चूचियाँ उनकी साँसों के साथ ऊपर नीचे हो रही थी यह नजारा देखकर तो मेरा लंड तो खड़ा होकर शॉर्ट्स को फाड़कर बाहर आने को बेताब हो गई।

अब मेरी उंगलियां माँ की चुत पर बार बार जा रही थी।

 अब मैं उनकी टांगो को फैला दिया और मालिश करने लगा।  अब मेरी उंगलियां माँ की चुत पर बार बार जा रही थी। मेरी माँ की आँखे बन्द थी और मुंह से मादक आवाज फुट रही थी। मैंने देखा अब उनकी पैंटी काफी गीली हो चुकी थी। और चुत से निकले पानी से बहुत अच्छी खुशबू रही थी।

अब मैं बार बार उनकी चुत को पैंटी के ऊपर से ही अच्छे से टच कर रहा था। और कभी कभी रगड़ भी दे रहा था। माँ पूरे बदन को ऐंठने लगी थी अब। लेकिन उनकी आंखें अभी भी बन्द थी। अब मैं उनके पैंटी में साइड से उंगली भी डालने लगा 3, 4 बार ऐसा करने के बाद मैं पैंटी में पूरा उंगली डाल दिया और धीरे धीरे उनकी चूत की दरारों को उंगली से सहलाना शुरु किया । अब मेरे से नही रह गया तो मैं अपना एक हाथ मॉम के चुचियों पर रख उनको ज़ोरजोर से मुठी मे ले के मसलने लगा, उनकी दोनो चुचियाँ कड़क होकर फूल गयी थी, और में उनकी अंडर आर्म्स जिसमे चुत की तरह एक भी बाल नही थे को चूमने लगा और अपनी जीभ से चाटने लगा। उनकी अंडर आर्म्स से आ रही मादक खुशबू मुझे पागल कर दिया था। और उनकी चुत से रही खुशबू ने मेरे लन्ड को लोहे की रॉड की तरह खड़ा कर दिया था।

तभी वो जोर से मुझे खींची और अपने ऊपर लेकर मेरे होंठो को चूसना शुरू कर दिया। और एक हांथ नीचे ले जाकर मेरे शॉर्ट्स मे डाल के मेरा लन्ड पकड़ ली। और फिर वो झटके में उठी और मुझे नीचे सुला दी। और मेरे शॉर्ट्स और अंडरवियर को उतार फेंकी। मैं बनियान पहले से उतारा हुआ था। और फिर वो अपनी पैंटी भी उतार दी और 69 कि पोज में आकर अपनी चुत मेरे मुंह पर रख दी। उनकी चुत बहुत गर्म था और लसलसा पानी से पूरा चुत गीला हो रखा था और चमक रहा था। अब वो मेरे लन्ड को चूस रही थी और मैं उनके चुत को करीब 15, 20 मिनट तक हम इसी तरह लन्ड चुत की चुसाई करते रहे इस दौरान माँ झड़ के फिर से गर्म हो चुकी थी।

बेटा अब नहीं रहा जा रहा अपना ये मोटा लन्ड मेरी चुत में डाल कर मेरी वर्षों की प्यास बुझा दे। फिर माँ बोली कि विक्की बेटा अब मेरे से नही  रहा जा रहा है। अपना ये मोटा लण्ड मेरी चुत में डाल के मेरी चुत की वर्षों की प्यास बुझा दो।

kiss

अब वो नीचे लेट गई और मैने उनके पैरों को फैलाया और अपना लंड उनकी चूत मे डाल कर चोदना शुरू किया मॉम तो कराह रही थी aaaaahhhhhhhhjjjjhhh beteee oh betaaaaa. Aaaahhhhhhhhh aaaaaahhhhhhhhhhhhh mere sonaa kitna achcha chodtaa hai mere babu. मेरी चुत में वर्षो से आग लगी हुई है बेटा तेरे पापा अब मुझे बिल्कुल नहीं चोदते। तुम चोदो बेटे। आहहहहहहहहहहहहहहहहह aaahhhhhhhhhहहहहहहहह मेरा सोना बेटा तेरी माँ चुदाई के लिए तड़प रही है बेटे। फाड़ दे अपनी माँ के चुत मेरे शेर मेरे राजा कितना अच्छा है तू। चोद मेरे प्यारा बाबू चोद अपनी माँ की चूत। aaahhhhhhjh बेटे aaaaahhhhh। तेरी दीदी ने अपनी माँ की दर्द समझी और तेरे लण्ड का व्यवस्था कर दी। तुम्हारी दीदी बहुत अच्छी है बेटे। वो जानबूझ के आज सहेली के यहां रुकी है ताकि तू मुझे चोद सके। अब मैं रोज तुमसे चुदवाऊंगी बेटे। मुझे अब कोई फिक्र नही है। मेरे पास अब मेरे चुत को ठंडा करने का व्यवस्था है। चोद बेटे अपनी माँ को चोद के चुत की धज्जियाँ उड़ा दे।

करीब 45 मिनट तक मैं माँ को चोदता रहा इस दौरान माँ 4 बार झाड़ चुकी थी। माँ चुदवाते समय बड़ी अजीब सी गंदी-गंदी बातें और गालियाँ बोले जा रही थी, जिसे मे भी अनसुना कर चुदाई का मजा ले रहा था, वो बेटी से भी ज्यादा चुदकड़ निकली थी। उस रात माँ को मैने कई बार कई स्टाइल मे चोदा और 2 बार गांड भी मारी. सुबह जब उठा तो वो मेरे बगल मे बिल्कुल नंगी सोई थी और उनकी चूत मेरे मोटे और लंबे लंड के कारण फूल कर बड़ा पाव की तरह हो गयी थी. ( ये कहानी आप nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं)

और हर बार माँ की चुत की रसधार और गर्म निकली थी। जब माँ झड़ती थी तो मुझे कस के दबोच लेती थी। और अपना कमर जोर जोर से उचका कर मेरे लन्ड को अपने चुत में लेती थी। तभी मैं भी झड़ने को आया। मैने बोला माँ मैं भी झड़ने वाला हूँ तो मेरी माँ ने पैरों की कैंची बनाकर मेरे कमर पर लपेट ली और पूरी ताकत से अपने चुत पर दबाने लगी और कहने लगी बेटा अपने लन्ड का पानी मेरी चुत को पिला दे। सारा पानी अपनी माँ के चुत में डाल दे। फिर मैं और तेजी से चोदने लगा और करीब 8, 10 धक्कों के बाद मेरा लन्ड पूरा पानी माँ के चुत में छोड़ दिया। और मैं हाँफते हुए माँ के ऊपर लेट गया। मैं तो थक गया था लेकिन मेरी माँ मुझे लगातर किस किये जा रही थी। और i love you के साथ बड़बड़ाए जा रही थी मेरी तरफ कर रही थी।

करीब 45 मिनट तक मैं माँ को चोदता रहा इस दौरान माँ 4 बार झाड़ चुकी थी। माँ चुदवाते समय बड़ी अजीब सी गंदीगंदी बातें और गालियाँ बोले जा रही थी, जिसे मे भी अनसुना कर चुदाई का मजा ले रहा था, वो बेटी से भी ज्यादा चुदकड़ निकली थी। उस रात माँ को मैने कई बार कई स्टाइल मे चोदा और 2 बार गांड भी मारी. सुबह जब उठा तो वो मेरे बगल मे बिल्कुल नंगी सोई थी और उनकी चूत मेरे मोटे और लंबे लंड के कारण फूल कर बड़ा पाव की तरह हो गयी थी. माँ कितने दिनों बाद आज चरमसुख पाई थी। अब मैं अपनी लन्ड माँ के चुत में डाले ही माँ के ऊपर सो गया। उस रात हम कई बार चुदाई किये।

फिर एक रोज मैं माँ की गांड मारा, और फिर एक रोज अपनी बहन के गांड का भी सील तोड़ दिया। और असली मजा तो तब आया जब मेरी रानी दी और मेरी माँ एक साथ मुझसे चुदी।

और इन सब कहानियों को जानने के लिए आपको इंतज़ार करना होगा। और कॉमेंट करके मुझे बताइयेग की ये बहनभाई और माँ की चुदाई कैसी लगी। और अगले स्टोरीज में पहले कौन सा पढ़ना चाहेंगे आप।

तो आप कॉमेंट करके जरूर बताना। तब तक के लिए दीजिए मुझे इजाजत।

ऐसी कयामत भरी चुदास कहानी पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com पर बने रहना। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “प्यासी चुत”

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories

इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

धन्यवाद।

आपसब अपना ख्याल रखिएगा। और अपना प्यार इसी तरह बनाए रखिएगा।

नमस्कार।

86% LikesVS
14% Dislikes

One thought on “मलाईदार चुत – भाग 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *