लंड की भूख

लंड की भूख ने मुझे और अम्मी को लेस्बियन चुदाई सीखा दिया

हेलो दोस्तों। https://nightqueenstories.com के सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार।

कैसे हो आप सब

दोस्तों मेरा नाम जन्नत है और मैं एक अमीर मुस्लिम परिवार की और अपने माता पिता की एकलौती संतान हूँ। ना हमारे पास पैसों की कमी है और ना ही घर की। हम दिल्ली के रहने वाले हैं दिल्ली में हमारा 6 बड़े घर और अपार्टमेंट हैं जिनमे 4 रेंट पर हैं।

 

मैं पहले के कहानियों में अपने बारे में बता चुकी हूँ। इसलिए आपसब को बोर ना करते हुए आगे बढ़ते हैं। और आगे घटी घटनाओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

कैसे मैं और अम्मी नकली लन्ड से एक दूसरे के चुत की प्यास बुझाए।

https://nightqueenstories.com के प्यारे पाठकों, दरअसल मैं कुँवारी जरूर हूँ लेकिन मुझे चुदाई की पूरी नॉलेज है। मैं18 साल की हूँ लेकिन मैं पिछली कई सालों से अपने चुत को रगड़ कर शांत करते आ रही हूँ। मैं सेक्स कहानियां पढ़ना और पोर्न मूवी देखना बहुत पसंद है। और मैं पिछले कई सालों से ऐसा कर रही हूं। और जब से मेरे घर मे मुझे कोचिंग देने सुमित आ रहे हैं तब से मैं बहुत बड़ी चुदक्कड़ बन गई हूँ। और मेरी अम्मी तो मुझसे भी रंडी चुदक्कड़ बन चुकी है।

लेस्बियन चुदाई

और हमदोनों माँ बेटी एक ही जवान लन्ड की दीवानी हो चुकी है। कभी अम्मी चुदवाती है कभी मैं चुदवाती हूँ। लेकिन मेरी अम्मी मेरे प्यार को बांट रही है और मेरे बॉयफ्रेंड को एक सौतन की तरह मुझसे दूर कर अपने तरफ खींचना चाहती है।

दरअसल ये कहानी मेरी अम्मी और मेरी एक साथ चुदाई की है जिसे लेस्बियन सेक्स कहते हैं।

हम माँ-बेटी सुमित के लन्ड के इतने दीवाने हो चुके थे की हम सबकुछ भूलकर बस चुदाई के बारे में सोचते थे। जब मैं चुदवाती तो मेरी अम्मी छुप छुप के देखती और जब मेरी अम्मी चुदवाती तो मैं छूकर देखा करती थी। और अपने चुत को रगड़कर चुत की आग शांत करने की कोशिश करती थी।

 

मुझे अपने अम्मी से बहुत जलन होने लगी थी। लेकिन थी तो मेरी अम्मी ही, मैं बहुत प्यार करती हूँ उनसे। हम लगभग रोज चुदाई करने लगे थे। और एक भी दिन चुदाई के बिना रह नही पाते थे।

 

मुझे तो जवानी का नशा था। और चढ़ती जवानी की जोश और एक जवान मर्द की लन्ड ने मुझे चुदने की लत लगा दी थी।

 

लेकिन मेरी अम्मी भले अधेड़ हो चुकी थी। लेकिन वर्षों बाद जब उन्हें एक जवान लन्ड मिला और वर्षों की प्यासी चुत में लन्ड रस की बूंदें पड़ी तो अम्मी खिल उठी। और अब फिर से वो जवान हो गई।

 

तो हुआ ये एक बार सुमित को 5, 6 दिनों के लिए कहीं जाना पड़ गया। और हम माँ-बेटी की प्यासी चुत में ज्वालामुखी धधकने लगी। जो चुत पिछले 2 महीने से रोज चुद रही थी। वो अब लंड के लिए तड़पने लगी।

 

हमे चुदे हुए 2 दिन बीत गए। रात का समय था मैं और अम्मी अपने अपने रूम में थे। 12 बजे का वक़्त था। मैं https://nightqueenstories.com पर चुदाई की कहानियां पढ़ रही थी। और मेरी चुत की आग और बढ़ गई।

मुझे चुत को रगड़ते 10 मिनट हो चुके थे लेकिन मेरी चुत की प्यास बुझ नहीं रही थी।

और धीरे धीरे मैं अपने सारे कपड़े उतार कर बिल्कुल नंगी हो गई। और चुत में उँगली करने लगी। मुझे चुत को रगड़ते और उँगली डालते करीब 10 मिनट हो चुके थे। लेकिन मेरी चुत की प्यास बुझ ही नही रही थी। मेरी बेचैनी बढ़ रही थी। क्योंकि मैं सुमित से चुदते समय इतनी देर में 2 बार झड़ जाती थी। वेसे भी जिस चुत को सुमित के 8 इंच बड़े लन्ड को खाने की आदत हो गई थी उस चुत को उँगली से क्या होना था। मैं करीब और 5, 7 मिनट चुत को उँगली से चोदती रही लेकिन मेरी चुत से पानी नहीं निकला। अब मैं बुरी तरह से थक चुकी थी। और मेरे अंदर गुस्सा भर चुका था। मुझे नही पता वो गुस्सा क्यों था। लेकिन अगर अभी कोई भी मर्द मेरे सामने होता तो मैं जबरदस्ती उसका लंड अपनी चुत में डाल लेती।

 

थोड़ी देर मैं बेड पर पड़ी रही। फिर मैं उठी और रूम से बाहर गई और इधर उधर कुछ ढूँढने लगी। लेकिन मुझे कुछ नहीं दिख रहा था। तभी मुझे माँ के कमरे से आहहहहहहहहह ऊँहहहहहहहहह की कराहने की आवाज सुनाई दी। मैं भागकर माँ के कमरे के पास गई और दरवाजा को पुश करने की कोशिश किया। दरवाजा खुला था। तो मैं हल्का सा ही दरवाजा खोली, और अंदर का नजारा देखकर दंग रह गई।

अम्मी बेड पर लेटी हुई थी और दोंनो पैर फैलाकर डिल्डो को चुत पर रगड़ रही थी

दरअसल मेरी अम्मी बेड पर बिल्कुल नंगी लेटी थी। उनकी दोनो पैर फैले हुए थे। और उनके हाथ मे एक डिल्डो था और वो उस डिल्डो को अपने चुत पर रगड़ रही थी।

 

और बोल रही थी, सुमित तुम कहाँ हो, देखो मेरी चुत कितनी प्यासी है और मैं तुम्हारे लन्ड के लिए तड़प रही हूँ। तुम जल्दी आ जाओ मेरी जान। वरना मैं इस चुत की आग में झुलस कर मर जाऊंगी।

 

अम्मी की चुत से रस बाहर रिस रहा था। और उनकी चुत चमक रही थी। ये नजारा देखकर मेरी चुत में और तेज आग भड़क गई। मैं अपनी चुत को फिर से रगड़ने लगी। फिर मुझे कुछ शैतानी सूझी। और मैंने सोचा क्यों न इस मौके का फायदा उठाया जाए।

 

और मैं तभी पूरा दरवाजा खोलकर अंदर चली गई। और मेरी अम्मी हड़बड़ाकर उठी और डिल्डो को छिपाने लगी। मैं बोली अम्मी ये क्या कर रही हो आप और ये आपके हाथ मे क्या था। आप क्या छुपा रही हो?

 

तो अम्मी बोली कि बेटा मेरी चुत में बहुत तेज आग लगी है और मेरे से बर्दास्त नहीं हुआ तो मैं ये करने लगी। फिर मैं अम्मी के पास गई उनके सर को पकड़ा और उनकी होंठो को किस करने लगी। पहले तो अम्मी झिझक रही थी। फिर वो भी साथ देने लगी। करीब हम 5 मिनट तक किस किये फिर मैं अम्मी के लेटा दी। और बोली अम्मी हमदोनों की चुत बहुत प्यासी है। लेकिन मैं अब समझ गई और अब आपकी चुत की प्यास मैं बुझाऊंगी। फिर मैं अम्मी को किस करने लगी। और उनकी बूब्स को मसलने लगी। मेरी अम्मी आज भी 27, 28 साल की एक जबरदस्त जवान हसीना लगती है। अब मैं नीचे आयी और अम्मी की पैरों को फैला दी और उनकी चुत पर मुँह रख दी। अम्मी की चुत पहले से ही बहुत पानी पानी हो रखी दी। मैं अम्मी की चुत को चाटने लगी। अम्मी आहहहहहहहहह….. उँहहहहहहहहह….. करने लगी। फिर मैं ऊपर आई और अम्मी की चुत पर अपनी चुत रखी और रगड़ने लगी। अम्मी भी नीचे से खूब जोर जोर से चुत को रगड़ने लगी। करीब 5 मिनट में ही अम्मी की चुत फिर से पानी छोड़ दिया। फिर अम्मी मुझे रुकने को बोली और नीचे की। और उठकर बिस्तर के ड्रावर खोली उसमे से स्ट्रैप ऑन निकाली और उस नकली लन्ड को उसमे सेट की। फिर मुझे घोड़ी बनने को बोली और अम्मी उस स्ट्रैप ऑन को पहन ली। और बेल्ट टाइट करते हुए बोली। मेरी जान मेरी बेटी मैं जानती हूँ तेरी चुत भी बहुत प्यासी है। लेकिन जबतक सुमित नहीं आता मैं तेरी चुत की आग बुझाऊंगी।

अम्मी एक ही झटके में पूरा लन्ड मेरी चुत में घुसेड़ दी

और फिर अम्मी ने उस नकली लंड को मेरे चुत पर रगड़ने लगी। मुझे तो ऐसा लगा जैसे मेरी चुत पर सुमित का ही लन्ड रगड़ कहा रहा है। क्योंकि यह भी सुमित के लन्ड के बराबर ही था। फिर अम्मी उस नकली लन्ड को मेरी चुत के छेद पर रखी। और एक ही झटके में पूरा लंड मेरी चुत में समा गया।

 

अब अम्मी जोर जोर से चोदना शुरू की और मेरे मुँह से मदमस्त आवाजें फुट पड़ी। आआहहहहहहहहहहहहहह….. अम्मी चोदो मेरी चुत, आहहहहहहहहह चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे  जोर से आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे चुदक्कड़ अम्मी….. चोदो अम्मी चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. कई दिनों बाद लन्ड मिल रहा है। मेरी जान चोदो।.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। तेरी लन्ड भी बहुत दमदार है, अम्मी।  आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह……

 

करीब 7, 8 मिनट बाद मुझे लगा मेरी चुत रस छोड़ने वाली है। और तभी मेरी चुत से रस निकलने लगा। पिछले 2 दिन से मेरी चुत की प्यास अधूरी थी। मेरी अम्मी अभी भी मुझे चोदे जा रही थी। और 15 मिनट तक चोदी इस दौरान मैं 3 बार ओर्गास्म प्राप्त की।

माँ-बेटी की चुदाई

तब मैं अम्मी को रुकने को बोली। फिर अम्मी लन्ड बाहर निकाली। और मैं अम्मी के कमर से उस नकली लंड को निकालकर अपने कमर पर बांध ली। और मैं अम्मी को लेटा दी। अम्मी के चुत पर एक भी बाल नहीं थे। और उनकी चुत मेरे से भी ज्यादा सेक्सी थी।

मैं लन्ड को अम्मी की चुत पर रखी और एक ही धक्के में लन्ड को उनके बच्चेदानी तक घुसेड़ दी।

फिर मैं अम्मी के पैरों को फैलाई और चुत के छेद पर लन्ड रखी। और पूरी ताकत से धक्का मारी। लन्ड पूरा दनदनाता हुआ अम्मी के चुत में चला गया। और मैं बिना देर किए जोर जोर से चुत चोदने लगी। और अम्मी चिल्लाने लगी।

बेटा कितना अच्छा चुत चोदती है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जन्नत मेरी जान चोदो…………तुम्हारी लंड बहुत कड़क बहुत बड़ा है…. मेरी बच्चेदानी में ठोकर मार रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेटी चोदो, चोदो मेरी जान चोदो।  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरी लाडो आआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चोदती है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. ओह मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरी बेटी आआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… तुम्हारी लन्ड अंदर तक धक्का मार रहा है……

करीब 10 मिनट मैं अम्मी को चोदी और अम्मी 2 बार झड़ी। अब अम्मी भी थक चुकी थी। फिर मैं अम्मी के चुत में लन्ड डेल उनपर फैल गई।

मेरी चुत की प्यास तो बुझ चुकी थी लेकिन अम्मी को अभी गांड़ चुदवाना था

मेरी चुत की प्यास तो बुझ चुकी थी लेकिन अम्मी को कुछ और भी चाहिए था।

 

5,7 मिनट बाद अम्मी मुझे फिर से किस करने लगी। और मेरी बूब्स को मुँह में लेकर पीने लगी और दबाने लगी। थोड़ी देर बाद मेरे अंदर भी फिर से चुदाई के शोले भड़कने लगे।

 

और फिर अम्मी मुझे नीचे सुलाई और खुद उठ गई और मेरे लंड को मुँह में ले ली और और ढेर सारा थूक लगाई और अंदर बाहर करने लगी। अम्मी की थूक से लन्ड बिल्कुल गीला और चिकना हो गया था। फिर अम्मी अपने हाथों में थूक लगाई और अपने गांड़ पर लगाने लगी और उँगली से गांड़ के छेद में अंदर भी थूक लगाई। और मेरे दोनो तरफ पैर की और लन्ड को अपने हांथो से पकड़ी और गांड़ में डाल ली। और जोर से नीचे दबा दी जिससे मेरी लंड अम्मी के चुत में घुस गई। अब अम्मी जोर जोर से उछलने लगी। और चिल्लाने लगी। और मुझे बोली तुम भी नीचे से चोदो। मैं भी कमर उठा उठाकर चोदने लगी। अम्मी लगातार चिल्ला रही थी। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जन्नत मेरी जान चोदो…………तुम्हारी लंड बहुत कड़क बहुत बड़ा है…. मेरी बच्चेदानी में ठोकर मार रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेटी चोदो, चोदो मेरी जान चोदो।  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरी लाडो आआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चोदती है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. ओह मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।

 

और फिर अम्मी अब्बू को गाली देने लगी। तेरा अब्बू तो साला हिंजड़ा है मेरी चुत की आग कभी नही बुझाया। वो यो केवल पैसा पैसा करता है। उस हिंजड़े के लन्ड में दम ही नहीं है कि मेरी चुत की प्यास बुझा सके।

 

……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जन्नत मेरी जान चोदो…………तुम्हारी लंड बहुत कड़क बहुत बड़ा है…. मेरी बच्चेदानी में ठोकर मार रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेटी चोदो, चोदो मेरी जान चोदो।  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरी लाडो आआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चोदती है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. ओह मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।

चुत और डिल्डो

मै अम्मी के बूब्स को मसल रही थी। और उनकी चुत को भी।

 

तभी अम्मी झड़ने लगी और फिर अम्मी अपने हाथों से चुत रगड़ने लगी। और आहहहहहहहहह… आहहहहहहहहह… करते उनकी चुत से ढेर सारा रस बाहर आकर पिचकारी की तरह मेरे चेहरे पर आए। कुछ रस मेरे मुँह में गए। फिर अम्मी मुझपर लोट गई और जोर जोर से हांफने लगी। उनकी सांसे बहुत तेज चल रही थी।

 

तो इस तरह सुमित के ना रहने पे आखिर हम माँ बेटी लंड का विकल्प ढूंढकर चुत की प्यास बुझाए।

 

तो दोस्तों कैसी लगी मेरी और अम्मी की चुदाई की कहानी।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें। तब तक के लिए मुझे दीजिए इजाजत और और अपना ख्याल रखिएगा।

Tag: लेस्बियन चुदाई, माँ-बेटी की चुदाई, गांड़ चुदाई, चुत और डिल्डो, चुत की आग

50% LikesVS
50% Dislikes

One thought on “लंड की भूख

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *