तोहफा में मिला बुआ का सीलबंद चुत – भाग-1

 261 

जन्मदिन का तोहफा में मिला बुआ का सीलबंद चुत। भाग-1

बुआ बोली बाबू मैं तुम्हे कोई गिफ्ट नही दी मुझे अच्छा नही लग रहा है। कल ही मैं तुम्हे गिफ्ट दूँगी। तो मैं बोला आप आज भी दे सकती हो। तो वो बोली अब कैसे दुं इतनी रात में कौन सा मार्किट खुला है। मैं कल तुम्हे पक्का दूँगी। बोलो तुम्हे क्या चाहिए। तो मैं बोला कि ठीक है आप आज ही दे सकती हो और वो आपके पास है। तो बुआ बोली ठीक है मांगो क्या चाहिए। तो मैं बोला पहले आप वादा करो कि जो मांगेंगे वो दोगी तो मैं मांग लूंगा। वो भी झट से बोली कि ये भी बोलने की बात है। मैं सिर्फ तुम्हारी बुआ नहीं हूं बल्कि एक अच्छा दोस्त भी हूँ। और तुम मेरे जिंदगी में सबसे अहम इंसान हो। मैं वादा करती हूं मांगो क्या चाहिए तुम्हे। तो मैंने कहा एक बार फिर से सोच लो मना तो नहीं करोगी। तो बुआ बोली नहीं बेटा बिल्कुल नहीं। तुम मांगों क्या चाहिए तुम्हें।

तो मैं बोला आप यहीं रुको और आंखे बंद कर लो और जब मैं कहूंगा तब आंखे खोलना तो बुआ बोली ठीक है और आंखे बंद कर ली। और मैं झट से बाहर गार्डन में गया और एक गुलाब तोड़ लिया और आकर घुटनो पर बैठकर बोला अब आप आंखे खोल सकती हो।

https://nightqueenstories.com के सभी जवान सेक्सी पाठकों को मेरा नमस्कार उम्मीद करता हूँ सभी अच्छे होंगे। तो दोस्तों मेरा नाम कृष्णा है और मैं कश्मीर का रहने वाला हूँ। मैं 18 साल का हूँ और अपने परिवार मॉम डैड और मेरी बुआ के साथ अपने घर मे रहता हूँ। मेरी बुआ हमारे साथ रहती है क्योंकि उनकी अभी शादी नही हुई है। मेरी बुआ की उम्र 24 साल है। मेरी माँ एक बैंक मैनेजर है और पापा दुबई में रहते हैं। वो साल 2 साल में एक बार घर आते हैं।

मेरी बुआ का नाम सनाया है वह बहुत खूबसूरत हैं हम कश्मीर के पहलगाम के रहने वाले हैं। आप सब जानते हैं कश्मीरी लड़कियां औरतें कितनी खूबसूरत होती हैं।

मेरी बुआ मुझसे बहुत प्यार करती है। और हमदोंनो एक दोस्त की तरह हैं। कभी नही झगड़ते। हम दोनों साथ मे घूमते फिरते हैं। वो मुझसे मात्र 6 साल बड़ी हैं। इसलिए हमारी खूब जमती है। हम हर बात एक दूसरे से शेयर करते हैं। मेरी बुआ और मैं ही ज्यादा समय साथ बिताते हैं क्योंकि माँ सुबह 9 बजे घर से निकलती है तो शाम 7, 8 बजे घर आती है। उनका ड्यूटी बहुत टफ है वह जब घर आती है तो थक जाती हैं। हमारा अपना घर है और कश्मीर के पॉश इलाके में है। हमारा घर बड़ा है और बहुत कमरे हैं सबके अपने रूम हैं लेकिन मैं और बुआ कभी कभी साथ ही सोते हैं। हम एक साथ पढ़ाई करते हैं तो पढते पढते सो भी जाते हैं। बुआ यहीं एक कॉलेज से BBA कर रही है। और वो मुझे पढ़ाती है। मैं कोचिंग नही जाता क्योंकि बुआ ही मुझे पढ़ा देती है।

दोस्तों जैसा कि मैं बताया पापा दुबई में रहते हैं और उनको बहुत कम छुट्टी मिलती है। उनको घर आये डेढ़ साल हो चुका था और उनकी कम्पनी छुट्टी नही दे रही थी। इसी दौरान पापा की तबीयत थोड़ी खराब हो गई। उन्हें छुट्टी तो मिली लेकिन उन्हें बोला गया कि आपको यही रहना होगा। इंडिया नही जाना होगा। आप चाहे तो इंडिया से किसी को बुला सकते हैं। और 1 हफ्ता तक आराम करिए।

कैसे मैं अपने कुँवारी बुआ को जन्मदिन पर इमोशनल करके उनकी चुत का सील तोड़ा

तो मॉम आफिस से 15 दिन के लिए छुट्टी लेकर दुबई चली गई। पापा उन्हें बुला लिए थे। अब घर मे हम दोनों बुआ भतीजे ही रह गए थे।

दोस्तों हमारे घर के अंदर बिल्कुल खुला माहौल था। चाहे मॉम हो या बुआ दोनो कभी भी दरवाजा नही बंद करती थी। ना नहाते वक्त बाथरूम का ना कपड़े चेंज करते वक़्त। हम कभी भी ज्यादा प्राइवेसी मेंटेन नहीं करते थे। लेकिन मैं इसका फायदा उठाता था और दोनो को चोरी चोरी कपड़े चेंज करते देखता था। वेसे दोनो मेरे सामने ही कपड़े चेंज करने लगती थी। उनको कोई शर्म हया नही था मेरे से। तो एक दिन बुआ नहाकर बाथरूम से आई और अपने कमरे में जाकर तौलिया हटाकर पूरी तरह से नंगी हो गई। मैं ये देख लिया था इसीलिए जानबूझ के शैतानी किया और मैं अचानक उसके कमरे में चला गया मैं तो दंग रह गया उसकी सुडौल बॉडी का आकार बड़ी बड़ी टाइट चुचियाँ। पतली कमर और चौड़े कूल्हे मोटी जांघे देखकर मैं पागल हो गया। इस तरह पूरा नंगा बुआ को कभी नही देखा था। वो हड़बड़ाकर तौलिया उठाई और अपने बदन को छिपाने लगी। और बोली क्या कर रहे हो दिखाई नही दे रहा मैं कपड़े पहन रही हूं। जाओ यहां से। और मैं सॉरी बोल के वापस आ गया। फिर जब वो बाहर आई तो मैंने फिर से सॉरी बोला और बताया कि मुझे नहीं पता था कि आप नहाके आयी हो। वो बोली कोई बात नई। लेकिन अब मेरे आंखों के सामने बुआ का नंगा बदन घूमता रहता था। हर वक़्त बस वही सिन खड़ा हो जाता था। और मेरा लंड खड़ा हो जाता था। मैं अब चोरी छिपे फोन में पोर्न मूवी भी देखता था और https://nightqueenstories.com पर चुदाई की कहानियां पढ़ता था। मैं घर के माहौल के हिसाब से ज्यादातर माँ बेटे और बुआ भतीजे की चुदाई की कहानियां पढ़ता था। अब मैं रोज बुआ को नंगे होकर नहाते और कपड़े बदलते देखने लगा और बुआ को याद कर मुठ मारने लगा। मैं रोज 4, 5 बार मुठ मारता था।

जबसे माँ दुबई गई थी तबसे मैं और सनाया बुआ साथ ही सोते थे। अब मैं जानबूझकर बुआ से चिपक कर सोने लगा था। मैं बुआ को बाहों में पकड़कर और उनके कूल्हे पर पैर चढ़ाकर सोता था। और तब मेरा लंड खड़ा हो जाता था। कभी उसके गांड में धसता था तो कभी कभी मैं उसके गांड के ऊपर ही अपने लंड को रगड़ भी देता था। अब मेरे दिमाग मे अक्सर सनाया बुआ को चोदने का ख्याल आता था।

अगले दिन मेरा जन्मदिन था। और घर मे सिर्फ मैं और बुआ थे। रात 12 बजे ही बुआ मुझे विश की। और बोली तुम बहुत अच्छे हो बाबू हमेशा खुश रहो।

सुबह बुआ बोली कि बाबू घर मे सिर्फ हमदोंनो ही हैं और भईया का तबियत भी ठीक नही चल रहा ऐसे में बड़ा पार्टी करना और किसी को घर बुलाना ठीक नही लग रहा। इस बार तुम साधारण तरीके से जन्मदिन मना लो। तो मैं बोला हां बुआ यही सही रहेगा। और फिर बुआ कॉल करके केक आर्डर कर दी। और उस दिन का शाम का खाना भी बुआ बाहर से ही आर्डर कर दी। वो मेरे पसन्द का बिरियानी आर्डर की थी। और बोली कि कृष्णा चलो मार्किट चलते हैं मुझे तुम्हारे लिए गिफ्ट लेना है। तुम बताओ तुम्हे क्या गिफ्ट चाहिए। तो मैंने कहा मुझे कुछ नहीं चाहिए। आप बहुत अच्छी हो बुआ बस ऐसे ही मुझसे प्यार करते रहना यही मेरे लिए गिफ्ट होगा। तो बुआ बोली कि वो तो ठीक है लेकिन आज तुम्हारा स्पेशल दिन है तो बताओ क्या गिफ्ट चाहिए। तो मैं कहा ठीक है अभी रहने दो समय आने पर मैं मांग लूंगा। तो वो मुझे हग कर ली।

भले हम पार्टी नही कर रहे थे या किसी को नही बुलाये थे लेकिन मेरी बुआ पूरे हॉल को जबरदस्त सजाई थी। चारो तरफ लाइट , बैलून, और ढेर सारी रंग बिरंगी बड़े बड़े कैंडल जल रहे थे। पूरा कमरा खुशबू से भरा हुआ था।

और माँ ने किसी पंडित जी से कॉल करके पूछी थी कि केक काटने का सही समय कब है तो माँ हमें 8 बजे वीडियो कॉल की और पापा और मॉम दोनो साथ थे। 8 बज के 14 मिनट पर केक काटने का समय था तो मैंने केक काटा, सबने मुझसे विश किया। फिर माँ और पापा कॉल कट कर दिए । फिर थोड़ी देर मैं और बुआ डांस किए। उस दिन पहली बार मैं बुआ के साथ क्लोज डांस किया। दोस्तों वो परफ्यूम नही लगाई थी लेकिन उनकी जिस्म से एक अजीब कामुक स्मेल आ रही थी। मैं तो मदहोश हो रहा था। हम काफी देर तक डांस किये। मैं पहली बार उनकी आंखों में इस तरह नजदीक से देखा था और उनकी सांसों को फील किया था। जब मैं उनके साथ क्लोज डांस कर रहा था तो मेरा लन्ड खड़ा हो गया था। और बुआ के चुत के पास टच हो रहा था शायद बुआ को ये बात पता चल गई थी लेकिन वो कोई रियेक्ट नही की।

फिर मैं और बुआ डिनर किए। और सोने के लिए जाने लगे। तो बुआ बोली कि अब कपड़े चेंज कर लो नही तो ये कपड़े खराब हो जाएंगे। और मैं भी अब चेंज कर लेती हूँ। तो बुआ अपने रूम में चेंज करने चली गयी और मैं अपने रूम में। फिर बुआ करीब 15 मिनट बाद आई। और हमदोंनो बिस्तर पर आ गए। दोनो बैठे हुए थे तो बुआ बोली बाबू मैं तुम्हे कोई गिफ्ट नही दी मुझे अच्छा नही लग रहा है। कल ही मैं तुम्हे गिफ्ट दूँगी। तो मैं बोला आप आज भी दे सकती हो। तो वो बोली अब कैसे दुं इतनी रात में कौन सा मार्किट खुला है। मैं कल तुम्हे पक्का दूँगी। बोलो तुम्हे क्या चाहिए। तो मैं बोला कि ठीक है आप आज ही दे सकती हो और वो आपके पास है। तो बुआ बोली ठीक है मांगो क्या चाहिए। तो मैं बोला पहले आप वादा करो कि जो मांगेंगे वो दोगी तो मैं मांग लूंगा। वो भी झट से बोली कि ये भी बोलने की बात है। मैं सिर्फ तुम्हारी बुआ नहीं हूं बल्कि एक अच्छा दोस्त भी हूँ। और तुम मेरे जिंदगी में सबसे अहम इंसान हो। मैं वादा करती हूं मांगो क्या चाहिए तुम्हे। तो मैंने कहा एक बार फिर से सोच लो मना तो नहीं करोगी। तो बुआ बोली नहीं बेटा बिल्कुल नहीं। तुम मांगों क्या चाहिए तुम्हें।

तो मैं बोला आप यहीं रुको और आंखे बंद कर लो और जब मैं कहूंगा तब आंखे खोलना तो बुआ बोली ठीक है और आंखे बंद कर ली। और मैं झट से बाहर गार्डन में गया और एक गुलाब तोड़ लिया और आकर घुटनो पर बैठकर बोला अब आप आंखे खोल सकती हो। और मैं बुआ को I Love you बोला। वो तो हैरान हो गई। और बोली ये क्या है। तो मैं बोला बुआ मुझे आपसे प्यार है। मैं आपसे बहुत प्यार करता हूँ। फिर उन्होंने भी गुलाब लिया और मुझे उठाया और अपने सीने से लगा ली। और I Love You too बोली। फिर बोली कि मैं समझ नही पाई की तुम ऐसे मुझे गुलाब दिए जबकि ऐसे तो उसे प्रोपोज़ करते हैं जिसे कोई लड़का किसी लड़की से प्यार करता है। तो मैं बोला बुआ मैं भी आपसे वही प्यार करता हूँ। तो बुआ हैरान हुई और बोली पागल हो गया है क्या मैं तुम्हारी बुआ हूँ। तो मैं बोला तो क्या हुआ हो तो आप भी एक लड़की। फिर बुआ मुझे पागल बोली और हँसने लगी। फिर वो बोली अच्छा तो क्या बस यही गिफ्ट चाहिए था तुम्हे तो मैंने कहा नहीं अभी वो बाकी है। तो बोली तो मांगो क्या चाहिए। तो मैंने कहा कि बुआ मैं आपको बिना कपड़ों के देखना चाहता हूं बिल्कुल नंगी। तो वो गुस्से में लाल पीले हो गई और मेरे मुंह पर कस के थप्पड़ जड़ दिया और बोली कि पागल हो गए हो। यहां तक तो ठीक था लेकिन ये सब क्या बोल रहे हो समझ है भी कुछ मैं तुम्हारी बुआ हूँ।

फिर मैंने सॉरी बोला और बिस्तर पर बैठ गया। और बुआ वहां से नाराज होकर चली गई। अब मुझे हिम्मत नही हो रहा था कि बुआ से बात करूँ। शायद मेने गलती कर दिया था बुआ बहुत नाराज हो गई थी। लेकिन करीब 1 घंटे बाद वापस आई और मुझसे सॉरी बोली। और बोली कि मैंने गुस्से में तुम्हे थप्पड़ मार दिया था। मुझे बहुत बुरा लग रहा है मुझे माफ कर दो। और बुआ के आँखों मे आंसू था। बुआ मुझसे बहुत प्यार करती है। घर मे बस हमदोंनो ही तो हैं घर मे। इसीलिए बुआ मुझसे बहुत प्यार करती है और मुझे बहुत मानती हैं। उनकी आंखों में आंसू देखकर मेरे भी आंखों में आंसू आ गए। मुझे एहसास हुआ कि मैं गलत कर दिया हूँ और बुआ को हर्ट किया हूँ।…….

कहानी का आगे का हिस्सा पढ़िए भाग 2 में। कई कैसे बुआ फिर मुझे सरप्राइज दी। और कैसे मैं बुआ के चिकनी सीलबंद चुत का सील तोड़कर पूरी रात चोदा।………..

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “गर्लफ्रेंड की बहन का चुत मिला तोहफे में”

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा। नमस्कार।

75% LikesVS
25% Dislikes

One thought on “तोहफा में मिला बुआ का सीलबंद चुत – भाग-1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *