ट्यूशन वाली मैडम की चुत मारी

 116 

ट्यूशन वाली सेक्सी मैडम को दी चुदाई की क्लास

मेरा नाम प्रशांत है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूं। ये कहानी तब की है जब मैं 12वीं में था और मेरी यौन जीवन बस शुरू हुई थी। यूं तो मेरी जीएफ थी जिसके साथ मै कफी फिजिकल भी हो चुका था और सेक्स भी कर चुका था।

मेरे पड़ोस में एक लड़की रहती थी जो बीए कर रही थी और दूसरे वर्ष में थी। उस समय मैं उसे कंप्यूटर प्रोग्राम की शिक्षा लेता था। मै उन्हे मैम ही बोलता था।

वो बंगाली थी और क्या बताउ जब बंगाली लड़की बाल खोल के सामने आती है ना.. हाय तो पता नहीं कैसे मन में सेक्स की आग सी लग जाती है।

मेरे घर के पास एक साइबर कैफे था जहां मैं और मेरी जीएफ मिला करते थे। साइबर कैफे में केबिन बने तो अगर वहां बैठा जाओ तो बाहर वाले को कुछ नहीं दिखता था क्या हो रहा है। वही मैं और मेरी जीएफ मिल के थोड़ा ओरल टाइप सेक्स कर लिया करते थे तकी मन शांत रहे।

वही वो कभी ब्लो जॉब दे देती थी.. या कभी मैं उसकी चुत जीब से चाट लिया करता था और कभी उसके स्तन भी चूस लेता।

ऐसा ही एक दिन था हम लोगो ने मिलने का प्लान की साइबर कैफे में। तो मैं घर पर बोल के गया की मैम के कहा जा रहा और मैम को बोल दिया की आज नहीं आ पाउगा।

हम साइबर कैफे में मिले उस समय कैफे में और कोई न था तो हमने मौका का फायदा उठाया उसे झट से मेरा लंड निकला और मुह में भरा लिया।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

उसे अपनी जींस के बटन खोल के जीन्स थोड़ी नीची कर दी तकी मै उसे गांड दबा सकु और गांड और चुत में पीछे से उंगली कर सकू।

धीरे धीरे हम दो कफी खो से गाए मेरा लंड कफी तंग खड़ा था और वो इस्तेमाल स्लर्प्प स्लर्प्प कर के चूस रही थी। वो अपने गाल पिचका लेति थी उससे और ज़दा मज़ा आता है । मै पूरी तरह खो चुका था।

अचानक मेरे केबिन का दरवाजा कोई खोल देता है और मैं फ्रीज हो जाता हूं लेकिन मेरी जीएफ प्योर जोश में थी उसे बिलकुल ध्यान न दिया, और मैं क्या देखता हूं कि मैम मेरे सामने खड़ी मुझे देख रही है और वर्तिका पड़ी है चूसने बिल्कुल होश नहीं था उस्से । मैं डर से घबड़ा गया था। दिमाग सन्न था और क्या करू कुछ समझ नहीं आरा था।

अचानक मैम यही कुछ 10 सेकेंड बाद चली जाती है वहां से। और मैं नर्वस हो वर्तिका के मुह में झड़ जाता हूं।

जब आप डर के साथ साथ हॉर्नी हो ना जो आपका माल ज़दा निकलता है और यही हुआ उस दिन वर्तिका का मुह एकदम भरा गया था उसे किसी तरह से आधा पिया और आधा मुह से निकला अपने स्तन में फिर मैं घर आया। वर्तिका के मैंने कुछ न बतया।

अगला दिन: मैम के तूशन का टाइम हो रहा था और मेरी गांड फट रही थी की क्या होगा। खैर जब लगनी होती है तो लग जाति है यही खुद को समझता हुआ मैम के घर के गेट के सामने खड़ा हुआ और किसी तरह दरवाजे की घंटी बजाई।

गेट मैम ने खुद खोला और मैं नजर चुराता हुआ और उनकी डाइनिंग टेबल पे जेके बैठा गया जहां वो पढ़ाती थी मुझे।

फिर आए हम लोग ने पढाई शुरू की। मैम शायद वो बात नहीं लाना चाहता था ऐसा मुझे लगा। मुझे तो पता भी नहीं था की क्या आने वाला है। मैम मुझे सवाल दी थी वो मुझसे नहीं हुआ एक और दिया वो भी नहीं हुआ।

फिर मैम बोलती है, “हां ध्यान तो कहीं और लगा रखे हो”।

ये सुन के मैं फिर फ्रीज हो जाता हूं। वो बोलती है, “रुको मत सवाल करो”।

समय खतम हो चुका है और वो मुझे कहती है रुको। फिर मुझसे वो पक्का है कब से चल रहा है ये सब।

मैं उन्हे बताता हूं की एक साल हो गया। “और कल जो देखा वो कब चल रहा है”

मै रिप्लाई करता हूं की, ”वही लास्ट एक साल से”।

“तो तुम दो मिलते ही ये सब शुरू कर दिए?”

“हां मैम।”

“ठीक जाओ”

अगले दिन कुछ ऐसी बात नहीं होती लेकिन उसके अगले दिन मैम का मूड कुछ बदला लगा रहा था मुझे उनके पास से परफ्यूम की महक आ रही थी और आज मैम काजल लगा के बैठी थी जो की वो आम तौर पर ऐसा नहीं करती थी। मैम मेरे ज़दा पास बैठी थी।

समय खतम होने को आया तो मैम ने बोला की परीक्षा लेगा तब ही जाने देगा। उन्होन ने घर पे कॉल करने को बोला की बताओ की टाइम लगेगा आने में।

मैम ने मुझे जान के भी मुश्किल परीक्षा दीया था। मुझसे हमेशा की तरह हल नहीं हुआ और मैं सॉरी बोले लगा।

वो गुसा करने लगी, “पढ़ाई ना कराओ इनसे, कैफे में बैठा के रंडी से चुसवा लो इनको”।

मेरे तक ठीक था लेकिन वर्तिका की अपमान मुझसे बर्धस्त नहीं हुई।

मै गुसे में चिल्ला दिया की मैं “मैम मेरी जीएफ है तमीज में”।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

मुझसे ऐसे सुन की मैम को पता नहीं क्या हुआ का कास का मेरा लंड पकड़ा और कहने लगी की गरमी नोई दिखा। साड़ी गरमी उतर डूंगी।

मै गुसे में था मैंने भी उनकी गांड पक्कड़ के कस के डबा दी और पीछे वाली दीवार पे पुश कर दिया उनको की, “फिर से बोल रहा तमीज में”, और उनके स्तन और लंड से उनकी नाइटी के ऊपर कास का डबा दीया और गंड कस के मसाला दी।

वो चुप चाप मेरी आखों में देखती रही। और फिर अचानक मेरे ऊपर टूट पड़ी चुंबन करते हुए।

उन्होन मुझे पीछे खाने की मेज पे ढकेला और सारे समान गिरा दिया वाहन से और मेरे ऊपर चड्ड के मुझे किस करने लगी।

वो मेरी होठ काट रही थी और मेरी मुह में अपनी जीब दाल दी। मैं अपने दो हाथ से उनकी गांड को दबा रहा था रात के ऊपर से। फिर वो अचानक हट जाती है। और बोलती है की उस दिन कौन सा कंडोम लगाना था।

मैंने बोला की “कैंडी मैंगो”।

“वही वाला लेके आ तूरंत, सीधे यहीं आना और दो पैकेट लाना”।

मैं समझ गया की आज कुछ होने वाला है बहुत बुरा या बहुत अजीब। मैं अभी भी मन से फ्रीज था।

मै जल्दी जल्दी चल के गया और 2 पैकेट कंडोम और एक चॉकलेट ले आया। मैम डाइनिंग टेबल पे बैठे मेरा इंतजार कर रही थी और मैं कंडोम का पैकेट खोलने लगा तो उन्होन बोला की वो खोल के कंडोम लगागी मुझे और मैंने पैकेट उने दे दिया।

उन्होने ने मुझे बैठने को कहा कुर्सी पर और मेरी जांघों के ऊपर आके बैठा के मुझे किस करने लगी बहुत जोर से और दबा के। मै उनकी जीब और तक जाते महसूस कर सकता था। फिर उन मुझे बोला धीरे से की जीभ का प्रयोग करो फिर हम दोनो एक दुसरे की जीभ चूसना कर रहे थे।

मैंने उनकी जुबान पर हलका सा काटा और उन्होन मेरी। मैंने अब तक उनकी हाथ उठा के पैंटी के ऊपर से उनके चुत दबा रहा था और। उन्होन काली रंग की पैंटी पहचान थी और मुझे वो अब से गीली लग रही थी।

मैंने उनकी पैंटी के और हाथ दाल दिया और चुत रागदने लगा वो और पागल होने लगी। उन्होन झट से मेरी टीशर्ट उतर दी और अपनी नाइटी कांधे से नीचे कर दी और मुझसे बोला ब्रा उतरे को।

मैने ब्रा नीच कर दी। उनके स्तन ज़दा बड़े नहीं थे लेकिन निपल्स एकदम गहरे भूरे और खड़े रंग।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

उन्होन अपनी चुत का पानी अपने निपल्स पे लगाया दर्द से और मेरे दोनो निपल्स से चिपका दिया और रागदने लगी और मैंने उनके कान चटने लगा और जीब कान पे चलाने लगा। वो बंगाली में गभीर चुनुना (और चाटो) बोले लगी।

उन्होन मुझे गले पे कास का काटा और उठ गया और घुमने पे बैठा और मेरी जींस खोली लगी। मेरा लंड एकदम टाइट खड़ा था। वो उनके मुह सामने उचल का आया उन्होन उसपे कंडोम खोल के चड्ढा दिया।

और बोली, “उस दिन इस चीज के लिए तड़प रही थी जब से तुम्हारे उसके साथ देखा है”, और इतना कह के मुह में लंड भरा लिया और चुस्ने लगी।

क्या बताउ वो फीलिंग थी, के अपने से उमर में बड़ी लड़की लंड चूस रही थी। अबी एक घटने पेहले ये मेरी टीचर थी अब मेरा लंड मुह में लेके रंडी की तरह और बाहर कर रही है।

कबी कबी वो लंड को इतना गले के और ले जाति की उनकी आंखों से पानी आजा पर वो रुकी नहीं। अचानक से उन्होन इतना ज़ोर लगा के चूसना किया की मेरे मुह से आह निकल गई।

मेरे मुह से, “हां मैम , और” निकला रहा था।

मेरा लंड पुरा गिला हो चुका था उनकी भी मुह से अब कंडोम के स्वाद की महक आ रही थी। मेरा लंड अब फदफदा रहा था।

“इसी तरह वो रंडी चुस रही थी ना, रुक वो छेड में जीब डाली थी। मै भी दालुंगी। और उन्होन मेरे लंड पे लगा कंडोम फड़ दिया और खड़े लंड को हलका से चाटा और लंड के छेद में जीब डालने लगी। मुझे हलका दर्द हो रहा था एक देख के वो रंडी और गर्म होके कास के जीब को पुरा दम लगा दी.. और उसकी जीब का थोड़ा का हिस्सा और घुस गया और मैं दर्द से उसे दूर ढकेल दिया।”

उन्होन गुसे से मेरा गला पक्का और बोली जब वो रंडी कर रही थी तो आखें बंद कर के भूलभुलैया ले रहा था।

मैंने भी कस के इस बार अपना लंड उनकी कभी में घुसा दिया की कितने बार बोला की वो रंडी नहीं मेरी जीएफ है। लंड एकदम खड़ा था तो उनके पेट में कफी तेज लगा और उनके मुह से ममी निकला गया।

और फिर मैंने उनके को घुमाया और हाथ ऊपर करके खड़ा कर दिया। और पीछे गले पे कास का काटा और उसे गाल निकल गई।

फिर उनकी नाइटी को आधा एक तरह से फड़ दिया और गांड की दर में उनगली दाल की पैंटी घुटनो तक सरकार दी। और उनके लेग्स फेला दिए और नीचे बैठे पीछे से उनकी चुत में मुह लगा दिया और चाटने लगा। क्या स्वाद था हलका नमकीन और बहुत सॉफ्ट।

मैंने उनकी क्लिट को रागदना शुरू की और वो, ‘ऊह यस्स्स्स्स यस्स्स्स और्र’ बोले लगी।

वो अपनी फटी नाइटी का एक टुकड़ा अपने मुह में डबा ली। अब मेरे होठ और उनकी छुट की छाप-छप की धीमी अव्वज उस सन्नाटे डाइनिंग हॉल में गूंज रही थी। और वो तेजी से हिलने लगी और उनकी चुत से सारा पानी मेरे मुह पे निकल गया। क्या तेज़ धार से पानी निकल और मैं सब पी गया।

अब वो द्वार के सहे बैठा और मेरे को ज़मीन पे लाता के चिपक गई। मुझसे सेक्स चड चुका था मैंने उन घुमाया और उनके पैरों के बीच आज्ञा, एक नया कॉमडोम लगा। और मैंने उसे बोला की मेरी आंखें में देखे ।

उन्होन वही किया, मैंने लंड चुत के ऊपर रागदना शुरू किया और वो तड़प उठी। मैंने हलका का लंड का टोपा उनकी कट में डाला वो हलका से बूब्स ऊपर कर ली।

वो वर्जिन तो नहीं थी लेकिन उनकी चुत बहुत टाइट थी। और फिर धीरे से ही पुरा लंड चुत में उतर दिया और उनके निपल्स पे मुह लगा दिया और एक हाथ उनके लिए पे रख के छोटा शूरा कर दिया वो मेरी उनगली मुह में भर ही।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

और अब हम दो ‘आह आहा आह’ की आवाज निकल रहे हैं दोनो की तड़प अब पूरी हो रही थी।

अब वो मेरी थी मैंने उसकी चुत में लंड घुसा का अपना बनाया था।

वो भी आगे पीछे हो रही थी, ‘ओह यस इट फील सो गुड’ और आमे कुड़ा प्रशांत बोल रही थी बार”।

मेरा गर्म लंड उनकी चुत में घुस रहा था और उनकी चुत के दिवारो से रागद खा रहा था और मैं अपने लंड पे चुत की गरमी महसूस कर सकता था।

मैं फिर उन्हे उठा और खाने की मेज पे देता दिया और खड़ा होके चुत चोदने लगा और वो अपने स्तन मसाला हुई मुझे देख रही रही। मेरी स्पीड और तेज हो गई मैं जंगलियों की तरह चुदाई करने लगा ये चुत अब मेरी थी।

ऐसे ही 5 मिनट के बाद छोटे छोटे मैंने उहने भगवान में उठा के देवर से लगा दिया। मेरा लंड उनके और ही था और उन्होनने अपने पार मेरी गांड पे लापेट लिया और अब उन्हें देवर के सहारा चोदने लगा। फिर 7 से 8 मिनट बाद उन बोला की टेबल पे लेतो और मैं दिया गया। और फिर वो मेरी लंड पे आके बैठ गई और ऊपर नीचे होने लगी।

क्या फीलिंग होती है अपने लंड को चुत में भूत देखना। और ऐसे ही फिर लंड पे बैठे बैठे घूम गई और गांड मेरे सामने करने के हीला के छोडने लगी।

ऐसा 10 मिनट तक चला। मुझे उनकी गांड का छेद दिख गया। अब मुझे वह भी छोडना था। मैं उनको सोफ़ा पे ले गया और कुटिया बनने को बोला। और मैं तेल नहीं उपयोग करना चाहता था क्योंकि मुझे लगता है कर्ण चाहता था।

मैंने पहले तो उनकी चुत पे डाला हलका सा छोडने के खराब उनकी गांड का छेद चाटने लगा। उसे हलका सा सॉफ्ट किया और अचानक से पूरा जोर लगा के लंड गांड में पेल दिया उनको पता न था.. की ये करने वाला मैं और वो दर्द से तड़प गई और निकलना चाह रही थी। लेकिन मैंने कांधे से पक्कादा का और जोर से दबा दिया।

मुझे भी दर्द हो रहा था लेकिन परवाह न थी। वो रोने लाई और सोफा पे फ्लैट लेट गई और मै गांड में लंड दबा के और बाहर करने लगा।

उनका हलका सा खून आ गया था और मैं और छुडाई करने लगा अब वह भी मजा आने लगा और उन्होने भी गांड उठा दी और फिर से चुत से उनका पानी निकल गया था गांड में दाल दीया।

अब हम दो नंगे ही चिपक के सोफ़ा पे जाने देंगे। उन्हे नींद आगई थोड़ी देर मैं और मैं उन पक्का बैठा रहा।

जब वो उही तो बोली की कृपया अपनी जीएफ को छोड़ दो और मेरे साथ रहो। हम ऐसे ही अच्छे रिश्ते में रहेंगे जब बोलोगे चुदुगी कबी भी।

मैने ओके बोल के उन्हे किस किया। और फिर हमें मिल के घर की सफाई की साथ नहीं और। उन्हे मुझे बिस्तर में सुला के वापस घर आ गया।

ऐसी कयामत भरी चुदास कहानी पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com पर बने रहना। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “माँ बेटे की चुदाई”

धन्यवाद।

नमस्कार।।

100% LikesVS
0% Dislikes

One thought on “ट्यूशन वाली मैडम की चुत मारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *