तोहफे में पिलाया लंड का पानी

 71 

बड़ी बहन की शादी की सालगिरह पर तोहफे में पिलाया लंड का पानी

फिर मैं दी से बोला की दी आपने गिफ्ट मुझसे नही मांगा तो दी बोली रहने दो तुम दे नही पाओगे तो मैं बोला आप मांगो तो सही मैं आपके लिए दिल भी निकाल कर आपके हाथों में रख दूंगा। तो दी बोली सच में। तो मैं बोला हां आप मांगो। तो दी मुझे अपने बांहों में भर ली। और बोली रवि मैं पिछले एक महीने से प्यासी हूं जब से तुम्हारे जीजू गए हैं मेरी चूत बहुत प्यासी है, आज रात मेरे चूत की प्यास बुझा दो मैं जानती हूं तुम भी मुझे चोदना चाहते हो और पिछले 1 महीने से रोज मेरे गांड में अपना वीर्य गिरा रहे हो, आज तुम्हे चोरी छिपे नही बल्कि मेरे चूत में अपना लंड का पानी गिराओ। और अपने लंड के पानी से मेरे चूत की प्यास बुझा दो। यही मेरा गिफ्ट होगा।

हेलो दोस्तों कैसे हो आपसब उम्मीद करता हूं अच्छे होंगे। दोस्तों मेरा नाम रवि है, मैं देहरादून में रहता हूं। मेरी उम्र 24 साल है। और यह कहानी मेरे और मेरी बड़ी बहन का है। मेरी बहन का नाम राजश्री है लेकिन हमलोग सब उसे घर में नैना बुलाते हैं। नैना दी मुझसे 6 साल बड़ी है। लेकिन जब मैं 10th पास किया उसके बाद दी और मैं अच्छे दोस्त की तरह रहने लगे। तब मेरी दी ग्रेजुएशन कंप्लिट कर ली थी। मेरे घर में 4 कमरे नीचे और 2 कमरे ऊपर थे। सबका अपना अपना कमरा था। मेरे मॉम डैड का कमरा हमलोगो से अलग किनारे था। मेरा और दी का कमरा सटा हुआ था।

मैं 11th में गया तो मुझे कोचिंग की जरूरत पड़ी तो दी बोली की उतना मैं ही पढ़ा दूंगी तुम घर में ही रहकर पढ़ाई करो। और उस दिन से नैना ही मुझे कोचिंग देने लगी। वैसे तो मैं कभी भी उनके साथ पढ़ता था। लेकिन रात को रोज उनके कमरे में ही पढ़ता था, क्योंकि वो नेट की तैयारी करती थी। तो हमदोनो भाई बहन रोज पढ़ाई करते और कभी कभी मैं दी के ही रूम में सो भी जाता था। हम सबके रूम में AC लगे हुए थे तो जब रात होती तो ठंड लगने लगती थी और मैं और दी एक ही ब्लैंकेट ओढ़कर सो जाते थे, मेरी दी मुझे पकड़ के सोती थी। लेकिन अब मैं बच्चा नहीं था सो उनकी बदन की स्पर्श और कड़क चुचियों को नोक को मैं महसूस करके पागल हो जाता था। मेरा लन्ड खड़ा हो जाता था। और जब दूसरे साइड दी मुंह करके सोती थी तो कई बार मेरा लन्ड उनकी गांड में कसरत करने लगता था। शायद दी इस चीज को महसूस करती थी, और शायद उनको भी आनंद आता था इसीलिए वो कुछ बोलती नहीं थी।

पति के वियोग में कैसे एक बहन अपने भाई से चूत चुदवा ली

धीरे धीरे वक्त बीतता गया और एक साल बीत गया। मैं 12th में था तभी उनकी शादी लग गई। लड़का दिल्ली में जॉब करता था। और फिर दी की शादी हो गई। जीजाजी का नाम स्वप्निल था। वो एक बड़े कंपनी में मैनेजर थे। और फिर दी ससुराल चली गई। और करीब 2 साल बीत गया। तभी एक दिन दी का मॉम के पास कॉल आया और बताई की जीजाजी को उनकी कंपनी 6 महीने के लिए US भेज रहा है। 10 दीन बाद उनका टिकट था, तो मैं और मॉम भी दिल्ली आ गए क्योंकि जीजाजी के जाने के बाद दीदी को हमारे घर ही चलना था। और फिर हमसब जीजाजी को एयरपोर्ट छोड़ने के बाद सीधा देहरादून के लिए निकल लिए। और हम रात 10 बजे घर पहुंच गए। दी बहुत उदास लग रही थी।

[adinserter block=”6″]

फिर हमलोग सब खाना खाए और थके होने के कारण सभी अपने अपने रूम में चले गए। तो दी मुझसे बोली की रवि मैं तुम्हारे साथ ही सोऊंगी मुझे अच्छा नहीं लग रहा है, तो मैं भी बोला की हां चलिए मेरे रूम में ही सो जाते हैं। फिर दी बोली की ठीक है। वैसे तो दी का रूम अभी भी वैसे ही था और दी और जीजू जब आते थे तो उसी रूम में रुकते थे। दी अपना सामान भी उसी रूम में रखी थी। तो दी बोली की मैं चेंज करके आती हूं। दरअसल जब से दी की शादी हुई थी दी सिर्फ गाउन में सोती थी। और सोते समय ब्रा और पैंटी उतार देती थी। क्योंकि पहले भी दी आती थी तो मैंने कई बार देखा था। https://nightqueenstories.com/

दी का बड़ा सा गुलाबी रंग का चूत का दाना को देखकर मैं पागल हो गया

जब दी चेंज करने गई तो मैंने सोचा क्यों ना चोरी से देखें। फिर मैं पर्दा हल्का हटाया और देखने लगा पहले दी अपना सारा कपड़ा उतारी तो मैंने देखा वह अब काले रंग की ब्रा पेंटी में हैं। फिर वो ब्रा उतारी उनकी चूचियां आज भी बिल्कुल कड़क था। बहुत सेक्सी फिगर था दी का। दी की पेट बिल्कुल फ्लैट था। कमर बिल्कुल पतली जिस कारण उनका बड़ा गांड और बड़ी चूचियां बहुत अच्छी लगती थी। तभी दी अपना पैंटी भी उतार दी। और उनकी हल्के काले झांटों वाली चूत मुझे दिखने लगी। दोस्तों मेरी दी की चूत का दाना बहुत बड़ा था और वह हमेशा चूत से बाहर ही रहता था। और वह गुलाबी रंग का चूत का दाना देखकर मैं पागल हो गया। मैं पहले भी दी को कई बार नंगे देखा था लेकिन उनकी चूत पहली बार देख रहा था।

फिर दी ऊपर से एक शॉर्ट ड्रेस जो जालीदार था और उनकी चूतड़ों तक ही आ रहा था उस ड्रेस में उनकी चूचियां भी साफ दिखाई दे रहा था। वह पहन ली। फिर मैं हड़बड़ाकर वहां से भागा। और सीधे अपने रूम में आ गया। मेरा बुरा हाल था और मैं बिल्कुल पसीने पसीने था। मेरा लन्ड बिल्कुल काले नाग की तरह लोअर में फुंफकार रहा था मैं झट से बिस्तर पर लेट गया और फिर दी आई। फिर वो भी मेरे बगल में लेट गई। और फिर हम कुछ देर बातें किए। और दी को नींद आने लगा तो वो सो गई लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी और बार बार दी की चूत का बड़ा सा गुलाबी दाना मेरे आंखों के सामने घूम रहा था।

दी की गांड के दरार में 10 मिनट तक लंड घिसने के बाद मेरे लंड ने वीर्य रस छोड़ दिया

करीब एक घंटा बीत चुका था और दी पूरे नींद में थी और दी की ड्रेस उनके कमर पर चली गई थी। जब मेरी नजर नीचे गई तो उनकी गोरी सी बड़ी गांड देखकर मैं पागल हो गया। फिर मैं धीरे से उठा और लोअर उतारकर सिर्फ अंडरवियर में हो गया और धीरे से दी को पकड़ के सोने लगा। मेरा खड़ा लंड उनके गांड में जा रहा था। फिर मैं धीरे से अंडरवियर नीचे कर दिया अब मेरा खड़ा लंड उनकी गांड के दरार में जाने लगा और मैं कमर हल्का हल्का हिलाने लगा मुझे बहुत मजा आ रहा था। धीरे धीरे मेरा स्पीड भी बढ़ते जा रहा था लेकिन दी नींद में सो रही थी। करीब 10 मिनट तक उनकी गांड के दरार में लंड घिसने के बाद मेरा लन्ड पानी छोड़ने लगा और उनकी गांड के दरार में ही मैं सारा माल गिरा दिया। और फिर मैं सो गया मुझे भी कब नींद आया पता ही नही चला सुबह 7 बजे मैं उठा तो देखा मेरा अंडरवियर अभी भी घुटनों के पास है और मेरा लन्ड खुला है। https://nightqueenstories.com/

मैं समझ गया कि दी मेरे लंड को देख ली होगी। और फिर मुझे याद आया की मैं तो उनके गांड के दरार में ही माल गिरा दिया था। तो मैं डरने लगा की कही दी मुझपर गुस्सा ना करें, फिर मैं उठा। लेकिन दी भी बाकी दिनों की तरह सामान्य लग रही थी। और मुझसे कुछ नही बोली तो मेरे जान में जान आया। और फिर हम दोनो भाई बहन रोज साथ सोने लगे और मैं रोज दी के गांड के दरार में अपना माल गिरा देता लेकिन उससे आगे की मेरी हिम्मत नही हो रही थी। और फिर ऐसे ही 1 महीना बीत गया और दीदी का शादी का सालगिरह आ गया। तो सभी लोग उनकी शादी की सालगिरह मनाने के लिए छोटा पार्टी रखना चाहते थे, लेकिन दी उदास थी क्योंकि जीजू नही थे। तो दी पार्टी करने से मना कर दी। फिर सबलोग प्लान किए की किसी को बुलाएंगे नही बस हमलोग ही सेलिब्रेट कर लेगे।

फिर मॉम और डैड दी के लिए गिफ्ट लेने मार्केट चले गए। तो मैं भी दी से पूछा की दी आपको गिफ्ट में क्या चाहिए तो वो बोली की तू मेरे से छोटा है तुम्हे गिफ्ट देने की जरूरत नहीं है, तो मैं बोला की छोटा हूं तो क्या हुआ मैं अपनी प्यारी दी के लिए गिफ्ट दे सकता हूं आप बताइए। मैं जिद करने लगा तो वह बोली की ठीक है तुम्हारी जो मर्जी वही दे देना। तो मैं बोला की मैं आपकी पसंद का गिफ्ट देना चाहता हूं आप बताइए क्या दूं। तो दी बोली की ठीक है तुम्हे मार्केट से कुछ लाने की जरूरत नहीं है मैं रात में सेलिब्रेट करने के बाद तुमसे मांग लूंगी। लेकिन तुम वादा करो की मैं जो मांगूंगी दोगे, पीछे नहीं हटोगे। तो मैं बोला वादा है।

फिर दी बोली की ठीक है। लेकिन उसके बाद मैं नोटिस किया की जो दी आज सुबह से उदास थी अचानक से चेंज हो गई और खिलखिलाने लगी। फिर मैं और दी दोनो मिलकर तैयारी करने लगे पूरा कमरा अच्छे से सजाया। फिर दी शाम 4 बजे बाथरूम में गई तो 1 घंटे अंदर थी। फिर वह बाथरूम से निकली तो मैने कहा आप 1 घंटे से बाथरूम में क्या कर रही थी, तो दीदी मुस्कुराते हुए बोली तैयारी। मैं उस टाइम समझ नही पाया फिर हम व्यस्त हो गए। रात करीब 8 बजे केक कटा, फिर हमलोग डांस करने लगे। मॉम किचन में खाना बनाने चली गई। पापा अपने रूम में चले गए फिर मैं और दी खूब डांस किए, हमदोनो क्लोज डांस भी किए। फिर रात 10 बजे हम खाना खाए, पापा मम्मी अपने रूम में चले गए क्योंकि उनको पीना था। तो दी बोली की चलो आज हमलोग भी पीते हैं। तो मैं भी तैयार हो गया फिर दी धीरे से एक बॉटल और 2 ग्लास लेकर मेरे कमरे में आ गई। और हम दोनो भी पीने लगे। 2 पैग में ही हमदोनो को चढ़ने लगा तो फिर हम उतना ही लेकर बंद कर दिए।

रवि मैं जानती हूं तू भी मुझे चोदना चाहता है आज रात तुम अपने मोटे लंड से मेरे चूत का प्यास बुझा दो

फिर मैं दी से बोला की दी आपने गिफ्ट मुझसे नही मांगा तो दी बोली रहने दो तुम दे नही पाओगे तो मैं बोला आप मांगो तो सही मैं आपके लिए दिल भी निकाल कर आपके हाथों में रख दूंगा। तो दी बोली सच में। तो मैं बोला हां आप मांगो। तो दी मुझे अपने बांहों में भर ली। और बोली रवि मैं पिछले एक महीने से प्यासी हूं जब से तुम्हारे जीजू गए हैं मेरी चूत बहुत प्यासी है, आज रात मेरे चूत की प्यास बुझा दो मैं जानती हूं तुम भी मुझे चोदना चाहते हो और पिछले 1 महीने से रोज मेरे गांड में अपना वीर्य गिरा रहे हो, आज तुम्हे चोरी छिपे नही बल्कि मेरे चूत में अपना लंड का पानी गिराओ। और अपने लंड के पानी से मेरे चूत की प्यास बुझा दो। यही मेरा गिफ्ट होगा।

मैं दी की इतनी बातें सुनते ही पागल हो गया और उनके होंठो पर अपना होंठ रख दिया। दीदी तो मानों इसी का इंतजार कर रही थी,और वह मेरे होंठो को चूसने लगी हमदोनो 10 मिनट तक एक दूसरे को किस किए। शराब और जवानी का नशा हमदोनो के जिस्म में तैर रहा था।

भाई मैं पिछले 1 महीने से गर्म हूं पहले मेरी चूत को जी भर के चोदो और मेरी चूत की आग ठंडी करो फिर चूत भी चाट लेना

फिर हमदोनो एक दूसरे का कपड़े उतारे। दोनो नंगे थे। कमरे में लाइट जल रही थी। फिर दी उठी और दरवाजा अंदर से लगा दी। और बिस्तर पर आ के लेट गई और अपनी टांगों को फैलाते हुए घुटनों को मोड़ ली और चूत को दोनो हाथों से फैलाई और बोली आओ मेरे भाई अपनी दी की चूत की प्यास बुझा दो। मैं उनकी चूत चाटना चाहता था तो मैं जैसे ही उनकी चूत पर झुका वह पकड़ ली और बोली रवि चूत बाद में चाटना मैं पिछले 1 महीने से गर्म हूं। पहले मेरी चूत को जी भर के चोदो और मेरी चूत की आग ठंडी करो फिर चूत भी चाट लेना।

तो मैं अपना लंड पकड़ा और उनकी चूत पर लगा दिया। और एक बार में ही अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया। और जोर जोर से चोदने लगा वो चिल्लाते हुए कहने लगी आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह….फक मि डार्लिंग फक मि। आहहहहहहहहहहहहहहहहह, हाफ हार्ड बेब फक हार्ड फक माइ पुसी बेब फक ओह रवि यु आर सो नाइस हैंडसम हंक उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. फक हार्ड स्वीटहार्ट डीप फक फक माय जूसी पुसी हनी फक हार्ड यु आर बुल बेब फक माइ पुसी उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… .सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ईईर्ररर्राहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. फक मय पुसी किंग ओह माइ किंग ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहह

आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह सससीईईईईईई . और जोर से चोद चोद मेरी चूत मैं झड़ने वाली हूं बाबू जोर से मारो रुकना मत और फिर उनकी चूत झड़ने लगा। वह नीचे से अपनी कमर उठाते हुए चूत रस छोड़ने लगी। और शांत होने लगी। करीब 10, 15 धक्कों के बाद मैं भी उनकी चूत में ही सारा माल गिरा दिया। और हांफते हुए उनके ऊपर लुढ़क गया। वह मुझे अपनी बांहों में भर ली और बोली, रवि तुम बहुत अच्छे हो मेरी महीनो की प्यास आज तुम बुझा दिए। आज रात तुम बस मुझे चोदो रात भर आज मैं तुमसे चुदवाऊंगी।

उस रात मैं और दीदी 6 बार चुदाई किए और 1 बार मैं उनकी गांड भी मारा।

ऐसी कयामत भरी चुदास कहानी पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com पर बने रहना। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “क्रिकेटर की बहन को चोदा

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories

इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

Meet Women Online!!

धन्यवाद।

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *