तड़पती जावानी – Part2

 186 

मेरी सहेली का बेटा बना मेरी तड़पती जावानी का मालिक। भाग-2

https://nightqueenstories.com के सभी प्यारे पाठकों को मेरा नमस्कार। उम्मीद करता हूँ सब खैरियत से होंगे। दोस्तों मेरा नाम कावेरी है मैं 34 साल की गठीले बदन की एक महिला हूँ। मैं नियमित एक्सराइज और योगा करती हूँ जिससे मैं बिल्कुल फिट हूँ। मेरी चुचियों की साइज 34, कमर पतली सी 29 इंच और गांड 36 की है। मैं एक पढ़ी लिखी वेल एजुकेटेड और गवर्मेंट सर्विस करती हूँ। मैं इनकमटैक्स डिपार्टमेंट में हूँ और अभी मुम्बई में मेरा पोस्टिंग है। पिछले 4 साल से मेरी यहां पोस्टिंग है। वेसे तो पूरे देश मे मेरी पोस्टिंग कही भी होती है लेकिन कोशिस करके अधिकारियों से बातचीत और जुगाड़ करके ट्रांसफर रुकवाना पड़ता है।

दोस्तों 30 साल की उम्र में मेरी शादी हुई है। मैं लाख अपने मम्मी पापा के कहने पर शादी नही कर रही थी क्योंकि मैं पहले सेटल होना चाहती थी। और गवर्मेंट जॉब केलिए तैयारी कर रही थी। मेरे पापा भी रेलवे में अधिकारी थे और मेरा बचपना बनारस में गुजरा है वही मेरी पढ़ाई लिखाई भी हुई है। मेरा सेलेक्शन भी कही नही हो रहा था। मैं भी बहुत परेशान हो गई थी और धीरे धीरे शादी की उम्र भी निकल चुकी थी मैं 29 साल की हो गई। तो एक दिन मेरे पापा मुझे समझाए की बेटा शादी कर लो अब क्योंकि उम्र ज्यादा होते जा रही है फिर लड़का भी मिलना मुश्किल होगा। शादी कर लो और तैयारी करते रहना। तो मैं पापा की बात मान गई। लेकिन अब भी देर तो हो ही चुका था और अब आसानी से मेरे उम्र का लड़का नही मिल रहा था। फिर एक दिन एक रिश्ता आया वह एक जमीन डीलिंग का काम करता था। और उसकी पहली पत्नी का देहांत हो चुका था। लेकिन उसकी उम्र बहुत ज्यादा था। उनका उम्र 43 साल था।

और फाइनली मेरी शादी उससे हो गई। वह कानपुर में ही कारोबार करता था।

कहानी का अब आगे की घटना पढ़िए……

कैसे मैं अपने से आधी उम्र के सहेली के लड़के से खुशी खुशी चुदवा ली

अब हर्ष आसानी से मेरे गांड़ को टच कर रहा था और वह अपने लंड को मेरे गांड के दरार में रगड़ने लगा। वह बिल्कुल धीरे धीरे रगड़ रहा था। शायद उसे डर लग रहा था कि मैं कही जग ना जाऊं। उसका बड़ा लन्ड मुझे गांड के छेद पर फील हो रहा था। फिर वह अपना एक हाथ आगे किया और मेरी चूत को टटोलने लगा। मेरी चूत पर हल्की बाल थी क्योंकि मैं कुछ दिन पहले ही झांट साफ की थी जब मैं कानपुर गई थी। फिर वह मेरे चूत के दाने को मसलने लगा और जोर जोर से पूरा चूत रगड़ने लगा। वह ऐसे मेरे चुत को रगड़ रहा था जैसे वह खिलाड़ी हो। और कई बार चुत चोद चुका हो। वह पीछे से मेरी गांड के दरार में अपना लंड भी रगड़ रहा था। मेरी चूत बिल्कुल गीली हो चुकी थी। और थोड़ी देर बाद मेरी चूत ने ढेर सारा पानी छोड़ दी। फिर हर्ष ने अपना कैप्री और अंडरवियर नीचे तक सरका दिया और मेरी पैंटी के स्ट्रिप को खींचकर हटाया जिससे मेरा गांड का छेद अब खुला था। वो अब मेरे गांड के छेद में अपना लंड घुसाने की कोशिश कर रहा था।

वो पूरे जोश में आ चुका था और चोदना चाहता था। इधर मैं भी अब पूरी तरह आग में जलने लगी थी। क्योंकि इस बार कानपुर में मेरे उम्मीदों पर पानी फिर चुका था। और पिछले 6 महीने से मेरी चुत प्यासी की प्यासी रह गई थी। तो मैं समझ गई कि रोहन गांड में लंड डालना चाहता है लेकिन डाल नहीं पा रहा है। तो मैं सोचने लगी कि मैं मदद करूँ या रहने दूँ लेकिन हर्ष की लन्ड ने मुझमे ज्वालामुखी का विस्फोट कर दिया था। इसलिए मैं फैसला की की जो होगा देखा जाएगा।

मैं उठी और अपना चुत उसके लन्ड पर रगड़ने लगी

और फिर मैं धीरे से अपना हाथ पीछे की और उसके लंड को अपनी मुठी में पकड़ ली और हिलाने लगी हर्ष अब समझ चुका था कि मैं जगी हूँ और मजे ले रही हूँ। फिर मैं उठी और सीधी होकर हर्ष के ऊपर आ गयी और उसे किस करने लगी। और अपने चूत को उसके लंड पर रगड़ने लगी। वह मेरे गांड को जोर से भिचने लगा। मैं बेतहाशा उसे किस कर रही थी। वो भी मुझे मस्त हो के साथ दे रहा था। मैं अपना जीभ उसके मुँह में पूरा डाल दी वो चूसने लगा। इस दौरान मैं लगातार अपना चूत उसके लंड पर रगड़ रही थी। करीब 10 मिनट तक ऐसे ही अपनी चूत उसके लंड पर रगड़ती रही। और उसे किस करते रही। उसकी जवान जिस्म मुझे बहुत आनंद दे रहा था। यह पहली बार था जब मैं अपने हस्बैंड के अलावा किसी और को किस कर रही थी वो भी अपने से 16 साल छोटे लड़के को। और तभी फिर एक बार मेरी चूत पानी छोड़ने लगा। मैं तेज तेज अपनी चुत हर्ष के लन्ड पर रगड़ने लगी। जिस कारण हर्ष भी बर्दाश्त नही कर पाया और उसके लंड से भी गर्म वीर्य निकलने लगा। हर्ष नीचे से जोर जोर से अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने लगा और हमदोनो एक साथ झड़ गए। उसकी लन्ड का गाढ़ा वीर्य मेरी पैंटी पर लग चुका था।

फिर मैं हर्ष के कानों में उसे आई लव यू हर्ष बोली उसने भी झट से आई लव यू टू आंटी बोला। तो मैंने कहा अब से मैं तुम्हारी आंटी नही बल्कि कावेरी हूँ। अब से तुम मुझे कावेरी ही बुलाओगे। तो वह बोला हां मेरी जान कावेरी। फिर मैं उसे किस करने लगी और 5,7 मिनट उसके होंठो और जुबान को चूसने के बाद मैं उसके गले कानो को चाटा वो भी ऐसे ही दोहरा रहा था। फिर मैं सीधा हुई और अपना टी शर्ट उतार दी। और हर्ष को किस करने लगी। हर्ष मेरी ब्रा को कब खोल दिया मुझे पता भी नही चला फिर मैं ब्रा को पूरा निकाल दी और उसके मुंह मे अपने चुचियों को दे दी। वह चूसने लगा। मुझे बहुत आनंद आ रहा था। मैं अब फिर से अपना चूत उसकी लंड पर रगड़ने लगी। उसका लंड भी फिर से कड़क हो गया। अब मैं नीचे आई और उसके कैप्री और अंडरवियर को पैर से निकाल कर अलग कर दी। और फिर मैं उसके लंड पर झुक गई और उसे मुँह में लेकर चूसने लगी। बहुत बड़ा और मोटा लंड था उसका।

हर्ष का लन्ड मेरे चुत के चारो तरफ चिपका हुआ था। और मेरे चुत में तेज घर्षण हो रहा था।

मैंने जीवन मे इतना बड़ा और मोटा लंड नही देखा था। क्योंकि मेरे हस्बैंड का लन्ड तो इसके आधे होगा। लेकिन मैं पोर्न मूवी में देखती थी तो सोचती थी कि कास ऐसा बड़ा लन्ड मुझे भी मिलता। अब मैं जोर जोर से उसके लंड को मुँह में ले रही थी। उसके उंगलियां मेरे बालों को सहलाने लगे और अब हर्ष भी नीचे से कमर हिला हिला कर मेरे मुँह को चोदने लगा। अब मैं भी फिर से पूरी गर्म हो चुकी थी फिर मैं आगे आई और हर्ष के दोनों तरफ पैर करके उसके लंड को अपने चूत की छेद पर लगाया। और तेज झटके में नीचे बैठ गई। उसका लंड मेरी गर्म रसीली चूत में समा चुका था। और फिर मैं आगे झुककर उसके होंठो को किस करने लगी। फिर मैं धीरे धीरे कमर को हिलाने लगी। चूत गीली होने के कारण आराम से लंड अंदर बाहर हो रहा था। मुझे बहुत मजा आ रहा था जीवन में पहली बार ऐसा तगड़ा लन्ड से चुद रही थी। उसका लन्ड मेरे चुत के चारो तरफ चिपका हुआ था। और मेरे चुत में तेज घर्षण हो रहा था। मैं जोश में आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ईईर्ररर्राहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… किए जा रही थी। अब हर्ष को भी बहुत आनंद आने लगा था। वह भी शायद पोर्न मूवी खूब देखता था इसलिए वह कहने लगा चोदो कावेरी ….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह चोदो। आई लव यू कावेरी आई लव यू… बेबी बहुत मजा आ रहा है चोदो जोर जोर से मेरी जान कावेरी फक बेबी फक यु आर माय हार्ट हनी फक मि सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… यु आर सो सेक्सी हनी फक हार्ड जान फक हार्ड……. तुम्हारी चूत बहुत रसीली है जान चोदो जोर से… आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई…

मैं 2 बार झड़ चुकी थी। लेकिन मैं अभी भी चुदना चाहती थी और अब मैं हर्ष को बाहों में लेकर चुदवाना चाहती थी इसलिए तो मुझे लगा कि अब मुझे नीचे हो जाना चाहिए और मैं हर्ष को बोली कि तुम ऊपर आओ। और फिर मैं नीचे लेट गई। मेरी चूत के पानी से बर्थ पहले से ही गीला हो चुका था जो लेटने के बाद गीलापन मेरी गांड के नीचे महसूस हुआ। हर्ष मेरी चूत में लंड डालने वाला था तभी मैंने कहा कि हर्ष पहले मेरी चूत चाटो। और पैरों को मैं ऊपर करके घुटनो से मोड़ ली। हर्ष अब मेरी चूत में जीभ फिराने लगा और उसने जीभ को नुकीला बनाकर जीभ चुत में डालने लगा। उसका जीभ मेरी चूत में अंदर चला गया मैने उसके सर को पकड़कर जोर से अपने चूत पर दबा दिया। हर्ष लगातार मेरी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था। मेरी चूत की खुशबू से वह पागल हो गया था। करीब 5-7 मिनट के उसके चूत चाटने से मेरी चूत फव्वारा छोड़ दिया। चुत का पानी उसके चेहरे पर चला गया। और फिर हर्ष चुत का सारा पानी चाट गया।

फिर वह धीरे धीरे ऊपर आया और मेरी नाभि को चाटने लगा उसकी गीली और कड़क जुबान मेरी नाभि में अलग एहसास दे रहे थे। वह लगातार मेरी नाभी में जीभ से चोद रहा था। फिर वह मेरी चुचियों पर टूट पड़ा। मैं पागल हो गई। मेरी मुँह से आहहहहहहहहहहहहह हर्ष की आवाज निकली और सिसकारियां अपने आप जोर पकड़ ली। वह किसी बच्चे की तरह मेरी चुचियों को पी रहा था। फिर वह उल्टा हो गया और 69 की पोजिशन में आ गया। और अपना लंड मेरी मुँह में दे दिया क्या गजब का उसका लंड था। बिल्कुल मोटा और विशाल ऐसा लंड मैं पहले कभी नही देखी थी। और फिर वह मेरी चूत को चाटने लगा। कभी मेरे चूत के दाने को होंठो से पकड़ कर ऊपर खींचता तो कभी जीभ से पूरा चूत को रगड़ता । मेरी चूत के छेद से दाने तक जबान से दबा के रगड़ रहा था। वह कुत्ते की तरह मेरी चूत से रिस रहे पानी को खा रहा था और चाट रहा था। और अपनी उँगलियों को चुत में डालकर चोद रहा था। मैं भी उसके लंड को आइसक्रीम की तरह चाट रही थी। उसका लंड मेरे गले से भी नीचे तक घुस जा रहा था। बहुत बड़ा लंड था उसका। तभी मुझे लगा कि मेरी चूत फिर से पानी छोड़ने वाला है। और मेरी कमर जोर जोर से अपने आप हिलने लगी। हर्ष का जीभ मेरे चूत में तेजी से अंदर बाहर हो रहा था। फिर मेरी चूत ने लसलसा गर्म पानी छोड़ दिया। चूत से पानी इतने जोर से प्रेशर से निकला कि हर्ष के आँखों और नाक में भी घुस गया। फिर हर्ष झट से अपना मुँह चूत पर लगा दिया और पानी पीने लगा। सारा पानी वह पी गया और अच्छे से चाटकर मेरी चूत को साफ किया।

हर्ष का लन्ड इतना बड़ा था कि मेरी बच्चेदानी में ठोकर मार रहा था

फिर हर्ष उठ गया और मेरे ऊपर आ गया मैंने भी अपने दोनों पैर साइड में करके उसका स्वागत किया। हर्ष मुझे फिर से किस करने लगा और मेरे चुचियों को दबाने लगा। हर्ष का लंड मेरी चूत पर बार-बार टच होने लगा वह अपने लंड को मेरे चूत पर रगड़ने लगा। जिससे मैं और ज्यादा गर्म होने लगी।

फिर हर्ष ने अपना लंड पकड़ कर मेरी चूत पर रख दिया और धीरे धीरे अपना लंड मेरी चूत के छेद के अंदर घुसाने लगा लंड घुसाते हुए वो मुझे किस भी करने लगा वह चुदाई का माहिर खिलाड़ी था। और मैं समझ चुकी थी कि वह कोई न कोई बड़ी उम्र के औरत को चोदता है और उसी ने ये सब उसे सिखाई होगी। क्योंकि कोई उसकी उम्र की लड़की इतना नही सीखा सकती। तब मैं सोची की चुदाई खत्म होने के बाद मैं उससे पूछुंगी की वह इतना अच्छा चुदाई करने कैसे सीखा। किस औरत को वह चोदता है। जैसे जैसे उसका लंड मेरे चुत में अंदर घुस रहा था मेरी आग बढ़ती जा रही थी।

और अब मैं भी पूरे जोश से हर्ष का साथ देने लगी। फिर हर्ष अपना लंड धीरे से मेरी चूत से बाहर निकाला और झटका देकर जोर से लंड को मेरी चूत में घुसा दिया। मेरी तो चीख निकल गई। हर्ष मुझे पूरा अपनी बाहों में जकड़ रखा था और जोर जोर से चोदने लगा। अब मुझे भी बहुत मजा आने लगा। मैं भी अब नीचे से अपनी कमर हिलाने लगी जिससे लंड आसानी से चूत में अंदर बाहर हो रहा था।

हर्ष का लंड मेरी बच्चेदानी में ठोकर मारता हुआ महसूस होने लगा

वो सिसकारते हुए बोलने लगा- आह्हहहहहहहहहहहहहहह…. कावेरी…. … तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिली?आह्हहहहहहहहहहहहहहहहहह … तुम कितनी सेक्सी हो जान … तुम कुंवारी होती तो मैं तुमसे शादी कर लेता। आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह…. बेबीहहहहहहहह…. मैं उसके लंड से चुदते हुए चुदाई का पूरा मजा ले रही थी और बस हम्मममममममममम .. हममममममममम्म … आहहहहहहहहहहहहहहहह… किए जा रही थी. मैं धीरे -धीरे बोल रही थी। चोदो हर्ष चोदो। बहुत दिनों बात मैं ऐसा लंड खा रही हूं।आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई…

तुम्हारा लंड घोड़े जैसा मोटा और तगड़ा है। मेरी चूत को तुम्हारा लंड फाड़ दिया। आह बेबी। चोदो जान चोदो जोर से। मैं ओह्हहहहहहहहह…. याहहहहहहहहहहहहहहहह…. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… जान चोदो मुझे। फ़क मी रोहन फ़क मी। हार्ड फ़क हर्ष। सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… और जोर से चोदो। पूरा लंड अंदर घुसाओं। मारो जोर से। सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… हर्ष का लंड मेरी बच्चेदानी पर जोर जोर से ठोकर मार रहा था। उसका प्रहार इतना जबरदस्त था कि मेरी चूत के साथ अंदर बच्चेदानी को हिला दे रहा था। हमारी चुदाई काफी देर तक चली इस दौरान मैं कई बार झड़ गयी। मुझे एक नही बल्कि कई बार चरमसुख की प्राप्ति हुई। वो भी पहली बार एक साथ इतने चरमसुख मीले थे। पहली बार चुदाई का असली एहसास हुआ था। जब मैं झड़ती थी तो हर्ष को कस कर दबोच लेती थी। पूरा जोर से उसे भींच लेती थी

फिर वो पल भी आ गया जब हर्ष का स्पीड तेज़ हो गया और 8, 10 जोरदार झटकों के बाद हर्ष के लन्ड से विस्फोट हुआ और उसने मेरी चूत में अपना गर्म माल छोड़ दिया और मेरी चूत पूरी अंदर तक उसके पानी से लबालब भर गया। ना ऐसी चुदाई मेरी चूत की कभी हुई थी। ना ही ऐसा मजा मुझे कभी जीवन मे मिला था। मैं उसके कमर को पैरों से कस कर दबाए रखी

फिर बहुत देर तक हर्ष मेरे ऊपर ही पड़ा रहा। उसका लंड मेरी चूत में गहराई तक घुसा रहा थोड़ी देर बाद जब हर्ष मेरे ऊपर से हट कर साइड में हुआ तो उसके लंड का गाढ़ा पानी मेरी चूत से बहने लगा जिसको मैंने अपनी पैंटी से साफ की। उस रात हर्ष ने सुबह तक मुझे 3 बार चोदा। फिर हम दोनों अपने कपड़े पहन लिए। जब ट्रेन पहुँची हम अपने घर आ गए। हम सफर और चुदाई की वजह से काफी थक चुके थे। हमने आते वक्त ही रास्ते मे खाना पैक करवा लिया था। फिर हम नहाए फ्रेश हुए और खाना खाए। लेकिन उससे पहले हम घर आते ही एक और राउंड चुदाई किए जो की चुदाई करते हुए बाथरूम में जाकर नहाए और नहाते हुए शॉवर के नीचे चुदाई किए। रात भर चुदाई और घर आने के बाद की चुदाई होने की वजह से मैं बहुत थक गयी थी। फिर जब मैं बेडरूम में जाकर अपनी चूत को शीशे में देखी हैरान रह गई। मेरी चूत बहुत सूजी हुई थी और चूत पूरा लाल हो रखा था। मेरी चूत में हल्की दर्द और जलन भी हो रही थी। मगर उस दर्द में अपना एक अलग मजा था। उसके बाद हर्ष का एक्जाम हुआ। हर्ष एक हफ्ते मुम्बई रहा और हम घूमे। इस दौरान हम जम के चुदाई का मजा लिए। और मैं अपने जीवन मे पहली बार गांड भी चोदवाई।

तो मिलते हैं चुदाई की अगली कहानी में। तब तक के लिए दीजिए इजाजत। और हां कमेंट करके बताना की कहानी आपको कैसी लगी।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “तड़पती जावानी – Part1

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा।  नमस्कार।

धन्यवाद।

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *