एक्स से सेक्स

 152 

एक्स से सेक्स: पुरानी यादें ताजा हुई

https://nightqueenstories.com/ के सभी हॉट-सेक्सी साथियों और मेरे प्यारे दोस्तों को मेरा नमस्कार।

हेलो दोस्तों मेरा नाम रीना रॉय है मैं कोलकाता कि रहनी वाली हूँ। लेकिन अब मैं गुड़गांव में रहती हूँ। और एक मल्टीनेशनल कंपनी में मैनेजर हूँ। मेरी उम्र 32 साल है। मेरी कम्पनी कि एक पॉलिसी है कि सभी स्टाफ को हर हाल में फिट रहना है। तो मैं भी बिल्कुल फिट हूँ। जिम से लेकर योगा तक सबकुछ करती हूँ मेरा बदन भरा हुआ और कसा हुआ है। स्किन बिल्कुल दूध से सफेद और चेहरा बिल्कुल गुलाब की तरह लाल। मेरी चुचियाँ 34 की हैं कमर 30 और गांड का साइज 38 है। मेरे ऑफिस के सारे मर्द स्टाफ मुझे देखकर आहे भरते हैं। लेकिन मैं किसी को चवनी बराबर भी भाव नही देती। और हाँ मुझे अपने खूबसूरती पर घमंड है और हो भी क्यों ना। खैर मैं 3 साल पहले ही शादी कर चुकी हूँ मैं लव मैरिज की हूँ लेकिन मेरे पति मेरे पहला प्यार नही हैं। बल्कि इनसे पहले और कॉलेज के दिनों में मेरा किसी से अफेयर था हमदोनो एक दूसरे से बहुत मोहब्बत करते थे। लेकिन किस्मत को मंजूर कुछ और था। मेरा नौकरी लग गया तो मैं दिल्ली आ गई। और यहां आने के बाद उससे दूरियां बनने लगी फिर मेरे लाइफ में कोई और आ गया तो मैं पीछे मुड़ के नही देखी। लेकिन मैं यकीन से कह सकती हूँ के मेरे पति से ज्यादा मेरा एक्स मुझसे प्यार करता था। खैर बाद में वह भी शादी कर लिया और बंगलोर में जॉब करने लगा।

कैसे मेरा एक्स प्यार अचानक ट्रैफिक सिग्नल पर मेरे सामने आ गया और मैं बर्फ की तरह फिर से उसकी बाहों में पिघलती चली गई और उसी जोश के साथ चुदवाकर यादें ताजा कर ली

खैर ये कहानी मेरे उसी एक्स और मेरे बारे में है। तो हुआ ये था की मेरे पति का US में जॉब मिल गया तो 3 महीने पहले वो वहाँ चले गए और बाद में मेरा वहां जाने का प्लानिंग हुआ। पिछले 3 महीनों से मैं अकेली ही थी। एक दिन मैं अपने गाड़ी से ऑफिस जा रही थी और ट्रैफिक सिग्नल पर रुकी हुई थी, तभी साइड में एक टैक्सी आकर रुकी और जब मैं उधर मुड़ा तो हैरान रह गया क्योंकि उस गाड़ी के पिछले सीट पर मेरा पहला प्यार राहुल बैठा हुआ था। उसे मैं कई साल बाद देख रही थी लेकिन मैं उसे पहचान गई। और तभी सिग्नल ग्रीन हो गया और वह टैक्सी सरपट दौड़ने लगा।

शादी के बाद से मेरा राहुल से कोई संपर्क नही था मेरा नम्बर भी चेंज हो गया था और बाद में राहुल का नम्बर भी चेंज हो गया था। लेकिन आज जब मैं उसको देखी तो मैं खुद को रोक नही पाई और उससे मिलने के लिए तड़प उठी। तो मैं आनन फानन में फैसला की की मैं उससे मिलूंगी और मैं उसके टैक्सी के पीछे गाड़ी दौड़ा ली इस दौरान मैं टैक्सी का नम्बर भी दिमाग मे फिट की ताकि अगर मैं उसे ना पकड़ पाऊँ तो बाद में उस टैक्सी वाले से पूछ सकूँ की उसने राहुल को कहां ड्राप किया था। और तेज रफ्तार से मैं अपनी गाड़ी उसके पीछे भगाने लगी मेरा लक्ष्य उस टैक्सी को पकड़ना था। सो मैं भूल चुकी थी कि मैं किस रास्ते पर जा रही हूँ।

लेकिन ट्रैफिक ज्यादा होने के कारण वह टैक्सी मुझसे आगे निकल चुकी थी हलाक़े मैं उसे देख रही थी और बराबर फॉलो कर रही थी। करीब 40 मिनट तक मैं उस टैक्सी को फॉलो की और फाइनली वह टैक्सी रुकी तो मैं जल्दी जल्दी वहां पहुँची। राहुल उस टैक्सी वाले को पैसे दे रहा था तभी मैं गाडी उसके बगल में ले जाकर रोकी और दरवाजा खोलकर धड़ाम से बाहर आई और राहुल पीछे मुड़ा तो हमदोनो एकटक एक दूसरे को निहारने लगे। और फिर मैं इशारा करके बोली राहुल? तो वह मुस्कुराया तो मैं उसके गले लगी सालो बाद मैं उसके सीने से लगी थी। वह भी मुझे उसी एहसास के साथ गले लगाया था जो पहले था। फिर मैं उससे हालचाल पूछी और यहाँ आने का कारण पूछी तो वह बताया कि मैं बंगलोर से आया हूँ आज मेरा इंटरव्यू है यहाँ और वह बोला कि मैं लेट हो रहा हूँ क्या करूँ तो फिर मैं उसे अपना कार्ड दी और बोली कि तुम इंटरव्यू देने जाओ और फ्री होने के बाद मुझे कॉल करना। और फिर वह चला गया।

ना जाने क्यों आज राहुल को देखकर मैं बहुत परेशान हो गई थी जबकि शादी के बाद मैं उसे लेकर इतना परेशान कभी नही हुई थी। मैं अतीत को भुलाकर आगे बढ़ चुकी थी। लेकिन आज सबकुछ बदला हुआ सा लग रहा था। मैं ऑफिस पहुँचने में भी देर हो गई थी और अब मेरा ऑफिस जाने का मन भी नही कर रहा था। मैं वहीं आधे घंटे तक खड़ी रही और राहुल और अतीत के बारे में यदि करते रही। आज मैं फिर उसी मुकाम पर खुद को महसूस कर रही थी जहां सालो पहले थी।

राहुल बहुत शर्मिला था जब हम पहली बार चुदाई किये थे तब भी वह बहुत शर्मा रहा था और सबकुछ मैं ही कि थी उसके लन्ड को चूत में डालने से लेकर चुदाई और चरमसुख तक सब मैंने किया था

मेरा वहाँ से हिलने का भी मन नही कर रहा था लेकिन मजबूरी थी सो मैं गाड़ी में बैठी और थोड़ी देर वही बैठे रहने के बाद अपने ऑफिस में कॉल की और बता दी कि आज ऑफिस नही आ पाऊँगी। और फिर मैं पास के एक पार्क में गई और वहीं बैठ गई। मेरा जो चंचल मन 2 घंटे पहले था अब वो उधेड़बुन में था। और वहां बैठे बैठे मैं राहुल के साथ बिताए हरेक पल को याद कर ली। मुझे अच्छे से याद है जब राहुल पहली बार मेरा चुदाई किया था। वह बहुत शर्मिला किस्म का लड़का था। और कभी भी मुझसे जल्दी खुलकर नही पेश आता था यहां तक कि मुझे किस भी करने में संकोच करता था वो तो मैं थी जो उसे उकसाती थी तब जाकर वो मुझे किस किया था।

 

और पहली बार चुदाई के दिन भी ऐसा ही था वह बहुत शर्मा रहा था। मैं ही जबरदस्ती उसे किस करना शुरू की थी। फिर वह धीरे धीरे खुला और मुझे किस करने लगा। लेकिन ना अपना कपड़ा उतार रहा था न ही मेरा वह बहुत शर्मा रहा था। लेकिन मैं थी कि किसी रंडी की तरह उसके शर्ट को उतारकर उसके जिस्म को चाटने और किस करने लगी थी। राहुल शुरू से ही एक्सरसाइज करता था जिस कारण उसका बदन गठीला था। मुझे याद है जब मैं पहली बार उसके बदन को नंगा देखा था तो उसकी 6 पैक एब्स देखते ही रह गई थी।

मैं उसके बदन को चाटे जा रहा था उसकी चौड़े छाती के उभरे हुए निप्पल को मैं जीभ से चाट रही थी और उसके एब्स को टच कर रही थी जो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। और वह इतना शर्मा रहा था कि मेरे इस हरकत पर कोई प्रतिक्रिया तक नही कर रहा था। और फिर मैं धीरे धीरे उसके पेट पर आ गई और उसकी एब्स को खूब सहलाया और उसकी नाभि को जीभ से चाटने लगा। और होंठो से किस करने लगा। मैं जानबूझ के जीभ को गीला कर लार उसकी नाभि में लगा के चाट रही थी। वह तड़प रहा था लेकिन प्रतिक्रिया नही कर रहा था न ही मेरे सर को सहला रहा था। फिर मैं उसके ट्राउजर के हूक को खोलने लगी तो वह किसी लड़की की तरह मेरा हाथ पकड़ लिया और फिर मैं उसके हाथ को वहाँ से किनारे हटाई और उसके ट्राउजर को उसके पैरों से अलग कर दी।

ट्राउजर निकालते समय मेरा पूरा ध्यान उसकी अंडरवियर पर ही था। मैंने देखा था उसका 7 इंच का लन्ड कुतुबमीनार की तरह खड़ा था। और फिर मैं उसके पैर के अंगूठे को मुँह में ले ली और चूसने लगी। ऐसा करने में मुझे बहुत आनंद आ रहा था। राहुल बिल्कुक गोरा चिट्टा है और उसके पाँव पतले शेप में हैं। उसकी पैरों को मैं अच्छे से चाटते हुए ऊपर जाने लगी। अब मैं उसके घुटनो पर आ चुकी थी और जैसे ही मैं उसके जांघो पर होंठ रखी वह पहली बार प्रतिक्रिया किया था वह तड़प गया था और शरीर को ऐंठ दिया था। यह देखकर मुझे बहुत अच्छा लगा था।

दोस्तों एक बात मैं आपको बता दूं कि भले मैं पहली बार राहुल के साथ चुदाई करने जा रही थी लेकिन मैं चुदाई के बारे में सबकुछ जानती थी। और हर कला से वाकिफ थी। और पिछले 3 सालों से अपने चूत में उँगली गाजर, मूली करते आ रही थी। मैं अपनी चूत की आग ऐसे ही ठंडी करती थी। शुरू से ही मेरी चुचियाँ बड़ी बड़ी कमर पतली और कूल्हे चौड़े थे। इसलिए मैं अपने सहेलियों के बीच फेमस थी मैं सबसे खूबसूरत और सेक्सी थी। इस कारण बहुत सी लड़कियां यहां तक कि मेरी कई सहेलियां मुझसे जलती थी।

तो मैं राहुल के जांघो को चाटते हुए ऊपर गई और उसके लंड पर ऊपर से ही किस कर दी और चाटने लगी राहुल शरीर ऐंठने लगा। और फिर मैं उसके अंडरवियर को पकड़ी और झटके में नीचे खिंच दी क्या बताऊँ दोस्तों उसका 7 इंच का गोरा लन्ड और बिल्कुल खून की तरह लाल उसके लंड का बड़ा सा सुपाड़ा बहुत अच्छा लग रहा था। और उसका लन्ड ऊपर नीचे हो रहा था। मैं उसके अंडरवियर की पैरों से अलग की और जैसे ही उसका लन्ड पकड़ी वह सिहर गया। और मैं 2, 3 बार उसके लन्ड को ऊपर नीचे हिलाकर जैसे ही अपना होंठ उसके लन्ड पर रखी वह पहली बार ऐसा प्रतिक्रिया दिया कि मैं सरप्राइज हो गई उसने मेरे सर को पकड़ के जोर से अपने लन्ड पर दबाया था। और मैं बहुत खुश हुई। फाइनली उसका शर्मीलापन थोड़ा तो कम हुआ था।

अब मैं उसके लन्ड को जीभ से चाटने लगी और वो आहहहहहहहहहहहहहहहहह… ओहहहहहहहहहहहहहहहहह… सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई करने लगा। उसकी इस कामुक आवाज ने मेरे जिस्म में तेज करंट दौड़ा दिया था। उसका लन्ड पूरी तरह तैयार था। और मैं पिछले 5,7 मिनट से तेज तेज उसके लन्ड को हिला रही थी और चाट रही थी। और तभी उसका शरीर अकड़ने लगा और ढेर सारा वाइट गाढा रस उसके लन्ड से निकलकर मेरे हाथों में आने लगा। बहुत माल निकला था उसके लंड से। थोड़ी देर में वह शांत हो गया। फिर मैं एक कपड़े से उसके लन्ड को अच्छे से साफ की उसके पेट पर भी माल गिर गया था उसे भी साफ की और अपने हाथों को भी अच्छे से साफ की। और जब मैं अपने हाथों को सूंघी तो बहुत मादक खुशबू थी उसकी वीर्य की।

मैं उसके दोनों तरफ पैर करके उसके लन्ड को चूत पर सेट कर इतना जोर से गांड नीचे दबाई की उसका समूचा लन्ड जड़ तक मेरी चूत में समा गया

उसका लन्ड हल्का लूज हो चुका था लेकिन मैं फिर से उसके लन्ड को चूसने लगी तो थोड़ी ही देर में जो लन्ड वापस सिकुड़ने लगा था वह फिर से खड़ा हो गया और इस बार पहले से भी ज्यादा कड़क हुआ था। अब मेरे चूत में भी ज्वालामुखी की शोला धधकने लगा था सो मैं पहले अपना टॉप उतारी फिर अपना जीन्स और ब्रा पैंटी को भी निकाल दी। मेरे चूत पर बिल्कुल थोड़े थोड़े बाल थे। क्योंकि मैं 2 दिन पहले ही रेजर से झांट साफ की थी। मैं हर हफ्ते झांट साफ करती थी।

और फिर मैं उसके दोनों तरफ पैर की और बैठ गई और उसके लन्ड को पकड़ के जोर से अपना गांड नीचे दबाई मैं जोश में इतनी तेजी से गांड नीची दबाई थी कि राहुल का समूचा लन्ड एक बार मे मेरे चूत में जड़ तक समा चुका था। मुझे बहुत दर्द भी हुआ था। क्योंकि उसका लन्ड बहुत मोटा था। फिर थोड़ी देर रुकने के बाद मैं उसके लन्ड पर कूदने लगी। मेरी चुचियाँ भी फुटबॉल की तरह उछल रहे थे। अब मैं जोर जोर से चोद रही थी। और राहुल और मैं दोनों सिसकारियां ले रहे थे। ससीईईईईईईसससीईईईईईई….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई

और फिर मैं झड़ने लगी। 5 मिनट के अंदर ही मैं झड़ गई थी लेकिन फिर भी चोदे जा रही थी। और अब मैं राहुल का हाथ पकड़ी और अपने चुचियो पर रख दी तो वह दबाने लगा मुझे अब और ज्यादा मजा आने लगा तो मैं और जोर जोर से चोदने लगी और चिलाने लगी ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह… मैं पिछले 20,25 मिनट से चोद रही थी और चौथी बार झड़ रही थी तभी राहुल का शरीर ऐंठने लगा और फिर उसके लन्ड से वीर्य का विस्फोट हो गया। इस दौरान वह कमर जोर जोर से हिलाया था। और मैं उसके ऊपर लेट गई। उसका लन्ड मेरे चूत में था और वह जोर से मुझे बाहों में भीच लिया। हम ऐसे ही 15 मिनट पड़े रहे और मेरी चूत की गर्मी पाकर राहुल का लन्ड फिर खड़ा हो गया। और नीचे से कमर हिलाने लगा। तो मैं सीधा हुई और फिर से चोदने लगी। फिर राहुल मेरे ऊपर आकर चोदा और उस दिन हम 2 बार चुदाई किए। अब राहुल भी खुल चुका था। उसके बाद तो सिलसिला चल निकला और किसी ना किसी तरह हम रोज चुदाई करने लगे। हम गाडियो में, होटलों में, पार्को में सब जगह चुदाई कर चुके थे।

ओह माय गॉड पार्क में बैठे बैठे मैं पूरी जिंदगी की राहुल के साथ बिताया हरेक पल याद मर लिया था और घड़ी में टाइम देखी तो 2 बज चुके थे। मैं पिछले 4, घंटे से यहाँ बैठी थी। और समय कैसे बिता मुझे एहसास तक नही हुआ।

और फिर मैं मोबाइल उठाकर देखी की कही राहुल कॉल तो नही किया लेकिन उसका कोई कॉल नही था। तो मैं परेशान हो गई कि उसका इंटरव्यू अभी तक नही हुआ या वह मुझे कॉल नही करना चाहता और कही वह वापस तो नही चला गया।

तभी एक अननोन नम्बर से कॉल आया मुझे लगा राहुल ही होगा सो मैं कॉल पिक की तो राहुल धीरे से बोला हेलो। तो मैं बोली राहुल। तो वह बोला हाँ। मैं पूछी कहाँ हो इंटरव्यू हो गई। तो वह बोला अभी जस्ट निकला हूँ और वहीं हूँ जहां हम मीले थे। तो मैं बोली वही रुको मैं 5 मिनट में पहुँच रही हूँ।

दोस्तों आज की घटना दूसरे भाग में बताऊंगी। तो आप सब धैर्य के साथ प्रतीक्षा करें। धन्यवाद। अगले भाग का शीर्षक होगा.. दो गर्म चुत..

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा।  नमस्कार।

धन्यवाद।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *