Sex ki अधूरी प्यास

 85 

अधूरी प्यास

कमरे में सामान बिखरा हुआ पड़ा था, मधुलिका उस कमरे के बेड पर चुपचाप उदास बैठी है। उसने घर छोड़ने का मन बना लिया था, उसकी शादी को 4 साल हो चुके थे, परंतु एक भी दिन ऐसा नही हुआ जब उसके पति ने उसको भरपूर यौन सुख दिया हो। वह हमेशा नाराज सी रहने लगी थी और इस रिश्ते को खत्म करने का पूरा प्लान बना चुकी थी।

वह शाम तक का इंतजार करती है। उसके पति के आने के बाद, मधुलिका झटकते- मटकते एक बड़ा बैग निकालती है और उसमें अपने कपड़े डालने लगती है। वह जताना चाहती है कि वह घर से हमेशा- हमेशा के लिए जा रही है, पर बिना कुछ बोले। उसका पति रमेश बड़ा बिजनेसमैन है और वही अपनी सेकेटरी के साथ खुश रहता है, तो उसे भी ज्यादा कुछ फर्क नही पड़ रहा था।

बैग पैक हो गया था, पर किसी ने कुछ बोला नही था, फिर मधुलिका ने ही शुरूआत की और कहा “पूछोगे नही कि मैं कहा जा रही हूँ”। उसका पति कुछ नही बोला। वह भी इस रिश्ते से काफी परेशान रहता था। जवाब न आने पर, मधुलिका बैग उठाती है और घर से बाहर चली जाती है।

word image 5713 1

चार साल का समय एक लम्बा अर्शा होता है और उस समय एक जवान औरत को यौन सुख की सबसे अधिक तलब होती है। एक औरत को खुश कर पाना, हर एक मर्द के बस की बात भी नही होती है। मधुलिका तो अभी जवान ही है, उसका हस्ट पुष्ट सेक्सी फिगर कई जवान लड़को की चाह होती है। उसके चूचे और गांड उस तरह के थे जिसे भोगने के लिए लड़के चाँद तारे तक तोड़ लाने के वादे करते हैं। परंतु जवान लड़की की गर्मी आसानी से बुझाये नही बुझती है।

मधुलिका बस स्टैण्ड जाती है और अपने मायके की ओर चल देती है, वहाँ उसका पुराना आशिक अरशद उसका वो सुख दे सकता है जिससे वह काफी समय से अंजान है।

शाम का वक्त था तो ज्यादा भीड़ भी नही थी और गांव कस्बों को जाने वाली बसे ज्यादा भरी हुई चलती भी नही थी। वह बस में बैठ गयी थी जिसमें उसके अलावा 10 – 12 लोग और बैठे थे। बस चले कुछ ही समय हुआ था, उसे आभास हुआ कि आगे की सीट पर बैठा बार-बार पीछे मुड़कर देख रहा है और उसे लाइन दे रहा है। वह चुपचाप बैठी थी और उसकी हरकतो से अंदाजा लगा रही थी कि क्या इसके साथ कुछ किया जाना चाहिए।

उसे इस बात का अंदाजा था कि जब तक अच्छे से चुदाई न हो जाए, तब तक किसी और चीज में मन नही लगता। सारा वक्त दिमाग बस सेक्स के इर्द गिर्द ही घूमता है। पति की नामौजूदगी में उसने खूब गंदी कहानियाँ पढ़ी थी और गंदे वीडियो देखे थे, जिसके बाद वह अपनी चूत में उगली कर के खुद ही शांत हो जाया करती थी।

उसने कई कहानियाँ ऐसी पढ़ी थी जिसमें सफर के दौरान चुदाई हुई थी। बस आगे बढ़ रही थी और उसके दिमाग में सब बाते और कहानियाँ घूम रही थी। अब रात के 10 बज चुके थे और बस एक ढाबे पर डिनर के लिए रूकी थी। हाइवे किनारे के ढाबे पर चाय पीते हुए, उसने उस लड़के की तरफ प्यासी नजरो से देखा। वह भी मधुलिका की तरफ देख रहा था। नजरो से नजरे मिली और जैसे एक डील हो गयी हो।

मधुलिका खड़ी होती है और ढाबे के बगल की गली से होते हुए पीछे जाकर ढावे की दीवार से लगकर खड़ी हो जाती है। वो उस लड़के का इंतजार करने लगती है, लड़का कुछ ही सेकेण्ड्स में उसके पीछे वहाँ आ पहुचता है।

वह धीरे- धीरे उसके करीब आता है। वह मधुलिका को इतने करीब से देखकर उत्तेजित होता है और उसकी कमर में हाथ डालकर उसे किस करने को अपने होठ मधुलिका के होठों की ओर बढाता है। मधुलिका एक सख्त लण्ड की तलाश में थी और शायद वो आज उसे मिलने वाला था।

मधुलिका ने अपने गर्म होठों को उसके होठों से मिलने दिया। उसके होठों की लाली धीरे धीरे फैल रही थी और होठ लार से गिले हो रहे थे। लड़के ने अपने होठों से मधुलिका के ऊपर वाले होठ को पकड़ लिया था और उसका रसपान किये जा रहा था। वह एक मिनट का चुम्बन मधुलिका को जैसे घण्टों का मजा दे गया था।

word image 5713 2

अब, मधुलिका ने लड़के को पीछे की ओर झिटका और उसकी बेल्ट खोलने लगी। लड़का नयी उम्र का था और देखने में हट्टा कट्टा था। यही सोचकर मधुलिका उसके साथ वहां ये सब कर रही थी कि ये जबरजस्त चुदाई करेगा जो उसका पति कभी नही कर पाया। वह उसे बगल में पड़े तखत पर लिटा चुकी थी और उसकी आधी पैंट खोलकर उसके ऊपर चढ गयी। परंतु लड़के ने उसे पलटाया और खुद ऊपर आ गया। वह उसकी साड़ी ऊपर ऊठा चुका था और पैंटी खोलने ही जा रहा था कि तब तक पीछे से कोई भारी आवाज आती है कि ‘क्या हो रहा है यहाँ’। एक अधेड़ आदमी डण्डा लेकर उनकी तरफ आ रहा होता है। मधुलिका लड़के के ऊपर रेप का इल्जाम लगाकर भाग आती है। और उसी बस से रात को 2 बजे अपने शहर के बस स्टैण्ड पहुँचती है।

रास्ते में लड़के ने मधुलिका को काफी गर्म किया था और चोदने ही वाला था, तो उसकी चूत छटपटा रही थी। उसने बस स्टैण्ड पहुँचते ही अपने पुराने आशिक अरशद को फोन किया और उसे बस स्टैण्ड आने को बोला। मधुलिका घर जाने से पहले अच्छी तरह से चुदवा लेना चाहती थी, ताकि घर में वह कुछ दिन शांत रह सके।

अरशद सिंगल रहता था, वह अपनी कार से रात 2 बजे ही मधुलिका के पास बस स्टैण्ड पहुँचा। स्टैण्ड पहुँचकर अरशद अपने सामने एक बदहवास कामुक लड़की को देखता है जो गुलाबी रंग की नेट वाली साड़ी में कहर ढ़ा रही थी। उसके चूचे पहले से बड़े हो चुके थे और आकर्षक दिख रहे थे। उसके काले लम्बे बाल उसकी गाँड तक जा रहे थे और लिपिस्टिक उसके चेहरे पर फैली हुई थी। उसके ब्लाउज से उसकी चूचियाँ बाहर की ओर झांक रही थी। अरशद ये सब देखकर उत्तेजित हो गया था। वह अपनी कार उसके पास लेकर गया। उसने उसका सामान गाड़ी मे रखा और उसे भी बैठाया। मधुलिका गाड़ी में बैठते ही अरशद की पैंट के ऊपर से ही उसका लण्ड पकड़ लेती है।

इस बार वह देर नहीं करना चाहती। मधुलिका ने अरशद की चेन खोली और उसका मोटा काला लण्ड निकालकर झुककर चूसने लगी। अभी कार चली भी नही थी। उसकी प्यास देखकर अरशद गाड़ी स्टार्ट करता है और कुछ दूर ले जाकर रोड किनारे एकांत जगह पर खड़ी करता है तबतक मधुलिका उसका लण्ड चूसकर लाल कर चुकी थी।

अब, अरशद गाड़ी का गेट खोलकर बाहर आया और घूमकर मधुलिका के गेट की ओर पहुँचा। मधुलिका को भी गेट खोलकर बाहर निकाला और गाड़ी के बोनट के ऊपर बैठा दिया। मधुलिका ने अपने दोनो पैर अरशद की कमर में डालते हुए बांध लिए थे। और दोनो किस करने लगे थे। ये दोनो पुराने आशिक थे तो चुम्बन भी गहराई वाला था। अरशद की अच्छी खासी बाड़ी है और वह 6 फुट लम्बा है। उसने अपने ताकतवर हाथों से मधुलिका का ब्लाउज फाड़ दिया और उसकी दोनो चूचोँ को आजाद कर दिया। अब उसके चूचियाँ हवा में इधर उधऱ लहरा रही थी, तभी एक चूचे पर वह अपने मुँह से हमला करता है और जोर जोर से चूसने लगता है।

मधुलिका कुछ देर बाद उसका सिर पकड़कर दूसरे चूचे पर लगाती है, वह उसकी दूसरी चची भी जबरजस्त तरीके से चाटता है। कुछ देऱ बाद, मधुलिका की आह निकलती है, क्योंकि अरशद उसकी साड़ी उठाकर उसकी चूत में हमला कर देता है। चूत चटवाने में मधुलिका को बहुत माजा आता था, जो उसके पति ने कभी नही किया था। पूरे चार साल बाद कोई मर्द मधुलिका की गर्म चूत चाट कर उसे मजा दे रहा था। मधुलिका अपने होश खो रही थी और अरशद से कह रही थी कि बस….. बसस… बससस करो…. अब चोदो मुझे….. मुझसे रहा नही जा रहा…… प्लीज मेरी चूत की गर्मी शांत कर दो…..। यह सब सुनकर अरशद और उत्तेजित हो गया। उसने सोचा लोहा गर्म है हथौड़ा मार देता हूँ। ये सोचकर वह अपना 8 इंच लम्बा लण्ड मधुलिका की चूत पर टिका देता है। अब मधुलिका और व्याकुल होती है और खुद ही पीछे की ओर आते हुए उसे अंदर करने की कोशिश करती है।

पर उससे पहले ही अरशद उसकी चूत में लण्ड डाल देता है। मधुलिका जोर से आह करती है, और एक अजब सा सुकून उसके चेहरे पर दिखाई देता है। वह अपने होठ जीभ से चाटे जा रही थी और उसकी आँखें आधी बंद हो चुकी थी। अरशद ने धीरे धीरे धक्का देना शुरू किया और उसकी टाइट चूत का भोग करने लगा। वह खुद को बड़ा खुशनसीब समझ रहा था कि उसे ऐसी खूबसूरत गर्लफ्रेण्ड चोदने को मिल रही है। अरशद जब जोर से एक शाट मारता तो मधुलिका गाड़ी के बोनट में उपर की ओर सरकती, फिर जब अरशद लण्ड पीछे की और खीचता तो मधुलिका बोनट से सरकती हुई उसकी ओर खिंची चली आती। इस तरह से लण्ड चूत से बाहर जा ही नही पा रहा था।

word image 5713 3

लगभग 15 जड़ीले शाट मारने के बाद अरशद उसे बोनट से उतारता है और गाड़ी की अगली सीट का गेट खोलकर उसपर झुका कर खड़ा करता है। कुतिया स्टाइल में मधुलिका को चुदने का बड़ा शौक है, ये बात अरशद को पता है तभी उसने उसे कुतिया बनाया था और पीछे से ढेर से सारा थूक लगाकर लण्ड फच्च से उसकी चूत में दे मारता है। मधुलिका अपने होश खो चुकी थी, उसके पैर कांप रहे थे, वह जल्द ही झडने वाली थी क्योंकि उसे वो सब सालो बाद मिला है जो उसे रोज चाहिए था। बड़े और सख्त लण्ड मिलने की खुशी उसके चेहरे पर साफ थी। पर अऱशद अभी झड़ने के मूड में नही था। वह दनादन शाट मारे जा रहा था और उसकी कमर पर दोनो हाथ रखकर उसे पीछे की ओर धकेल रहा था। मधुलिका ने अपने घुटने गाड़ी की फर्श से लगा दिये थे। चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी और एक तीक्ष्ण महक छोड़ रही थी। अरशद ने मधुलिका को वहाँ से उठाया और उसका हाथ पकडकर गाड़ी के पीछे डिग्गी पर ले गया। अब उसने मधुलिका का एक पैर डिग्गी के ऊपर टिकाया और एक जमीन पर, और पीछे से चूत मारने लगा। मधुलिका के हाथ पैर में झुनझुनी सी होने लगी थी। 3 मिनट हो चुके थे और अरशद चूत का भोसड़ा बनाये जा रहा था। शायद इसीलिए, मधुलिका अरशद की दीवानी थी। करीब 7 मिनट के बाद आखिरकार अरशद मधुलिका की चूत के अंदर ही झड़ता है। गर्म वीर्रय से उसकी चूत भर जाती है, कुछ बूंदे बाहर भी चूती है।

अरशद मधुलिका को गोदी में उठाता है और गाड़ी में आगे वाली सीट पर लाकर बैठा देता है। अब वह ड्राइव करके सुबह 5 बजे के करीब मधुलिका को उसके घर के बाहर छोड़ता है।

हमे उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

तो दोस्तों ऐसे ही मजेदार चुदाई सेक्स कहानियों के लिए https://nightqueenstories.com के अन्य पेज पर जाएं।

हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें। मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “विधायक की बेटी को चोदा”

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories

इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *