चुत के बदले चुत

बॉस बीवी और बदले की आग : चुत के बदले चुत

तो आफिया बोली मतलब तुम्हे वाइल्ड सेक्स पसन्द है। तो मैं बोला मैडम मुझे खुलकर बेशर्मी के साथ सेक्स करना अच्छा लगता है। मैं वाइल्ड और एडवेंचर सेक्स ज्यादा पसंद करता हूँ। मेरी ये बातें सुनकर मैडम बिल्कुल चुदासी हो गई और अपने जगह से उठी और मेरे पास आयी और मुझे किस करने लगी। मैं भी उन्हें रोका नही बल्कि साथ देने लगा। हम 5 मिनट किस किए। तभी मैडम प्लाजो और टॉप उतार दी। मैं हैरान हुआ क्योंकि मैडम ब्रा नही पहनी थी ना ही पैंटी अब वह बिल्कुल नंगे थी।

मेरा नाम बबलू है। मैं गोवा में एक प्राइवेट कंपनी में ऑफिस अटेंडेंट का काम करता हूँ। मैं जिस कम्पनी में काम करता हूँ उसका मालिक का नाम फैयाज खान है। वह कम्पनी एक्सपोर्ट इम्पोर्ट का काम करती है।

इस कहानी में चार पात्र हैं।

पहला-: मैं बबलू सचदेव

दूसरा-: मेरी बीवी स्नेहलता

तीसरा-: मेरा बॉस फैयाज खान

और चौथी-: मेरे बॉस की 46 साल की हसीन बेगम आफिया खातून

यह कहानी आज से 6 महीने पहले की है। मेरे कम्पनी का माल शिप से आता जाता था। तो अक्सर मुझे यार्ड जाना पड़ता था और कई बार मुझे वहां काफी लेट हो जाता था। और मुझे पूरी रात भी वहां रुकना पड़ जाता था। मैं कभी कभार बॉस के घर भी किसी काम से आता जाता था। क्योंकि मैं बॉस का विस्वासी था। उनकी बेगम भी मुझे मानती थी। उनकी बेगम का भी आफिस में चैम्बर था। और कभी कभी वह भी ऑफिस आती थी लेकिन ऐसा बहुत कम होता था। आफिया मैडम बहुत कड़क थी। वह बॉस से भी ज्यादा स्ट्रिक्ट थी। इसलिए जिस दिन वो ऑफिस आती थी उसदिन ऑफिस में सन्नाटा पसरा रहता था।

अपने बॉस से बीवी को चूदता देख मैंने प्रण लिया कि बॉस की बीवी को चोदकर मैं चुत का बदला चुत और चुदाई का बदला चुदाई से लूंगा

तो हुआ ये की एक दिन मेरी बीवी काम से मार्केट गई हुई थी और उसकी चाभी खो गया। तो वह मुझे कॉल की चाभी खो गया है अपना चाभी दे दो। और इतेफाक से उस दिन आफिया मैडम ऑफिस में ही थी। इसलिए मैं ऑफिस से जा नही सकता था। तो मैं बोला कि तुम ऑफिस आ जाओ और चाभी ले जाओ। वह जब आफिस आई उस समय बॉस बाहर कही जा रहे थे। तो लिफ्ट से निकल कर स्नेहा आ रही थी और बॉस रास्ते मे उसे देख लिए। मेरा बॉस एक नम्बर का हरामी था। वह आफिस के सभी महिला स्टाफ को चोद चुका था।

वो जैसे ही मेरी बीवी को देखा तो उसकी खूबसूरती को देखता ही रह गया। चुकी वो स्नेहा को जानता नही था तो वही रोककर पूछा आप कौन हो और मेरे ऑफिस के फ्लोर पर क्या कर रही हो। तो वह बताई की मैं अपने हस्बैंड से मिलने आई हूँ। मैं उनसे घर की चाभी लेने आई हूँ। तो वह पूछा कि क्या नाम है आपके हस्बैंड का तो वह बताई की बबलू सचदेव मेरे हस्बैंड हैं। और वह यहां ऑफिस अटेंडेंट का काम करते हैं।

तब तक मैं वहाँ पहुँच गया। और उसे चाभी दिया। तो बॉस बोले कि जाना तो मुझे आपके घर के तरफ़ से ही है अगर आपको डायरेक्ट घर जाना है तो चलिए मैं ड्राप कर दूंगा। मेरा तो मन बिल्कुल नही था लेकिन स्नेहा बोली जी ठीक है। और फिर वे दोनों चले गए।

उस दिन से मेरे बॉस का मेरे प्रति व्यवहार बिल्कुल चेंज हो गया। अब वो अक्सर मुझे बड़े प्यार से बात करते। और पहले से भी अधिक विस्वास जताते।

करीब 10 दिन बाद एक दिन मैं यार्ड गया हुआ था। वहाँ से आया तो बॉस भड़क गए दरअसल मेरे से एक गलती हो गई थी। और उन्होंने मुझे ससपेंड कर दिया। मैं घर गया तो स्नेहा को बताया तो वह बहुत उदास हुई हमारा घर बड़ी मुश्किल से चल रहा था। क्योंकि हाल ही में हम नया घर लिए थे। और सैलरी का ज्यादा पैसा लोन के EMI में चला जाता था। अब हमदोंनो को बहुत टेंशन हुआ कि क्या होगा कैसे होगा।

लेकिन 3 दिन बाद ही मैनेजर का कॉल आया कि तुम ड्यूटी जॉइन कर सकते हो। मैं ड्यूटी जॉइन करने गया तो बॉस मुझे हड़काए और चेतावनी दिए कि दुबारा ऐसी गलती नही होनी चाहिए।

कुछ दिनों बाद सब नार्मल हो गया। अब बॉस मुझपर फिर से बिस्वास करने लगे यहां तक कि पहले की तरह ही मैं उनके घर आने जाने लगा। जब भी कोई काम पड़ता बॉस मुझे ही घर भेजते थे। एक दिन मैं यार्ड गया हुआ था काम बहुत था तो मैं स्नेहा को कॉल करके बता दिया कि मुझे देर होगा हो सकता है आज रात मैं ना आ पाउँ और सुबह तक आऊँगा। लेकिन रात के 3 बजे तक काम हो गया तो मैं घर पहुँचा लेकिन मैं तब हैरान रह गया जब अपने घर के सामने बॉस का मर्सडीज गाड़ी खड़ा पाया। मुझे कुछ शक हुआ तो मैं धीरे से दूसरे साइड से गया दूसरे साइड से मेरे बैडरूम की खिड़की थी। खिड़की तो बन्द थी लेकिन जैसे ही मैं खिड़की के पास कान ले गया मैं तो स्टेच्यू बन गया क्योंकि कमरे में मेरी बीवी और मेरे बॉस की थकी हुई आहहहहहहहहह…. उँहहठहज्ज्ज्ज्ज्झहठहठठहठहठहठहद….. सीसीसीसीईईईईईसीसीसीसीईईईईई…. की आवाजें आ रही थी। मुझे समझते देर नही लगा की यहां मेरे बॉस और मेरी बीवी के बीच चुदाई का खेल चल रहा है।।

लेकिन मैं वहाँ से वापिस हो गया और एक दोस्त के यहां चला गया दूसरे दिन एक एक्सपर्ट से मिलकर मैं बेडरूम में कैमरा फिट करवाया और बहाना कर मैं होटल चला गया और स्नेहा को बताया कि मैं आज रात नही आ पाऊँगा।

सुबह जब घर आया तो मैं रिकॉर्डिंग देखा। मेरी बीवी किसी रंडी की तरह मेरे बॉस से चुद रही थी। उतना खुलकर तो वह मुझसे भी नही चुदवाती थी।

और लेकिन मैं अपने बीवी को कुछ नही बोला न बताया। दूसरे दिन मैं स्नेहा का मोबाइल चेक किया और व्हाट्सप्प चैट पढ़कर हैरान रह गया। दरअसल जब मैं ससपेंड हुआ था तभी मेरा बॉस वापस नौकरी पर रखने के लिए स्नेहा से चुदवाने का शर्त रखा था। और स्नेहा को चोदकर मुझे वापस काम पर रखा था। और उसके बाद स्नेहा और मेरे बॉस के बीच बातचीत होने लगे। लेकिन अब स्नेहा भी उससे खुलकर खुशी से चुदवाने लगी क्योकि बॉस काफी दौलत मेरी बीवी पर लुटाने लगा था। वह उसे पैसे के साथ महंगे महंगे ज्वेलरी भी दिला रहा था।

लेकिन मेरे मन मे बदले की आग भड़क गई। और मैं प्रण लिया कि मैं अपने बॉस से चुत का बदला चुत से लूंगा। और बॉस की बेगम आफिया को चोदकर अपनी बीवी की चुदाई का बदला लूंगा।

अब मेरा एक ही मिशन था। आफिया की चुदाई करना। और मेरा बॉस तो मुझपर अंधे की तरह बिस्वास करता ही था। उसकी बीवी भी मुझे बहुत मानती थी तो मेरा काम आसान था।

अब मैं आफिया मैडम से और नजदीकियां बढ़ाने लगा और उनका और बिस्वास जितने लगा। अब आफिया मैडम भी मुझसे काफी खुल चुकी थी।

एक बार बॉस को किसी काम से एक हफ्ते के लिए विदेश जाना पड़ा और मेरे लिए इससे सुनहरा मौका और नही हो सकता था। और किस्मत मुझपर कुछ ज्यादा ही मेहरबान था। मेरी सास की तबियत ठीक नही थी तो मेरी बीवी 1 दिन पहले ही अपनी माँ से मिलने मुम्बई चली गई थी।

तो आफिया मैडम अगले दिन मुझे कुछ सामान लेकर घर बुलाई। लेकिन उस दिन मैं यार्ड गया हुआ था। और वहां भी जरूरी था। तो मैं यार्ड से फ्री होकर रात 11 बजे बॉस के घर पहुँचा। और मैडम को सामान दिया। मैडम अकेले ही थी तो अंदर बुलाई और बैठने को बोली और कॉफ़ी बनाने चली गई। लेकिन मैं नाटक किया और सोफे पर आंखे बंद कर बीमार की तरह बैठ गया।

मैडम आयी तो देखकर बोली क्या हुआ तुम्हारी तबियत ठीक नही है क्या। तो मैं नाटक करते हुए बोला मैं ठीक हूँ मैडम दरअसल 2 दिन से काम ज्यादा होने की वजह से ठीक से सो नही पाया हूँ तो थोड़ा सर दर्द है और चक्कर जैसा हो रहा। तो मैडम बोली लो पहले कॉफ़ी पियो इससे थोड़ी ताजगी आएगी। हमदोंनो ही कॉफ़ी पीए तो मैडम बोली तुम आराम करो थोड़ी देर। तो मैं बोला कि मैं ठीक हूँ मैम घर जाकर ही आराम करूँगा। तो मैडम बोली कैसे जाओगे। चक्कर आ रहा तो। ठीक है मैं तुम्हे छोड़ देती हूँ।

फिर वह बोली तुम्हारे घर पे कौन कौन है तो मैं बोला मैडम अभी मैं अकेले हूँ। दरअसल मेरी वाइफ की माँ बीमार है तो वह कल ही मुम्बई गई हुई है।

तो आफिया मैडम बोली अरे तो फिर तुम्हारा ख्याल कौन रखेगा। रात में कुछ हो गया तो। तो मैं नाटक करते हुए बोला कुछ नही होगा मैडम आप बस मुझे घर तक छोड़ दीजिए अगर छोड़ पाए तो। क्योंकि मैं बाइक नही ड्राइव कर पाऊंगा लगता है।

तो मैडम बोली एक काम करो। यहां गेस्ट रूम में ही तुम रुक जाओ। मैं तो अंदर से हरा भरा हो गया। फिर मैडम मुझसे पूछी की तुम डिनर किए हो तो मैं बोला कि नही अभी नही किया हूँ।

तो मैडम ऑर्डर कर दी। और मुझसे बोली कि तुम रेस्ट करो वह मुझे गेस्ट रूम दिखाई। और बोली कि आज रात तुम यही रेस्ट करो। तुम अभी आराम करो जब खाना आ जायेगा तो मैं बता दूँगी। फिर मैडम मुझे सर दर्द का गोली दी लेकिन मैं खाया नही और धीरे से पॉकेट में रख लिया। और बाद में फ्लश कर दिया।

मैडम जब आने लगी तो मैं जोर जोर से लन्ड को हिलाकर मुठ मारने लगा और मैडम देखकर घबरा गई

अब मैं इंतजार करने लगा और मैडम को चोदने के बारे में सोचकर लन्ड मसलने लगा और इंतजार करने लगा कि मैडम कब मुझे खाने को कहने आएगी।

आधे घंटे में ही खाना डिलीवरी करने आ गया। मैडम मुझे रात में पहनने को लोअर और टीशर्ट दी थी जो मेहमान के लिए ही रखी थी। अब मैं बेसब्री से इंतजार करने लगा और दरवाजा नही लगाया बस पर्दा लगा हुआ था। मुझे जब लगा कि मैडम आ रही है तो मैं लोअर और अंडरवियर नीची कर अपने 6 इंच के खड़े लन्ड को जोर जोर से हिलाने लगा। मैडम को लगा कि मैं तो सो रहा हूँ तो वह बिना कोई आवाज दिए पर्दा हटाई और अंदर घुस गई और मुझे मुठ मारते देख ली। और देखते ही सॉरी बोली और वापस चली गई और जाते जाते बोली कि खाना आ गया है आ जाओ डिनर कर लो।

दोस्तों मेरा आधा काम हो चुका था। मैं थोड़ी देर में ही बाहर आया तो देखा मैडम सोफे पर बैठी है। मैडम एक प्लाजो और टॉप पहनी हुई थी। फिर मैं आकर सॉरी बोला तो आफिया बोली इट्स ओके डोंट माइंड।

मैडम बोली अब सर दर्द कैसा है तो मैं बोला आराम है। फिर वह बोली चलो मुझे भी भूख लगा है डिनर करते हैं।

मैडम भी नही डिनर की थी। तो हमदोंनो ही डिनर किए। उसी दौरान मैडम आफिया मुझसे कुछ पर्सनल सवाल करने लगी। बोली और ये भी पूछी की मेरी वाइफ और मेरे बीच कैसे रिश्ते हैं तो मैं बोला हमदोंनो एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। तो आफिया बोली हाँ ये तो बात है तभी तो तुम्हारी बीवी को गए अभी 1 दिन ही हुए हैं और तुम्हे उसकी कमी महसूस होने लगी। और मुस्कुरा दी। मैं जैसे शर्माने का नाटक किया।

आफिया नंगी होकर टेबल पर बैठ गयी और टांगे फैला दी जिससे उनकी गुलाबी चिकनी चुत खुल गई और बोली बबलू मेरे राजा आओ और मुझे चाटो अपनी मालकिन की चुत और इस चुत को चोदकर अपने बॉस की बीवी को तृप्त कर दो

आफिया मेरे से 18 साल बड़ी थी। लेकिन वह 46 की नही बल्कि 35 साल की जवान दिखती थी।

दोस्तों अब वही हो रहा था जो मैं सोचा था। मैडम अब खुलकर मजाक भी करने लगी और सेक्सुअल बातें भी करने लगी। फिर मैडम मुझसे बोली बबलू तुम लास्ट टाइम कब सेक्स किए थे तो मैं बोला कल सुबह ही किया था। तो मैडम बोली लेकिन तुम्हारी मिसेज तो कल जा चुकी थी। तो मैं बोला कि उसके जाने से पहले ही सुबह वो जब नाश्ता बना रही थी तब हमदोंनो सेक्स किये थे हमदोंनो ही उसके जाने से पहले ऐसा करना चाहे रहे थे सो किया था। मेरी बातें सुनकर आफिया काफी कामुक हो गई और बोली कि किचन में मतलब। तुम किचन में कैसे सेक्स किए थे। मैं बोला मैडम मैं और मेरी वाइफ अक्सर किचन में सेक्स करते हैं। मुझे अच्छा लगता है।

तो आफिया बोली मतलब तुम्हे वाइल्ड सेक्स पसन्द है। तो मैं बोला मैडम मुझे खुलकर बेशर्मी के साथ सेक्स करना अच्छा लगता है। मैं वाइल्ड और एडवेंचर सेक्स ज्यादा पसंद करता हूँ। मेरी ये बातें सुनकर मैडम बिल्कुल चुदासी हो गई और अपने जगह से उठी और मेरेपास आयी और मुझे किस करने लगी। मैं भी उन्हें रोका नही बल्कि साथ देने लगा। हम 5 मिनट किस किए। तभी मैडम प्लाजो और टॉप उतार दी। मैं हैरान हुआ क्योंकि मैडम ब्रा नही पहनी थी ना ही पैंटी अब वह बिल्कुल नंगे थी। और बोली बबलू आज मुझे जानवर की तरह चोदो मैं देखना चाहती हूँ तुम्हारे लण्ड में कितना पावर है।

और मैडम मुझे उठाई और मेरे कपड़े उतार दी और खुद टेबल पर बैठ के टांगे फैला दी। जिससे उनकी गुलाबी चिकनी चुत खुल गई और बोली बबलू लो मेरे राजा चाटो अपनी मालकिन की चुत और इस चुत को चोदकर अपने बॉस की बीवी को तृप्त कर दो।

मैं बिना देर किए आफिया के चुत पर मुँह रख दिया। और 10 मिनट चुत चाटने के बाद खड़ा हुआ आफिया 1 बार झड़ चुकी थी। जैसे ही मैं उसके चुत पर लन्ड रखा वह मेरे कमर को पकड़ के खिंच ली मेरा लन्ड आफिया के चुत में समा गया और मैं चोदने लगा। और वह उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. इरर्राहहहहहहहहह.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। चोदो इरर्राहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से चोदो जोर जोर से.. चोदो मेरी जान आहहहहहहहहहहहहहहह……

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह….

चोदो अपने मालकिन को,

उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी…..

चोदो राजा अपने बॉस की प्यासी चुत की प्यास बुझा दो। फाड़ डालो इस चुत को

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…

कर चुदवाने लगी। मैं अलग अलग स्टाइल में आधा घंटा तक चोदा वह 3 बार झड़ चुकी थी। और अंत मे उसे अपने गोद मे उठाया और खड़े खड़े चोदने लगा। तभी वह झड़ने लगी। और मैं भी साथ मे झड़ गया। और फिर मैं वेसे ही आफिया को लेकर गया और सोफे पर पटक दिया और मैं भी उसपर आ गया। वह पूरी तरह संतुष्ट हो चुकी थी।

और मुझे बॉस की बीवी को चोदकर अपार खुशी मिल रही थी। और मैं अपने बॉस से चुत का बदला चुत से ले चुका था।

अब बॉस मेरी बीवी को चोदता है और मेरी बीवी पर पैसे लुटाता है। और बॉस की बीवी मुझसे चुदवाती है और मुझपर जमकर पैसे लुटाती है। अब मेरे दोनो हाथों में लड्डू है। मैं 3 महीने में ही करोड़पति बन चुका हूँ। घर का सारा लोन एक बार मे चुका दिया। और अय्याशी केलिए आफिया मैडम मुझे एक शानदार 3 करोड़ का घर लेकर दी है। जहाँ मैं और आफिया रोज चुदाई करते हैं।

तो दोस्तों इस तरह मैं बदला लिया। और आफिया को अपना दीवाना बनाया और उसकी कमजोर नस को पकड़कर दौलत कमाया और उसकी गांड़ भी मारी

तो मिलते हैं किसी और कहानी में। अपना ख्याल राखिएग और कहानी कैसी लगी मुझे कमेंट करके बताना। और कहानी को लाइक और शेयर जरूर करना।

 

88% LikesVS
12% Dislikes

One thought on “चुत के बदले चुत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *