पहली बार कुँवारी चूत की चुदाई

 52 

कुँवारी चूत की चुदाई 

हाय दोस्तो, मेरा नाम रियांश शर्मा है। वैसे तो मैं दतिया का रहने वाला हूं लेकिन मेरी जॉब के कारण फिलहाल इंदौर में रहता हूं। मेरी ऊंचाई 5 फुट 8 इंच है।

मेरी शादी को दो साल हो चुके हैं। मेरी बीवी बहुत सुंदर है और मेरा बहुत खयाल रखने वाली है। हमारा वैवाहिक जीवन बहुत अच्छा चल रहा है। में और मेरी बीवी शुरू से ही सेक्स का पूरा मजा लेते हैं। हमने कई तरीके से और नई-नई जगह चुदाई करने का मजा लिया है। जैसा कि मैंने आपको बताया कि मेरी जॉब घर से दूर है तो मैं यहां अपनी बीवी के साथ ही रहता हूँ।

यह कहानी 6 महीने पुरानी है। हमारे घर के सामने एक थोड़ा ग़रीब परिवार रहता है, परिवार में चार सदस्य हैं पति, पत्नी, उनकी बेटी मीनाक्षी जिसकी उम्र 19 साल है और छोटा बेटा पंकज जिसकी उम्र 11 साल है।
मैं जॉब के कारण दिनभर बाहर ही रहता हूँ इसलिये मेरी बीवी बाजार के छोटे मोटे काम के लिए मीनाक्षी को ही बुला लेती है। और मीनाक्षी भी खुशी खुशी उसकी सहायता के लिए आ जाती है।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

हम इस घर में 2 साल पहले ही आये थे। तब मैंने मीनाक्षी पर कभी इतना ध्यान नहीं दिया था।

पर कुछ दिन पहले जब मैं ड्यूटी के लिए निकल रहा था तो सामने से आ रही मीनाक्षी को देखा। उसके स्तन 32 के भरे पूरे सुडौल हो चुके थे और उसकी गांड 36 की हो गई थी। मीनाक्षी को देखकर मुझे विश्वास नहीं हुआ कि ये वही मीनाक्षी है जो मेरे यहाँ आने पर दुबली पतली हुआ करती थी। मैं समझ गया मीनाक्षी का शरीर अपनी जवानी के पूरे उफान पर है।

कुछ दिन बाद मेरी बीवी को मेरी सास की तबियत खराब होने के कारण अपने मायके जाना पड़ा। मैं उसको घर छोड़कर वापस आ गया। मीनाक्षी के घर में टी वी न होने के कारण मीनाक्षी और उसका भाई लगभग रोज ही हमारे घर टी वी देखने आया करते थे। मीनाक्षी के परिवार और हमें किसी को कोई आपत्ति नहीं थी इसलिए ये लोग देर रात 11-12 बजे तक टी वी देखते रहते थे।

उस दिन भी मीनाक्षी और उसका भाई टी वी देखने आए हुए थे। मेरी बीवी के न होने के कारण में अकेला था। उस दिन मीनाक्षी के भाई को 10 बजे ही नींद आने लगी और वो सोने के लिए घर चला गया।

अब घर में केवल में और मीनाक्षी ही थे।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

जब तक हमें इस बात का अहसास न हुआ, तब तक सब नार्मल रहा। लेकिन जब हमें इस बात का अहसास हुआ कि मैं और एक जवान लड़की रात में अकेले मेरे घर में हैं तो हम दोनों ही थोड़े असहज हो गए। लेकिन हम दोनों ही सामान्य दिखाने की कोशिश करते रहे और टी वी पर आ रही फिल्म को एन्जॉय करते रहे।

उस दिन टी वी पर आ रही फिल्म भी कुछ ज्यादा ही कामुक दृश्यों से भरी हुई थी। फ़िल्म में हीरो हिरोइन एक दूसरे को फ़्रेंच किस कर रहे थे और एक दूसरे के कपड़ों में हाथ डाल रहे थे। ये सब देखकर मेरा बुरा हाल था और शायद मीनाक्षी भी मुश्किल से अपने आप को सामान्य दिखा पा रही थी।

मेरा लंड पैंट के अंदर खड़ा हो चुका था और थोड़ा थोड़ा लीक कर रहा था। जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैं उठकर बाथरूम चला गया और मुठ मार कर अपनी वासना को शांत किया।

जब मैं बाथरूम से वापस आया तो देखा मीनाक्षी अपने सलवार में हाथ डाल कर अपनी बुर को सहला रही है। मैं समझ गया कि ये लड़की अपनी बुर की चुदाई के लिए तड़प रही है.

मुझे वापस आया देखकर उसने तुरंत अपना हाथ निकाल लिया और फिर से सामान्य दिखने की कोशिश करने लगी।

पर अब अपनी बुर को छेड़ने के कारण वो अपनी तेज साँसों पर नियंत्रण रखने में असमर्थ थी। उसकी तेज सांसें मुझे उसके अंदर लगी वासना की आग का पूरा हाल बयान कर रही थी।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

अबकी बार मैं जान बूझ कर मीनाक्षी के बिल्कुल पास ही बैठा और उसकी जांघ पर हल्के से हाथ रखकर हटा लिया। इस पर उसने कोई रिस्पांस नहीं दिया।

सच कहूं तो मेरी भी बिल्कुल हिम्मत नहीं हो रही थी क्योंकि आज तक मैंने अपनी बीवी के अलावा किसी और लड़की को वासना की नजर छुआ भी नहीं था। लेकिन आज मीनाक्षी को अपने पास पाकर मैं खुद को रोक नहीं पा रहा था। मैं किसी भी हालत में आज मीनाक्षी को अपना बनाना चाहता था।

इसीलिए मैंने एक बार और हिम्मत करके अपना एक हाथ उसके कंधे पर रखकर हल्के से दबा दिया। इस बार मेरा प्रयास सफल हुआ, मीनाक्षी ने लंबी सांस लेकर अपना सिर मेरे कंधे पर टिका दिया। उसने एक बार आशा भरी नजरों से मेरी आँखों में देखा और अगले ही पल टी वी पर चल रहे सेक्सी सीन को देखने लगी।

फिर कुछ देर बाद बोली- अंकल जी, क्या शादी के बाद सब ऐसा ही करते हैं?
मैंने उसके होंठों पर उंगली रखते हुए कहा- अंकल जी मत बोलो … केवल रियांश कहो।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

उसने हल्की सी स्माइल दी, फिर पलट कर अपना सर मेरे सीने में गड़ाते हुये मुझे हग कर लिया।

मैंने भी उसे कस कर अपने सीने में दबा लिया। अब मैं उसके बड़े बड़े स्तनों को अपने सीने पर महसूस कर सकता था।

अब मैंने उसके मुंह को थोड़ी पकड़ कर उठाया और उसके होंठों को अपने होंठों पर लगा कर किस करने लगा, वो भी मेरा साथ दे रही थी।
चुम्बन करते करते मैंने उसके कुर्ते में पीछे से हाथ डाल दिया और उसकी पीठ सहलाने लगा। शायद अब तक पहली बार किसी मर्द ने उसके होंठों और उसकी नंगी पीठ को छुआ था इसलिए इस अद्भुद आनन्द के कारण उसकी आंखें बंद हो गई और वो सिसकारियाँ लेने लगी।

कुछ देर बाद उसे अहसास हुआ कि वो वासना में बहक गई है और उसने मुझे रोका, बोली- रियांश जी रहने दीजिए ना!
लेकिन मना करते हुए भी वो मर्द के स्पर्श से प्राप्त आनन्द को भुला नहीं पा रही थी इसलिए मना करते हुए उसकी आवाज में आत्मविश्वास की कमी थी।

मैंने उससे पूछा- क्या हुआ मीनाक्षी?
वो बोली- रात के 10:30 बज चुके हैं। कहीं किसी को पता चल गया तो मेरी बहुत बदनामी होगी.
और यह कहते हुए उसकी आँखों में आंसू आ गए।

मैंने उसके माथे पर चूमते हुए उससे कहा- मीनाक्षी, तुम चिंता मत करो, तुम्हारी बदनामी मेरी बदनामी है. इसलिए किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. और वैसे भी तुम 12 बजे तक तो टी वी देखती ही हो. लेकिन अगर फिर भी तुम डरती हो तो रहने दो, मैं कोई जबरदस्ती नहीं करूँगा।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

मेरी बातों से उसका डर कम हो गया और वो एक बार फिर मेरी बांहों में आ गई। अब मैंने उसके पूरे चेहरे को चूमना शुरू किया उसके कानों की लौ को किस किया और कपड़ों के ऊपर से पीठ को सहलाता रहा।

मैंने कपड़ों के ऊपर से ही उसके बूब्स को सहलाना शुरु किया. उस पर सेक्स का शुरूर चढ़ रहा था और उसकी तेज साँसें इसका सबूत दे रही थीं। ऊपर से सहलाने के बाद मैंने उसके कुर्ते में ऊपर से हाथ डालकर उसके बूब्स को ब्रा के ऊपर से दबाया. कोई विरोध न होने पर मैंने उसकी ब्रा को कुर्ते के अंदर ही ऊपर उठाकर उसके नंगे स्तन को अपने हाथ में लेकर दबाया।

पहली बार किसी मर्द के द्वारा अपने स्तन को छूने के अहसास से वो सिहर उठी और उसकी साँसें पहले से भी ज्यादा तेज हो गयीं।अब मैंने देर न करते हुये उसके कुर्ते को कमर से पकड़कर उतारने के लिए उठाया। मीनाक्षी मेरा हाथ पकड़कर धीरे से बोला- रहने दो ना प्लीज।
लेकिन उसकी आवाज में असहमति नहीं बल्कि एक लड़की की शर्म थी।

मैंने उसका हाथ हल्के से हटाकर उसके कुर्ते को फिर उठाया. इस बार मीनाक्षी ने दोनों हाथ उठाकर कुर्ता निकालने में अपना सहर्ष सहयोग प्रदान किया। अब मेरे सामने उसका एक नंगा स्तन था जो गोल मटोल सुडौल तथा निप्पल पर हल्के भूरे रंग का था, उसके निप्पल देखकर मुझे अपनी सुहागरात याद आ गई।

उसके निप्पल बहुत ही सुंदर थे। मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

अब मैंने देर न करते हुए उसके निप्पल को चूसना शुरू कर दिया। इस अद्भुत अहसास के रोमांच से उसका हाथ अपने आप ही मेरे सर पर सहलाने लगा। मीनाक्षी ‘और चूसो … और चूसो!’ बड़बड़ाने लगी।

मैंने स्तन चूसते चूसते उसकी सफेद ब्रा को उसके शरीर से अलग ही कर दिया। अब वो ऊपर से पूरी नंगी थी। मैं बारी बारी से उसके दोनों स्तनों को चूस रहा था और वो इस असीम आनन्द में गोते खा रही थी।

अब में उससे अलग हुआ, ऊपर से नीचे तक उसको देखा। उसने स्त्रीसुलभ लज्जा से अपनी आंखें अपने हाथों से बंद कर ली।

मैंने उसके हाथों को आंखों से हटाकर उसको किस किया और उसे गले लगाकर बोला- आई लव यू मीनाक्षी! मीनाक्षी ने भी ‘आई लव यू टू!’ रियांश बोलकर मुझे किस किया।

तब मैं उसे उठाकर अपने बेड पर ले गया और बहुत प्यार से उसे वहां लिटाया। बेड पर ऊपर से नंगी मीनाक्षी किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी।अब मैंने अपने अंडरवियर को छोड़कर बाकी सारे कपड़े निकाल दिए। मीनाक्षी मेरी छाती के बालों को देखकर मंत्रमुग्ध हो गयी।

मैं मीनाक्षी के बगल में लेट गया और उसको ऊपर से नीचे तक चुम्बन करने लगा। उसके बूब्स को पीने के बाद उसकी नाभि को चूमा। वो बस आंख बंद करके आहें भर रही थी।

अब मैंने उसके सलवार का नाड़ा ढीला किया और सलवार को नीचे की तरफ खींचा. उसने अपनी गांड उठाकर सलवार निकलने में अपना सहयोग दिया। अब वो केवल पैंटी में थी।

उसकी पैंटी भूरे रंग की थी तथा इलास्टिक के पास थोड़ी फटी हुई थी। उसके काम रस के कारण उनकी पैंटी बुर के पास पूरी भीग चुकी थी। कुँवारी बुर की चुदाई के लिए तैयार हो रही थी.
मैंने उसकी बुर की दरार में लगे उसके काम रस को पैंटी के ऊपर से ही चाटा तो वो चिंहुक उठी और गांड उठाकर मजे लेने लगी।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

अब मैंने अपनी दो उंगली उसकी पैंटी की इलास्टिक में पैंटी उतारने के लिए डाली। उसने पैंटी को पकड़कर अपनी बुर को नंगा होने से रोका, बोली- ये मत करो ना!
मैंने उसके चेहरे की तरफ देखा उसके चेहरे पर डर और शर्म के भाव साफ दिखाई दे रहे थे।

मीनाक्षी के चेहरे का ये भाव, डर समाज की बदनामी का नहीं बल्कि उसकी पहली चुदाई का था। मैंने उसके हाथ को हल्के से हटाकर उसकी पैंटी को धीरे से निकाला।

उसने अपने कूल्हे थोड़े से उठाकर अपना विरोध खत्म करते हुए पैंटी भी निकल जाने दी मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

अब वो पूरी नंगी मेरे सामने पड़ी हुई थी। उसकी बुर थोड़ी उभरी हुई तथा हल्की सी सांवली थी, उसकी छोटी छोटी झांटें बुर रस में भीगी हुई चमक रही थी. बुर के होंठ एक दूसरे से चिपके हुए थे। बुर की दरार ऐसी थी जैसे किसी ने पेंसिल से बना दी हो।

उसकी बुर को देखकर समझ गया था कि मीनाक्षी के बाद उसकी प्यारी बुर को देखने वाला पहला खुशनसीब इंसान मैं ही था।
मैंने मीनाक्षी की बुर को चूम कर के उसकी मुंहदिखाई उसे दी. बुर पर चुम्बन से मीनाक्षी की साँस एक बार फिर तेज हो गई।

अब मैंने अपना अंडरवियर भी निकाल दिया औऱ मीनाक्षी को सलामी दी रहे अपने 8 इंच के लंड को मीनाक्षी के हाथों में दे दिया। मीनाक्षी ने कांपते हुए हाथों से मेरे लंड को पकड़ा।

मीनाक्षी ने लंड को आगे पीछे करके अच्छी तरह देखा जैसे कोई इंसान किसी नई चीज को पहली बार देखता है और लंड के सुपाड़े को किस करके छोड़ दिया।

अब मैं नीचे आया और मीनाक्षी के पैरों के बीच टांगों को फैलाकर बैठ गया। मैंने अपनी जीभ बुर की दरार में डाल दी और उसकी बुर को चूसना शुरु कर दिया।

बुर पर हुये इस हमले से मीनाक्षी पागल होने लगी और मेरे बालों को पकड़कर अपनी बुर पर दबाने लगी.
वैसे भी मेरी बीवी कहती है कि मैं बुर बहुत अच्छी चूसता हूँ।

थोड़ी देर बुर चुसवाने के बाद मीनाक्षी का अपने ऊपर कंट्रोल खत्म हो गया ‘और चाटो … चूसो … पी जाओ मेरा पूरा पानी … लाल कर दो मेरी बुर को चूस चूस के …’ ये सब बड़बड़ाने लगी।

थोड़ी देर में मीनाक्षी बुर की चुदाई के लिए गिड़गिड़ाने लगी और बोली- प्लीज चोद दो मुझे, नहीं तो मैं मर जाऊँगी. प्लीज … प्लीज … प्लीज … चोद दो न मुझे … फाड़ दो मेरी बुर को … अब सहन नहीं होता।

बुर की चुदाई मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

मैंने भी अब कुँवारी बुर की चुदाई में और देर करना ठीक नहीं समझा और अपना लंड उसकी बुर के छेद पर टिका दिया। मीनाक्षी की बुर के रस और मेरे लंड के प्रिकम के कारण चिकनाई की कोई कमी नहीं थी।

मीनाक्षी को मैंने बोला- आज तुम्हारा पहली बार है तो थोड़ा दर्द होगा, बाद में मजा आएगा।
उस प्यासी जवानी के अंदर चुदाई की आग लगी हुई थी, उसने बोला- रियांश आप देर मत करो, बस फाड़ दो, मेरी बुर को सारा दर्द मैं सह लूँगी।

मैंने सोचा ‘ठीक है मुझे क्या करना … जब ये बोल ही रही है तो!’ मैंने लंड को बुर के छेद पर सेट करके हल्का का धक्का लगाया.
मीनाक्षी को थोड़ा सा दर्द हुआ और उसकी आह निकल गई लेकिन फिर भी वो बोली- रियांश प्लीज जल्दी करो … फाड़ दो मेरी बुर को।

दोबारा मैंने देर न करते हुये, अपने दोनों हाथों को मीनाक्षी के कंधों पर टिकाकर जोरदार धक्का दिया, मेरा आधा लंड मीनाक्षी की कौमार्य झिल्ली को फाड़ता हुआ उसकी बुर में समा गया और वो दर्द के कारण बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी।

मीनाक्षी गिड़गिड़ाने लगी- रियांश प्लीज छोड़ दो मुझे … मुझे कुछ नहीं करना, मैं मर जाऊंगी।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

उसकी बुर सच में फट चुकी थी और उसमें खून बह रहा था जो मेरे लंड को गीला कर चुका था।

मैंने मीनाक्षी को उसकी बुर के बारे में कुछ नहीं बताया, नहीं तो वो मुझे आगे नहीं बढ़ने देती।
मैं उसी अवस्था में लेटे लेटे उसके बूब्स को सहलाता रहा। जब उसका दर्द कम हो गया तो मैं अपने आधे ही लंड को अंदर बाहर करने लगा।

थोड़ी देर बाद उसे मजा आने लगा, तब मैंने उसे बताया कि अभी आधा ही लंड अंदर गया है। अगर वो कहे तो पूरा डाल दूँ।
मीनाक्षी बोली- अब दर्द तो नहीं होगा?

मैंने कहा- थोड़ा सा होगा। लेकिन यह दर्द एक बार हर लड़की को सहना ही पड़ता है। आज के बाद दर्द नहीं होगा, केवल मजा आयेगा।
उसने कहा- ठीक है लेकिन आराम से डालना।

मैंने ओके बोला. पर मुझे पता था कि लंड कैसे डालना है।

मैंने कुछ देर और आधे लंड को अंदर बाहर किया और उसके बूब्स से खेलता रहा। मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

जब मुझे लगा कि अब मीनाक्षी सामान्य हो चुकी है और दर्द सहने के लिये तैयार है. तब मैंने अपने दोनों हाथों से उसके कंधों को दबाया और पूरी ताकत से अपना लंड उसकी बुर में डाल दिया।

लंड बुर की सारी दीवारों को फाड़ता हुआ सीधा बच्चेदानी से टकराया।
मीनाक्षी की चीख निकल गयी, उसकी आंखें फटी की फटी रह गईं, शरीर अकड़ गया और वो दर्द के कारण लगभग बेहोश हो गई.

मैं डर गया और कुछ देर तक उसी अवस्था में उसके ऊपर लेटा रह के उसे सहलाता रहा. कुछ देर बाद जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू किये।

जब उसे भी मजा आने लगा तो वो भी चूतड़ उठाकर चुदाई में अपना सहयोग देने लगी। अब मैं उसे पूरे जोर से चोद रहा था, मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था। अब उसका दर्द बिल्कुल खत्म हो गया था। वो आह आह करके अपनी पहली चुदाई का पूरा मजा ले रही थी।

करीब 10 मिनट की हाहाकारी चुदाई के बाद मीनाक्षी और मैं एक साथ झड़े।

मैंने उसे किस किया और बगल में लेट गया। कुँवारी बुर की चुदाई हो चुकी थी.

उसने अपनी बुर देखी तो पूरी सूज गयी थी। बुर से उसके पानी और मेरे वीर्य का मिश्रण निकल रहा था और उसके खून से बेडशीट पर बहुत बड़ा धब्बा पड़ गया था।

खून देखकर वो डर गई तो मैंने उसे समझाया- हर लड़की के पहली बार खून आता है इसमें कोई डर की बात नहीं है।

मजेदार चुदाई और सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com इस लिंक पर क्लिक करें

उसकी बुर में बहुत दर्द हो रहा था जिसके कारण जब वो उठ कर चली तो वो लंगड़ा के चल पा रही थी। मैंने उसे एक दर्दनिवारक गोली दी और कहा- अब तुम घर जाओ क्योंकि रात के 12 बज चुके हैं. कहीं किसी को शक न हो जाये।

वो घर चली गयी।

अगले दिन मैंने उसे एक गर्भ निरोधक लाकर दी।

इस घटना के बाद भी मीनाक्षी हमारे घर आती रही लेकिन वो सब फिर कभी नहीं हुआ क्योंकि मुझे मीनाक्षी की बदनामी का डर था।

अभी 2 महीने पहले मीनाक्षी की शादी हो गई। मैंने उसकी शादी में उसके पिताजी की बहुत सहायता की।

मीनाक्षी जब भी मायके आती है तो हमारे घर मेरी बीवी से मिलने जरूर आती है और मुझे मुस्करा के नमस्ते करती है।
वो अपने ससुराल में बहुत खुश है और मैं भी उसे खुश देख कर खुश हूँ.

दोस्तो, यह मेरी पहली और सच्ची कहानी है। कुँवारी बुर की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, ।

ऐसी कयामत भरी चुदास कहानी पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com पर बने रहना। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “आर्मी मैन की बीवी”

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories

इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

धन्यवाद।

आपसब अपना ख्याल रखिएगा। और अपना प्यार इसी तरह बनाए रखिएगा।

नमस्कार।

The End

50% LikesVS
50% Dislikes

4 thoughts on “पहली बार कुँवारी चूत की चुदाई

  1. Hi there, just became alert to your blog through Google, and found that it’s truly informative.

    I’m going to watch out for brussels. I will appreciate if you continue this in future.
    A lot of people will be benefited from your writing.
    Cheers!

  2. Today, I went to the beach with my children. I found a sea shell and gave
    it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put the shell to her ear
    and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear.
    She never wants to go back! LoL I know this is totally off
    topic but I had to tell someone!

  3. Definitely imagine that that you stated. Your favourite reason seemed to
    be at the net the simplest thing to understand of.
    I say to you, I definitely get annoyed even as other people consider worries that they
    just don’t understand about. You managed to hit the nail
    upon the top and also defined out the entire thing without having side-effects ,
    other folks could take a signal. Will likely be back to get
    more. Thank you

  4. Your style is unique compared to other folks I’ve read stuff from.
    Thanks for posting when you have the opportunity, Guess
    I will just book mark this site.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *