Orgy Club – सामूहिक Sex

Orgy club – सामूहिक sex की मज़ेदार कहानी

 

https://nightqueenstories.com

groupsex

 

प्रिय काफी परेशां थी , नवीन और उसके समभंद बिगड़ते जा रहे थे। शादी के बस दो साल में ही मनो जैसे अब नवीन का मन इस शादी से ऊब चूका था। काफी दिनों से प्रिय को ये बात महसूस हो रही थी की काम के बहाने , नवीन अपना चकर कही बहार चला रहा था।

अगर सच्चाई पर गौर करे तो , प्रिय के दिल में नवीन के लिए बहुत प्यार था और नवीन के दिल में प्रिय के लिए फ़िक्र। नवीन भी प्रिया से प्यार ज़रूर करता था लेकिन अगर sex की बात करे तो नवीन की रूचि अब किसी और दिशा में बड़ चुकी थी।

नवीन की business partner Jessica जो USA में थी, उसने नवीन को orgy के बारे में बताया था , जहा एक समूह में लोग sex करते थे। उसने नवीन को पुणे के एक club में member भी बना दिया था और कुछी दिनों में खुद India आने वाली थी।

आज दोबारा नवीन ने काम का बहाना बनाकर प्रिया को कहा था की वह घर नहीं आ पायेगा , लेकिन प्रिया ने भी सच्चाई से पर्दा उठाने की ठान ली थी। सबसे पहले प्रिया अचानक नवीन के office चली गई , security ने उसे बताया की नवीन कुछ देर पहले ही office से चला गया था। प्रिय ने नवीन का phone try किया जो switched off था , इस तरह से अपने साथ एक बड़ा धोका होने की वजह से प्रिया अपनी car में बैठ कर रो रही थी। अचानक किसी ने उसकी car की खिड़की खटखटाई , प्रिया ने जब अपना चेहरा ऊपर किया तो एक जवान लड़की बहार खड़ी थी और प्रिया से बात करना चाहती थी। प्रिया ने अपने आसु पोछे और खिड़की नीचे की।

“प्रिया madam मेरा नाम नताशा है और में नवीन sir की secretary हु। ”

“हाँ कहो क्या काम है। ”

“madam आपको ऐसे रोता देख मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगा। देखो आप कुछ सोचना मत और किसी बात की चिंता भी मत करना। अगर आप मुझ पर थोड़ा भरोसा कर सकती है तो , में आपको नवीन सर के बारे में कुछ बाते बताना चाहती हु। ”

प्रिया ने बिना किसी संकोच के गाड़ी का दरवाजा खोल और नताशा को अपने पास बिठाया।

नताशा , “देखिए प्रिया maam , नवीन sir बहुत ही साफ़ दिल इंसान है लेकिन उन्हें sex की लत लग चुकी है। वह अब सामूहिक sex में भाग लेते हो जो यहाँ पास के एक club में होता है। ”

नताशा से नवीन की ये सच्चाई जान कर तो प्रिया के होश ही उड़ गए थे। वह फुट फुट कर और रोने लगी और तब नताशा ने किसी तरह प्रिया को संभाला और गाड़ी चलाकर उसे अपने घर ले आई।

प्रिया बहुत ही गहरे सदमे में थी और नताशा उसे पूरी तरह सहारा दे रही थी , अचानक प्रिया की नज़र शराब की bottle पर गई और उसने वो bottle को उठा लिया और ऐसे ही शराब पीने लगी। नताशा ने प्रिया को रोका नहीं , बस चुप चाप उसके पास ही बैठी रही , वह प्रिया को बहुत गौर से देख रही थी। ” यार ये तो खुद कितनी hot और sexy है , नवीन sir का मन इससे कैसे भर गया। ” मन ही मन में ये सोचते हुए नताशा ने प्रिया के हाथ से bottle ले ली और प्रिया को kiss कर दिया।

 

कुछ पलो के लिए दोनों बस एक दूसरे को देखते रहे , बिना किसी हलचल के और फिर प्रिया नताशा के करीब आई और उसे चूमने लगी। दोनों अपने होठो को एक कर एक दूसरे के जिस्म को महसूस कर रहे थे। नताशा प्रिया के गले को चूमने लगी और तब प्रिया को अपने पुरे जिस्म में एक सनसनी सी महसूस हुई।

नताशा ने प्रिया के कपड़ो को निकालना शुरू किया और जब प्रिया की चूचिया नंगी हो चुकी थी , नताशा उनके बीच अपना मुँह गदा कर उन्हें चुम और चूस रही थी। इस तरह से बहुत दिनों बाद किसी ने प्रिया की चूचियों को दबाया था , उसके nipple पूरी तरह से खड़े हो चुके थे। प्रिया भी नताशा का जिस्म अच्छे से छू रहीथी अपने दोनों हाथो से।

प्रिया ने अपना एक हाथ नताशा के झंगो के बीच बढ़ाया और उसकी चुत को panty से ही महसूस किया। नताशा की चुत प्रिया को बहुत चिकनी लगी और panty पूरी तरह से गीली हो चुकी थी। प्रिया की ऊँगली चुत पर लगते ही नताशा ने एक गहरी आह भरी , “आ… ”

प्रिया ने नताशा को पूरी तरह बिस्तर पर लेटा दिया और उसकी टैंगो को फैला दिया। नताशा बस इस इंतज़ार में अब तड़प रही थी की जो होने वाला था , अब जल्दी से होजाये। फिर प्रिया ने नताशा की लाल panty को निकाला और उसकी गीली चिकनी चुत को देखा। “मेरी चुत पर बाल है , तुम्हारी तरह चिकनी नहीं है मेरी चुत। ” प्रिया ने नताशा से कहा।

नताशा ने प्रिया को जवाब दिया , “मुझे चुत पर बाल पसंद है , में भी तुम्हारी गीली चुत को जल्द सुगुनगी और चाटूँगी। ”

प्रिया मुस्कुराई और फिर नताशा की झंगो को चूमते हुए और चाटते हुए उसकी चुत तक पहुची। प्रिया ने नताशा की चुत को चूमते हुए उसका पानी अच्छे से चखा और फिर चुत को चाटने लगी।

नताशा को प्रिया की जीब बहुत माज़ा दे रही थी , उसने अपने पेरो को पूरी तरह से फैला दिया ताकि प्रिया की जीब उसकी चुत में अंदर तक जाये।

नताशा ने प्रिय के सर को अपनी चुत की तरफ खींचा और प्रिय का चेहरा मनो नताशा की चुत में गड चूका था। प्रिय अब नताशा की चुत को खारही थी।

दोनों ने फिर अपने सारे कपडे हटा दिए और नताशा अंदर वाले कमरे से एक dildo ले आई। ७ इंच का dildo काले रंग का था , नताशा ने प्रिय से पूछा , “कभी अपनी चुत में अपने पति के लंड के अलावा कुछ और डाला है ?”

“काफी वक़्त से तो नहीं , college में लत लग गई थी मुझे , माँ जब सब्ज़िया लती थी तो में गाजर और बैंगन बड़े वाले अपनी चुत में डाला करती थी। ”

“हम्म , आज जब ये अंदर जायेगा ना तो तुम्हे बहुत ज़यादा मज़ा आएगा प्रिय। ”

नताशा ने प्रिय को बिस्तर पर लेटा दिया। प्रिय का शरीर थोड़ा भारी था और नताशा का शरीर दुबला , लेकिन दोनों की चूचिया काफी बड़ी थी। नताशा प्रिय के ऊपर आगई , उसका चेहरा प्रिय की चुत के तरफ था और चुत प्रिय के चेहरे की तरफ , position 69।

नताशा ने प्रिय की चुत को अपनी थूक से और गिला किया और उसे बड़े मोठे dildo को उसकी चुत पर मसलने लगी। प्रिय कराह उठी , “आ उफ़ आ…! बहुत मज़ा आ रहा है। ”

फिर जब dildo नताशा ने अंदर डाला तो प्रिय की चीख निकल आई। इतना बड़ा उसने अब तक अंदर नहीं लिया था , जब dildo अंदर बहार होने लगा तो प्रिय मज़े के चरम पर थी। उसने चादर को कस कर पकड़ा था और अपनी जीब से नताशा की चुत को वह चाट रही थी।

नताशा को भी प्रिय की चटाई से बहुत मज़ा आ रहा था और तब प्रिय को और मज़ा देने के लिए नताशा खड़ी हुई और उस dildo को strap on कर लिया। फिर प्रिय को घोड़ी बनाकर नताशा ने उसकी जम कर चुदाई की , प्रिय की चुत पानी पानी होगई और अंत में प्रिय की चुत ने पानी का फुआरा छोड़ा। नताशा ने प्रिय की गांड पर चाटा मारते हुए कहा , “well squirt!”

skinnygirl

https://nightqueenstories.com

दोनों नंगी एक दूसरे के बगल में लेटी एक दूसरे के होठो को चुम रहे थे और तब अचानक नताशा ने प्रिय से कहा , “प्रिय , ये sex ऐसी चीज है ना की जब तक नई इछाओ को हम आज़माते नहीं , हम इसका पूरा मज़ा नहीं ले सकते। तुम बहुत खूबसूरत हो और ऐसा जिस्म लेकर तुम्हे अपने आप को बस अपने पति से चुदवाने की नहीं सोचनी चाहिए। ”

“मेरे लिए ये बहुत ही नया अनुभव था नताशा , पता नहीं अचानक क्या होगया , में अपने आप को रोक नहीं पाई आज और तुम्हारी आगोश में खो गई। ”

“हम्म , में खुश हु की तुम्हे मज़ा आया। मेरे पास तुम्हारे लिए एक और प्रस्ताव है। ”

“हाँ कहो। ”

“जैसे नवीन सामूहिक sex करता है , हम दोनों भी इस बात का अनुभव ले सकते है। ”

प्रिय नताशा की बात सुनकर घबरा उठी और डरते हुए उसने नताशा से कहा , “नहीं बिलकुल नहीं , मुझसे ये नहीं होगा। ”

“घबराओ मत , पहले तुम बस देखना और अगर सही लगे तो शामिल होना। ” किसी तरह फिर नताशा ने प्रिय को मना लिय।

नवीन प्रिय को लगातार phone कर रहा था , प्रिय ने उसे बस एक message करके अपना phone बंद करदिया , शायद नवीन से बदला लेने का ये तरीका उसे सही लग रहा था , इसीलिए वह नताशा की बात मान गई थी।

नताशा ने अपने कुछ दोस्तों को orgy invitation भेजे , कुछ ऐसे दोस्त जिनके साथ वह पहले भी ये कर चुकी थी। थोड़ी देर में उसका घर लोगो से भरने लगा , unsure सी प्रिय बस एक कोने में बैठी हुई थी और उन हस्ते चेहरों को देख रही थी।

नताशा उसके पास गई और उससे कहा , “सब ठीक है ना ? कोई ज़बरदस्ती नहीं है , तुम्हे अगर बस देखना है तो देख कर मज़े लो। कोई तुमहे परेशां नहीं करेगा। ”

“हम्म , मुझे थोड़ा वक़्त देदो। ”

नताशा प्रिय को अकेला छोड़कर अपने दोस्तों के साथ घुलने मिलने लगी और उन सभी ने अपने सारे कपडे निकाल दिए। इतने सारे नंगे लोग और सभी अलग अलग तरह के खूबसूरत जिस्म। कुछ आदमियों के लंड काफी बड़े थे , जिन्हे देख कर प्रिय को कुछ अजीब सा महसूस हो रहा था , उसने अब तक कभी नवीन के अलावा किसी और आदमी का लंड नहीं देखा था।

उस party कोई भी कभी भी किसी को भी चोद रहा था। नताशा को तीन लोंदे चोद रहे थे , एक का लंड उसने अपने मुँह में ले रखा था और एक उसकी गांड और एक उसकी चुत मार रहा था।

बाकी औरतो को भी कम से कम दो आदमी चोद रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे की वह इंसानो की party नहीं बल्कि अलौकिक प्राणियों का संभोग मेला था।

प्रिय पर भी sex का नशा छाने लगा और वह अपनी चुत सहलाने लगी , तभी एक लड़का बड़े लंड वाला जिसका लंड नताशा चूस रही थी प्रिय के पास आया और उसे चूमने लगा।

प्रिय ने अपने आप को उसके हवाले कर दिया , वह प्रिय को चूमते हुए उसकी चुत सहलाने लगा। प्रिय के कपडे उसने खोल दिए और उसे वही कुर्सी के सहारे झुकाकर वह चोदने लगा। उसका लंड प्रिय को बहुत मज़ा दे रहा था , प्रिय की सासे जोर जोर से चल रही थी और चोदने के रोमांच ने उसके दिल की धड़कन को तेज कर दिया था। कुछ पलो में एक और लड़का आया और उसने प्रिय को अपना लंड चूसने दिया। प्रिय अब उस खुमारी में पूरी तरह से खो चुकी थी , उस लड़के का लंड हिलाते हुए वह चुस्ती रही जबकि पीछे से एक मुश्टण्डा उसकी चुत ज़ोरो से मार रहा था।

उस orgy का बस एक नियम था की कोई भी चुत के अंदर नहीं झड़ेगा। जो लड़का प्रिय की ले रहा था उसने अपना लंड निकाला और प्रिय की गांड पर झड़ा दिया , अगला पूरी तरह तयार था प्रिय को चोदने के लिए।

threesome

उस दिन प्रिय की ताबड़तोड़ चुदाई हुई और बहुत से लड़को ने प्रिय की चुत के माज़े लिए। प्रिय ने भी अलग अलग लोगो से चुदाई का पूरा मज़ा लिया और फिर नताशा ने आखिर में एक सुझाव रखा।

“प्रिय अगर तुम चाहो तो अब तक चार लड़के ऐसे है जो झड़े नहीं है और इन्हे तुम्हारी गांड और चूचिया बहुत पसंद आई है। ये चार अपने लंड की मलाई तुम्हारे जिस्म पर निकालना चाहते है। ”

प्रिय मान गई और फिर उन्होंने उसे पूरी तरह से लंड की मलाई में भीगा दिया। इस तरह प्रिय को लगा जैसे उसने नवीन से अपना बदला ले लिया था।

 

 

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

100% LikesVS
0% Dislikes

One thought on “Orgy Club – सामूहिक Sex

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *