पड़ोसन की चुदाई

 215 

हॉर्नी पड़ोसन की चुदाई

हेलो दोस्तों! मेरा नाम जानवी है। में आपसे मेरा एक ताजा किस्सा शेयर करना चाहती हूँ। दरसल कोरोना काल में मेरे पड़ोसी मित्र ने टेरेस पर मेरी कई बार चुदाई की। और ये उस दिन की वक्त की कहानी है जब उसने मुझे पहली बार चोदा था।

 

ये दो महीने पहले की बात है। हम इस गांव में कुछ दिन के लिए आये थे। कोरोना के वजह से अपने शहर वापीस जा नही सके। तो हमने यही पर एक घर भाड़े पे ले लिया था। घर ज्यादा बड़ा नही था मगर इसका टेरेस मुझे पसंद आ गया। तो मेने पापा को यही घर लेने को बोला। इसी घर के ठीक बगल में है केवल का घर। केवल शायद मुझे 3 साल बड़ा है और बहुत ही सेक्सी है।

हम जिस दिन यहा रहने आये उसी दिन हमारी पहचान हुई थी। उसके पापाने मेरे पापासे थोड़ी बहुत बाते कि। जाते जाते उन्होंने केवल को हमारी मदद करने को बोला। तो उसने हमारा सामान उपर लेजाकर सही जगह रखने में हमे बहुत मदद की और साथ ही हमने बहुत सारी बातें भी की। कुछ ही दिनों में हमारी दोस्ती भी हो गयी। कही आते जाते हम बातें कर लिया करते थे।

कभी कभी वो मुझसे फ़्लर्ट भी करता था। और में भी उसे पसंद करने लगी थी। उसके घर का टेरेस हमारे टेरेस से बहुत उपर था। कई बार हम अपने अपने टेरेस पर खड़े रहकर गप्पे भी मारते थे। मेरी माँ से भी उसकी अच्छी पहचान हो गयी थी। उसे खाने भी बुलाया जाता था।

एक दिन ऐसे ही वो हमारे घर पर आया था। में बाथरूम में नहा रही थी। मुझे पता नही था कि केवल घर पर आया हुआ था। तो में नहाने के बाद हमेशा की तरह टावल लपेट कर बाहर आ गयी। माँ तभी सामनेवाले दुकान में कुछ लाने के लिए गयी थी। और आमतौर पर पापा इस वक्त पर बाहर ही होते है। मेने अपनी रूम से आवाज लगाई “माँ! मेरा टी शर्ट बाहर बेड पर है…जरा देना।” माँ ने जवाब नही दिया था। फिर में खुद ही बाहर आ गयी। और देखा तो सामने केवल खड़ा था और मैने सिर्फ टावल पहना हुआ था। में शर्मा के अंदर आने लगी तो उसने कहा “जानवी! अब बाहर आ ही गयी हो तो अपना टी शर्ट भी लेकर जाओ…” मेने पीछे मुड़ कर देखा तो उसने हाथ आगे किया था और हाथ मे मेरा टी शर्ट था।

में उससे आँखे मिलाये बिना दो कदम आगे बढ़ी और अपने टी शर्ट को पकड़ा। टी शर्ट छोड़ने के बजाय उसने एकदम से खींच ली और मुझे अपने बाहों में ले लिया। में शर्म से पानी पानी हो रही थी और सच कहूँ तो मेरी चुत भी गीली हो रही थी। उसने कहा “आओ ये टी शर्ट में ही तुम्हे पहना देता हूँ!” मेने झटके से उसे सोफे पे धकेला और अपनी टी शर्ट उठा के अंदर भागने लगी। उसने पीछे से हाथ पकड़ लिया और बोला “में तुम्हे किस तो कर ही सकता हूँ…हैना जानू?”

मेने कुछ कहा नही। वो धीरे धीरे मेरे करीब आया और किस करने ही वाला था कि तभी गेट का आवाज आ गया। माँ घर वापीस आ रही थी। में जल्दी से अंदर भाग गई। थोड़ी देर में तैयार हो कर बाहर आ गयी। और हम सब ने साथ मे खाना खा लिया। मेने 2-3 बार उसे चिढाने के लिए छुप छुप के फ्लाइंग किस भी दी। केवल की शकल देखने लायक हुई थी। मगर इस किस्से के बाद में केवल के बारे में बहुत सोचने लगी थी।

एक दिन घरवाले सब बाहर गए थे। में दोपहर को टेरेस पे थी। वहा पर मेने बिस्तर लगाया था और लेटी हुई थी। हमारे टेरेस की चारों ओर एक बस केवल का ही टेरेस था जहासे में किसीको दिख पाउ। तो में खुलेआम सो लिया करती थी टेरेस पर। शाम हो रही थी। केवल के टेरेस का दरवाजा भी बंद दिख रहा था। मेरे पास करने के लिए कुछ था नही तो मैने अपने मोबाइल पर पॉर्न मूवी लगा दी और ब्लैंकेट ओढ़ कर देखने लगी। देखते देखते में अपने चुचियों को सहला रही थी।

मेने सोचा काश आज केवल घर आया होता। बाकी सब भी बाहर गए हुए है। ये सोच कर मेरे हॉर्नी हो गई थी। मेने मोबाइल बाजू में रख दिया और अपना हाथ पैंटी में डाल दिया। मेरी चुत गीली थी। मेने अपनी चुत में एक उंगली डाल दी…और अपनी चिचियों को भी सेहला रही थी। कुछ मिनट बाद जब में होश में आयी तो मैने देखा कि मेरा ब्लैंकेट पूरा हट चुका था। और फिर मेरा ध्यान उपर गया, तो वहासे केवल पता नही कबसे मुझे इस हालत में देख रहा था। कुछ पल के लिए हम बस एक दुसरे को देखते रहै। और फिर आखों ही आँखों मे हमने जान लिया कि अब क्या करना चाहिए….

वो कूद के मेरे टेरेस पर आ गया और में उसे अपने साथ नीचे रूम में लेकर गयी। जैसे ही दरवाजा बंद हुआ, हमने एक दूसरे को पागलों की तरह चूमना शुरू किया। वो मेरे टी शर्ट के ऊपर से मेरी चुचियाँ दबाने लगा और चूमता रहा। मेने उसकी टी शर्ट निकाल ली। अचानक मुझे याद आया कि खिड़कियाँ और पर्दे खुले ही थे। मेने केवल को बेड पर धकेला और जल्दी से पर्दे बन्द कर दिए। उसने पीछे से मेरी कमर पकड़ कर उठा लिया और मुझे बेड पर सुला दिया। हम फिरसे किस करने लगे। वो मेरे ऊपर लेटा हुआ था। वी अब मेरी टी शर्ट में नीचे से हाथ डाल रहा था…

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

मेरी चुत और मचलने लगी थी। उसने मेरा टी शर्ट निकाल ही दिया। और मेरे ब्रा निकाल ने जा रहा था। मुझे शर्म आरही थी तो मैने उसे रोक। वो रुक गया। मुझे उसका लण्ड खड़ा दिख रहा था। तो मेने अपना मन बना लिया और अपनी ब्रा उतार दी। मेरी चुचियाँ देख कर वो जोश में आ गया वो मेरी चिचियों को चूमने लगा। मुझे बहुत ही मजा आ रहा था। उसके हर स्पर्श के साथ मेरी मदहोशी बढ़ रही थी…

में उसको अपने ऊपर से हटाया और खुद उसके ऊपर लेट गयी। हमने एक दूसरे के हाथ पकड़ लिए। मैं अपनी चुचियाँ उसके चेहरे पर घुमा रही थी। वो आँखे बंद करके मजे ले रहा था। में उसे थोड़ा छेड़ना चाहती थी इसलिए मैंने टेबल से अपना दुपट्टा उठाया। और दुपट्टे से उसके दोनों हाथ बेड को बांद दिए। वो बस मुस्कुरा रहा था।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

में बेड से नीचे उतरी और अपनी कमर को हिलाने लगी। मेने अपनी जीन्स उतार दी। अब मेने सिर्फ पैंटी पहनी हुई थी। में उसके उपर ऐसे बैठी गयी कि मेरी चुत अब ठीक उसके लंड पर थी। मेने अपनी चुत से उसके लंड को रगड़ना चालू किया। वो तड़प रहा था। और मुझे ये देख कर बड़ा मजा आ रहा था। मेने उसको चूमा और फिर नीचे सरक गयी। मेने उसकी जीन्स खोली और उतार दी। और फिर अंडरपैंट भी उतार दी। में उसके नंगे बदन पर लेट गयी। उसे बंधे हुए हाथ और बर्दाश्त नही हो रहे थे।

मेने उसके हाथ खोल दिये, उसने तुरंत मुझे पकड़ कर मेरी पैंटी उतार दी…मेने उसे सुलाया और उसके मुंह पर बैठ गई। वो मेरी चुत को पूरी शिद्दत से चाटने लगा। मेरी आहे निकल रही थी,

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. चाटो चाटो केवु…

ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…

ऐसी ही मेरे हीरो…मेरे केवु…ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…

ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…

उसने मुझे दो पैरों पर झुक के बैठने को कहा। पर मैने उसकी बात नही मानी। मेने उसे लेटा के रखा औऱ में सरक के नेसचे उसके लंड पर बैठ गई। फिर उसने मेरी चुदाई शुरू की…चोदते चोदते उसने मुझे बेड पर लेटा दिया। अब में उसके नीचे थी। उसका समूचा लंड अब मेरे अंदर था…

पूरे 5 मिनट तक वो मुझे चोदता रहा और मेरी सिसकियाँ निकलती रही….

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह….

केवु…उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. केवु चोदो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह और जोर से..जोर से ओह मेरे हीरो आआआहहहहहहह

आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजा…राजाअअअअअअअ।। चोदो मेरी चुत।…तबाही मचा दो मेरी चुत में…

आआआहहहहहहह जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…..

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कुछ ही देर में उसका पानी निकल गया। हम थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहे। में चाहती थी कि वो मुझे फिरसे चोदे। शाम के 7 बजने को आये थे और किसीने नीचे डोरबेल बजाई। मेने खिड़की से देखा तो मुझे केवल की माँ आते हुए देख रही थी। केवल को किचन में छुपने को बोल दिया। मेने कुछ पहना हुआ नही था तो एक ड्रेस उपकर से पहना लिया मेने और हॉल का दरवाजा खोल दिया।

केवल की माँ मुस्काते हुए अंदर आयी। उनके हाथ मे टिफ़िन था। वो बोली “तुम्हारी माँ बाहर गयी है ना…मेने पोहे लाये थे खा लो। में केवल को ही भेजने वाली थी पर वो पता नही कहा चला गया है।” मेने उनके हाथ से टिफ़िन ले लिया। वो बोली चलो किचन में…तुम्हे परोस भी देती हूँ। में बहुत ज्यादा डर गई थी, किचन में तो केवल था। मेने जैसे तैसे उन्हें अंदर जाने से रोक लिया। फिर वो चली गयी।

उनके जाने के बाद में किचन में चली गई। वहा केवल नही था। मेने मेरी रूम में देखा तो वो वहा पर भी नही था। तो मेंने बाथरूम की ओर आवाज लगाई “केवल जी आपकी माँ जा चुकी है…शर्माइये मत बाहर आईये” कहिसे कोई जवाब नही आया। बाथरूम के दरवाजे पर जाकर मेने फिर पूछा “केवल तुम अंदर हो ना?” अचानक उसने मेरा हाथ पकड़ कर बाथरूम में खींच लिया और दरवाजा बंद कर दिया। और पलक झपकते ही में शॉवर के नीचे खड़ी थी। मेरा ड्रेस पूरा भीग गया और मेरे बदन को चिपकने लगा था। मेंने चिल्लाई “क्या कर रहे हो केवल!! मुझे ठंड लग रही है” उसने कहा “में हूँ ना तुम्हे गर्मी देने के लिए…” उसने पीछे से मेरी चुचियों को पकड़ लिया और मेरी गीली गर्दन को चूमने लगा।

उसकी इस हरकत से में बहुत ज्यादा हॉर्नी हो गयी थी। मेरी गांड तो मचलने लगी थी। वो मेरे मुह पर किस करने लगा। कुछ देर हम किस करते रहे। फिर उसने मेरे ड्रेस में निचे से हाथ डाला और मेरी चुत को सेहलाने लगा। मेने पलट कर उसे कस कर पकड़ लिया। उसने मुझे दोनो हाथों से उठा लिया और डाइनिंग टेबल पे लेटा दिया। फिर मेरे दोनों पैर उसके कांधे पर टिका दिए।

में चाहती थी कि वो मेरे चुत फिरसे उसके लंड के पानी से नहला दे। मेने हाथ से मेरी गांड खींच के अपनी चुत खोली। उसने तुरंत अपना लंड मेरी चुत में डाल दिया और जम के मेरी चुदाई की। वो इतने जोर से मुझे चोद रहा था कि वो टेबल भी हिल रहा था…मेरी चुत में तबाही मच गई थी। में आवाज से उसका जोश और बढ़ रहा था…

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. और जोर से केवु आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह… तेज तेज।… उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई…..

उफफ़फ़फ़…ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….

बिल्कुल फाड़ दो मेरी चुत….

ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…

आज केवल ने मेरी चुत को बहुत संतुष्ट किया था। फिर हमने साथमे शॉवर भी किया और हॉल में जाकर एक दूसरे की बाहों में थोड़ी देर सोये रहे। खाना खाने का वक्त हुआ था तो केवल अपने कपड़े पहन कर छुप के निकल गया…

इसके बाद जब भी हमे मौका मिलता हम एक दूसरे के करीब आकर खूब मजे करते। कभी उसके घर, कभी मेरे घर और कभी किसी दोस्त के घर।

तो दोस्तों, ये थी मेरी कहानी! ऐसे मेने और मेरे पड़ोसी ने एक दूसरे को संतुष्ट किया…अगर ये कहानी पढ़ कर आपको मजा आया तो लाइक और कमेंट जरूर करे।

ऐसी कयामत भरी चुदास कहानी पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com पर बने रहना। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे। धन्यवाद।

100% LikesVS
0% Dislikes

One thought on “पड़ोसन की चुदाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *