डीन के साथ मेरी लेस्बियन चुदाई

डीन के साथ मेरी लेस्बियन चुदाई

हेलो दोस्तों यह सच्ची घटना करीब 3 साल पुरानी है जब मैं IIT दिल्ली से कप्यूटर इंजीनियरिंग की फाइनल सेमेस्टर की छात्रा थी।

 

दरअसल मैं एक एवरेज स्टूडेंट थी। जैसे तैसे मैं पास तो होते आ रही थी लेकिन मुझे डर था कि मेरा कैम्प्स में सेलेक्शन नहीं होगा बस यही डर के कारण मैं और भी परेशान हो चुकी थी।

 

लेकिन तभी चमत्कार हुआ और कुछ ऐसा हुआ कि मेरा कैम्प्स में सेलेक्शन हो गया और मुझे माइक्रोसॉफ्ट में 4 लाख महीने का पैकेज पर चयन हुआ।

मेरी चुत पर रगड़ो

https://nightqueenstories.com  के प्रिय पाठकों, मैं हूँ राशि उम्र 23 साल फिगर 28-26-30 है। मैं एक दुबली पतली लेकिन सेक्सी खूबसूरत लड़की हूँ।

यह कहानी मेरी अपनी है। लेकिन जैसा कि आपने शीर्षक पढ़ा। यह कहानी मेरी और मेरे कॉलेज के लेस्बियन डीन की है। मेरे कॉलेज की डीन प्रेमलता थी। जो कि एक 52 वर्षीय खूबसूरत महिला थी। भरे बदन की गोरी चमड़ी वाली सेक्सी औरत जिसके पीछे कॉलेज का हरेक लड़का पागल था। वह बहुत कड़क थी इसके बावजूद कॉलेज के सभी लड़कों के क्रश थी। उनकी उम्र 35 साल से ज्यादा की नहीं लगती थी। वह बहुत डिसिप्लिन महिला थी। रोज योगा और वर्कआउट करती थी। उनके हस्बैंड की आज से 21 साल पहले डेथ हो चुकी थी।

कैसे मैं कैम्पस सेलेक्शन के लिए अपने कॉलेज के डीन मैडम के साथ लेस्बियन सेक्स की

दरअसल उनकी हस्बैंड की डेथ एक मिस्ट्री थी। उनकी डेथ के बारे में तरह तरह के चर्चे होते थे। कुछ का कहना था कि वो आत्महत्या कर लिए थे, कुछ की दबीं जुबान से सुनने को मिलता था कि मैडम ने उनकी हत्या करवा दी थी।

 

चाहे जो हो। लेकिन सच यह था कि प्रेमलता मैडम बहुत हॉट खूबसूरत और सेक्सी थी।

 

उनकी जान पहचान भी बड़े बड़े सांसद मंत्री से था। उनका रहन सहन बिल्कुल अलग था। वह ड्राइवर नहीं रखी थी बल्कि खुद गाड़ी ड्राइव करती थी।

 

मैं हॉस्टल में ही रहती थी। एक दिन मेरी मुलाकात उनसे हुई। वह फाइनल सेमेस्टर की छात्रों से मिल रही थी। तभी उनसे मेरी पहली बार फेस टू फेस मुलाकात हुई। और जिस तरह से वो मुझे देखी मैं तो डर गई। वह एकटक मुझे कुछ देर तक देखी थी।

 

और फिर सभी छात्रों से मिलने के बाद वो अपने ऑफिस में चली गई। और हमसब भी अपने अपने पढ़ाई में व्यस्त हो गए। करीब 3 दिन बीत गया। और तब अचानक एक दिन एक केअर टेकर मेरे पास आए और उन्होंने कहा कि तुम्हे डीन मैडम ने बुलाया है।

 

मैं घबरा गई कि मुझसे क्या गलती हो गई जो डीन मैडम बुलाई हैं। क्योंकि वो अनायास या बिना कारण किसी को नही बुलाती थी।

 

मैं उनके ऑफिस पे पहुँची तो वो किसी से कॉल पर बात कर रही थी। उन्होंने मुझे इशारों में चेयर पर बैठने को बोला। मैं बैठ गई। करीब 5 मिनट तक उनकी बातचीत होते रही फिर उन्होंने फोन को टेबल पर रखते हुए बोली, राशि मैं तुम्हारी सभी वर्षों की रिपोर्ट कार्ड देखी हूँ तुम किसी तरह पास होते आई हो। इस तरह तुम्हे कैम्प्स में सेलेक्शन तो दूर पासआउट होने के बाद भी जॉब मिलना मुश्किल होगा। तुम्हारी ध्यान कहाँ रहती है। तुम्हारे माँ बाप तुम्हे कॉलेज में पढ़ने के लिए अच्छा करियर बनाने को भेजे हैं और तुम हो कि बस समय बिता रही हो।

 

मुझे बहुत शर्मिंदगी हुई। मैं बोली मैडम मैं क्या करूँ मैं बहुत कोशिस करती हूँ लेकिन मैं अच्छे ग्रेड से सफल नही हो पाई। और अब मुझे जॉब ना मिलने की डर सता रही है। आप ही कुछ कीजिए।

 

मैडम बोली अगले 15 दिनों के अंदर कई कम्पनियां कैम्प्स में आ रही है। और सभी गूगल, माइक्रोसॉफ्ट जैसे बड़ी बड़ी कम्पनियां हैं जिनका पैकेज लाखों करोड़ों में होता है। और जिनका सेलेक्शन कैम्प्स में नही होता उन छात्रों को पासआउट के बाद जॉब के लिए ठोकरे खाने पड़ते हैं। तो तुम्हे अगले कुछ दिनों में इंटरव्यू की जबरदस्त तैयारी करनी होगी और कुछ पॉइंट पर फोकस करना होगा।

 

मैं चाहती हूँ तुम्हारी सेलेक्शन कैम्प्स में हो जाए और तुम्हे एक अच्छी कम्पनी में जॉब मिल जाए।

 

मैं मैडम के सामने गिड़गिड़ाने लगी और बोली मैडम आप जो बोलेंगी मैं करूँगी। प्लीज मुझे बताइए कि मैं क्या करूँ कैसे तैयारी करूँ। तो मैडम बोली की जो कम्पनियां आ रही हैं उनमें से ज्यादातर में मेरी बहुत अच्छी पकड़ है मैं कुछ करती हूँ।

 

तुम अगले कुछ दिन तक मेरे घर पर आओ ताकि मैं कुछ हेल्प कर सकूँ। तकी तुम्हे इंटरव्यू में मदद मिले। बाकी का मैं देख लूँगी।

 

फिर मैडम एक कार्ड मुझे दी जिसपर मैडम का पता था और बोली कि कल से तुम मेरे घर आओ शाम के वक़्त। मैं बोली कि मैडम आपका घर तो बहुत दूर है मैं कॉलेज खत्म होने के बाद शाम को आऊंगी तो फिर मुझे वापिस होने में दिक्कत होगी। क्योंकि लेट नाईट में हॉस्टल में एंट्री नही होगी। तो मैडम बोली एक काम करो तुम होस्टल से छुट्टी ले लो और अगले कुछ दिन मेरे घर पर रहो।

मैं तैयार हो गई। और अगले दिन हॉस्टल से छुट्टी ले ली। लेकिन अगले दिन से मैडम भी छुट्टी ले चुकी थी ये बाद में मुझे पता चला।

चुत को चोद

फिर शाम को मैं कुछ सामान के साथ मैडम के घर पहुँची। मैडम का घर बहुत बड़ा था। शानदार बंगला था। मैडम के घर के बाहर एक शानदार बड़ा सा गार्डन थ जिनमे हर तरह के फूल और पेड़ पौधे लगे हुए थे। गजब की सुकून थी मैडम के बंगले पर।

 

मैडम के घर पर कोई नौकर नही थे। बल्कि मैडम रात का खाना खुद बनाती थी। या होटल से आर्डर कर लेती थी।

 

रात के करीब 8 बजे मैडम मुझसे बोली कि राशि तुम क्या खाओगी। मैं खाना बनाऊं या होटल से आर्डर करूँ। तो मैं बोली कि मैडम मुझे बनाने आता है मैं बना देती हूँ। तो मैडम बोली कि रहने दो कल हमदोनों मिलकर बना लेंगे। आज आर्डर कर देते हैं।

 

और फिर मैडम खाना आर्डर कर दीं। मुझे मैडम के सामने थोड़ी संकोच हो रही थी तो उन्होंने बोला कि राशि तुम्हे अनकम्फर्टेबल होने की जरूरत नही है मुझे अपनी दोस्त मानो और खुलकर रहो। वह मुझे सहज करने के लिए मजाक भी कर रही थी। अगले कुछ घंटों में मैं सच मे बिल्कुल उनसे घुलमिल गई और एक सहेली की तरह हो गई।

 

तभी रात के 10 बज गए। और खाना आ गया। हमदोनों ने खाना खाया। मैडम शराब की भी शौकीन थी। उन्होंने डिनर टेबल पर जब शराब लायी तो मैं शर्मा गई। और जब वो मुझसे पूछी की हार्ड पैग लोगी या सॉफ्ट

 

तो मैं बोली मैं नही पीती हूँ। तो वो बोली कि अरे कुछ नही होता इससे दिमाग तेज चलती है और सबकुछ याद तेजी से होता है। उनकी बहुत रिकवेस्ट के बाद मैं मान गई। और डिनर करते करते हमदोनों 4 पैग ले लिए। तब तक 11 बज गया। और मेरे शरीर मे शराब का नशा पूरी तरह फैल गया। मैं बोली मैं अब नही पिऊंगी मुझे चढ़ गई है। और फिर मैं बोली कि मुझे सोने का मन कर रहा है। तो मैडम बोली ठीक है मेरे बैडरूम में ही सो जाओ बहुत बड़ा बेड है। और फिर मैं उठी तो लड़खड़ाने लगी। तभी मैडम उठी और मुझे सहारा देकर रूम में ले गई। और फिर मुझे बिस्तर पर सुला दी। और मैडम फिर से डाइनिंग टेबल पर गई और शराब की बोतल और ग्लास लेकर आई। और मैडम एक और अपने लिए बनाई। मैं देख रही थी लेकिन मुझे नशा हो चुका था।

 

फिर मैडम उठी और ग्लास लेकर बिस्तर पर आ गई। और मुझे बोली राशि आओ इसी ग्लास से हमदोनों पीते हैं। मैडम की जुबां लड़खड़ा रही थी। मैं मना करती रही लेकिन मैडम जिद की तो मैं उठी तो मैडम बिना देर किए ग्लास मेरे होंठो से लगा दी। और मैं आधा ग्लास निगल ली। और बाकी का आधा ग्लास मैडम पी गई।

 

मैं फिर से लेट गई तो मैडम गिलास किनारे रखी और मेरे बगल में लेट गई। मैं नाईट सूट पहनी थी लेकिन मैडम एक छोटी सी शॉर्ट्स और बनियान ही पहनी थी।

 

मैडम मुझे पकड़ ली और अपना पैर मेरे कूल्हों पर रख दी। शराब का नशा और मैडम की बांहो ने मानो मेरे बदन में ज्वालामुखी का विस्फोट कर दिया हो। और अचानक से जैसे मेरा सारा नशा उतरने लगा और दूसरा नशा होने लगा। मैंने महसूस किया कि मैडम धीरे धीरे अपने बदन को मेरे बदन में रगड़ रही है। अब मेरे अंदर तेज हलचल होने लगी। अब मैडम का हाथ मेरी चुचियों पर पहुच चुका था। और अचानक मैडम मेरी चुचियों को सहलाने लगी और फिर हाथों से मसलने लगी। मैडम की हाथों को जादू मेरे चुचियों से होता हुआ मेरी चुत तक पहुँचने लगा। और तभी मैडम अपना शॉर्ट्स और पैंटी एकसाथ नीचे सरक दी और पैरों से निकाल दी। और कुछ देर बाद मैडम मेरी लोअर के साथ पैंटी को नीचे करने लगी। लेकिन दबे होने के कारण वह नीचे नही हो रहा था। लेकिन मुझे भी मजा आ रहा था इसलिए मैं कमर को हल्का उठाई तो मैडम मेरी लोअर और पैंटी को एकसाथ घुटनो तक सरका दी। अब मैडम की नंगी जांघो की एहसास मेरे जांघो और कूल्हों पर साफ महसूस हो रहा था। अब मैडम धीरे धीरे अपनी कूल्हों को हिलाकर मेरी गांड़ पर रगड़ने लगी। और उनकी हाथ मेरी मेरी चुचियों को मसलने लगी। और फिर मैडम कब अपना बनियान उतार दी मुझे पता भी नही चला।

 

फिर मैडम मेरी टॉप को ऊपर करने लगी और मेरी चुचियाँ आजाद हो गई। क्योंकि मैं ड्रेस चेंज करते वक़्त ब्रा निकाल दी थी। क्योंकि मैं रात को ब्रा पहनकर नही सोती हूँ।

 

अब मैडम की चुचियाँ मेरे पीठ पर गड़ने लगे। उनकी चुचियाँ तो मेरे चुचियों से भी ज्यादा टाइट थी। और मैडम अब जोर जोर से मेरी चुचियों को मसलने लगी।

और मैडम अपनी चुत मेरे चुत पर रगड़ने लगी

और तभी अचानक मैडम अपना हाथ मेरी चुत पर रख दी। मैडम की हाथ मेरी चुत पर जैसे ही पड़ी मैं चिहुँक गई। और

 

आहहहहहहहहहहहहहहहहह…

 

की आवाज मेरे जुबान से निकल गई। और तब मैडम मुझे सीधा की और मेरे ऊपर आ गई। और मैं जबतक कुछ समझ पाती मैडम अपना हाथ मेरे होंठो पर रख दी। और मुझे किस करने लगी। मैडम की गर्म सांसे मुझे और पागल कर दी थी। अब मैं भी मैडम को बाहों में जकड़ ली और साथ देने लगी। मैडम आपना जीभ मेरे मुँह में डाल दी और मैं चूसने लगी। फिर मैडम मेरे जीभ को चूसने लगी।

प्यासी थी मेरी चुत

और फिर अचानक मैडम अपने पैरों से मेरे दोनो पैरो को फैलाई और अपना चुत कभी मेरी चुत पर तो कभी मेरी जांघो पर रगड़ने लगी। चुकी मैं भी चुदाई की एक्सपर्ट थी तो मैं भी नीचे से कमर हिलाने लगी। मैडम लगातार मेरी होंठो को पी रही थी। और मेरी चुचियों को मसल रही थी।

मैडम बोली अपना चुत मेरी चुत पर रगड़ो

और देखते देखते मैडम नीचे हो गई और मुझे ऊपर कर दी और बोली राशि चोदो मेरी चुत। अपनी चुत मेरी चुत पर रगड़ो। मैं जोर जोर से अपनी चुत मैडम की चुत पर रगड़ने लगी तो मैडम चिल्लाने लगी

ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राशि.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।   चोदो राशि हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से रगड़ो जोर से अपनी चुत मेरी चुत पर रगड़ो.. चोदो मेरी जान आहहहहहहहहहहहहहहह…… मेरी रानी कितना अच्छा चुत चोदती है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरी गुड़िया…  मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह रगड़ के फाड़ दो मेरी चुत।  कमर उठा उठा के मारो झटके.. मेरी बाबू चोदो जोर से हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह… तू तो मर्द से भी अच्छी चोदती है बेबी….. चोदो राशि…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बहुत दिन से प्यासी है मेरी चुत। चोदो ना जान तेजी से रगड़ो।…  ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राशि.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।   चोदो राशि हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से रगड़ो जोर से अपनी चुत मेरी चुत पर रगड़ो.. चोदो मेरी जान आहहहहहहहहहहहहहहह…… मेरी रानी कितना अच्छा चुत चोदती है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरी गुड़िया…  मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह रगड़ के फाड़ दो मेरी चुत।  कमर उठा उठा के मारो झटके.. मेरी बाबू चोदो जोर से हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह… तू तो मर्द से भी अच्छी चोदती है बेबी….. चोदो राशि…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बहुत दिन से प्यासी है मेरी चुत। चोदो ना जान तेजी से रगड़ो।…

 

बेबी मैं दुबारा झड़ने वाली हूँ रगड़ो जोर से। बहुत प्यासी थी मेरी चुत। मैं गई रानी गई। मेरी भी चुत दुबारा।से झड़ने वाली थी तो मैं भी रफ्तार तेज कर दी

 

ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राशि.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।   चोदो राशि हहहहहहहहहहहहह…….

 

और फिर हम दोनों के चुत ने एकसाथ रस छोड़ दिये।

 

क्या बताऊँ दोस्तों मेरी जिंदगी में पहली बार इतना मजा आया था। असली लन्ड से चुदाई में भी इतना मजा नही आया था जितना आज आया।

 

मेरी चुत पहली बार चुत से रगड़ खा के जन्नत हासिल कर चुकी थी। मैं मैडम के यहां 10 दिन रुकी और रोज जम के लेस्बियन और नकली लन्ड (डिल्डो) से भी जम के चुदाई किए। यहाँ तक कि मैं नकली लंड से गांड़ भी मरवाई। और मैडम की गांड़ भी मारी।

 

अब मैं और मैडम कॉलेज में उनके आफिस में भी चुदाई करते थे।

 

और फिर कैम्पस सेलेक्शन में मैडम के उपकार से मुझे माइक्रोसॉफ्ट में 48 लाख पर एनम की पैकेज की जॉब मिल गई। अब मैं और मैडम अक्सर मिलते हैं और चुदाई का खेल खेलते हैं।

 

तो दोस्तों मेरी और मैडम की लेस्बियन चुदाई कैसी लगी।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा। नमस्कार।

 

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *