मालकिन की प्यासी चुत

 217 

मालकिन की प्यासी चुत ने मुझे अमीर बना दिया।

मेरे दोस्तों और https://nightqueenstories.com के सभी प्यारे पाठकों को मेरा नमस्कार।

मेरा नाम रामप्रकाश वर्मा है। मैं 32 साल का हूँ। मेरे कई रेस्टूरेंट है वही मेरा बिजनेस है। मैं नागपुर में रहता हूँ। वैसे तो मैं दमन का रहने वाला हूँ लेकिन 14 साल पहले मैं नागपुर आया था और एक रेस्टूरेंट में काम करने लगा था। धीरे धीरे मेरा एक्सपीरियंस बढ़ता गया और मालिक ने मुझे मैनेजर बना दिया। मेरे मालिक का नागपुर में 3 रेस्टूरेंट था। और फिर कुछ दिनों बाद ही तीनो रेस्टूरेंट का देखभाल मुझे सौप दिया। अब मैं मालिक के तरह ही तीनो रेस्टूरेंट में धाक से रहता हूँ। और अब मैं जबरदसत पैसे कमाने लगा। दाएं बाएं करके महीने का 4, 5 लाख रुपया आसानी से कमाने लगा। जब मेरे पास अच्छे पूंजी हो गए तो मैं खुद का एक रेस्टूरेंट खोला और अगले कुछ सालों में ही मैं पूरे नागपुर में कई रेस्टूरेंट खोल लिया।

दोस्तों एक कहावत है किस्मत मेहरबान तो गदहा पहलवान। कुछ ऐसा ही मेरे साथ ही हुआ था। मैं एक बेहद गरीब माँ बाप का बेटा था। जिनके पास मुझे पढ़ाने के लिए एक रुपए नही थे। बमुश्किल घरबार चल पा रहा था। और मेरी घर की इसी गरीबी ने मुझे काम करने पर मजबूर कर दिया था। और मेरे एक जान पहचान वाले के साथ मेरे पिताजी मुझे नागपुर भेज दिए। और उनकी कृपा से मुझे एक रेस्टूरेंट में काम मिल गया। एक दिन एक सज्जन आदमी रेस्टोरेंट में आए तो मेरी काबिलियत देखकर वह मुझे काम के साथ पढ़ाई करने के लिए प्रेरित किए चुकी मैं गांव पर पढ़ाई करता था और आठवीं तक पढ़ाई किया भी था। लेकिन मेरे घर की गरीबी ने मुझे शायद समय से पहले ही मेच्योर बना दिया था। तो उस सज्जन आदमी ने मुझे हौसला दिया और किताबें खरीद दिया और एक स्कूल से दसवीं का व्यक्तिगत फॉर्म भरवा दिया। अब मैं रेस्टूरेंट बन्द होने के बाद पढ़ाई भी करने लगा। और 69% अंक से दसवीं पास हुआ। और जब यह बात मेरे रेस्टूरेंट के मालिक को पता चला तो वह बहुत खुश हुए चुकी मैं मेहनत से काम भी करता था इस कारण भी मालिक मुझसे खुश रहते थे। और उस दिन रेस्टूरेंट के सभी स्टाफ को वो मेरे पास होने के खुशी में पार्टी दिए और एक दिन के लिए सबकुछ फ्री कर दिए। वह भी बहुत सज्जन इंसान थे। उस दिन किसी भी ग्राहक से एक रुपए नही लिया गया। और मालिक मुझे आगे का पढ़ाई करने बोले और सारा खर्च वो उठाने लगे वह मेरा एक अच्छे कॉलेज में इंटरमीडियट में एडमिशन करवा दिए और वहां के प्रिंसिपल से बात करके घर से ही पढ़ाई करने को राजी करवा लिए वह प्रिंसिपल उनका दोस्त ही था। अब मुझे हफ्ते में 2 दिन शनिवार और रविवार पूरा दिन छुट्टी मिलने लगा। और शाम 6 बजे तक ही काम करने को बोले। और मेरी तेज तर्रार होने की वजह से वो मुझे कंप्यूटर क्लास जॉइन करवा दिए और एक महीने में ही वो मुझे रेस्टूरेंट का बिल बनाने का काम दे दिए। मैं उनके बगल में बैठ के कंप्यूटर से बिल बनाने लगा तो मुझे पढ़ने का और ज्यादा समय मिलने लगा। मालिक बहुत स्पोर्ट करने लगे। और 2 साल बाद मैं 73% अंक के साथ इंटर पास किया। अब मैं पढ़ाई के साथ रेस्टूरेंट का पूरा काम जानने लगा था। और 17 साल की उम्र में मैं रेस्टूरेंट का मैनेजर बन गया। अब पूरा रेस्टूरेंट मेरे अंडर में था। और मालिक दूसरे रेस्टूरेंट संभालने लगे। उनके कई रेस्टूरेंट थे। मेरा पढ़ाई जारी रहा और मेरी इनकम भी अब अच्छी होने लगी। अब आसानी से मैं 50 हजार रूपर महीने का कमा लेता था। कुछ पैसे घर भेजता और कुछ सेविंग करने लगा। और अब मैं पूरी तरह से जवान बन चुका था। क्योंकि अब मैं 18 साल का हो चुका था लेकिन मेरी बॉडी 24, 25 साल के आदमी की तरह ग्रोथ किया था। मैं अक्सर मालिक के घर भी आता जाता था किसी भी काम के लिए मालिक के यहां मैं ही जाता था क्योंकि मैं उनका सबसे विस्वासी था।

मालिक की अय्याशी ने कैसे मालकिन की चुत चुंबक की तरह मेरे लंड को खींचकर अंदर घुसा लिया

मालिक के मैडम का नाम रीति था जो बहुत सुंदर थी। उनकी सुंदरता पर कोई भी मोहित हो जाता था उनका 1 बच्चा था जिसका नाम आरव था। वह 12 साल का था और दिल्ली के एक प्रतिष्ठित स्कूल में पढ़ाई करता था। तो मालकिन घर पर अकेले ही रहती थी।

पिछले कुछ समय से मालिक बदल चुके थे अब वे पहले से ज्यादा अय्याशी करने लगे थे। और उनका घर पर भी कम आना जाना होता था। जैसे ही मैं 18 साल का हुआ था मालिक शहर के अपने सभी रेस्टूरेंट का जिम्मा मुझे सौप दिए। एक तरह से मैं CEO बन चुका था। अब मालिक एक तरह से मैं ही था। और मालिक मस्ती करते और वह कुछ और काम शुरू करना चाहते थे। इसी बीच वह मलेशिया में एक होटल और रेस्टूरेंट खोलने के प्रोजेक्ट बनाने लगे। और अब वह अक्सर वहां जाने लगे। अगले 6 महीने में वह एक मलेशिया में और एक थाईलैंड में होटल और रेस्टूरेंट खोल दिए। जिस कारण अब वे इंडिया से ज्यादा विदेश में रहने लगे। महीने में लगभग वह 20 दिन से ज्यादा बाहर ही रहते। और यहां के सारे रेस्टूरेंट के साथ उनके घर का भी कम काज मुझे देखना पड़ रहा था। जिस कारण अब अक्सर उनके घर मेरा आना जाना होने लगा। https://nightqueenstories.com

और मालिक अब अपने मैडम से और ज्यादा दूर हो गए। वह बमुश्किल महीने में 1,2 दिन घर मे समय बिताते इस कारण रीति मैडम काफी उदास रहने लगी।

एक दिन मैं किसी काम से उनके घर गया था उस दिन रीति बहुत उदास थी। मैं उनको शुरू से ही दीदी कहके बुलाता था। तो उस दिन मैं उन्हें उदास देखकर पूछ लिया कि दीदी तबियत ठीक तो है ना आप बहुत उदास दिख रही हो। तो वह फुट फुट कर रोने लगी और बोली राम मैं क्या बताऊँ तुम्हारे भईया का मेरे प्रति व्यवहार बिल्कुल बदल चुका है पहले तो हफ्ते 10 दिन में 1,2 दिन घर मे समय बिताते भी थे लेकिन जबसे मलेशिया और थाईलैंड में होटल लिए हैं तबसे वो तो अब मेरे पास आते भी नही हैं। पिछले 2 महीने में वह मात्र 1 दिन घर मे रहे हैं। वो भी उस दिन ठीक से बात भी नही किए और अपने ही काम मे व्यस्त थे।

मैं भी उनका उदास चेहरा देखकर काफी परेशान हुआ। फिर मैं वापिस आ गया। 2 दिन बाद मेरे पास रीति का कॉल आया और बोली कि राम मुझे शॉपिंग करना है कल दोपहर के बाद मेरे साथ तुम्हे मार्किट चलना पड़ेगा तो रेस्टूरेंट का देख लेना और लाइनअप करके आ जाना। दूसरे दिन 1 बजे मैं उनके घर पहुँचा तो वह गाउन में थी। फिर वह मुझे सोफे पर बैठा के कॉफी लाकर दी। और बोली कि तुम थोड़ा वेट करो मैं तैयार होकर आती हूँ और वो अपने कमरे में चली गई। मैं जहां बैठा था वहाँ से उनका कमरा बिल्कुल सामने था और उनका पर्दा थोड़ा हटा हुआ था तो साफ दिखाई दे रहा था। रीति अंदर गई तो दरवाजा नही लगाई ना ही पर्दा ठीक की। और वह गाउन उतार के पूरा नंगा हो गई। दोस्तों वह ब्रा और पैंटी नही पहनी थी। इस कारण उसकी बड़ी सी गोरी गांड़ मेरे सामने थी। फिर वह अलमारी से ब्रा पैंटी निकाली और पहनने लगी तो मुझे उसकी गोल मटोल कड़क चुचियों का दर्शन हुआ। मैं उसकी गांड़ और चुचियों को देखकर पागल हो गया और मेरा लन्ड 90 डिग्री पर होकर उछल कूद करने लगा। फिर वह तैयार होकर आई तो क्या बताऊँ दोस्तों वह किसी धधकती ज्वालामुखी की तरह लग रही थी। लाल ड्रेस में लाल रंग की लिपिस्टिक गोरे चेहरे पर गजब की वो कातिल हसीना लग रही थी।

रात को जब मेरी नींद खुली तो लगा कोई मेरे लन्ड को चूस रहा है

फिर वह बोली कि चलो अब चलते हैं। मैं जैसे ही खड़ा हुआ फॉर्मल पैंट में मेरा खड़ा लंड साफ दिख रहा था। उनकी नजरें जब मेरी टेंट लन्ड पर पड़ा तो वह मुस्कुरा दी। मुझे बहुत अजीब लगा। फिर वो बोली कि तुम अपनी गाड़ी यहीं खड़ी रहने दो और मेरी गाड़ी में चलते हैं। हमदोंनो मॉल गए वहां वो ढेर सारा शॉपिंग की फिर वह बोली चलो नाईट शो मूवी देखते हैं फिर यहीं से डिनर करके चलेंगे। हमदोंनो मूवी देखे और डिनर किए। हॉलीवुड मूवी में अनेकों किसिंग सिन था और एक दो जगह तो इंटिमेट सीन भी था। और मैं नोटिस कर रहा था किसिंग और इंटिमेट सीन के दौरान रीति मुझे चोर नजरों से देख रही थी। कई बार तो हमारा हाथ एक दूसरे से टच भी हो जा रहा था। खैर फिर हम घर आ गए। और रात को करीब 11 बजे घर पहुँचे। रीति का सारा सामान मैं घर मे पहुँचाया और फिर मैं घर जाने लगा तो वह बोली कि रात में कहां जाओगे डिनर कर ही लिए हो तो यही सो जाओ यही से सुबह तैयार हो के ऑफिस चले जाना। https://nightqueenstories.com

मैं भी मान गया। और फिर वह मुझे नाईट सूट दी। और वह अपने कमरे में सोने चली गई। मैं गेस्ट रूम में सो रहा था। रात को जब मेरी नींद खुली तो एहसास हुआ की मेरा लन्ड कोई चूस रहा है। चुकी मैं नाईट बल्ब ऑन करके सो रहा था। लेकिन अभी बिल्कुल अंधेरा था। लेकिन मैं कोई प्रतिक्रिया नही किया और चुपचाप पड़ा रहा। मैं समझ गया कि यह कोई और नही रीति ही है। क्योंकि ये वही परफ्यूम की खुशबू थी जो रीति लगाकर मार्केट गई थी। मेरा लन्ड पूरी तरह से फनफना रहा था। वह मेरे लन्ड को पूरा गीला कर दी थी मेरा लन्ड रीति के थूक से सना हुआ था। फिर वह उठी और दोनो तरफ पैर करके मेरे लन्ड को पकडी और अपने चुत पर लगा दी। उसकी चुत बिल्कुल गर्म थी। और एक झटके में अपनी गांड़ नीचे दबा दी। मेरा समूचा लन्ड जड़ तक उसकी चुत में समा गया। और मेरे मुँह से एक जोरदर आहहहहहहहहहहहहहहहहह निकल गई। और वो जोर जोर से चोदने लगी जब उसे लगा कि मैं जग रहा हूँ तो बिना कुछ बोले मेरे हाथों को पकड़ी और अपने चुचियों पर रख दी। मैं समझ गया कि वह क्या चाहती है। और मैं उसके चुचियों को मसलने लगा।

और वह जोर जोर से

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी…..

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… करने लगी। और जोर जोर से उछल उछल के चोदे जा रही थी।

रीति बोली राम मैं थक गई अब तुम ऊपर आकर मेरी चुत को फाड़ डालो

करीब 10 मिनट तक वो चोदी इस दौरान वह 2 बार झड़ गई थी। और उसकी चुत से निकला पानी बिस्तर पर फैल गया था। अब वह थक चुकी थी तो बोली मेरे राम अब तुम ऊपर आकर मैदान संभालो मैं थक गई।

और फिर वह लन्ड बिना निकाले नीचे आ गई और मैं ऊपर आ गया।

मैं तो पूरे जोश में था सो बिना देर किए उसे चोदना शुरू किया और वह सिसकारियां लेना शुरु कर दी और जोश में आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजाआआआ बेटा.. चोदो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चोदो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चोदो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चोदो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चोदो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चोदो जोर से..। मैं झड़ने वाली हूँ चोदो जान चोदो

और जोर जोर से चोदने लगा। वह लगातार चिल्लाए जा रही थी आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहहह चोदो मेरे सइयाँ फाड़ दो मेरी बुर…. । मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेबी कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…. मेरी जान चोदो………… मैं झड़ने वाली हूँ मारो झटका मेरे शेर मारो और तेज मैं आ रही हूं मेरी जान आ रही हूँ। हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहह और राजश्री का चुत पानी छोड़ दिया

तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है…मेरे राजा… मेरी बच्चेदानी में धक्का मार रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. सच मे बहुत बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… मेरी बुर फाड़ दिया।

आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहहह चोदो मेरे सइयाँ फाड़ दो मेरी बुर…. । मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहह वह 4 बार झड़ चुकी थी। और आखिरी बार मेरे साथ ही झड़ी। उसकी चुत में मेरा सारा रस भर चुका था। और वह पैरो से मेरे कमर को कस के दबा ली और मैं तो हिल भी नही पा रहा था। और करीब 10 मिनट बाद वो पकड़ ढीली की। वह बहुत खुश थी। और बोली राम आज से तुम मेरे असली राम हो तुम्ही असली पति हो। आज के बाद तुम मुझे दीदी नही रीति कह के बुलाना।

दोस्तों वह चुदाई सिर्फ चुदाई नही थी बल्कि मेरे खजाने की चाबी थी। उस दिन के बाद हर रोज मैं और रीति चुदाई करने लगे। रीति अब खुलकर दौलत मुझपर लुटाने लगी। नागपुर के अलावा पुणे में भी एक आलीशान घर खरीद के मुझे दी जहां हमदोंनो का चुदाई का जबरदस्त खेल चलता था। मैं करोड़ो का मालिक बन गया और फिर मैं अपना रेस्टूरेंट खोला और साल भर के अंदर ही नागपुर और पुणे में मेरे 7 होटल और रेस्टूरेंट हो गए। अब मैं एक रईस इंसान हूँ। https://nightqueenstories.com

तो दोस्तों यह मालकिन और नौकर की चुदाई आपको कैसी लगी कमेंट करके मुझे जरूर बताना।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “बिछड़े प्यार की चुदाई भरी रात

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा। नमस्कार।

80% LikesVS
20% Dislikes

One thought on “मालकिन की प्यासी चुत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *