नौकरानी का गर्म चूत

 188 

ठंडी नौकरानी का गर्म चूत

फिर मैं उससे बोला कि जाओ पहले नहाकर आओ तो वह बोली कि साहब मैं रोज घर से नहाकर ही आती हूँ। और सबसे पहले आपके घर ही आती हूँ फिर बाकी घरों में काम करने जाती हूँ। और आज भी मैं सुबह नहाकर आई है। तो मैं बोला ठीक है। मेरी बीवी की जो भी सामान है आज भर के लिए सब तेरी है। जाओ मेरे बेडरूम में और जो भी कपड़े पहनना चाहती हो पसन्द करके पहन लो और मेकअप कर लो। तो वह बिना देर किए चली गई। और आधे घंटे हो गए तो मेरे से रहा नही गया तो मैं अपने रूम में चला गया और दोस्तों जैसे ही मैं रूम के दरवाजे पर कदम रखा मैं हैरान रह गया। कांता सिर्फ पैंटी और ब्रा में थी और मेरी बीवी के एक साड़ी को पहनने के लिए निकाल रही थी। उसकी गांड मेरे तरफ थी। और गुलाबी रंग के पैंटी में उसकी सांवली सलोनी गांड बहुत सेक्सी लग रही थी। मैं तो देखते ही आपा खो बैठा और पीछे से जाकर उसे पकड़ लिया। वह चिहुंक गई और बोली साहब मैं साड़ी पहन रही थी।

हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब। उम्मीद करता हूँ इस पैंडेमिक में आप सब सुरक्षित होंगे, और अपना ख्याल रख रहे होंगे। और https://nightqueenstories.com/ के कहानियों के आनंद उठा रहे होंगे।

दोस्तों एक और कहानी के साथ मैं उपस्थित हूँ। यह कहानी मेरे और मेरी नौकरानी-मेड का है। जिसकी उम्र 38 साल है और वह एक विधवा और एक बेटी की माँ है। उसका नाम कांता है। वह देखने मे अच्छी है। थोड़ी सांवली है लेकिन नैन नक्श अच्छे हैं और बिल्कुल फिट है। ना मोटी है ना ही पतली।

कैसे मैं अपनी सेक्सी सांवली मेड को चोदकर उसके सूखे चूत में लन्ड में पानी का वर्षा किया

दोस्तों मेरा नाम गुंजन है और मैं गुड़गांव में रहता हूँ एक IT फर्म में बड़े पोस्ट पर हूँ। मेरी बीवी शाहीन भी वर्किंग वीमेन है। वैसे तो मेरे और मेरी बीवी के बीच सब ठीक है। लेकिन एक दिन ऐसी घटना घटी और मैं और मेरी नैकरानी चुदाई कर बैठे। मैं 29 साल का हूँ।

मेरा वीक में 2 दिन शनिवार और रविवार ऑफ रहता है और मेरी बीवी का सिर्फ रविवार को, इसलिए मैं शनिवार को अकेले ही घर में रहता हूँ। उस दिन भी शनिवार ही था और मेरी धर्मपत्नी 9 बजे ऑफिस के लिए निकल चुकी थी। और मैं तब बिस्तर में ही था नॉवेल पढ़ रहा था। वेसे तो हमदोनो मिया बीवी के पास चाभी रहता है और घर से निकलते टाइम लॉक करके जाते हैं। लेकिन उस दिन चुकी मैं घर मे ही था तो शाहीन ऐसे ही चली गई और अंदर से दरवाजा लॉक करना मैं भूल गया। थोड़ी देर में मैं बाथरूम में सुसु करने चला गया और दरवाजा खुला ही छोड़ दिया क्योंकि घर मे तो कोई था नही।

लेकिन मैं जब सुसु कर रहा था तो मुझे पीछे कुछ हलचल सुनाई दिया और मैं पीछे मुड़ गया और देखा तो कांता सामने आ गई। चुकी मेरा लन्ड अंडरवियर से बाहर ही था तो वह देख ली। और बोली माफ करिएगा साहब। और चली गई।

मैं सोचने लगा कि ये क्या हुआ फिर मेरे अंदर का सोया शैतान जाग गया। और दिमाग मे तेजी से प्लान चलने लगा। वेसे तो कांता बहुत सीधी सादी लगती थी। लेकिन थी तो वह जवान ही। और भरी जवानी में विधवा भी हो गई थी। तो मैं फैसला किया कि कांता को चोदने का यही सही मौका है। तो मैं बाहर आया और कांता पर जानबूझ के भड़कने लगा। और बोला कि तुम्हे तमीज नही है तुम नोक करके नही आ सकती थी। तुम्हारे जैसे मेड की मुझे आवश्यकता नही है। मैं तुम्हे शाहीन से बोलके नौकरी से निकलवाता हूँ। तो वह माफी मांगने लगी और बोली साहब दरवाजा खुला था तो मुझे लगा कोई नही है और मैं टॉयलेट साफ करने जाने लगा था। मुझे माफ़ कर दीजिए, मुझे नौकरी से मत निकलवाईए। उसे गिड़गिड़ाता देख मैं बोला ठीक है लेकिन तुम्हे इसकी सजा तो मिलेगी ही।

कांता की सांवली सलोनी गांड गुलाबी रंग की पैंटी में बहुत सेक्सी लग रही थी

तो वह कहने लगी साहब आप जो भी सजा देंगे दे दीजिए लेकिन नौकरी से मत निकालिएगा। तो मैं बोला ठीक है। शाहीन शाम 4 बजे तक आफिस से आएगी तब तक तुम्हे मेरी बीवी बनके रहना होगा। तो वह बोली साहब ऐसा कैसा। तो मैं बोला यही सजा है तुम्हारी। तो वह बोली ठीक है साहब आप जैसा कहें। तो मैं बोला बीवी का मतलब समझ रही है ना तू मैं क्या बोल रहा हूँ। तो वह बोली हाँ साहब। तो मैं बोला कि ठीक है।

फिर मैं उससे बोला कि जाओ पहले नहाकर आओ तो वह बोली कि साहब मैं रोज घर से नहाकर ही आती हूँ। और सबसे पहले आपके घर ही आती हूँ फिर बाकी घरों में काम करने जाती हूँ। और आज भी मैं सुबह नहाकर आई है। तो मैं बोला ठीक है। मेरी बीवी की जो भी सामान है आज भर के लिए सब तेरी है। जो मेरे बेडरूम में और जो भी कपड़े पहनना चाहती हो पसन्द करके पहन लो और मेकअप कर लो। तो वह बिना देर किए चली गई। और आधे घंटे हो गए तो मेरे से रहा नही गया तो मैं अपने रूम में चला गया और दोस्तों जैसे ही मैं रूम के दरवाजे पर कदम रखा मैं हैरान रह गया। कांता सिर्फ पैंटी और ब्रा में थी और मेरी बीवी के एक साड़ी को पहनने के लिए निकाल रही थी। उसकी गांड मेरे तरफ थी। और गुलाबी रंग के पैंटी में उसकी सांवली सलोनी गांड बहुत सेक्सी लग रही थी। मैं तो देखते ही आपा खो बैठा और पीछे से जाकर उसे पकड़ लिया। वह चिहुंक गई और बोली साहब मैं साड़ी पहन रही थी।

कांता बोली साहब आपका लन्ड तो घोड़े जैसा बड़ा है मेरी बुर फाड़ देगा

तो मैं उसकी बातों को अनसुना कर दिया और उसको सीधा करके उसके होंठो को चूसना शुरू कर दिया। पहले तो वह थोड़ी शर्मायी फिर वह भी साथ देने लगी और मेरे होंठो का रसपान करने लगी। तभी मैं अपना जीभ उसके मुँह में दे दिया। वह मेरे जीभ को अच्छे से चूसने लगी। दोस्तों भले वह विधवा और गरीब थी लेकिन चुदाई का हर कला उसे मालूम था और इसीलिए वह पूरी तरह जोश में आ चुकी थी। और ना जाने कब से वह चुदवाई भी नही होगी। अगर वह हस्बैंड के बाद किसी से नही चुदी होगी तो वह पिछले 6,7 सालों से बिना चुदे थी।

इस दौरान मैं उसकी दोनों चूतड़ों को हाथो से मसलने लगा तब वह जोर से मेरे होंठ को दांत से काट ली। उसे बहुत मजा आने लगा था। हम 10 मिनट से एक दूसरे को किस कर रहे थे और अब हमदोनो के ही जिस्म में ज्वालामुखी का लावा बहने लगा था। तभी मैं उसे नीचे धकेलने लगा तो वह समझ गयी और नीचे जाकर मेरी शॉर्ट्स और अंडरवियर नीचे सरका दी। मेरा लन्ड तो पहले से खड़ा था सो उसने मेरे लन्ड को देखते ही बोला साहब आपका मूसल तो बहुत बड़ा है। तो मैं पूछा क्यों इतना बड़ा तू कभी नही ली क्या। तो वह बोली साहब मैं जीवन मे बस एक ही लण्ड देखी हूँ मेरे पति का और उनका इससे तो काफी छोटा था। तो मैं बोला मतलब तू अपने पति के अलावा किसी से नही चुदी है तो वह बोली ना साहब हम गरीब लोग बहुत इज्जतदार होते हैं।

कांता की चूत घने काले झांटो से ढके हुए थे लेकिन बहुत सेक्सी लग रहे थे

तो फिर मैं बोला इसे मुँह में लेकर चुसो अब देर मत करो। तो वह झट से मुँह में ले ली। जाहिर है भले वह पति से ही चुदी थी। लेकिन पति का भी वह लन्ड चूसती होगी तभी तो वह बिना किसी संकोच के झट से लंड गले तक उतार ली। वह शानदार ब्लोजॉब दे रही थी। अब मैं उसके सर को पकड़ लिया और उसके मुँह को चोदने लगा। उसकी मुँह के लार से लन्ड सटासट अंदर बाहर हो रहा था। मैं 5, 7 मिनट उसके मुँह को चोदने के बाद उसे उठाया और उसकी ब्रा और पैंटी को निकाल दिया।

दोस्तों उसकी चूत झांट से ढकी हुई थी। पूरा घना काले झांट थे। शायद वह सालों से अपनी चूत की बाल साफ नही की थी। तभी पूरा जंगल उगा हुआ था। मैं उससे पूछा कांता मेरी जान तू झांट साफ नही करती है क्या तो वह बोली साहब किसके लिए साफ करती। हाँ उँगली या गाजर मूली ऐसे ही रोज डाल लेती हूँ। उसकी यह बात सुनकर मैं और हॉर्नी हो गया। अब मैं उसे चोदना चाहता था इसलिए उसे बिस्तर पकड़ के झुकने बोला तो वह झुक गई और बोली साहब मुझे भी यही स्टाइल में चुदवाना सबसे ज्यादा पसंद है।

और मैं अपना लन्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा तो सिहर गई और कामुक आवाजें निकालने लगी। सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई

कांता बोली साहब राक्षस की तरह मुझे चोदो मेरी चूत लन्ड की भूखी है

फिर मैं उसकी गांड पर थूका जो नीचे की तरफ जाने लगा तो मैं उस थूक में लन्ड को लपेटा और उसकी चूत पर लन्ड टिका दिया। तो वह बोली साहब भले मैं 6, 7 साल बाद लन्ड ले रही हूँ लेकिन गाजर मूली रोज करती हूँ। तो मुझे बिल्कुल दर्द नही होगा आप राक्षस की तरह मुझे जोर जोर से जबरदस्ती चोदिये और फाड़ दीजिए मेरी बुर को। बहुत प्यासी है मेरी बुर। साहब आप भी मुझे बहुत अच्छे लगते हैं।

उसकी ये बात सुनकर मैं और जोश में आ गया और एक जोरदार शार्ट मारा और सच मे एक बार मे ही पूरा लन्ड अंदर समा गया। उसकी चूत पूरी की पूरी बुलंद दरवाजा थी। और वह बोली साहब बहुत मजा आया अब चोदिये साहब जोर जोर से मेरी बुर चोदिये। मैं उसकी इतनी गंदी बात सुनकर पगला गया और कुतिया को तरह उसे घच घच चोदने लगा और वह चिल्लाना शुरू कर दी सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…. आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii .. और जोर से चोद चोद मुझे।।। ..आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii मुझे रंडी की तरह चोदो साहब, फाड़ दो मेरी चूत.. और जोर से चोद.. आह फाड़ डालो मेरी चुत। आहहहहहहहहह … आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii .. और जोर से चोदो चोदो मुझे।।। ..आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii आज मुझे रंडी बना लो साहब अपनी रंडी बना के चोदो .. और जोर से चोदो.. आह फाड़ डालो मेरी चुत। आहहहहहहहहह मेरे राजा… चोदो जोर से……. आहहहहहहहहहहहहह पूरे ताकत से चोदो…. मेरी चुत को फाड़ डालो…..

अब मैं जोर जोर से उसे चोदे जा रहा था। वो भी गांड हिला हिला के चुदवा रही थी और मैं ऊपर से पीछे से प्रहार कर रहा था

सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई

कांता बोली साहब पिछले 7 सालों से मैं गांड नही मरवाई हूँ बहुत दर्द होगा लेकिन तुम मेरी गांड मार के अपने लन्ड का प्यास बुझा लो

मैं उसके लटकती हुई चुचियो को जोर जोर से मसल भी रहा था जिससे उसे और अधिक मजा आ रहा था। पिछले 20 मिनट से मैं ताबड़तोड़ कांता का चूत मारे जा रहा था। चुकी वो बहुत दिन बाद चुद रही थी। इसलिए उसे मजा तो बहुत आ रहा था लेकिन अब वह थक चुकी थी। और उसकी चूत भी रगड़ खाकर जलने लगी थी। तो वह बोली साहब अब नही चुदवा पाऊँगी मेरी चूत में बहुत जलन होने लगी है। अब बस करो तो मैं बोला लेकिन कांताबाई मेरा तो अभी हुआ नही है तो वह बोली साहब अब नही बाद में चोद लेना। तो मैं बोला कांता तेरी गांड भी तो चूत से कम नही है तो चलो अब गांड ही मरवा लो। तो वह बोली साहब मैं गांड तो मरवा लुंगी लेकिन बहुत दर्द होगा। क्योंकि पिछले 7 सालों से मैं गांड नही मरवाई हूँ। तो मैं बोला चिंता मत करो मुझे फूल एक्सपीरियंस है। तो वह बोली लगता है आप मालकिन का गांड ही ज्यादा मारते हो तो मैं बोला हाँ मेरी जान उसकी चूत से ज्यादा मुझे गांड मारने में मजा आता है। तो वह बोली ठिक है साहब मार लो मेरी गांड और बुझा लो अपनी प्यास।

तो मैं बिना देरी किये उसके गांड पर थूक दिया। और लन्ड को गांड पर टिकाकर एक करारा प्रहार किया और मेरा आधा लन्ड उसकी गांड में समा गए। सच मे उसकी गांड बहुत टाइट था। लेकिन था तो बहुत मजेदार। और फिर दूसरा धक्का में पूरा लन्ड उसकी चूत में चला गया। और अब मैं ले दनादन चोदने लगा। वह भी चीला चीला कर चोदवाने लगी आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii मुझे रंडी की तरह चोदो साहब, फाड़ दो मेरी गांड.. और जोर से चोद.. आह फाड़ डालो मेरी गांड। आहहहहहहहहह … आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii .. और जोर से चोदो चोदो मुझे।।। ..आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii आज मुझे रंडी बना लो साहब अपनी रंडी बना के मेरी गांड चोदो .. और जोर से चोदो.. आह फाड़ डालो मेरी गांड। आहहहहहहहहह मेरे राजा… चोदो जोर से……. आहहहहहहहहहहहहह पूरे ताकत से चोदो…. मेरी गांड को फाड़ डालो…..

अब मैं जोर जोर से उसे चोदे जा रहा था। वो भी गांड हिला हिला के चुदवा रही थी और मैं ऊपर से पीछे से प्रहार कर रहा था

सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह….

तुम्हारा लन्ड बहुत बड़ा है साहब बहुत मजा आ रहा है ऐसा लग रहा है गांड से होते हुए मेरी चूत में जा रहा है घोड़े जैसा लंड है तुम्हारा चोदो साहब चोदो फाड़ डालो मेरी गांड। मैं फिर झड़ने वाली हूँ साहब चोदो और उसके चूत से पानी नीचे गिरने लगा। तभी मेरा भी लन्ड पानी छोड़ दिया। और मेरे लन्ड के माल से कांता का गांड लबालब भर गया। और मैं कांता के ऊपर ही लुढ़क गया। थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद हम अलग हुए। और कुछ देर बाद ही हम दूसरे राउंड का चुदाई किए। और फिर कई बार उस दिन चुदाई किए। और शाहीन के आने से पहले ही उसे घर भेज दिए।

तो दोस्तों ये था मेरा मेड।के साथ चुदाई का खेल। कहानी कैसी लगी कमेन्ट करके बताना और कहानी को लाइक और शेयर जरूर करना। मिलते हैं किसी और कहानी में। तब तक के लिए सबा खैर। ऐसे ही अन्य कहानियों का https://nightqueenstories.com पर मजा लेते रहिए।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “एक्ट्रेस और कुत्ते की चुदाई”

नमस्कार।

धन्यवाद।।

100% LikesVS
0% Dislikes

One thought on “नौकरानी का गर्म चूत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *