पड़ोसी आंटी ने अपनी चुत के साथ अपनी बेटी की कुँवारी चुत फिर मेरी मॉम की चुत दिलवाई। भाग-1

हेलो दोस्तों कैसे हो आपसब, उम्मीद करता हूँ बहुत अच्छे होंगे।

 

तो फ्रेंड्स मेरा नाम बाबू सिंघानिया है, मैं ग्रेटर नोएडा के पॉश इलाके में रहता हूँ जो मेरा अपना घर है। मेरी उम्र 21 साल है। मेरी मॉम एक हाउसवाइफ हैं। और मेरे डैड का बिजनेस है। वो घर पर बहुत कम रहते हैं। क्योंकि हमारा बिजनेस कई देशों में फैला हुआ है। तो डैड अक्सर देश से बाहर ही रहते हैं। वो हमारे साथ महीने 2 महीने में बमुश्किल 5,6 दिन ही रहते हैं।

 

पड़ोसी आंटी ने कैसे अपनी चुत मुझसे चुदवाई

 

तो मेरे पड़ोस में एक घर काफी दिनों से खाली पड़ा था क्योंकि उस घर के लोग अमेरिका में शिफ्ट हो गए थे। लेकिन पिछले कुछ दिनों से उस घर मे काम चल रहा था। और करीब 15 दिन बाद एक अंकल-आंटी और उनकी 18 साल की बेटी रहने आई। वो घर को खरीद लिए थे।

उनका भी बिजनेस था। दिल्ली में उनका 2 होटल था। अंकल का उम्र लगभग 45 के आस पास का रहा होगा। लेकिन वो काफी मोटे और पेट निकला हुआ था जिस कारण वो 55, 60 के दिखते थे। आंटी की उम्र 40 के आस पास था और नाम था सोनिया। और उनकी बेटी का नाम अनुषा था। दोनों माँ-बेटी बहुत खूबसूरत और बिल्कुल कार्बन कॉपी की तरह थे। ऐसा लगता था भगवान ने माँ को कॉपी कर बेटी को पेस्ट कर दिया है। मैंने जब पहली बार देखा तो लगा जैसे दोनों जुड़वा बहनें हैं। और कई दिन तक मैं यही सोचता रहा।

 

धीरे धीरे उनका हमारे घर से दोस्ती हो गया और आना जाना भी शुरू हो गया। वैसे तो मैं नया नया जवानी में कदम रखा था लेकिन उनपर मेरा कोई बुरा निगाह नहीं था। (आप ये कहानी nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं)

 

मॉम फिसली और चुत मिला सोनिया आंटी का

 

एक दिन मैं कॉलेज गया हुआ था। और शाम के 4 बजे जब घर आया तो देखा मॉम बीमार हैं दरअसल वो फिसल गई थी और उनके पैर में मोच आ गयी थी। और सोनिया आंटी मॉम के पैरों में आयोडेक्स लगा रही थी। मैने देखा तो पूछा तो सोनिया आंटी बताई की माँ के पैर में चोट है। मैंने मॉम को बोला कि आपने कॉल करके मुझे क्यों नहीं बताया। तो आंटी बोली कि मैने ही मना किया था की तुम परेशान हो जाओगे।

 

वैसे तो सोनिया आंटी मालिश कर दी थी। लेकिन माँ का पैर अभी भी दर्द कर रहा था। तो मैंने कहा लाइये मैं मालिश कर देता हूँ। और फिर मैं मालिश करने लगा करीब 10 मिनट बाद मॉम को काफी राहत मिला। तो माँ बोली बेटा अब आराम मिला है अब रहने दो। तो सोनिया आंटी बोली क्या बात है। तुम तो थेरेपिस्ट से भी ज्यादा जानते हो। तो मॉम बोली कि हाँ बाबू मालिश करने जानता है। कई बार मेरे पैरों या शरीर मे दर्द होने पर मालिश करता है और बिल्कुल आराम मिल जाता है। आंटी बहुत खुश हुई और बोली कि बढ़िया है कभी मुझे दर्द हुआ तो मैं तुम्हे ही बोलूंगी। और मुस्कुरा दी।

 

Family Sex Stories

ब्लैक रंग के गाउन में सोनिया आंटी बहुत हॉट और सेक्सी लग रही थी

 

अब मैं आंटी के घर भी बेधड़क आने जाने लगा था। एक दिन मैं गया तो देखा कोई नहीं है। अनुषा कॉलेज गयी हुई थी और आंटी भी नही दिख रही थी। फिर मैं अंदर गया तो देखा आंटी तौलिया में थी वो अभी अभी नहा के बाथरूम से निकली थी और अपने बेडरूम में गयी थी। वो गुलाबी तौलिया में बहुत सेक्सी लग रही थीउनकी पूरी जांघ दिख रही थी जो बहुत मोटी मोटी थी। मैं वही छुप कर आंटी को देखने लगा। फिर आंटी तौलिया उतार के एक तरफ रखी। क्या बताऊँ दोस्तों मैं तो हैरान रह गया।

 

उनकी 40 इंच की बड़ी सी गांड और पतली कमर देखकर मेरा लंड सलामी देने लगा। फिर वो जब मुड़ी तो काली घनी बालों से ढकी उनकी चुत गजब कि कयामत लग रही थी। उनकी चुचियाँ भी बहुत बड़ीबड़ी और बिल्कुल टाइट थी। उनका फिगर 34 की चुचियाँ, 28 की कमर, और 40 इंच की गांड थी। जो शायद ही ऐसी फिगर की महिला होती है।

 

फिर वो वैसे ही नंगे होकर मेकअप करने लगी। फिर काले रंग की ब्रा पैंटी पहनी और गाउन पहनने लगी। तो मुझे लगा आंटी https://nightqueenstories.com/category/hindi-stories/मुझे देख ना ले तो मैं धीरे से बाहर गया और फिर बाहर से आवाज देते अंदर आया। ब्लैक रंग के गाउन में सोनिया आंटी बहुत हॉट और सेक्सी लग रही थी। फिर हम बैठ के साथ कॉफ़ी पिये और चिप्स खाए। (आप ये कहानी nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं)

all hindi sex story

अब मैं सोनिया आंटी के नाम का रोज मुठ मारने लगा

उस दिन के बाद सोनिया आंटी के प्रति मेरा नजरिया बदल गया अब मैं सोनिया आंटी नाम का रोज मुठ मारने लगा। वो जब भी मेरे सामने होती मेरा निगाह उनपर से हटता नही। कई बार ये बात आंटी नोटिस कर लेती थी और फिर मैं शर्मिंदा हो जाता था। लेकिन कुछ दिनों से आंटी भी मुझे देखकर मुस्कुरा देती थी।

 

एक दिन मेरे डैड और मॉम मेरी बुआ के बेटी की शादी अटेंड करने अमेरिका चले गए। जो कि एक हफ्ते के लिए गए थे। तो मेरी मॉम ने सोनिया आंटी को मेरा देखभाल करने के लिए बोल के गई। चुकी मुझे खाना बनाना नही आता था। तो सोनिया आंटी बोली कि तुम्हे खाना बनाने या बाहर खाने की जरूरत नहीं है। जब तक तुम्हारी मॉम नहीं आती तब तक मेरे यहाँ खाना।

 

फिर मैंने बोला आंटी आप बेड पर लेट जाइए मैं आपके पैरों को मालिश कर देता हूँ।

2 दिन बाद उस दिन शनिवार था। और मैं घर पर ही था तो सोनिया आंटी का कॉल आया कि बाबू मेरी तबियत ठीक नहीं है। मेरे पूरे बदन में दर्द हो रहा है। तुम कहाँ हो। तो मैंने बोला कि  मैं तो घर पर ही हूँ। मैं आ रहा हूँ। तो आंटी बोली कि नहीं तुम परेशान मत हो मैं ही तुम्हारे घर आ रही हूँ। थोड़ी देर बातचीत करेंगे तो शायद तबियत थोड़ी ठीक लगे। फिर सोनिया आंटी मेरे घर आई तो मेरी आँखें फ़टी की फटी रह गई वो चॉकलेट रंग की गाउन पहनी थी। जिसमे बहुत खूबसूरत और सेक्सी लग रही थी। उनकी बदन से परफ्यूम की बहुत अच्छे स्मेल आ रही थी।

 

फिर मेने पूछा क्या हुआ आंटी तो बोली कि पूरा बदन टूट रहा है पैरों में बहुत जलन और दर्द हो रहा है। दवा तो खाया हूँ लेकिन अभी आराम नहीं है।  हम थोड़ी देर सोफे पर बैठकर ऐसे ही बातचीत करते रहे फिर मैंने बोला आंटी आप बेड पर लेट जाइए मैं आपके पैरों को मालिश कर देता हूँ। आंटी बोली ठीक है।

 

उनकी मोटी और गोरी जांघे देखकर मेरा लंड शॉर्ट्स के अंदर ही खड़ा हो गया।

 

आंटी मेरे बेड पर लेट गयी और मैं ठंढा तेल से उनके लैर के तलवों में मालिश करने लगा फिर आंटी बोली जलन तो कम हो गयी लेकिन पूरा पैर दुख रहा है। तो मैंने कहा मैं पैरों की मालिश कर देता हूँ। फिर उनकी गाउन घुटनों तक उठा दिया क्या बताऊँ दोस्तों उनकी पैर बहुत गोरी और सेक्सी थी। बहुत सुंदर पैर थे उनके। (आप ये कहानी nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं)

 

करीब 5 मिनट तक मैं घुटनो तक मालिश करने के बाद अब जांघो तक मालिश करने लगा और उनका गाउन और ऊपर कर दिया। उनकी मोटी और गोरी जांघे देखकर मेरा लंड शॉर्ट्स के अंदर ही खड़ा हो गया। अब मैं उनकी जांघो को थोड़ा जोर से दबा के मालिश करने लगा अब कभी कभी आंटी आहहहहहहहहहहहहहहहहह की आवाज करने लगी थी।

Couple Sex

मैं उनकी गोरी बड़ी सी गांड देखकर पागल हो गया मेरा लंड और टाइट हो गया।

 

और मेरी उंगलिया उनकी ब्लू रंग की पैंटी पर टच हो जा रही थी। करीब 5, 7 मिनट के मालिश के बाद आंटी बोली कि बाबू पैरों में काफी आराम मिल गया । लेकिन कमर और पूरा बदन अभी भी बहुत टूट रहा है। तो कमर की मालिश कर दो। और आंटी उल्टा लेट गई। तो मैंने बोला आंटी गाउन के ऊपर से कैसे मालिश करूँ तो बोली कि गाउन ऊपर कर दो। जैसे ही मैं गाउन कमर के ऊपर किया मैं दंग रह गया आंटी की पैंटी पीछे से बिल्कुल पतली स्ट्रिप की थी। जो आंटी की दोनों चूतड़ों के बीच धसी हुई थी और दिख भी नही रही थी। बस कमर पर हल्की सी दिख रही थी। मतलब मैं उनकी गोरी बड़ी सी गांड देखकर पागल हो गया मेरा लंड और टाइट हो गया। अब मैं आंटी की कमर को मालिश करने लगा इस दौरान मेरा कड़क लंड उनकी शरीर मे टच हो रही थी। अब आंटी के मुंह से सीईईईईईईईईई ससीसीसीसीसीसीईईईईईईईई आहहहहहहहहहहहहहहहह की आवाज आने लगी थी। मेरी हाथ बार बार उनकी ब्लू रंग की ब्रा में टच हो रही थी तो आंटी कांपते हुए बोली कि बाबू ब्रा के हुक को खोल दो क्योंकि ऐसे दिक्कत भी हो रही और ब्रा में ऑयल लग जाएगा। मैंने खोल दिया और गाउन पूरा ऊपर तक उठा के गर्दन तक मालिश करने लगा।

 

फिर अचानक सोनिया आंटी मेरे लंड को पकड़ ली

 

करीब 10 मिनट के मालिश के बाद आंटी अचानक से सीधा हो गयी और कहने लगी मेरे पेट पर थोड़ा मालिश कर दो। मैंने बोला कि ठीक है आंटी गाउन को ऊपर कीजिए तो बोली कि तेल लगने से गाउन खराब हो जाएगा इसे उतार देती हूं। और जैसे ही आंटी गाउन उतारी उनकी 36 की साइज़ की बडी बड़ी और कड़क चुचियाँ आजाद हो गई। और आंटी आंखे बंद करके लेट गई। मैं उनकी पेट पर मालिश करते करते उनको चुचियों तक पहुँच गया। क्या बताऊँ दोस्तों सोनिया आंटी की चुचियाँ बिल्कुल सॉफ्ट और कड़क थी। गहरे रंग की निप्पल बिल्कुल कड़क थे।

मैं करीब 10 मिनट तक उनकी बूब्स की मालिश करता रहा इस दौरान उनके मुँह से सेक्सी आवाजें। आहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहदझहठहद सीसीईईजीईईईईई ससीईईईजीईईईईई की आवाजें आती रही। मैंने देखा कि उनकी चुत के पास पैंटी बिल्कुल गीली हो चुकी है और स्मेल रही है। फिर अचानक सोनिया आंटी मेरे लंड को पकड़ ली। जो बिल्कुल खड़ा था। और एक झटके में उठकर बैठ गयी और मुझे नीचे गिरा दी और मेरा शॉर्ट्स अंडरवियर सहित झटके में निकाल दी।

 

और मेरे लंड को अपनी मुठी में पकड़ के हिलाने लगी। मैं तो घबरा गया। फिर वो मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी। वो मेरा पूरा लंड मुँह में डाल लें रही थी। फिर वो अपनी पैंटी उतारी और मेरे मुँह पे आ के बैठ गयी। वो अपना चुत मेरे मुँह पर रख दी और रगड़ने लगी। मैं भी अब पूरी तरह बेशर्म और निडर बन चुका था। मैं भी उनके चुत को चाटने लगा और जैसे ही मैं अपना जीभ कड़क करके उनकी चुत में डाला और 2 बार अंदर बाहर किया उनके चुत से ढेर सारा पानी निकलने लगा। वो जोर जोर से अपना चुत मेरे मुँह पर रगड़ने लगी। और आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहह बआआब्ब्ब्ब्ब्बूऊऊऊ करने लगी और मैं भी सारा पानी पी गया। उनके चुत से बहुत पानी निकला था। फिर वो शांत हो गई।

 

और फिर पड़ोसी सोनिया आंटी अपनी प्यासी चुत चुदवा ली

 

लेकिन 1 मिनट शांत रहने के बाद वो नीचे हुई और अपना चुत मेरे लंड पर रगड़ते हुए मुझे I love you Babu बोली और मुझपर चिपक गई। और अपना चुत मेरे लंड पर रगड़ने लगी। फिर उठी और 69 के पोजिशन में आ गई। और अपना चुत मेरे मुँह पर रखकर मेरे लंड को चाटने चूसने लगी करीब 5,7 मिनट बाद एक बार फिर सोनिया आंटी का चुत पानी छोड़ दिया और मैं सारा पानी पी गया। फिर आंटी सीधा हुई और मेरे लंड को पकड़ के अपने चुत पर लगाई और झटके से बैठ गई। मेरा पूरा लंड सोनिया आंटी के चुत में समा गया। और आंटी जोर जोर से मेरे लंड पर कूदने लगी।

वो aaaahhhhhhhhhhhhhhhhh aaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhjhj oooohhhhhhhhhhhhhhh yeaaaahhhhhhhhhhhhhhhh करके चोदे जा रही थी। करीब 10 मिनट वो ऐसे ही उछल उछल के चोदती रही इस दौरान वो 2 बार झड़ चुकी थी। फिर वो बोली कि अब तुम ऊपर आकर चोदो।

 

और बिना लंड को चुत से बाहर निकाले लेट गई और मैं अब ऊपर गया और दोनों पौरो के बीच के चोदने लगा। वो मेरे कमर पर अपने पैरों का कैंची बनाकर जकड़ रखी थी। अब मैं पूरी रफ्तार से चोदने लगा। सोनिया आंटी भी कमर उठा उठा के चुदवा रही थी और बड़बड़ा रही थी। चोदो बाबाबाबूऊऊऊ चोदो। चोदो मेरी बुर को आहहहहहहहहहहहहहहह ओहहहहहहहहहहठहठहब् बाबू चोदो जोर से। मेरी बुर बहुत पयासी है। कि सालों की प्यासी है मेरी चुत। चोदो जान चोदो। फाड़ दो मेरी चुत। हाँ ऐसे ही बबबुबुऊऊऊऊऊ चोदोdododododododddododododoodododododo aaaaaaaaaajhhhhhhhhhjhjj chodododododododododo jaann बहुत मजा रहा है। मैं तरस गई थी ऐसी चुदाई को खातिर। बहुत मजा दे रहे हो तुम। तुम्हारा लंड बहुत मजेदार है। चोदो बेबी चोदो मेरी बुर फाड़ दो मेरी बुर को। आज धज्जियाँ उड़ा दो मेरी बुर का। तुम्हारा लंड मेरी चुत को बहुत अंदर तक पिटाई कर रहा है।  aaaaahhhhhhhhhhhhh aaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhh मैं छूटने वाली हूँ मेरी चुत फिर से पानी छोड़ने वाली है और गांड को जोर जोर से उचकाने लगी। और फिर सोनिया आंटी का चुत गर्म पानी छोड़ने लगा(आप ये कहानी nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं)

 

 

लेकिन मेरा लंड तो अभी भी लोहे का हो रखा था। और मैं चोदे जा रहा था। करीब 20, 22 धक्कों के बाद मैं भी उनके चुत में ही झड़ गया। और उनके ऊपर निढ़ाल हो के लेट गया। इस दौरान सोनिया आंटी 4 बार झड़ चुकी थी।  करीब 5 मिनट ऐसे ही लेते रहने के बाद हम फिर साइड में हुए और नंगे एक दूसरे के बाहों में 15, 20 मिनट रहे इस दौरान उनके जांघो के स्पर्श से मेरा लंड फिर खड़ा हो गया। और फिर हम एक बार और चुदाई का खेल खेले।

 

अब तो रोज हम 1, 2 बार चुदाई करने लगे। लेकिन मेरी नजर तो कई दिनों से सोनिया आंटी की बेटी अनुषा पर थी। तो एक दिन चुदाई करते हुए मैंने आंटी से बोला कि आंटी मुझे अनुषा बहुत अच्छी लगती है। मुझे उसका चुत एक बार दिलवा दो। तो आंटी बोली अच्छा बेटा माँ को छोड़ लिया तो अब बेटी को भी चोदेगा।

 

फिर सोनिया आंटी बोली ठीक है मैं तुम्हारे लिए कुछ करता हूँ। लेकिन ध्यान रखना अनुषा अभी बच्ची है उसका चुत का सील अभी टूटा नहीं है तो ध्यान से और आराम से चोदना।

 

तो दोस्तों सोनिया आंटी कैसे अपनी खूबसूरत बेटी की सीलबंद चुत मुझे दिलाई ये अगले भाग में बताऊंगा।

 

और हाँ ये मेरी पड़ोसी आंटी ने अपनी चुत के साथ अपनी बेटी की कुँवारी चुत फिर मेरी मॉम की चुत दिलवाई की कहानी कैसी लगी। नीचे कमेंट करके जरूर बताना। और कहानी को शेयर करना मत भूलना। तो मिलते हैं कहानी के अगले भाग में।

 

नोट: कहानी में सभी पात्रों के नाम काल्पनिक हैं।

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *