Amateur sex Aunty ki chudai Balo wali chut Behan chudai Bhabhi ki chudai Desi ladki Desi sex stories Erotic Stories Hindi sex stories Hindi Stories Lust Stories Nangi ladki Romantic Sex Kahani Sex stories Sexstory अमीर औरत की चुदाई इंडियन बीवी की चुदाई ऑफिस सेक्स कमसिन कली किचन में चुदाई कुँवारी चुत कुत्ते ने चोदा कोई देख रहा है कोई मिल गया गर्म चुत गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड की चुदाई चाची की चुदाई जिगोलो से चुदाई दर्दभरी चुदाई देसी चुदाई कहानी देहाती लड़का नौकर से चुदाई पुलिसवाली की चुदाई बस में चुदाई बहन की रसीली चुत बाथटब चुदाई बालकनी में चुदाई बुआ की चुदाई बड़ी चूचिया भाई बहन की चुदाई भाभी की चुदाई भूखी मलाईदार चुत मंत्री जी बीवी की चुदाई माँ की प्यासी चुत माँ-बेटी की चुदाई रंडी बनी माँ रसदार चुत रसीली चुत राजनीति और हवस विधायक की बीवी विधायक के बेटी शहर की चुत सामूहिक चुदाई सिनेमा हॉल में चुदाई सीलबंद गांड की चुदाई सीलबंद चुत सीलबंद चुत की चुदाई सेक्स कहानी सेक्स स्टोरी सेक्सी कहानी

प्यार सेक्स पॉलिटिक्स- भाग 2

प्यार सेक्स पॉलिटिक्स और बदला – भाग 2

हेलो फ्रेंड्स। https://nightqueenstories.com के सभी नए पुराने पाठकों को मेरा सादर नमस्कार। दोस्तों मैं आपके समक्ष एक सच्ची कहानी जो मेरी खुद की है, को लेकर उपस्थित हुआ हूँ।

यह कहानी पिछले कहानी का ही हिस्सा है और दूसरा भाग है। तो आप से विनम्र आग्रह है कहानी को पूरी तरह से समझने के लिए इस कहानी से पहले इसके पहले भाग को पढ़े।

नए पाठकों के लिए मैं अपना एक छोटा सा परिचय दे देता हूँ

फ्रेंड्स मेरा नाम विशाल प्रताप देव है। मैं मुम्बई में रहता हूँ। वेसे तो मैं एक सामान्य परिवार से हूँ लेकिन मैंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग किया हुआ है। मेरी उम्र अब 31 साल है। ये कहानी आज से 6 साल पहले का है उस समय मैं एक एक प्राइवेट कम्पनी में जॉब करता था और मेरी सैलरी बमुश्किल 30 हजार रुपए थे। और मुम्बई जैसे शहर में 30 हजार की क्या औकात है आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं।

तो पिछले कहानी में आप सबने देखा कि मुझे कैसे माधवराव की बेटी साक्षी से मोहब्बत हो गया। और जब माधवराव को ये बात पता चली तो वह मेरे मम्मी पापा का हत्या करवा दिया। और मुझे भी हत्या करवाने का धमकी दिया। जिस कारण मैं मुम्बई छोड़कर पुणे चला गया और माधवराव से बदला लेने के लिए राजनीति जॉइन कर लिया। और 2 साल बाद मम्बई लौटकर माधवराव से बदले का शुरुआत किया। और वह शुरुआत था माधवराव की हसीन और कमसिन बीवी सुनैना को प्रेमजाल में फंसाना।

पिछले कहानी के कुछ अंश को पढ़िए ताकि आपको बेहतर समझ आये।….

जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेबी कितना अच्छा चुत चोदता है तू। …… और तभी मुझें लगा मैं भी झड़ने वाला हूँ। तो मेरी स्पीड बढ़ गई तो सुनैना समझ गई और मेरे कमर को पैरो से पकड़ के खिंचने लगी और अपने गांड़ पूरा उछाल उछाल के आगे पीछे करने लगी और फिर हम दोनों एक साथ इस बार झड़ गए।

अब हमदोनों किसी ना किसी बहाने एक दो दिन में मिल ही लेते हैं। और चुदाई करते हैं। और हर चुदाई के बाद सुनैना की मेरे प्रति दीवानगी बढ़ते जा रही थी।

मैं तो यही चाहता था। सो मैं अपने खेल के अंतिम रूप देने वाला था।

अब हम रोज किसी न किसी बहाने मिलने लगे। सुनैना वर्षों बाद चुदाई का सुख प्राप्त कर रही थी। तो वह मेरे प्यार में बिल्कुल पागल हो चुकी थी।

इस बात का मैं फायदा उठाने लगा। और कैसे माधवराव को बर्बाद किया।

कैसे मैं सुनैना को चोदने के बाद माधवराव के पहली पत्नी सिंथिया और साक्षी को चोदा और सुनैना और सिंथिया को तलाक दिलवाया

तो सुनैना अब मेरे प्यार में इस कदर पागल हो चुकी थी कि मेरी हर बात को आँख बन्द कर बिस्वास करने लगी। और मैं जो कहता वह वही करती। इस बात का फायदा उठाकर मैं माधवराव के पार्टी को तोड़ने लगा। चुकी सुनैना माधवराव का राजदार थी। और वह पार्टी के हर फैसले में दखल रखती थी। तो मैं सबसे पहले उसके पार्टी के कई MLA को माधवराव के खिलाफ किया। और जब माधवराव कमजोर होने लगा। पार्टी पर उसके दबाव खत्म हो गया। यहां तक कि उसकी मंत्रिपद कि कुर्सी भी खतरे में पड़ गई। तो मैं माधवराव से मिला और उससे सिम्पथि जताते हुए पार्टी के अंदर हो रहे खींचतान का अफसोस जताया और मैं बोला की आप चाहें तो मैं आपकी पार्टी जॉइन कर आपके विरोधियों को चित कर सकता हूँ। माधवराव मुझसे प्लान पूछा तो मैं उसे बताया। तो वह मुझ पर पूरा बिस्वास कर लिया। चुकी माधवराव खुद पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष था तो सबसे पहले में वही पद उससे छीनना चाहता था। और फिर माधवराव से पार्टी प्रेजिडेंट पद से इस्तीफा दिलवाकर और मैं खुद सभी विधायकों और 1 सांसद के मदद से पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बन गया। अब कंट्रोल मेरे हाथ मे था।

और दिखाने के लिए मैं माधवराव की मंत्री पद जाने से बचा लिया।

उससे मंत्री पद छिनने से पहले मैं दूसरा काम करना चाहता था। और वो था माधवराव की पहली पत्नी सिंथिया को चोदना। जी हां दोस्तों मेरे प्लानिंग का अगला कड़ी साक्षी की माँ और माधवराव के पहली पत्नी को चोदना था।

तो अब माधवराव का मैं बहुत खास बन चुका था। इस नाते वह मुझे कभी कभी अपने दूसरे घर जहाँ सिंथिया रहती थी ले जाने लगा। सिंथिया 46 साल की एक खूबसूरत महिला थी। लेकिन माधवराव के अय्याशी के कारण बहुत उदास रहती थी। तो अब मैं सिंथिया से फोन पर बात करना शुरू किया और उससे हमदर्दी जताना शुरू किया। सिंथिया को यही तो चाहिए था। ना जाने कितने सालों से वह तन्हा जीवन व्यतीत कर रही थी। और जब उसे मेरा कंधा मिला तो वह भी मुझसे मोहब्बत करने लगी या ये कहें कि अपनी चुत की ना बुझ रही आग को बुझाने के लिए मुझसे मोहब्बत का नाटक करने लगी।

अब हम रोज घंटो फोन पर बात करने लगे। और छुप छुपकर एक दूसरे से मिलने लगे।

लेकिन हमें वो जगह नही मिल पा रही थी जहां हम अकेले में मिल सकें। तो एक दिन मैं उसे एक रेस्टोरेंट में मिलने के लिए बुलाया और उसे बोला तुम बुरखा पहन कर आना और मैं सरदार बन जाऊंगा। तो मैं पगड़ी पहन लिया।

और फिर हम रेस्टोरेंट में मिलने के बाद। मेरी गाड़ी में निकल गए और मुम्बई पुणे रोड पर एक होटल जाने लगे। लेकिन तभी माधवराव का सिंथिया के पास कॉल आ गया और बोला कि मैं 1 घंटे में घर आ रहा हूँ। तो सिंथिया घबरा गई। और बोली आज अब बस करो। चलो वापस अगर माधवराव को पता चल गया कि मैं घर पर नही हु तो उसे शक हो जायेगे। चाहता तो मैं माधवराव को किसी काम मे उलझाकर सिंथिया के घर जाने से रोक सकता था लेकिन मैं भी चाहता था कि सिंथिया मेरे लिए तड़पे।

और फिर मैं उसे उसके घर के कुछ दूर छोड़ दिया। और मैं वापिस घर आकर सुनैना को कॉल किया और घर बुलाकर जमकर उसे चोदा। वह तो मुझसे मिलके तृप्त हो जाती थी। क्योंकि जवान चुत में कड़क लन्ड जो मिलता था। https://nightqueenstories.com

तभी एक दिन स्टेट सरकार के तरफ से माधवराव को इजरायल भेजा जा रहा था। फिर वहां से उसे लंदन जाना था। मतलब उसका एक हफ्ते के टूर था।

और अगले दिन माधवराव इजरायल चला गया।

सिंथिया मेरी अंडरवियर उतार कर मेरा लन्ड पकड़ ली और अपने चुत में डालने लगी

और मैं सुनैना से बोला कि मुझे 3, 4 दिनों के लिए पुणे और दिल्ली जाना है तो मैं वापस आऊंगा तो हम साथ समय बिताएंगे। तो सुनैना नाराज हो गई। कि तुम्हे अभी ही जाना था। जब हम खुलकर बेरोकटोक एन्जॉय कर सकते थे। मुझे सुनैना जाने से मना करने लगी। फिर मैं उसे समझाया कि मैं जल्द वापिस आऊंगा। अभी तो माधवराव एक हफ्ते बाहर रहेगा। मैं 2,से 3 दिन में वापस आ जाऊँगा। तो फिर सुनैना मान गई। और मैं कुछ ही देर में फोन बंद कर दिया। और जिस नम्बर से मैं सिंथिया से बात करता था सिर्फ वो चालू रखा। मतलब अब मेरा सबसे सम्पर्क कट चुका था। और रात करीब 9 बजे मैं सिंथिया के घर पहुँच गया। मैं बेल बजाया तो सिंथिया दरवाजा खोली और मैं उसे धक्का देते हुए अंदर घुस गया और उसे बेतहाशा किस करने लगा। तो सिंथिया बोली जान थोड़ा सब्र करो। मेन गेट तो लॉक करने दो। फिर वह गेट लॉक की। और मैं उसे गोद मे उठाया और उसके होंठो का रसपान करने लगा वह भी सालों से प्यासी थी तो मेरे होंठो का जाम पीने लगी। सिंथिया गाउन में थी तो मैं उसे ले जाकर बिस्तर पर पटक दिया। और उसके गाउन को एक झटके में फाड़ दिया। और फिर अपना कपड़ा उतार दिया।

मैं अब सिर्फ अंडरवियर में था और सिंथिया लाल रंग की ब्रा और पैंटी में। सिंथिया 46 की उम्र में भी बिल्कुल फिट थी। उसकी जिस्म बिल्कुल टाइट थे। और वह 30 साल की दिखती थी। सिंथिया तो सुनैना से भी जवान दीखती थी।

तो मैं बोला तू तो सुनैना से भी जवान है मेरी जान। माधवराव क्या देखकर तुम्हे छोड़कर सुनैना से शादी किया।

तो वह गाली देते हुए बोली। माधवराव एक नम्बर का अय्याश इंसान है। वह जन्मजात हरामी है। साले को मेरी जावानी की कद्र ही नही थी।

फिर वो मेरी बाँहो में झूलते हुए मेरी होंठो को चूसने लगी। और मैं उसके चुचियों को दबाने लग। जल्द ही मैं उसकी ब्रा फाड़ दिया और दूसरे तरफ उछाल दिया। उसकी चुचियाँ आज भी कड़क थी। मैं मुँह में लिया और उसे चूसना शुरू कर दिया। वो पागलों की तरह

सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई…..… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी….. चुसो मेरी चुचियाँ। मेरी दूध पियो। निचोड़कर सारा दूध पी जाओ

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…और फिर मैं उसकी पैंटी भी फाड़ कर अलग कर दिया। तो सिंथिया मेरी अंडरवियर उतार कर मेरा लन्ड पकड़ ली और अपने चुत में डालने लगी यह देखकर मैं भी उसके चुत पर लन्ड टिका दिया और एक झटका मारा तो मेरा समूचा लन्ड उसकी चुत में घुस गया।

अब मैं जोर जोर से उसे चोदने लगा। वह कहने लगी उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… साहिल तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है…मेरे राजा… मेरी बुर को बहुत मजा दे रहा है… आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. सच मे बहुत बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… मेरी बुर फाड़ दिया।

आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहहह चोदो मेरे सइयाँ फाड़ दो मेरी बुर…

मैं झड़ने वाली हूँ मेरी चुत पानी छोड़ने वाला है। मारो झटका मेरे शेर मारो और तेज मैं आ रही हूं मेरी जान आ रही हूँ। हहहहहहहहहहहहह….. मेरी चुत अब नही बर्दास्त कर पाएगा चोदो राजाआआआ चोदो

आआआहहहहहह और सिंथिया का चुत पानी छोड़ दिया।

कुछ धक्कों के बाद मैं भी सिंथिया के चुत में ही लन्ड का रस छोड़ दिया। उस रात मैं सिंथिया को 4 बार चोदा और एक बार गांड़ मारा अगले दिन सिंथिया ठीक से चल भी नही पा रही थी लेकिन वो दर्द की दवा खाई और अगले 3 दिन तक मैं सिंथिया को रात दिन चोदता रहा। यहां तक कि हमदोनों 3 दिन तक एक कपड़ा तक नही पहने और नंगे ही रह रहे थे। मैं और सिंथिया घर के हरेक कोने में चुदाई किए। नहाते समय भी, बाथटब में भी। छत पर, किचन में, बालकनी में। सब जगह घर का कोई कोना नही बचा था।

चौथे दिन मैं वापस घर आया और सुनैना को बुलाकर चोदा और सुनैना से पार्टी मीटिंग बुलाने को बोला।

अब मेरा अगला मिशन था साक्षी से फिर से मेलजोल बढ़ाना और उसे माधवराव के खिलाफ करना। तो मैं एक दिन साक्षी से बात किया और उससे मिलने बोला। साक्षी को यकीन नही हुआ कि मैं जिंदा हूँ। क्योंकि उसका बाप ने उसे बताया था कि मेरा हत्या हो चुका है।

तो साक्षी बोली मैं इंडिया आ रही हूँ। लेकिन मैंने उसे मना किया और बोला कि मैं खुद तुमसे मिलने अमेरिका आ रहा हूँ। यहाँ तुम्हारी जान को खतरा है। तुम इंडिया की धरती पर कदम भी रखी तो तुम्हरा बाप तुम्हारी हत्या करवा देगा।

और अब मैं फिर से साक्षी से मिलने अमेरिका गया और मेल जोल बढ़ाया उसकी भी चुदाई किया। और बाप के खिलाफ कर दिया। https://nightqueenstories.com

और फिर मैं अगले कुछ दिनों में दबाव डलवाकर सुनैना और सिंथिया दोनो से माधवराव का तलाक करवाया।

और सभी विधायकों और पार्टी के वरिष्ठ अधिकारियों को मिलाकर माधवराव से मंत्रिपद छीनकर मैं खुद मंत्री बन गया। और अगले 6 महीने में मैं MLA का चुनाव जीत गया। अब पार्टी भी मेरी और मंत्री भी मैं।

मैं सिंथिया, सुनैना और साक्षी का चुत चोदते समय और गांड़ मारते समय का सबका वीडियो भी बनाया।

दोस्तों तो ये था मेरा माधवराव से बदला। मेरे माता पिता का हत्या का बदला।

दोस्तों सबसे मजेदार बात बताऊँ। सिंथिया, सुनैना और साक्षी में सबसे ज्यादा चुत चोदने में मजा आया उनमें से सिंथिया थी। सिंथिया को चोदते समय मुझे अलग आनंद आता था। वह साक्षी और सुनैना से गर्म भी ज्यादा थी। और वाइल्ड भी थी। उसे चुदवाने में महारत हासिल था। उसे पता था कि कैसे मर्द को खुश किया जाता है।

 

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

 

 

67% LikesVS
33% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *