शादी से पहले सुहागरात

 217 

ऑफिस की सीनियर मैडम शादी से पहले मुझसे सुहागरात मना ली

वह बोली रुको दरवाजा खुला है अंदर से बन्द करने दो। और वह ब्रा पैंटी में ही जाकर दरवाजा अंदर से बन्द कर दी। और फिर मैं उसके ब्रा और पैंटी को भी निकाल दिया। और उसकी चुचियों को पीते हुए उसकी चुत को रगड़ने लगा। वह सिहर कर कराहने लगी। उसकी सांसे तेज हो गई थी और वह सिसकारियां लेने लगी थी। अब तक मेरा भी सारे कपड़े निकल चुका था तो वह नीचे गई और मेरे लन्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी। वह बहुत अच्छे से लन्ड चूस रही थी और मैं मदहोश हो रहा था। अब मैं पूरे जोश में था।

उसके चुत पर हल्के बाल थे। फिर मैं उसे गोद मे उठाया और टेबल पर बैठा दिया। और उसके पैरों को फैला के चुत चाटने लगा 5 मिनट तक उसकी चुत मैं चाटा तो वह मुझे ऊपर खिंचने लगी तो मैं समझ गया कि वह क्या चाहती है। और मैं उठा और अपना लन्ड उसकी चुत पर लगाया। तो वह बोली पहले अपने लन्ड पर और मेरी चुत में अच्छे से थूक लगा लो। और प्लीज धीरे करना।

हेलो दोस्तों मेरा नाम राजीव रंजन है मैं बिहार के भागलपुर का रहने वाला हूँ मेरी उम्र 24 वर्ष है। तो पढ़ाई पूरा करने के बाद मैं काम के सिलसिले में शहर आ गया। वैसे मेरे घरवाले मुझे शहर नहीं भेजना चाहते थे मेरे माता-पिता मुझे बिल्कुल भी शहर भेजने को तैयार नहीं थे। तो मैंने उन्हें समझाया की यदि मैं शहर जाकर एक अच्छी नौकरी करूँगा। और कुछ पैसे आपको भी भेज दिया करूंगा तो मम्मी पापा मान गए और कहने लगे ठीक है यदि तुमने अपना मन बना ही लिया है तो तुम चले जाओ।

मैंने उन्हें समझाया कि मैं बीच-बीच में घर आता रहूंगा कुछ दिनों बाद मैं नौकरी ढूंढने मुम्बई चला गया। जब मैं मुम्बई गया तो मैंने पहले तो अपने रहने की व्यवस्था की और उसके बाद मैं नौकरी ढूंढना शुरू किया। काफी कोशिस के बाद मुझे एक कंपनी में नौकरी मिल गई उस कंपनी में मुझे अच्छी तनख्वाह भी मिल रही थी। अब मैं धीरे धीरे आफिस में सबको जानने लगा था। 3 महीने हो गए थे मुझे यह काम करते। ऑफिस में एक मैडम है जिनका नाम रोशनी है। वह मुझसे काफी सीनियर हैं कम्पनी के पुराने स्टाफ में से एक हैं। वह बहुत खूबसूरत थी। उनके अंदर जो सबसे खास था वह था उनका ड्रेसिंग सेंस। वह मुझे बहुत अच्छी लगती थी मेरी उनसे कम बात होती थी क्योंकि वह मुझसे काफी सीनियर थी और मेरा उनसे कोई काम भी नही होता था। हाँ कभी कभी उनसे काम को लेकर बात होती थी। लेकिन मैं उनको गुड मॉर्निंग विश जरूर करता था। इसलिए उनकी नजरो में मैं एक अच्छे छवि का इंसान बन गया था। रोशनी मैडम का नेचर बहुत ही अच्छा था। एक दिन किसी काम से मुझे उन्हें प्रेजेंटेशन देना था लेकिन मैं बहुत नर्वस था। तो वो मुझे समझाने लगी। लेकिन वो इतनी खूबसूरत थी कि मेरी नजरें बार बार उनपर टिक जाती थी। और वो यह नोटिस कर रही थी।

तो वह बोली तुम्हारा ध्यान कहाँ है तुम मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो, तो मैंने कहा कि आप बहुत सुंदर हैं इसलिए मेरी नजर बार-बार आप पर टिक जा रही है। तो रोशनी मैडम बोली कि मेरी सगाई हो चुकी है और अब कुछ दिनों बाद मेरी शादी है इसलिए तुम मुझे देखना बंद करो और काम पर ध्यान लगाओ। और वह मुस्कुरा दी।

रोशनी भी मुझसे प्यार करने लगी थी और अगले 3 दिन में उसकी शादी थी तब भी वह मुझसे अपनी कुँवारी चुत की सील तुड़वा ली।

अब हम दोनों की बातें अच्छे से होने लगी थी और मुझे रोशनी मैडम से बात करना भी बहुत अच्छा लगने लगा। मुझे ऑफिस में जब भी कोई प्रॉब्लम होता तो मैं रोशनी मैडम से पूछ लिया करता था। सच मे उनकी शादी कुछ समय बाद ही होने वाली थी और उन्होंने ऑफिस के सब लोगों को अपने घर पर इनवाइट किया हुआ था। मुझे भी रोशनी मैडम ने अपने घर पर इनवाइट किया और कहा कि तुम्हें भी शादी में आना है, मैंने उनसे पूछा कि आपकी शादी कब है तो वह कहने लगी मेरी शादी अगले महीने हैं। अब रोशनी मैडम से मेरी अक्सर बातें होती थी। लेकिन शादी के तैयारियों के लिए रोशनी मैडम कुछ दिन ऑफिस से छुट्टी ले ली थी और वह अपनी शादी की शॉपिंग करने लगी इस वजह से वह काफी दिनों तक ऑफिस भी नहीं आई थी।

एक दिन रोशनी मैडम ने मुझे फोन किया और कहा कि यदि तुम्हारे पास समय हो तो क्या तुम मेरी मदद कर सकते हो, मैंने उन्हें कहा कि हाँ जरूर मैं ऑफिस के बाद आपसे मिलता हूं, उसके बाद मैं उनसे मिलने के लिए चला गया। जब मैं उनसे मिला तो उन्होंने कहा कि हमारे घर पर शादी की तैयारियां चल रही है यदि तुम हमारे घर पर कुछ मदद कर दो तो मुझे बहुत अच्छा लगेगा। मैंने उन्हें कहा ठीक है मैं आपकी शादी में आपकी हेल्प कर दूंगा। मैं अपने ऑफिस से ही उनके घर चला जाता था और उनके घर वालों को भी मैं अब पहचानने लगा था। उन्हें जो भी जरूरत पड़ती मैं उनकी मदद कर देता था। उस बीच मेरी रोशनी मैडम से भी बहुत बात होने लगी थी क्योंकि मैं ज्यादा समय उनके साथ ही बिताता था और उन्हें जब भी कोई जरूरत पड़ती तो वह मुझे ही कहती।

उनकी शादी की सारी तैयारियां हो चुकी थी दिन बहुत नजदीक थे और उनके रिश्तेदार भी घर पर आने लगे थे। रोशनी मैडम के कहने पर मैंने भी अपने ऑफिस से कुछ दिनों के लिए छुट्टी ले ली और उनके घर पर ही मैं रुका हुआ था क्योंकि उनके घर पर सब लोगों से मेरी बहुत अच्छी बातचीत हो गई थी इसीलिए वह लोग मुझे कहने लगे कि तुम हमारे घर पर ही रुक जाओ। धीरे-धीरे उनके रिश्तेदार आने लगे थे और उनको रिसीव करने के लिए भी मैं ही जाता था। मैंने रोशनी मैडम की शादी में बहुत काम किया।

वह एक दिन मेरे साथ बैठी हुई थी और मुझसे काफी देर तक उन्होंने बात की। वह कहने लगे कि तुमने मेरी शादी में मेरी बहुत हेल्प की है। तुम सच मे बहुत अच्छे हो। तो मैं बोला कि मैडम अब तो आपकी शादी होने वाली है लेकिन मुझे आपसे एक बात कहनी थी। अगर आप इजाजत दे तो। मैंने उस दिन उनसे अपने दिल की बात कह दिया और कहा कि आप मुझे पहले से ही बहुत अच्छी लगती है लेकिन आपकी शादी होने वाली है इसीलिए मैंने आपसे कभी भी अपने दिल की बात नहीं कही। रोशनी मैडम मुझे कहने लगे कि यदि मुझे पहले यह सब पता होता तो मैं तुमसे जरूर शादी करती परंतु अब मेरा रिश्ता हो चुका है और 3, 4 दिनों में मेरी शादी है। तुम भी मुझे बहुत अच्छे लगते हो लेकिन इनसब बातों के लिए देर हो चुका है। और वह भी उदास हो गई। मैंने उन्हें कहा कि कोई बात नहीं लेकिन हम दोनों एक अच्छे दोस्त बन कर रह सकते हैं। तो वह बोली कि मैं आजीवन तुमसे दोस्ती निभाऊंगी। उसके बाद वह मुझे अपने कमरे में ले गई और वहां पर उन्होंने मुझे अपनी शादी का लहंगा दिखाया, वह बहुत ही खुश हो रही थी और कह रही थी कि यह लहंगा मैंने बहुत पहले से देखा था, यह मुझे बहुत पसंद था इसलिए मैंने यही लहंगा लिया। वह मुझे अपने और भी कपड़े दिखाने लगी और कहने लगी कि यह सब शॉपिंग मैंने की है। मुझे भी उनके साथ बैठकर बातें करना अच्छा लग रहा था और वह बहुत खुश थी, उनके चेहरे पर एक अलग ही प्रकार की खुशी थी।

रोशनी मुझे बाँहो में भींच ली और मेरे होंठो पर किस करने लगी

मैंने उनसे पूछा कि क्या आप अपनी शादी से खुश हैं तो वह कहने लगी की पहले मैं शादी के लिए तैयार नहीं थी लेकिन जब मैं किशन से मिली तो उसके बाद मैं शादी के लिए तैयार हो गई क्योंकि किशन एक बहुत मेच्योर और सुलझा हुआ लड़का है। रोशनी उस दिन बहुत खुश थी और मुझे भी उसे खुश देख कर बहुत अच्छा लग रहा था। वह मुझे कहने लगी कि मैं आज अपनी शादी से बहुत खुश हूं और वह मेरे बगल में आकर बैठ गई। हम दोनों बैठे हुए थे और उस कमरे में कोई भी नहीं आ रहा था क्योंकि वह उनके घर के सबसे ऊपर था और यहां रोशनी के सारे सामान पड़े हुए थे शादी के शॉपिंग के सारे समान वहीं पड़े थे। हमदोंनो बातें कर रहे थे हम बिल्कुल करीब बैठे थे हमदोंनो का जिस्म सटा हुआ था। हम जब बातें कर रहे थे तो हमारी सांसे एक दूसरे से टकरा रही थी। मेरी जांघे उसके जांघो से टच हो रहे थे। तो मैंने उसकी जांघों पर हाथ रख दिया जैसे ही मेरा हाथ उसकी जांघ पर पड़ा तो उसे भी बहुत अच्छा लगा और रोशनी मेरे हाथों को पकड़ ली। शायद वह इस चीज का इंतजार कर रही थी कि मैं पहल करूँ और तभी वह मुझे अपने बाँहो में भींच ली। और मेरे होंठो को चूसने लगी।

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या मुझे भी रोशनी को किस करना चाहिए की नही लेकिन मुझसे बिल्कुल नहीं रहा गया और मैंने भी उसके होठों को किस करना शुरू कर दिया मैं बहुत अच्छे से उसके होठों को किस कर रहा था।

वह गाउन पहनी हुई थी तो मैं खड़ा हुआ और उसे भी खड़ा किया और उसके गाउन को निकाल दिया। तो वह बोली रुको दरवाजा खुला है अंदर से बन्द करने दो। और वह ब्रा पैंटी में ही जाकर दरवाजा अंदर से बन्द कर दी। और फिर मैं उसके ब्रा और पैंटी को भी निकाल दिया। और उसकी चुचियों को पीते हुए उसकी चुत को रगड़ने लगा। वह सिहर कर कराहने लगी। उसकी सांसे तेज हो गई थी और वह सिसकारियां लेने लगी थी। अब तक मेरा भी सारे कपड़े निकल चुका था तो वह नीचे गई और मेरे लन्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी। वह बहुत अच्छे से लन्ड चूस रही थी और मैं मदहोश हो रहा था। अब मैं पूरे जोश में था।

रोशनी मेरी हर धक्के का जवाब चूतड़ उछाल के दे रही थी वह मुझसे अपनी चुत चुदवा के बहुत खुश थी।

उसके चुत पर हल्के बाल थे। फिर मैं उसे गोद मे उठाया और टेबल पर बैठा दिया। और उसके पैरों को फैला के चुत चाटने लगा 5 मिनट तक उसकी चुत मैं चाटा तो वह मुझे ऊपर खिंचने लगी तो मैं समझ गया कि वह क्या चाहती है। और मैं उठा और अपना लन्ड उसकी चुत पर लगाया। तो वह बोली पहले अपने लन्ड पर और मेरी चुत में अच्छे से थूक लगा लो। और प्लीज धीरे करना। मैं ढेर सारा थूक अपने लन्ड और उसकी चुत पर लगाया और अपना लन्ड उसकी चुत के मुँह पर टिका के उसकी कमर को पकड़ा और एक ही झटके में लन्ड उसकी चुत में धांस दिया मेरा आधा लन्ड उसकी चुत में गया और वह चीख उठी तो मैं फट से अपना हाथ उसके मुँह पर रख दिया और एक और करारा शॉट मारा और समूचा लन्ड अंदर उसकी चुत में था। और मैं जोर जोर से चोदने लगा। उसे दर्द तो बहुत हुआ लेकिन अब उसे भी मजा आने लगा। उसकी चुत से खून बह रहा था। जो उसकी गांड़ से नीचे तक टेबल पर जा रहा था। हम करीब आधे घंटे तक चुदाई किए।

वह हर धक्के का जवाब चूतड़ उछाल के दे रही थी। और तब वह बोली तुम्हारा प्यार तुम्हे मिल गया मैं भी तुम्हे चाहने लगी थी इसलिए मैं ये चुत की सील तुमसे तुड़वाई। और शादी से पहले तुम्हारे साथ सुहागरात मनाई। यह तोहफा अब आजीवन मेरे पास रहेगा। यह कहते हुए वह लिपट गई और मेरे कमर को पैरो से बांध ली और खिंचने लगी। और मेरा लन्ड का रस अपनी चुत में सोखने लगी। अगले 3 दिन में हम 23 बार चुदाई किये।

रोशनी की शादी तो हो गई लेकिन आज भी वह मुझसे चूदकर ही शांत होती है और कहती है कि मेरी चुत कि प्यास तुम्ही बुझा पाते हो।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “लंड के पानी से करवाचौथ का व्रत तुड़वाया

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा। नमस्कार।

 

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *