स्कूल की हेडमिस्ट्रेस की चिकनी चूत की जबरदस्त चुदाई

मैडम बेशर्मी से बोली तो क्या हुआ। चूत और लंड के खेल में उम्र नहीं देखी जाती। और वैसे भी मेरी चूत बहुत प्यासी है। किसी जवान कड़क लंड के लिए। क्योंकि मेरे हस्बैंड दो साल में एक बार एक या दो महीने के लिए आते हैं और ज्यादातर घूमने फिरने रिश्तेदारों के यहाँ आने जाने में ही बीत जाता है। इसलिए मेरी चूत प्यासी ही रह जाती है। और उनके जाने के बाद तो मैं बस तड़पती रहती हूं। वैसे मेरा एक बॉयफ्रेंड था लेकिन उसकी बीवी को ये सब पता चल गया तो वो अब मुझसे मिलने से मना कर दिया। पिछले 6 महीनों से मैं नहीं चूदी हूँ। मेरी चूत बहुत प्यासी है।

दोस्तो, यह कहानी मेरी और मेरी सेक्सी हॉट टीचर की चुदाई की है। यह कहानी मेरी और मेरी हेडमिस्ट्रेस मैडम मीरा (बदला हुआ नाम) की है। यह घटना घटी तब मैं 19 साल का था।

 

मीरा की उम्र लगभग 37 साल है। उनकी हाइट छोटी है लगभग 5 फुट की। लेकिन खूबसूरती के मामलों में स्वर्ग के अप्सराओं को भी मात देती है। वह रेगुलर जिम करती है। वह घर मे ही जिम सेटअप कर रखी है। उनकी  फिगर 34- 28 -36 है। 36 उनकी हिप्स की साइज है।

उनका रंग दूध के जैसा सफेद और लाल है। उनके पति विदेश में रहते हैं और 2 साल में 1 बार 1-2 महीने के लिए आते हैं।

तो कहानी इस तरह शुरू होती है मेरा मन पढ़ने में बिल्कुक नहीं लगता था। मैं इश्कबाज बन चुका था। स्कूल में मै ज्यादा टाइम लड़कियों को देखने मे ही बीताता था। मैं अक्सर स्कूल के टॉयलेट में मुठ मारता था। और स्कूल की ही लड़की से मेरा अफेयर चल रहा था। जिसका नाम शोभना था। वह बहुत खूबसूरत थी। हम अक्सर स्कूल के टॉयलेट में ही चुदाई करते थे। और किसी दिन स्कूल बंक मार के अपने दोस्त के घर पर चले जाते थे चुकी उसके मम्मी पापा नौकरी करते थे तो घर मे कोई नहीं रहता था। इसलिए हम उसके घर जाकर जमकर मस्ती चुदाई करते थे।

एक दिन मैं और शोभना स्कूल के टॉयलेट में चुदाई कर रहे थे। तभी मीरा मैडम बगल के टॉयलेट में गई और उन्हें कुछ शक हुआ क्योंकि चुदाई के कारण शोभना के मुँह से तेज सिसकारियां निकल रही थी। फिर हम जब बाहर निकले तो मीरा मैडम हमदोनो को देख ली। लेकिन उस समय वो कुछ नही बोली। अब वो अक्सर मुझे घूरकर देखती थी। ऐसे ही महीनों गुजर गए। एक दिन मीरा मैडम मुझे अपनी ऑफिस में बुलाई उनके सामने टेबल पर अटेंडेंस रजिस्टर था।

वो मुझसे बोली कि सुमित इस महीने में तुम 8 दिन एब्सेंट हो। ये क्या चक्कर है। मैंने बोला मैडम कुछ दिन मेरी तबियत खराब थी और कुछ दिन घर पर काम रहता था इसलिए छुट्टी…..

मेरे शब्द अभी पूरा भी नहीं हुआ था वैसे ही मैडम बोली। कि अचानक से तबियत खराब और घर पर काम आने लगा। ठीक है तुम कल यपने पेरेंट्स को बुलाकर लाओ। मेरी तो गांड फट गई। मैंने विनती की की मैडम प्लीज ऐसा मत कीजिए। तभी वो एक और धमाका की और बोली जिस दिन तू नहीं आता है, उसी दिन शोभना भी नहीं आती है। ये क्या चक्कर है तुम दोनों का?

मैंने कहा मुझे उसके बारे में कुछ  पता नही है मैडम, कि वो क्यों नहीं आती है।

फिर मैडम बोली ठीक है मैं उसे भी बुलाती हूँ। और तुम दोनों अपने पेरेंट्स को कल स्कूल लेकर आओगे। इतना सुनते ही मेरे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गया। मैं तो खड़े खड़े पसीने से भीग गया। मैंने मैडम को रिक्वेस्ट किया कि आगे से हम स्कूल हर रोज़ आएंगे। मगर मैडम नहीं मान रही थी। वो बोल रही थी फिर सच क्या है ये बताओ। वरना कल तुमदोनों अपने अपने पेरेंट्स को लेकर आओ। मैंने मैडम को मनाने की हर संभव कोशिश की मगर मैडम कुछ नहीं सुनना चाहती थी. वो अब गुस्से में भी हो गई थी।

अंततः मुझे मैडम को मेरे और शोभना के बारे में बताना पड़ा। इतना सुनते ही मैडम आगबबुला हो गई और गुस्से में बोली। क्या तमाशा बना रखा है तुमदोनों। तुम्हे अंदाजा है स्कूल की कितनी बदनामी होगी इससे। मैं तुम दोनों को स्कूल से निकाल रही हूं। इतना सुनते ही मैं और डर गया और मैडम को बोला- ऐसा मत करिए प्लीज। हमें स्कूल से मत निकालिए। मेरी आँखें शर्म से नीचे झुकी हुई थी।

फिर मैडम बोली की ठीक है अभी तुम अपनी क्लास में जाओ। मैं तो कांप रहा था। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था मैं क्लास में आ के चुपचाप बैठ गया और यही सोचता रहा कि मैडम कही सच मे हमे स्कूल से ना निकाल दें। उस दिन मैं पूरा दिन क्लास में  टेन्शन में रहा।

स्कूल की छुट्टी होने वाली थी और फिर से एक बार मीरा मैडम ने मुझे ऑफिस में बुलाई। और बोली कि कल संडे है तुम कल मेरे घर आओ। तुमसे कुछ काम करवाना है। उन्होंने अपने घर का पता बताया। वैसे मुझे पहले से भी घर का पता मालूम था।

अगले दिन मैं माँ से बोलकर गया कि मैं दोस्त के घर जा रहा हूँ फिर हम घूमने जाएंगे तो हो सकता है शाम हो जाए। फिर मैं मीरा मैडम के घर पहुँच गया। घर पहुंचकर मैंने डोरबेल बजाई और मैडम ने दरवाजा खोला और मुझे अपने घर के अंदर ले गई। मुझे ड्राइंग रूम में बैठने को बोलकर खुद किचन में चली गई। पांच मिनट बाद मैडम कॉफ़ी और चिप्स एक प्लेट में लेकर आई। मेरी तो डर से गांड फट रही थी और मैडम मुझें कॉफ़ी पिला रही थी। खैर मैं कॉफ़ी पीने से मना कर दिया और कांपते हुए बोला कि मैडम मुझे क्या करना है काम बताइए। मैडम ने बोला पहले कॉफ़ी पी लो, फिर बताते हैं।

मैं डरते डरते कॉफ़ी तो पी ली लेकिन चिप्स खाने की हिम्मत नहीं हुई। और मैडम की तरफ देखने लगा कि अब मैडम मुझे वो काम बताएगी।

वो मेरी डर और उलझनों को भांप गई और बोली कि मैं तुम्हे और शोभना को स्कूल के टॉयलेट में चुदाई करते देखी हूँ। अब तुम्हे मेरे साथ भी वही करना है जो तुम शोभना के साथ करते हो। मेरे तो मानो काटो तो खून नहीं। मैं तो घबरा गया कि मैडम सच मे ऐसा करने को बोल रही या कोई पलिसमेन्ट देने वाली हैं। फिर मैंने बोला मैडम आप मेरी टीचर हैं और उम्र में भी बहुत बड़ी हैं। साथ ही आप  शादीशुदा भी हैं।

मैडम बेशर्मी से बोली तो क्या हुआ। चूत और लंड के खेल में उम्र नहीं देखी जाती। और वैसे भी मेरी चूत बहुत प्यासी है। किसी जवान कड़क लंड के लिए। क्योंकि मेरे हस्बैंड दो साल में एक बार एक या दो महीने के लिए आते हैं और ज्यादातर घूमने फिरने रिश्तेदारों के यहाँ आने जाने में ही बीत जाता है। इसलिए मेरी चूत प्यासी ही रह जाती है। और उनके जाने के बाद तो मैं बस तड़पती रहती हूं। वैसे मेरा एक बॉयफ्रेंड था लेकिन उसकी बीवी को ये सब पता चल गया तो वो अब मुझसे मिलने से मना कर दिया। पिछले 6 महीनों से मैं नहीं चूदी हूँ। मेरी चूत बहुत प्यासी है।

मैंने कहा मैडम मुझसे यह सब नहीं होगा। उन्होंने कहा क्यों नही होगा शोभना को तो तुम रोज चोदते हो। वैसे भी तुम्हे ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है मैं हूँ ना। मैं तुम्हे अच्छा फील करूंगी। तुम टेंशन मत लो। तुम आराम से बैठो मैं नहाकर आती हूँ।  और वो ये बोलकर नहाने चली गई

और जब वो आई तो बिल्कुल नंगे थी उनकी चिकनी चूत पर एक भी बाल नही थे। वो गजब की कयामत ढा रही थी। मैं तो देखते रह गया। वो आयी और मेरे सिर को पकड़ कर अपनी तरफ खींच कर मेरे होंठों से अपने होंठ सटा दिए। वो आंखें बंद करके पूरे मज़े से मेरे होंठ चूसने लगी। जोर जोर से मेरे होंठो पर किस कर रही थी। थोड़ी देर बाद मुझे भी अच्छा लगने लगा और मैं भी उनके होंठों का रस पीने लगा। उन्होंने  एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए।

अब मैं भी खुल गया था। और मैंने मैडम को अपनी तरफ खींच कर अपने होंठ उनकी गर्दन पर सटा दिए। उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और वो आहें भरने लगी। वो मेरा पूरा साथ दे रही थी। और मैं अब उनके बूब्स ( चुचियों) पर टूट पड़ा। मैं उनके एक चूची को मुंह में लेकर अच्छे से चूसने लगा और दूसरे को हाथ में लेकर दबाने लगा। वो पूरी मस्ती में आ चुकी थी। वो मेरे लन्ड को पकड़ कर सहलाने लगी। थोड़ी देर बाद मैडम उठी और बेडरूम में चलने को बोलने लगी। मैं और मैडम किस करते हुए बेडरूम में पहुंच गए। मैडम ने मुझे बेड पर धक्का दिया और वो मेरे लन्ड पर टूट पड़ी।

अब वो पहले मेरे लन्ड पर अच्छे से जीभ नीचे से ऊपर की तरफ फिराने लगी। फिर वो पूरा लन्ड मुँह में लेकर चूसने लगी। वो किसी रंडी की तरह लन्ड चूस रही थी। थोड़ी देर बाद उसने मुझे चूत चाटने को बोला। और मेरे मुँह पर चूत रखकर बैठ गई। मैं भी बिना देर किए उनकी चूत चाटने लगा। वो अपनी चूत मेरे मुंह पर जोर से रगड़ रही थी। थोड़ी देर बाद वो 69 की पोजिशन में आ गई और अपना चुत मेरे मुँह पर रख दी और खुद झुककर मेरे लंड को चूसने लगी। मैं ना चाहते हुए भी उनकी चूत को जीभ से चाटने लगा। अब वो फुल मस्ती में आ गई थी और वो मेरा लन्ड भी पूरा मस्ती से मुंह में डालने लगी। मेरा पूरा लंड मुँह में डालकर चूस रही थी। मेरा लंड उनके गले तक जा रहा था।

मैंने झटके में उन्हें नीचे उतारा और मैं उनके ऊपर आ गया। मैंने अपना लन्ड उनके मुंह में डाल दिया और झुक कर उनकी चूत को हाथों से फैलाकर उनकी चूत में जीभ डाल दी। वो अपनी गांड उचकाने लगी. थोड़ी देर बाद उनकी चूत से उनका चूत रस निकलने लगा। मैं उनकी चुतरस पिया और चाटकर साफ किया। वो पूरी मस्ती में मेरा लन्ड चूस रही थी इसलिए मेरे लन्ड ने भी उनके मुंह में ही पूरा माल उड़ेल दिया। मैडम पूरा माल निगल गई। अब मुझे समझ आया कि सच मे वो कितनी लंड की भूखी हैं हम दोनों शांत हो चुके थे. मैं उनके ऊपर से उतरा और उनके बगल में लेट गया।

थोड़ी देर बाद वो मुझे फिर से किस करने लगी। और  उन्होंने अपने नर्म हाथ में मेरा लन्ड पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया। मेरा लन्ड फिर से आवेग में आने लगा।  वो उठी और मेरे  लन्ड को मुंह में डालकर चूसने लगी। जब लन्ड पूरा टाइट हो गया तो वो उठी और मेरे लन्ड पर अपनी चूत सेट करके बैठने लगी। वो एक ही झटके में पूरा लन्ड अपनी चूत में लेकर लन्ड को महसूस करने लगी और झुक कर मेरे होंठों से अपने होंठ सटा दिए। मैं भी उसकी चूत की गर्मी को महसूस करते हुए उनको किस करने में साथ देने लगा। कुछ समय बाद मैडम ने मेरे होंठ छोड़े और लन्ड पर ऊपर नीचे होने लगी। वो पूरी स्पीड से ऊपर नीचे हो रही थी। उनके मुंह से मस्ती भरी आवाज़ें निकलने लगीं.

वोहहहहहहहह….. ‘आह्हहहहहहहहहहहहहहहह … आह्हहहहहहहह … ओह्ह हहहहहहहहहहहहहहह… चोदो सुमित। नीचे से तुम भी चोदो ना … आह्हहहहहहहहहहहहहहहहह … ऊईईईईईईईईई … आह्ह हहहहहहहह… अम्ममममममममम … उममममममममम…’ करते हुए वो चुद रही थी.

मैडम तो चुदाई की खिलाड़ी थी। वो हर तीन चार मिनट बाद उछलना छोड़ कर ऊपर उठ जाती और चूत से लंड बाहर निकाल लेती। और मुझे किस करने लगती थी। इस बात को बाद में उन्होंने मुझे बताया कि इस तरह करने से चुदाई में ज्यादा समय लगता है।

लगभग आधे घण्टे तक मेरे लन्ड पर उछल-उछल के चुदाई करने के बाद मैडम नीचे उतरी और बेड पर अपनी टांगें फैलाकर लेट गई। मैं बिना देरी के उठा और उनकी टांगों के बीच में आकर अपना लन्ड उनकी चूत के मुहाने पर सेट करके उनके ऊपर लेट गया। फिर एक धक्के में पूरा लन्ड उनकी चूत में उतारकर उनको अच्छी तरह से बांहों में कस लिया। उनके नर्म नर्म और कड़क चुचियां मेरी छाती के नीचे दब गए। मुझे उनके बूब्स वाली जगह एक सपॉन्जी बॉल की तरह फील होने लगी। मैंने पूरे लंड को बाहर खींचकर अंदर डाल रहा था।मैडम जोर जिर से सिसकारियां भर रही थी और वोहहहहहहहह….. ‘आह्हहहहहहहहहहहहहहहह … आह्हहहहहहहह … ओह्ह हहहहहहहहहहहहहहह… चोदो सुमित। चोदो जोर से। मेरी जान आई लोव यु। Fuck me Sumit fuck me. Fuck me hard baby. Ohhhhhhhh yes baby i like this. You are so strong baby. You are so sexy. Fuck hard my son fuck hard my pussy. You are the king my son you are the king. Oh yes jaan fuckkk i like your cock baby. … आह्हहहहहहहहहहहहहहहहह … ऊईईईईईईईईई … आह्ह हहहहहहहह… अम्ममममममममम … उममममममममम…’ की आवाज निकाल रही थी।

 

मैडम बोली अब और जोर जोर से चोदो सुमित। फिर मैंने स्पीड तेज़ कर दी।

पूरा कमरा  फच-फच … आहहहहहहहहहहहहहहहहह… आहहहहहहह…… की आवाजों से गूंज रही थी। लगभग 20 मिनट बाद मैडम झड़ गई. अब मेरा भी पानी निकलने वाला था.

 

मैंने स्पीड और तेज़ कर दी लेकिन मैडम ने मुझे रोक दिया और लन्ड बाहर निकालने को बोला। उनकी चूत में से मैंने लन्ड बाहर निकाला. मैडम एक झटके से उठी और मुझे खड़ा होने को बोली। मैं खड़ा हो गया।

मैडम नीचे बैठ गई और मेरे कड़क लन्ड को चूसने लगी। वो पूरा लन्ड मुँह में गले तक अंदर लेकर चूसने लगी। मैंने मैडम का सिर पकड़ा और लन्ड आगे पीछे करने लगा। मैडम के गले के अंदर तक मेरा लन्ड जा रहा था। मैं मैडम के। मुँह में जोर जोर से चोद रहा था। फिर मेरे लन्ड का लावा फूटने वाला था। मेरे लन्ड ने मैडम के मुँह में ही वीर्य की पिचकारी छोड़ना चालू कर दिया। मैडम पूरे मज़े के साथ लन्ड का सारा रस पी गई। उन्होंने चाट कर वीर्य की आखरी बूंद तक साफ कर दी। और निगल ली।

मैं अब थक चुका था और बेड पर लेट गया। मैडम ने टिशू पेपर से मेरा लन्ड और अपनी चूत अच्छे से साफ की और मेरे साथ लेट गई। वो बोली बहुत मजा आया सुमित। तुम बहुत अच्छे हो। हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे। फिर मैं उठा और बाथरूम में जाकर नहाकर वापस कमरे में आ गया। मैं अब जाना चाहता था। इसलिए कमरे में आकर मैं अपने कपड़े पहनने लगा। मैडम ने मुझे कपड़े पहनते देखा तो वो उठकर किचन में गई और काजू बादाम पीसकर दूध में मिलाकर लेकर आई। मैंने दूध पिया। बहुत टेस्टी दूध था।

दूध में कुछ मिला हुआ था। दूध पीते ही मेरा लंड अपने आप खड़ा हो गया। और फिर मीरा मुझे किस करने लगी।

फिर मैंने कैसे दुबारा बाथरूम में शॉवर के नीचे और बाथटब में चुदाई की। और फिर मीरा ने मुझसे कैसे अपनी गांड भी मरवाई। ये जानने के लिए आपको प्रतीक्षा करना होगा। और मेरे इस कहानी को शेयर कर कमेंट करना होगा। साथ ही रिक्वेस्ट भी तभी मैं अगली चुदाई की कहानी लेकर आऊंगा।  तब तक के लिए मुझे दीजिए इजाजत।

धन्यवाद।।

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *