Amateur sex Aunty ki chudai Balo wali chut Behan chudai Bhabhi ki chudai Erotic Stories Hindi sex stories Hindi Stories Lust Stories Nangi ladki Romantic Sex Kahani Sex stories Sexstory अमीर औरत की चुदाई इंडियन बीवी की चुदाई ऑफिस सेक्स कमसिन कली कुँवारी चुत कोई देख रहा है कोई मिल गया गर्म चुत गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड की चुदाई चाची की चुदाई जिगोलो से चुदाई दर्दभरी चुदाई देसी चुदाई कहानी देहाती लड़का नौकर से चुदाई पुलिसवाली की चुदाई बस में चुदाई बहन की रसीली चुत बाथटब चुदाई बालकनी में चुदाई बुआ की चुदाई बूढ़ा पति बड़ी चूचिया भाई बहन की चुदाई भाभी की चुदाई भूखी मलाईदार चुत माँ की प्यासी चुत रंडी बनी माँ रसदार चुत रसीली चुत राजनीति और हवस शहर की चुत सामूहिक चुदाई सिनेमा हॉल में चुदाई सीलबंद गांड की चुदाई सीलबंद चुत सीलबंद चुत की चुदाई सेक्स कहानी सेक्स स्टोरी सेक्सी कहानी

गुरु दक्षिणा में चुत भेंट की

मौलाना जी की बेगम रुखसार ने गुरु दक्षिणा में अपनी चुत मुझे भेंट की

रुखसार बोली कि सोहन तुम मुझे गाड़ी चलाना सिखाए हो। तुम मेरे गुरु हो। बोलो तुम्हे गुरुदक्षिणा में क्या चाहिए तो मैं बोला दीदी आप ऐसे मत बोलो मैं कोई गुरु नही और न ही मुझे आपसे गुरु दक्षिणा चाहिए। तो वह बोली नही। गुरु दक्षिणा देना मेरा फर्ज है तुम बताओ। तुम जो मांगोगे मैं दूँगी। तुम खुशी से कुछ भी मांग लो। और फिर वह अपने पैरों को मेरे घुटनो से टच कर दी। तो मैं भी सोचा जो होगा देखा जाएग। तो मैं बोल दिया कि दीदी आप बहुत खूबसूरत हो। आप बिलकुल जन्नत की हूर हो। मैं आपको बिना कपड़ों के देखना चाहती हूँ। तो वह मुस्कुराई और बोली। ठीक है लेकिन तुम मुझे बिना पकड़ो के आगे से देखना चाहोगे या पीछे से।

तो मैं बोला दीदी मैं दोनो तरफ से देखना चाहूंगी। तो रुखसार बोली कि ठीक है तुम अपनी आँखें बंद करो और जब मैं बोलूंगी तब खोलना। मैं आँखे बंद किया। और 2 मिनट बाद वो बोली कि अब आंखे खोलो। दोस्तों जैसे ही मैं आंखे खोला मैं हैरान रह गया।

हेलो दोस्तों कैसे हो आपसब। उम्मीद करता हूँ शानदार होंगे। दोस्तों मेरा नाम सोहन है। मैं 28 साल का हूँ। और मैं मुम्बई में रहता हूँ। मैं बेसिकली बिहार के बेगूसराय का रहने वाला हूँ। लेकिन मुम्बई में एक मौलाना जी के घर मे ड्राइवर हूँ।

मौलाना जी के घर मे 3 लोग हैं। खुद मौलाना जी उनकी बेगम रुखसार और बेटी रजिया। मौलाना जी एक बहुत बड़े रईस हैं। अथाह धन दौलत के मालिक हैं मुम्बई और पुणे में उनके कई होटल और अपार्टमेंट हैं। मौलाना जी एक छोटे से मस्जिद में मौलाना हैं। लेकिन अथाह पैसा की वजह से पूरे मुंबई में धाक है। मौलाना जी अब मस्जिद का काम छोड़ के बिजनेस देखने लगे हैं। और दिन रात बिजनेस में व्यस्त रहते हैं। हर दूसरे तीसरे दिन मुंबई पुणे करते रहते हैं। अब वो घर मे कभी कभी ही आते हैं वो भी रात आये तो सुबह ही निकल लिए।

रुखसार की उम्र 37 साल है। और उनकी बेटी रजिया 17 साल की है। रुखसार और रजिया दोनो बहुत खूबसूरत हैं और दोनो घर से जब भी निकलती हैं काले लिबास में निकलती हैं। यहाँ तक कि उनके घर भी कोई आता है तो वे उनके सामने नही जाती हैं। दोनो माँ बेटी कम और बहन ज्यादा लगती हैं।

उनके घर मे 4 गाड़ियां हैं लेकिन ड्राइवर सिर्फ मैं ही हूँ। वेसे तो मौलाना जी मुम्बई में रहते हैं तो अक्सर खुद भी गाड़ी चला के जाते हैं लेकिन कभी कभी मुझे भी साथ ले जाते हैं। इस कारण जब रुखसार और रजिया को कही जाना होता है तो बहुत समस्या हो जाती है।

कैसे रुखसार ने मुझे गाड़ी सिखाने के बदले मुझसे चुत चुदवाई

तो एक दिन रुखसार मौलाना जी से बोली कि हमें गाड़ी सीखा दो। क्योंकि सोहन भईया आपके साथ चले जाते हैं तो हम माँ बेटी को कही जाना होता है तो दिक्कत होता है।

तो मौलाना जी बोले कि सोहन तुम्ही रुखसार को ड्राइविंग सीखा दो। तो एक दिन मौलाना जी पुणे गए हुए थे। तो रुखसार बोली कि सोहन मुझे गाड़ी चलाना कब सिखाओगे। तो मैं बोला कि सुबह ग्राउंड बिल्कुल खाली रहता है सुबह चलेंगे। और मैं अगले दिन सुबह रुखसार को लेकर ग्राउंड में चला गया। उस समय 5 बज रहे थे और ग्राउंड में कुछ लोग दौड़ रहे थे। तो मैं रुखसार को ड्राइविंग सीट पर बैठा दिया और खुद बगल वाली सीट पर बैठ गया। और रुखसार को जैसे बताया था वो वैसे करने लगी। और गाड़ी चलाने लगी लेकिन कुछ दूर आगे जाने के बाद सामने कुत्ता टहलते हुए आ गया तो मैं ब्रेक लगाने बोला तो गलती से रुखसार एक्सीलेटर दबा दी और गाड़ी तेज रफ्तार में दौड़ गई। मैं स्टेरिंग को बिल्कुल मोड़ दिया और उसे ब्रेक लगाने बोला। तो वह झटके में ब्रेक लगा दी। गाड़ी तो रुक गई कुत्ता भी बच गया लेकिन रुखसार डर गई।

फिर मैं उसे समझाया तो वह बोली कि सोहन तुम भी इसी सीट पर बैठो ताकि ऐसे सिचुएशन आये तो तुम संभाल लो। तो मैं बोला उस सीट पर दिक्कत होगा। तो वो बोली कि तुम बैठो और मैं आगे बैठ जाऊंगी।

तो मैं सीट को हल्का पीछे किया जिससे स्पेस हो गया। और मैं बैठ गया। फिर रुखसार आकर मेरे गोद मे बैठ गई।

दोस्तों जैसे ही रुखसार मेरे गोद में बैठी मेरी तो बदन में करंट दौड़ गया। मानो 1000 वाट का बिजली दौड़ गया हो। और गाड़ी स्टार्ट हुआ और चलने लगा। लेकिन रुखसार के मुलायम गांड़ ने मेरे लन्ड में हलचल मचा दी। अब मेरे लन्ड में तनाव आना शुरू हो गया। स्टेरिंग पकड़ने की वजह से कभी कभी रुखसार के बड़ी बड़ी चुचियों में मेरा हाथ टच हो रहा था। हम 1 घंटा ग्राउंड में थे। और इस दौरान मेरा लन्ड पूरा आवेश में था।

फिर मैं घर आकर सीधा बाथरूम में घुसा और रुखसार के नाम का मुठ मारा।

दूसरे दिन हम फिर ग्राउंड में गए। और आज फिर वही स्थिति। आज भी रुखसार मेरे गोद में बैठकर गाड़ी सीखने लगी। और मेरा लन्ड कड़क होकर उसकी गांड़ में धस रहा था। उस दिन भी मैं घर आकर उसके नाम का मुठ मारा। अब रुखसार गाड़ी चला ले रही थी। तो अगले 3, 4 दिन हम रोज ऐसे ही जाते लेकिन अब मैं बगल वली सीट पर बैठता और रुखसार गाड़ी चलाती।

अब रुखसार अच्छे से गाड़ी चलाने लगी थी। वह बहुत खुश हुई। और अगले कुछ दिन तक वह खुद ही गाड़ी चलाती और मैं बगल वली सीट पर बैठता। करीब एक महीना बित गए। और फिर से एक दिन मौलाना जी बाहर जाने वाले थे। इस बार मौलाना। मलेशिया किसी काम से जा रहे थे। और हफ्ते 10 दिन के लिए जा रहे थे। तो मैं और रुखसार दोनो उन्हें एयरपोर्ट छोड़ने गए। और वापसी में रुखसार बोली कि मैं गाड़ी चलाऊंगी। तो वह गाड़ी चलाने लगी और हम घर आ गए।

शाम में रजिया को अपने दोस्त के यहां पार्टी में जाना था। और रात भी वहीं रुकना था। तो उसे मैं वहां छोड़ आया। रात को डिनर करने के बाद मैं अपने कमरे में लेट कर मोबाइल पे कुछ देख रहा था। मेरा कमरा घर के बाहर गेट के पास बना हुआ था। मैं उसी में रहता था। रात के 11 बज रहे थे। और तभी रुखसार का कॉल आया और वो बोली कि घर आओ कुछ काम है।

मैंने देखा रुखसार बिस्तर पर बैठी थी और उसकी शार्ट ड्रेस में से उसकी मोटी चिकनी जांघे दिख रही थी

मेरा मन बिल्कुल जाने का नही था क्योंकि मुझे नींद आ रहा था। लेकिन मालकिन का हुक्म था तो बजाना ही था। सो मन मसोस के चला गया। अंदर गया तो देखा रुखसार नही थी फिर मैं आवाज दिया तो बोली कि मैं अपने कमरे में हूँ यही आ जाओ।

मैं अंदर गया तो देखा रुखसार बेड पर बैठी हुई थी और उसके बदन पर एक शार्ट ड्रेश था जो उसकी जांघो तक ही था। बल्कि जांघे उसकी साफ खुली हुए थे। मैं देखकर मस्त हो गया। फिर मैं पूछा क्या हुआ दीदी। मैं रुखसार को दीदी ही कहता था। तो रुखसार बोली कि बैठो तो मैं चेयर पर बैठने लगा। तो वो बोली बिस्तर पर ही बैठो न कहाँ दूर बैठ रहे हो। तो मैं शर्माते हुए बिस्तर पर ही बैठ गया। और चोर निगाहों से उनकी नंगी पैरो और मोटी जांघो को देख रहा था।

मैं बोल दिया कि दीदी आप बहुत खूबसूरत हो। आप बिलकुल जन्नत की हूर हो। मैं आपको बिना कपड़ों के देखना चाहता हूँ।

तो रुखसार बोली कि सोहन तुम मुझे गाड़ी चलाना सिखाए हो। तुम मेरे गुरु हो। बोलो तुम्हे गुरुदक्षिणा में क्या चाहिए तो मैं बोला दीदी आप ऐसे मत बोलो मैं कोई गुरु नही हूँ और न ही मुझे आपसे गुरु दक्षिणा चाहिए। तो वह बोली नही। गुरु दक्षिणा देना मेरा फर्ज है तुम बताओ। तुम जो मांगोगे मैं दूँगी। तुम खुशी से कुछ भी मांग लो। और फिर वह अपने पैरों को मेरे घुटनो से टच कर दी। तो मैं भी सोचा जो होगा देखा जाएग। तो मैं बोल दिया कि दीदी आप बहुत खूबसूरत हो। आप बिलकुल जन्नत की हूर हो। मैं आपको बिना कपड़ों के देखना चाहता हूँ। तो वह मुस्कुराई और बोली। ठीक है लेकिन तुम मुझे बिना पकड़ो के आगे से देखना चाहोगे या पीछे से।

रुखसार मेरे सामने बिल्कुक नंगे खड़ी थी। उसकी चुत के दाने इतने बड़े थे कि वो बाहर दिख रहे थे

तो मैं बोला दीदी मैं दोनो तरफ से देखना चाहूंगा। तो रुखसार बोली कि ठीक है तुम अपनी आँखें बंद करो और जब मैं बोलूंगी तब खोलना। मैं आँखे बंद किया। और 2 मिनट बाद वो बोली कि अब आंखे खोलो। दोस्तों जैसे ही मैं आंखे खोला मैं हैरान रह गया।

रुखसार बिल्कुल नंगी मेरे सामने खड़ी थी। उसकी चुत के दाने इतने बड़े थे कि वो बाहर दिख रहे थे। उसकी चुत तो बिल्कुल गोरी थी और एक भी बाल नही थे। शायद वो अभी ही थोड़ी देर पहले झांट साफ की थी। और उसके चुत का दाना गहरा रंग का था। मैं तो फ़टी आंखों से देखे जा रहा था। करीब 2 मिनट ऐसे ही मैं स्टैच्यू बनकर देखे जा रहा था। तो रुखसार बोली मैं बिना कपड़ों के कैसी दिख रही हूं सोहन। तो मुझे झटका लगा। और बोला दीदी आप तो गजब की साक्षात काम की रानी लग रही हो। जीवन मे मैं ऐसी खूबसूरती नही देखा।

तो रुखसार बोली। तुम मुझे आज से दीदी नही रुखसार बोलोगे। सिर्फ मौलाना जी के सामने दीदी बोलना।

रुखसार बोली आओ सोहन अपनी दीदी को चोदकर अपनी गुरुदक्षिणा ले लो

फिर रुखसार बोली मेरे पास आओ सोहन। और अपने दीदी के नंगी जिस्म को देखकर अपनी गुरुदक्षिणा लो। मैं पास गया तो ऊपर से नीचे तक घूर कर देखा। मेरी निगाह रुखसार के चुत से हट ही नही रहे थे। तो रुखसार बोली। सोहन तुम चाहो तो टच कर सकते हो। तुम्हे जो मेरे जिस्म में सबसे अच्छा लगा। मेरे जिस्म का जो भाग तुम्हे सबसे ज्यादा पसंद आया तुम उसे टच कर सकते हो। तो मैं बिना देरी किये रुखसार के चुत पर अपना हाथ रख दिया। तो रुखसार चिहुंक गई और बोली उंईईईईईईईईई अम्मीईईईईई…. अब मैं धीरे धीरे रुखसार के चुत को सहलाने लगा। तो वह मस्ती में आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई…… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह …..

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… करने लगी। इधर मैं उसके चुत पर अब जोर जोर से हाथ रगड़ने लगा। वह तो अब पागल हो चुकी थी।

फिर वह मुझे नीचे धक्का देने लगी। और मुझे नीचे बैठा दी। और अपना चुत मेरे मुँह पर रख दी। और कमर हिलाने लगी। और बोली सोहन मेरी चुत चाटो। सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… मैं उसकी चुत चाटने लगा तो वह अपना एक पैर मेरे कंधे पर रख दी और मेरा सर पकड़ के अपनी चुत पर दबाने लगी और कहने लगी चाटो सोहन चाटो मेरी चुत करने लगी और कहने लगी आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राजजजाआआआ चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से.. चाटो जोर से ओह र

सोहन मेरे राजा चाटो सोहन चाटो।

चाटो मेरी चुत खा जाओ मेरी चुत…. चुत से पानी निकाल दो चाटकर आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजा…राजअअअअअअअ।। चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। ले लो गुरु दक्षिणा … तुम रोज मेरे नाम का मुठ मारते हो। मैं जानती हूं तो आज चलाओ अपनी जुबान की तीर और मेरी चुत को चाट के तृप्त कर दो। आहहहहहहहहहहहहहहहहह रोहन बेटा मेरी चुत बहुत प्यासी है। चाटो जोर।से।…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. ऐसे ही सोहन ऐसे ही जोर जोर से चाटो मेरी चुत।..

चाटो और जोर से चाटो।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. खा जाओ मेरी चुत राजज्ज्ज़ा चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह.. तुम कितने अच्छे हो मेरे बेटे…. चाटो राजा चाटो मेरी चुत। पूरा निगल जाओ मेरी चुत को। आ हहहहहहहहह। ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेबी चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। …

फिर वह मुझे उठाई और बिस्तर पर धक्का दे दी। और मेरे उपर आ गई और मेरा लन्ड पकड़ी और अपने चुत की छेद पर लगाई और एक जोरदार झटका मारी। वो जोर से अपने गांड़ को मेरे लन्ड पर दबाई थी जिससे मेरा समूचा लन्ड उसकी चुत में घुस चुका था।

अब वो जोर जोर से चोदने लगी और फिर लगातार चिल्लाए जा रही थी आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहहह चोदो मेरे सइयाँ फाड़ दो मेरी बुर…. । मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेबी कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…. मेरी जान चोदो…………

रुखसार 2 बार झड़ चुकी थी। फिर वह बोली की सोहन अब तुम ऊपर आकर चोदो। तो मैं बिना देरी किये उसे नीचे किया और मैं खुद ऊपर आकर चोदने लगा।

अब रुखसार और जोर से चिल्लाने लगी और नीचे से गांड़ उछालते हुए कहने लगी। आहहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहह और

तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है…मेरे राजा… मेरी बच्चेदानी तक जा रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. सच मे बहुत बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… मेरी बुर फाड़ दिया।

आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. और फिर हमदोनों साथ मे ही झड़ने लगे। और मैं कुत्ते के माफिक हाँफते हुए रुखसार पर पसर गया। वह मुझे जोर से जकड़ ली। और I Love You बोली। और मुझे किस की।

अब मौलाना जी के बेगम को मैं रोज चुदाई करता हूँ। और रुखसार अब मुझपर खुलकर दौलत लुटाती है।

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

 

80% LikesVS
20% Dislikes

2 thoughts on “गुरु दक्षिणा में चुत भेंट की

  1. jo housewife aunty bhabhi mom girl divorced lady widhwa akeli tanha hai ya kisi ke pati bahar rehete hai wo sex or piyar ki payasi haior wo secret phon sex yareal sex ya masti karna chahti hai .sex time 35min se 40 min hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *