बुआ को दिया करवाचैथ का तोहफा।

हेलो दोस्तों मैं हूं विक्की। और ये कहानी मेरे और बुआ की चुदाई की कहानी है। करवाचौथ का दिन था। मोहल्ले के सभी औरतें सज संवर कर बैठे थे। सभी दुल्हन की तरह लग रही थी। मेरी बुआ भी किसी नई नवेली दुल्हन की तरह लाल रंग की साड़ी पहने ढेर सारे गहना पहने हुए सजी संवरी थी। लेकिन जहाँ सभी औरतें काफी खुश थी। सबके चेहरे पर एक अलग चमक थी। वहीं मेरी बुआ के चेहरे उदासी से भरा हुआ था। जैसे कोई निर्जीव मूर्ति को सजाकर रख दिया गया हो।

 

कारण यह था कि साल भर पहले मेरे फूफा जी एक विधवा औरत के साथ भाग गए थे। उनका कोई पता नहीं था वे लोग कहाँ चले गए थे। उसके बाद उनके सास ससुर भी उन्हें रोज ताना देने लगे कि तुम ही गलत हो वरना कोई मर्द क्यों दूसरी औरत के साथ भागता। तुम औरत हो भी की नही। तुमने ही मेरे बेटे को हमसे दूर किया है। थक हार कर मेरी बुआ ससुराल छोड़कर घर गयी।

करवाचौथ को बुआ की चूत के चुदाई के। साथ गांड का शील तोड़ा।

तो कैसे मैंने करवाचौथ को बुआ की चूत के चुदाई और गांड का शील तोड़ा मेरी बुआ का नाम संध्या है वह बहुत खूबसूरत हैं। दूध की तरह सफेद चमड़ी और सुडौल बॉडी। उनकी उम्र 26 साल है। शाहतूती होंठ। भरी हुई गाल। सुराहीदार पतली गर्दन। बड़ी बड़ी आँखें। बड़ी बड़ी 32 की साइज की चुचियाँ। 26 की पतली कमर और 34 के सुडौल गोलाकार गांड। जब वो चलती हैं तो उनके चूतड़ों के थिरकन देख बूढ़े भी उन्हें चोदने को लालायित हो जाते हैं।

 

लेकिन ना जाने मेरे फूफा को उस अधेड़ विधवा मोटी औरत में क्या दिखा जो इतना मस्त माल को छोड़कर भाग गए।

 

मेरी बुआ भी जानती थी कि इस करवाचौथ का कोई मतलब नहीं है। लेकिन औरत का दिल नाजुक होता ही है। इसीलिए वो भी व्रत रखी थीं। लेकिन उनके चेहरे की उदासी साफ बता रही थी कि वो अंदर से कितना टूट चुकी हैं।

 

मोहल्ले की सारी औरतें खुशियां मना रही थी वही मेरी बुआ निराश थी।

 

करीब रात के 8 बजे चांद निकल आया तो मोहल्ले के सभी औरतें अपने अपने पति के साथ थीं पूजा कर व्रत तोड़ रही थी।

मैं और मेरी बुआ छत पर थे। वह लाल साड़ी में बहुत हॉट लग रही थी। वो अपने हाथों में फूफा जी का फोटो लिए पूजा कर रही थी। फिर उनके आंखों में आंसू आ गए। और मेरे से ये देखा नही गया मैंने उनको गले से लगा लिया और उनके आंसू पोछने लगे। मुझे अपने फूफा पर बहुत गुस्सा आया और मैं बुआ के हाथ से फोटो छीना और फाड़कर फेंक दिया। और बोला की आज के बाद इस कमीने इंसान की ना ही फोटो देखने की जरूरत है। ना ही इसे याद करने की। मैं हूँ आपका ख्याल रखने के लिए। फिर मैं उनको पानी पिला कर व्रत तुड़वाया और उन्हें अपने हाथों से मिठाई खिलाया।

 

फिर हम दोनों छत से निचे आ गए, वो मेरी माँ और मेरे पिताजी का पैर छूई। फिर पिताजी ने कहा कि हम दोनों आज तुम्हारे मामा जी के यहाँ जा रहे हैं। उनके यहां कल कुछ मेहमान आ रहे हैं मेरी मामा जी के बेटी को देखने के लिए। तो हम एक दो दिन बाद ही आएंगे। वो बोले अपनी बुआ का ख्याल रखना। और फिर वे चले गए।

 

मेरी माँ खाना बनाकर गई थी। चुकी मेरी बुआ का व्रत था तो ढेर सारा खाना बना था। ताकि बुआ व्रत तोड़े तो अच्छा खाना खाएं फिर रात के करीब 10 बजे मैं और बुआ खाना खाएं। थोड़ी देर TV देखे फिर बुआ बोली अब बैठने का मन नहीं कर रहा मैं सोने जा रही हूँ। जैसे ही बुआ उठी मैं भी उठा और उन्हें अपने बाहों में भर लिया। और जोर से दबा दिया। वह कहने लगी कि विक्की ये क्या कर रहे हो क्या हुआ। छोड़ो मुझे जाने दो। तो मैंने कहा बुआ आप बहुत अच्छी हो मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं। आप बहुत सेक्सी हो। आई लव यू बुआ। मैं आपको खुश देखना चाहता हूँ। इतना सुनते ही बुआ इमोशनल हो गई और मेरे सीने से जोर से लिपट गयी। और कहने लगी को विक्की तुम कितने अच्छे हो अपनी बुआ को कितना प्यार करते हो। मैं भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ। मैं भी कई दिनों से ये बात तुम्हारे मुँह से सुनना चाहती थी। आज तुमने मुझे धन्य कर दिया।।  I LOVE YOU विक्की i love you..

 

और फिर हमदोनो एक दूसरे को चूमने लगे। मैं बुआ को गोद में उठाया, और बेडरूम में ले गया, उन्हें बेड पर बैठा दिया। और मैं उनके सामने घुटनों पर बैठकर उनके हाथों को अपने हाथों में लेकर I LOVE YOU बोला। वो उठी और मुझे उठाई और मुझे अपने बाहों में भर ली और  i love you too vikki. बोली। । मैंने उनके बूब्स पे हाथ रख दिया और उसे मसलने लगा फिर मैं उनकी साड़ी उतार दिया और ब्लाउज का हुक खोलते हुए कहा बुआ अब आपको  चिंता करने की कोई जरूरत नहीं मैं हमेशा आपके साथ रहूंगा। फिर मैं उनकी ब्रा का हुक खोल दिया।

 

फिर बुआ ने ब्रा को निकाल दी। मैं तो देखते रह गया उनकी गजब की गोरी गोरी गोल मटोल चूचियां और गहरे रंग का निप्पल बहुत सुंदर लग रहे थे। मैंने बिना देर किये उनके चुचियों पर टूट पड़ा। और बुआ के चूचियों को मसलने लगा. और फिर उसके होठ को अपने होठ में लेके चूसने लगा.

 

 

वो आहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह उफफ़फ़फ़फ़फ़ करने लगी. मेरा लंड खड़ा हो चूका था, बुआ बोली विक्की आज तुम मुझे तृप्त कर दो। बहुत दिनों से मेरी चूत प्यासी है। और वो मेरे लंड को अपने हाथों में ले ली और कहने लगी वाओ विक्की तुम्हारा लंड तो बहुत मोटा तगड़ा है। मैं कबसे इसके लिए तड़प रही हूँ मेरे सोना। फिर वो बेड पर बैठ गई और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। मैं भी कमर आगे पीछे कर उनके मुँह को चोदने लगा। मेर लंड उनके गले तक जा रहा था। वो भी अब भरपूर जोश में आ चुकी थी। उनके चुचियाँ टाइट और निप्पल बिल्कुल कड़क हो चुके थे।

फिर वो खड़ी हो गई और मेरा हाथ पकड़ के अपनी चूत पर रख दी। क्या बताऊँ दोस्तों उनकी चूत आग की तरह जल रही थी। बिल्कुल गर्म। और उसमें से लसलसा पानी निकल रहा था। थोड़ी देर बाद बुआ बोली विक्की अब बर्दाश्त नही हो रहा अब चोदो मुझे। और वो लेट गयी।  मैंने उनके दोनों पैरों को कंधे पर लिए और अपना लंड को उनके चूत के छेद पर लगाया। और जोरदार प्रहार किया। मेरा पुरा लंड बुआ के चूत में समा गया।

उसके बाद तो जो चुदाई होने लगा। मैं जोर जोर से बुआ को चोदे जा रहा था। वो भी गांड उठा उठा के धक्के दे रही थी और मैं ऊपर से पूरा प्रहार कर रहा था. बस कमरे में आहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहह उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़  आहहहहहहहहहहहहह की आवाजें गूंज रही थी। उनके चूत से फच फच की आवाज आ रही थी।  बुआ लगातार  आहहहहहहहहहहहहह8हहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ विकककीईई कर रही थी।  और मैं जोर जोर से चोदे जा रहा था. उनकी कड़क चूचियों को मसलते हुए लंड को चूत में दनादन मार रहा था. वो चीला रही थी चोदो विक्की चोदो इस चूत को कभी ढंग से चुदवाने का नसीब नही हुआ। आज सारा कसर निकाल दो। चोदो मेरी प्यासी चूत को। चोदो मेरे राजा। चोदो मेरी प्यासी चूत। करीब आधे घंटे की चुदाई के दौरान बुआ 4 बार झाड़ चुकी थी।

अब बुआ की गांड चुदाई।

फिर मैंने कहा बुआ मुझे आपकी गांड मारनी है तो बुआ मना की की नही बहुत दर्द होगा मैं आज तक कभी गांड नहीं मरवाई तुम मेरी चुत चाहे जितना चोद लो लेकिन गांड नहीं। लेकिन मेरे जिद करने से वो मान गई और बोली ठीक है लेकिन धीरे धीरे करना। फिर मैंने अपना लंड उनकी चूत से निकाला और उनकी  गांड में डालने लगा लेकिन वो अंदर नहीं जा रहा था।

 

फिर बुआ बोली कि अपने लन्ड पर और मेरी गांड पर ढेर सारा पहले थूक लगाओ। और एक उंगली पर थूक लगाकर पहले गांड के अंदर डालो। और जगह बनाओ फिर लंड डालना मैंने ऐसा ही किया ढेर सारा थूक अपने लंड पर लगाया और उनके गांड पर भी फिर एक उंगली अंदर डाला बुआ दर्द से तड़प गयी और बोली दर्द हो रहा है। फिर मैं अपना लंड उनकी गांड पर लगाया और जोर से धक्का दिया मेरा पूरा लंड अंदर चला गया मेरी बुआ के मुंह से चीख निकल गया और बोली बहुत दर्द हो रहा है विक्की। फिर मैं आगे पीछे होने लगा। अब बुआ को मजा आने लगा। वो भी गांड उचका के साथ देने लगी। और कहने लगीं गांड में तो और भी मजा आ रहा है. मैंने उनके चूतड़ों पर जोर से थप्पड़ मारता और जोर से अंदर अपने लंड को घुसा देता, अब मैं उनको कुतिया बना दिया। और पीछे से उनकी गांड चोदने लगा समूचा लंड अंदर जा रहा था। बुआ  की चूचियां निचे लटक रही थी क्यों की मैं उनकी चुचियों को आगे हाथ कर के पकड़ा और मसल रहा था। वह कराह रही थी। और कहने

लगी aahhhhhhhhhhhhhhhhh विक्कीईई मारो मेरी गांड विक्की। मेरी गांड की शील तोड़ दी तुमने। मुँह बहुत मजा आ रहा है। चोदो मेरी गांड को।

 

और मै करीब 1 घंटे तक बुआ की चूत और गांड को चोदा। मेरा लंड पानी छोड़ने वाला था तो बुआ बोली रुको विक्की मुझे सीधा होने दो। तुम अपना लंड का पानी मेरे चूत में छोड़ना। और फिर बुआ सीधी हो के लेट गयी और मुझे अपने उपर खींच ली और लंड को पकडकर अपने चुत में लगाई और मैं धक्के मारने लगा। 8, 10 धक्कों के बाद मेरा लंड फव्वारा छोड़ने लगा। बुआ मुझे कस के पकड़ ली और अपना गांड उठा उठा के मेरे लंड के रस को अपने चूत में लेने लगी। फिर मैं वैसे ही लंड डाले बुआ के ऊपर लुढ़क गया। हमदोनो की गर्म सांसे तेज तेज चल रही थी। उस रात हम कई बार चुदाई किए। पूरी रात बुआ भतीजे की चुदाई चलती रही

 

करीब 4 बजे तक हम चुदाई करते रहे फिर हम एक दूसरे के बांहों में नंगे ही लिपट कर सो गए।

Tag – बुआ भतीजे की चुदाई

कामुक चुदाई

Hot desi chudai ki kahani

Chut Land ki kahani

Pyasi chut ki chudai

Randi bua ki chudai

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *