दोस्त की बीवी

दोस्त की बीवी सादिया की चुत की चुदाई

 

दोस्तो, मेरा नाम सौरभ है, और मैं मेरठ में प्राइवेट जॉब करता हूँ। बेसिकली मैं वाराणसी का रहने वाला हूं।  मैं देखने में एवरेज हूँ, लेकिन गुड लुकिंग हूं।

मेरी उम्र 25 साल है.. सच बताऊं तो कुँवारी लड़कियों से ज्यादा मुझे शादी शुदा औरतें और आंटीयां पसन्द आती हैं। क्योंकि वो चुदाई में भरपूर सहयोग करती हैं और बहुत मजा देती हैं। 

 

यह कहानी मेरे दोस्त अरमान की बीवी सादिया के चुदाई की है।

अरमान और सादिया की 6 महीने पहले ही लव-मैरिज हुई थी। सादिया को भी मैं उसके शादी से पहले से जानता था। उससे मिल चुका था। लेकिन बस हाय हेल्लो तक ही बात हुई थी।

रखैल की चुत

दरअसल उनके घर वाले इस शादी के खिलाफ थे, इसलिये वो दोनो अलग किराये के रूम लेकर रहते थे।

 

चुकी अरमान मेरा अच्छा दोस्त था इसलिए उसके घर मेरा आना-जाना लगा रहता था।

एक दिन अरमान का मेरे पास फोन आया- और बोला यार सौरभ.. मैं कल एक नए घर में शिफ्ट हो रहा हूं.. अगर तुम फ्री हो तो मेरी थोड़ी मदद कर देना.. मैं अकेला सब नहीं कर पाऊंगा. अगले दिन मेरा साप्ताहिक ऑफ था तो मैंने भी ‘हां’ कर दी।

कैसे मैंने दोस्त की बीवी की चुदाई किया

अगले दिन मैं अरमान के घर गया तो वो पहले से ही काम में लगा था।  मैं भी जाकर उसके साथ लग गया।  वो पहले माले पर रहता था.. इसलिय थोड़ी और दीकत हुई।  वो सामान लाकर दरवाजा पर रख देता और मैं नीचे गाड़ी में रख देता। तभी मैं सादिया को शादी के बाद पहली बार ठीक से देखा।

 

 क्या माल थी, शादी के बाद तो वो और भी खूबसूरत हो गई थी। शरीर भर गया था। चेहरे पर ग्लो बढ़ गए थे। अब बो बिल्कुक अप्सरा लग रही थी। ..

 

उस दिन हमने एक-दूसरे को कई बार देखा। वो भी मुझे गौर से देखती।  मेरा अभी तक उसके साथ कुछ गलत करने का मन नहीं था। पूरा  दिन काम करते-करते हम रात हो गई।

 

मैं रात को एक बजे घर आ गया।  अरमान एक मार्केटिंग का जॉब करता है.. तो उसे हफ्ते में 2-3 दिन के लिए दिल्ली या नोएडा जाना होता था। कई बार उसे वहाँ 2, 3 दिन तक रुकना भी पड़ता था।  उसे नए घर मे शिफ्ट हुए अभी एक दिन ही हुआ था। और उसे कम्पनी के काम से दिल्ली निकलना पड़ा।

 

अरमान सुबाह 5 बजे ही दिल्ली के लिए निकल गया और करीब 7 बजे उसका मुझे कॉल आया की वो अचानक कम्पनी के काम से दिल्ली जा रहा है । और नए घर मे कल ही शिफ्ट हुए हैं तो तुम एक बार घर जाकर देखा लेना। सादिया को कोई काम हो तो प्लीज कर देना। और सामान ला देना। मैने कहा ठीक है।

 

और फिर 9 बजे मैं उसके घर चला गया।  इस बार फिर से  अरमान को घर पहले माले पर ही मिला था, इसलिये घर की घण्टी बजाने की जरूरत नहीं पड़ी.. क्योंकि नीचे मकान-मालिक रहते थे तो मैं सीधा ऊपर ही चला गया।

 

मैं ऊपर पहुंचा तो देखा सादिया भाभी नहा कर अपने कपड़े सुखाने के लिए फैला रही थी और उसके हाथ में ब्रा और पैंटी थी।  मैंने भाभी को आवाज लगाई तो भाभी एकदम चौक गई और ब्रा और पैंटी को एक कपड़े में छुपा दी।

 

अब मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था, लेकिन मैंने अपने आप को संभालते हुए बोला- मुझे अरमान ने भेजा है।  आपको किसी चीज की जरूरत है तो मुझे बता दो, मैं ला दूंगा।  तो भाभी ने कहा- अभी तो किसी चीज़ की ज़रुरत नहीं है।

 

ठीक है। तो मैंने अपना मोबाइल नंबर भाभी को दे दिया और कहा- कोई काम हो तो मुझे कॉल कर लेना।  फिर एक महीने तक ऐसा ही चलता रहा।  मैं उसके घर भी आता-जाता रहता और भाभी को देखने के लिए उनके घर जाने के लिए किसी काम का बहाना ढूंढता रहता। कुछ कुछ बात न बनी।

 

हमारी कभी कभी कॉल और व्हाट्सप्प पर बातें हो रही थी। लेकिन बात आगे नही बढ़ रही थी। ऐसे ही करीब 2 महीने बीत गया।

फिर एक दिन अरमान को कम्पनी 4 महीने के लिए दुबई भेज दी।

 

अब सादिया अकेले ही रहती थी। लेकिन अरमान नहीं था तो मेरा उसके घर आना जाना बंद हो गया। भाभी कभी बुलाई ना ही अरमान ने कुछ बोला। ऐसे ही एक महीना बीत गया।

 

 फिर एक दिन मेरे मोबाइल पर एक अननोन नम्बर से कॉल आया। मैने फोन उठाया तो एक लड़की बोली।  मैंने पूछाकौन बोल रहा हैवो बोलीपहचानो।  लेकिन मैं उसकी आवाज से पहचान गया की ये और कोई नहीं बाल्की सादिया भाभी ही है।

 फिर हमारी काफ़ी देर बात हुई।  मैं अब समझ चुका था की जवानी की आग भड़क रही है आखिर इस चुदाई की उम्र में 1 महीना बिना लंड खाए गुजरना, मैं समझ सकता हूँ।

 

फिर भाभी मुझे रात में भी कॉल करने लगी और हमारी पूरी पूरी रात बात होती रही।  अब मेरे सब्र का बंधन टूटने लगा।  एक महिने तक हम बात करते रहे.. फिर एक रात भाभी ने मुझे प्रपोज कर दिया..

मैं सुनकर हैरान रहा गया।  अब मैं कहां सब्र करने वाला था। रात के 2 बजे थे।  मैने भाभी से कहा- मैं आपके घर आ रहा हूं।  तो भाभी ने कहा- मैं तो कब से तुम्हारा इंतजार कर रही हूं।

 

मैंने जल्दी से अपनी गाड़ी उठाई और भाभी के घर चल दिया।  जब मैं भाभी के घर पहुँचा तो सब दरवाजे गेट बंद थे.. मैं दीवार फांद कर जीने से ऊपर चला गया।

फिर मैंने भाभी का दरवाजा खटखटाया,  तो भाभी ने धीरे से दरवाजा खोला और मुझे और अंदर खींच लिया। उस वक्त भाभी ने ब्लैक गाउन पहनी हुई थी। भाभी को तो कुछ देर तक यकीन ही नहीं हो रहा था की मैं उनके सामने बैठा हूं।

 

भाभी मेरे करीब आयी और अपना होंठ मेरे होंठो पर रख दी

फिर हम कुछ देर इधर-उधर की बात करते रहे।  मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं कहां से शुरू करूं।  मैंने तो सोच लिया था की आज कुछ नहीं होगा। थोड़ी देर में वापस चल दूंगा। शायद भाभी मेरे पहल करने का इंतजार कर रही थी। लेकिन उनका भी जब सब्र जवाब दे गया तो भाभी मेरे करीब आई और अपना होंठ मेरे होंठ से मिला दी।

 

मैं तो पागल सा हो गया था।  हम लोगों ने 2 मिनट तक किस किया। फिर बैठे गए।  मुझे लगा की भाभी इसके आगे कुछ नहीं करेंगी।  लेकिन मैं भी अब कहां रुकने वाला था..

मैंने भाभी को पकड़ा और किस करना शुरू कर दिया और 10 मिनट तक किस करता रहा।  भाभी भी पागल सी होने लगी थी। मेरी पूरी जीभ अपने मुंह में ले ली, और चूसने लगीं। अब भाभी को भी मजा आने लगा था।

 

किस करते-करते मैंने अपना टी शर्ट निकला दी और भाभी का गाउन धीरे-धीरे उठाने लगा।  भाभी भी गरम हो रही थी। फिर मैंने एक झटके में भाभी का गाउन निकाल दिया।

भाभी ने काली ब्रा और लाल पैंटी पहन रखी थी। भाभी उस वक्त क्या कमाल की लग रही थी।  मैं तो देखता ही रहा गया।  फिर मैं भाभी को किस करते-करते बूब्स को दबाने लगा।

 

भाभी तो ब्रा पैंटी में थी और मैं सिर्फ जींस में था।

मैं भाभी को किस कर ही रहा था की भाभी ने धीरे से मेरी जींस का बटन खोल दिया।

मैंने भी देर ना करते हुए अपनी जींस उतार दी।  अब मैं सिर्फ अंडरवियर में था और भाभी ब्रा-पैंटी में थी।  हम दोनो एक दूसरे से लिपटे हुए किस कर रहे थे।

अब मैंने भाभी की ब्रा को खोल दिया और उनकी बड़ी-बड़ी चूचियां मेरे हाथों में थी।  मैं उन्हें चुमने लगा और चूसते चूसते उनकी चुत को रगडते हुए पैंटी भी उतार दी।

मैं भाभी को पागलों की तरह चुमने लगा और भाभी भी मचलने लगी।  फिर मैंने भाभी की टांगे फैलाकर  चुत को देखा तो एकदम गुलाबी चुत.. एक भी बाल नहीं।  ऐसा लग रहा था जैसे आज ही बाल साफ की है।

 मैंने चुत आगे की और चूमने शुरू कर दिया.. तबी भाभी के मुंह सेआह आह्ह्हहहहहहहहहआह्ह्हहहहहहहहह..उम्ममम्ममम्मममम्ममम्म आममम्मम्ममम्ममम्म..उमम्मददहठठहम..’ सिसकारियां निकालने लगी।  भाभी बहुत बुरी तरह से तड़पने लगी थी, लेकिन मैं अपने काम में लगा रहा।

 

 फिर मैंने भाभी को अपने ऊपर कर लिया और हम 69 की स्थिति में हो गए और 15 मिनट तक ऐसे ही करते रहे।  मैं भाभी की चुत चाट रहा था और भाभी मेरा लुंड चूस रही थी।

 

मैं किस करतेकरते लंड भाभी की चुत में घुसेड़ दिया।

अब मुझसे बरदाश्त नहीं हो रहा था, मैंने भाभी को बिस्तर पर लेटाया और अपना लंड भाभी की चुत पर टीका दिया और भाभी को किस करने लगा।  किस करतेकरते मैंने एकदम लौड़ा भाभी की चुत में घुसेड़ दिया। आधा ही लौड़ा घुसा था की भाभी इतनी जोर से चिल्लाई की मैं डर गया।

 

 भाभी दर्द के मारे तड़पने लगी और कहने लगीनिकालो..वरना मैं मर जाऊंगी।  इससे मुझे पता चल गया की अरमान का लौड़ा बहुत छोटा होगा.. तभी अपनी बीवी को वो मजा नहीं दे सका जो मैं दे रहा हूं।

जोरदार धक्का मारा और इस बार पूरा लंड भाभी के चुत में घुसा दिया

फिर मैं थोड़ी देर भाभी को किस करता रहा और फिर धक्का मारा।  इस बार पूरा लन्ड घुसा दिया।  भाभी फिर चिलाईआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्म्म अम्मममममममममम .. लेकिन मैं और अंदर डालता रहा।

 

 यहां तक ​​मेरा पूरा लौड़ा भाभी की चुत में पूरा जड़ तक समा गया।  फिर मैंने धक्का लगाना शुरू किया और 2, 3 मिनट तक भाभी की चुदाई करने के बाद भाभी को भी मजा आने लगा। अब भाभी भी मेरा खुल के साथ दे रही थी।

 

भाभी की चिकना, मुलायम और टाइट चुत मारने में जो मजा आ रहा था.. वो मैं बता नहीं सकता..  करीब 20, 25 मिनट तक हमने खूब जबर्दस्त चुदाई की और फिर मैं भाभी के अंदर ही झड़ गया।

 

भाभी 2 बार झड़ चुकी थी।  हम दोनों कुछ देर एक-दूसरे से लिपटे रहे। और किस करते रहे।  उस रात हम 4 बार चुदाई किए। और मैंने अलग-अलग आसनों में भाभी की चुदाई की।  फिर सूबह मैं अपने घर चल दिया।

सुखी चुत

वो दिन मेरी जिंदगी का सबसे अच्छा दिन था.. उसके बाद मैंने कई बार भाभी की चुदाई की। भाभी भी मुझसे चुदवा के बहुत खुश थी और फिर कुछ महिनो बाद अरमान भी आ गया और उसका ट्रांसफर दिल्ली हो गया।

 

तो दोस्तों आप सब को मेरी और सादिया भाभी की चुदाई की कहानी कैसी लगी। मुझें लिखें। ताकि आपका हौसला मुझें और ऐसी ही कहानियां लिखने को प्रेरित करे।

 

हमें उम्मीद है कि आपको हमारी कहानियाँ पसंद आयी होगी और हम आपको बेहतरीन सेक्स कहानियां प्रदान करना जारी रखेंगे ।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

तो आप सब अपना ख्याल रखिएगा। कोविड का सिचुएशन है तो अपना विशेष ख्याल रखिएगा। नमस्कार।

 

 

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *