सहेली के बेटे से ट्रेन के सफर में चूत की आग बुझाई

उसका लंड मेरी गर्म चूत में समा चुका था। लेकिन रोहन को दर्द हुआ। उसने कहा आंटी मेरे लंड में दर्द हो रहा है फिर मैं बिना हिले रुक गई। और झुककर उसके होंठो को किस करने लगी। ऐसे ही 2 मिनट रुकने के बाद मैं धीरे से उसके कान में बोली कि रोहन क्या अभी भी लंड में दर्द हो रहा है। उसने न में सिर हिलाया लेकिन मैं जानती थी थोड़ी दर्द उसे अभी भी है। फिर मैं धीरे धीरे कमर को हिलाने लगी। चूत गीली होने के कारण आराम से लंड अंदर बाहर हो रहा था। अब रोहन को भी मजा आने लगा और वह बोलने लगा चोदो मल्लिक्का….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह चोदो। आई लव यू मल्लिक्का आई लव यू…  बेबी बहुत मजा आ रहा है चोदो जोर जोर से मेरी जान मल्लिक्का…..I LOVE YOU MALLIKAAaaaaaa I love you. Oh yes baby fuck baby fuck. You are my queen Honey you are so hot. Fuckkkkk rani fuckkkkkk you are so sexy baby. You are so hooootttttt.  तुम्हारी चूत बहुत रसीली है जान चोदो जोर से।

हेलो दोस्तों मेरा नाम मल्लिका है मैं 46 साल की कसरती बदन की अधेड़ लेकिन जवान मल्लिका हूँ मेरी चुचियों की साइज 32B और गांड 36 की है, कमर बिल्कुल पतली है। मैं पढ़ी लिखी अमीर घर की हूँ। और मैं एक IAS ऑफिसर हूँ। बेसिकली मैं पुणे की रहने वाली हूँ।

मेरी शादी 16 साल पहले एक बिजनेसमैन से हुई थी। मेरा एक बेटा है निखिल जो कि 14 साल का है मेरे पति के कई होटल हैं। उनकी उम्र 57 साल है वो मुझसे 11 साल बड़े हैं।

दरअसल मेरी चूत हमेशा से प्यासी ही है। क्योंकि मेरी शादी मेरे IAS बनने के बाद हुई। जिस कारण मेरी पोस्टिंग देश के अलग अलग हिस्सों में होती रहती थी। मैं बहुत कम दिनों के लिए ही कभीकभार छुट्टियों में पुणे अपने हस्बैंड के पास जा पाती थी।

शादी के शुरुआती दिनों में तो हमारी सेक्स लाइफ थोड़ी अच्छी थी लेकिन साल 2 साल बाद ही मेरी चूत की आग बुझना बन्द हो गया। कारण ये की मेरे पति मुझसे उम्र में काफी बड़े थे। और वो शुगर के मरीज भी हो गए थे। ऊपर से बिजनेस के काम से रात को 10, 11 बजे थके हारे आते थे, और सो जाते थे। उनका कभी सेक्स करने का मन करता था तो सीधा मेरी नाइटी  ऊपर करके मेरी चूत में लंड डाल देते थे.

फिर 8, 10 झटकों में उनका पानी निकल जाता था, उनका लंड भी 4 इंच का छोटा सा है।  जिससे मैं उनसे बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं हो पा रही थी. मेरी चूत बहुत दिनों से प्यासी ही रह जा रही थी लेकिन वो कहते हैं कि प्यासा किसी किसी तरह कुएं के पास पहुंच ही जाता है.

वहीं मैं बिल्कुल जवान थी। मेरी तो अभी असली जवानी शुरू हुई थी क्योंकि। IAS की तैयारी करने के चक्कर मे 15-20 घंटे पढ़ाई करती थी। सारा ध्यान पढ़ाई पर लगा रहता था। और जब मेरी सिलेक्शन हो गई उसके बाद मैं निखर गई। और शुरू हुई मेरी धधकती जवानी।

अलग-अलग शहरों में पोस्टिंग होने के कारण मैं घर नहीं जा पाती थी। लेकिन साल 2 साल बाद मैं घर जाने से भी कतराने लगी क्योंकि वहां भी पतिदेव बिजेनस के चक्कर मे बाहर रहते और घर आते सो जाते। मेरी चूत की आग उबलते रह जाती। बस बेटे को देखने की इच्छा होती थी इसीलिए घर जाती थी। बेटा छोटा था और हस्बैंड के पास पुणे में ही रहता था।

अब मैं हमेशा चुदासी रहती थी। मेरी चूत की ज्वाला हमेशा भड़कते रहती थी। मैं उँगलियों के सहारे ही अपनी चूत की आग बुझाती थी।

धीरे धीरे समय बीतता गया और अब मैं 46 साल की हो गई। मेरी एक सहेली है दर्शना वो भी पुणे में ही रहती है। उसका एक बेटा है रोहन वो 12th पास करने के बाद IIT की तैयारी कर रहा था। तब मेरी पोस्टिंग हैदराबाद में थी। एक दिन मेरी सहेली का कॉल आया और बोली कि मल्लिका रोहन का हैदराबाद में IIT का एंट्रेंस एग्जाम पड़ा है। तब मैं पुणे में ही थी। और मैं भी ड्यूटी पर वापस जाने वाली थी। मेरी फ्लाइट की टिकट पहले से बुक थी। लेकिन उस डेट में और कोई टिकट खाली नहीं थी। तो मैंने कहा कि रोहन को ट्रेन से भेज दो मैं हैदराबाद में देख लुंगी। लेकिन उस दिन मेरी फ्लाइट मिस हो गई। और आनन फानन में फिर मैंने भी ट्रेन का वेटिंग टिकट लिया जो 2nd AC में था रोहन का बर्थ कन्फर्म था।

शाम 7 बजे की ट्रेन थी। हम स्टेशन पहुँचे। दर्शना और उसका हस्बैंड भी रोहन को छोड़ने स्टेशन आये थे। ट्रेन आई और हम सवार हो गए। रोहन का बर्थ ऊपर था। इसलिए हम नीचे वाले बर्थ पर बैठ गए जिसपर पहले से एक बुजुर्ग आदमी बैठा हुआ था, जिसका बर्थ था। करीब 9 बज गए हमने खाना खाया और फिर नीचे बर्थ वाले को सोना था तो मैंने रोहन से कहा कि तुम अपने बर्थ पर जाकर सो जाओ। और मैं यहीं बैठती हूँ। तो रोहन ने कहा कि नहीं आंटी आप मेरे बर्थ पर सो जाइए मैं यहाँ बैठ लेता हूँ। मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं होगी। तो रोहन ने कहा तो फिर चलिए हम दोनों ही ऊपर ही बैठ लेते हैं। वैसे भी मुझे नींद नहीं आ रही है। फिर हम दोनों ऊपर चले गए।

जर्नी में अक्सर मैं जीन्स टॉप या शर्ट पहनना पसंद करती हूँ तो उस दिन भी मैं जीन्स ही पहनी थी। और स्लीवलेस टॉप पहनी थी। जो हल्की ग्रे और पिंक कलर की थी। मेरी चुचियाँ बिल्कुल गोल शेप में है। वो बिल्कुल भी ढीले नही हुए हैं। इसलिए मेरे चुचियाँ ब्रा में और भी कड़क दिखती है। हम दोनों अपने अपने फ़ोन निकाल लिए और व्यस्त हो गए बीच बीच मे हम बात भी कर लिया करते थे। हम दोनों काफी खुश थे एक दूसरे को देखकर स्माइल भी कर ले रहे थे।

मैं देख रही थी कि रोहन चोर निगाहों से मेरे चुचियों पर नजर डाल रहा था। रोहन बहुत क्यूट और हैंडसम था गोरा से भरा हुआ चेहरा। मेरा भी मन उसकी तरफ आकर्षित हो रहा था। मैंने तो सोचा कि रोहन का एक्जाम दिलवाकर घर चलेंगे। और इसके साथ 1, 2 दिन हैदराबाद में घूमेंगे। क्योंकि हम बात करते करते काफी फ्रेंडली हो गए थे। फिर मुझे नींद आने लगी। मैंने कहा रोहन मुझे नींद आ रही है। तो उसने कहा आंटी आप सो जाइए मैं आपके पैर के तरफ बैठ जाता हूँ। मैंने कहा ठीक है। लेकिन मैं जीन्स पहनकर सो नही पाती थी इसलिए मैंने कहा कि मैं चेंज करके आती हूँ। और फिर मैं अपने बैग से पायजामा निकाली और टॉयलेट में चली गई। मैं चेंज करके आयी और ऊपर बर्थ पर चली गई। फिर मैंने कहा कि रोहन तुम्हे नींद आए तो मुझे जगा देना मैं बैठ जाऊंगी फिर तुम सो लेना। उसने कहा ठीक है। फिर मैं सो गई। अभी मुझे नींद नहीं आयी थी और मैं

देख रही थी रोहन कभी मेरे चुचियों पर नजर गड़ा कर ध्यान से देख रहा था तो कभी मेरी गोरी कमर को। सोने से टॉप ऊपर हो गया था जिससे कमर के खुला हिस्सा दिख रहा था। मेरी नाभि पर भी अक्सर रोहन की नजर जा रही थी। फिर थोड़ी देर बाद मैंने रोहन को कहा कि रोहन तुम सो जाओ कब तक बैठोगे मैं बैठ जाती हूँ। तो उसने कहा कोई बात नहीं आंटी आप सोइये मुझे दिक्कत नहीं है। फिर मैंने कहा तो फिर तुम भी सो जाओ। तुम उस तरफ सर कर लो और अपना पैर मेरी तरफ कर दो। वो झट से तैयार हो गया।

और फिर वह भी लेट गया। मुझे कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला। फिर मेरी नींद अचानक खुली और महसूस हुआ कि मेरी गांड में कोई शख्त चीज चुभ रहा है और हिल रहा है। फिर मैं वैसे ही पड़ी रही और मुझे समझ आ गया कि ये रोहन का बड़ा सा लंड है। फिर मैं ऐसे ही सोने का नाटक करने लगी। मेरी टॉप पूरा ऊपर हो गया था और पीछे से ब्रा की स्ट्रिप दिख रहा था मेरी ब्लू कलर की ब्रा में मेरा गोरा जिस्म कयामत लग रहा था। रोहन ऐसे ही मेरी गांड में पायजामे के ऊपर से ही लंड को रगड़ रहा था। और मेरी गोरी खूबसूरत पांव को चाट रहा था। वो घर से ही कैप्री (हाफ पैंट) पहनकर आया था। फिर उसने अपना लंड कैप्री से बाहर निकाल लिया और मेरे गांड पर रगड़ने लगा। मैं भी अब गरम हो रही थी और अनजान बनकर मजे ले रही थी। फिर रोहन ने मेरी पायजामे को नीचे करना चाहा लेकिन दबे होने के कारण नीचे नहीं हो रहा था। फिर मैं हल्का उठी और पेट के बल लेट गयी और थोड़ा कमर उठाए रखी फिर रोहन ने मेरे पायजामे को नीचे कर दिया। लाल रंग की रोशनी में लाल पैंटी में मेरा गोरा गांड बिल्कुल चमक रहा था। क्योंकि मैं एक स्ट्रिप वाली पैंटी पहनी हुई थी जो पीछे से सिर्फ एक पतली स्ट्रिप थी और वो मेरे गांड के दरार में धसी हुई थी। जो दिख भी नही रही थी। वह मेरी खूबसूरत चूतड़ों को सहला रहा था फिर मैं पहले जैसे ही हो गई अब रोहन अपने लंड को मेरे गांड के दरार में अपना लंड रगड़ने लगा। वह यह बिल्कुल धीरे धीरे कर रहा था। जो मुझे गांड के छेद पर फील हो रहा था। फिर वह अपना एक हाथ आगे किया और मेरी चूत को टटोलने लगा। मेरी चूत पर हल्की बाल थी क्योंकि मैं

5,6 दिन पहले ही बाल साफ की थी। जब मैं पुणे गई थी। फिर वह मेरे चूत के दाने को मसलने लगा और जोर जोर से पूरा चूत रगड़ने लगा। और पीछे से मेरी गांड के दरार में अपना लंड भी रगड़ रहा था। मेरी चूत बिल्कुल गीली हो चुकी थी। और थोड़ी देर बाद मेरी चूत ढेर सारा पानी छोड़ दी। जो बर्थ पर भी गिर गया था। फिर रोहन ने अपना कैप्री और अंडरवियर घुटनो तक सरका दिया और मेरी पैंटी के स्ट्रिप को खींचकर हटाया जिससे मेरा गांड का छेद अब खुला था। वो अब मेरे गांड के छेद में अपना लंड घुसाने की कोशिश

कर रहा था। वो पूरे जोश में आ चुका था और चोदना चाहता था। इधर मैं भी अब पूरी तरह आग में जलने लगी थी। फिर मैं समझ गई कि रोहन गांड में लंड डालना चाहता है लेकिन डाल नहीं पा रहा है फिर मैं धीरे से अपना हाथ पीछे की और उसके लंड को अपनी मुठी में पकड़ ली और हिलाने लगी रोहन समझ चुका था कि मैं जगी हूँ और मजे ले रही हूँ। फिर मैं उठी और रोहन के ऊपर आ गयी और उसे किस करने लगी। और अपने चूत को उसके लंड पर रगड़ने लगी। वह मेरे गांड को जोर से भिचने लगा। मैं बेतहाशा उसे किस कर रही थी। वो भी मुझे मस्त हो के साथ दे रहा था। मैं अपना जीभ उसके मुँह में पूरा डाल दी वो चूसने लगा। इस दौरान मैं लगातार अपना चूत उसके लंड पर रगड़ रही थी। करीब 10 मिनट तक ऐसे ही अपनी चूत उसके लंड पर रगड़ती रही। और फिर एक बार मेरी चूत पानी छोड़ने लगा। साथ ही रोहन के लंड से भी गर्म वीर्य निकलने लगा। रोहन नीचे से जोर जोर से अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने लगा और हमदोनो एक साथ झाड़ गए।

फिर मैं रोहन के ऊपर लेट गई। थोड़ी देर बाद मैं उसे आई लव यू  रोहन बोला उसने भी झट से आई लव योज टू आंटी बोला। मैंने कहा अब से मैं तुम्हारी आंटी नही बल्कि मल्लिका हूँ। तुम मुझे मल्लिका ही बुलाओगे। फिर मैं उसे किस करने लगी। 5,7 मिनट उसके होंठो और जुबान को चूसने के बाद मैं उसके गले कानो को चाटा वो भी ऐसे ही दोहरा रहा था। फिर मैं सीधा हुई और अपना टॉप उतार दी। और रोहन को किस करने लगा। रोहन मेरी ब्रा को कब खोल दिया मुझे पता भी नही चला फिर मैं ब्रा को पूरा निकाल दी और उसके मुंह मे अपने चुचियों को दे दी। वह चूसने लगा। मुझे अतिआनंद आ रहा था। मैं अब फिर से अपना चूत उसकी लंड पर रगड़ने लगी। उसका लंड भी फिर से कड़क हो गया। अब मैं नीचे आई और उसके कैप्री और अंडरवियर को पूरा निकाल दी। फिर मैं उसके लंड पर झुक गई और उसे मुँह में लेकर चूसने लगी। बहुत बड़ा लंड था उसका। मैंने जीवन मे इतना बड़ा और मोटा लंड नही देखा था। बस कल्पना ही कि थी। मैं जोर जोर से उसके लंड को मुँह में ले रही थी। उसका उंगलियां मेरे बालों को सहलाने लगे और अब रोहन भी नीचे से कमर हिला हिला कर मेरे मुँह को चोदने लगा। अब मैं पूरी गर्म हो चुकी थी फिर मैं आगे आई और रोहन के दोनों तरफ पैर करके उसके लंड को अपने चूत की छेद पर लगाया। और नीचे बैठ गई। उसका लंड मेरी गर्म चूत में समा चुका था। लेकिन रोहन को दर्द हुआ। उसने कहा आंटी मेरे लंड में दर्द हो रहा है फिर मैं बिना हिले रुक गई। और झुककर उसके होंठो को किस करने लगी। ऐसे ही 2 मिनट रुकने के बाद मैं धीरे से उसके कान में बोली कि रोहन क्या अभी भी लंड में दर्द हो रहा है। उसने न में सिर हिलाया लेकिन मैं जानती थी थोड़ी दर्द उसे अभी भी है। फिर मैं धीरे धीरे कमर को हिलाने लगी। चूत गीली होने के कारण आराम से लंड अंदर बाहर हो रहा था। अब रोहन को भी मजा आने लगा और वह बोलने लगा चोदो मल्लिक्का….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह चोदो। आई लव यू मल्लिक्का आई लव यू…  बेबी बहुत मजा आ रहा है चोदो जोर जोर से मेरी जान मल्लिक्का…..I LOVE YOU MALLIKAAaaaaaa I love you. Oh yes baby fuck baby fuck. You are my queen Honey you are so hot. Fuckkkkk rani fuckkkkkk you are so sexy baby. You are so hooootttttt.  तुम्हारी चूत बहुत रसीली है जान चोदो जोर से।

मुझे लगा कि अब मुझे नीचे हो जाना चाहिए और मैं रोहन को बोली कि तुम ऊपर आओ। और फिर मैं नीचे लेट गई। मेरी चूत के पानी से बर्थ पहले से ही गीला हो चुका था जो लेटने के बाद गीलापन मेरी गांड के नीचे महसूस हुआ। रोहन मेरी चूत में लंड डालने वाला था तभी मैंने कहा कि रोहन पहले मेरी चूत चाटो। और पैरों को मैं ऊपर करके घुटनो से मोड़ ली। रोहन अब मेरी चूत में जीभ फिराने लगा उसका जीभ मेरी चूत में अंदर चला गया मैने उसके सर को पकड़कर जोर से अपने चूत पर दबा दिया। रोहन लगातार मेरी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था। मेरी चूत की खुशबू से वह पागल हो गया था। करीब 5-7 मिनट के उसके चूत चाटने से मेरी चूत फव्वारा छोड़ दिया। और रोहन सारा पानी पी गया।

फिर वह धीरे धीरे ऊपर आया और मेरी नाभि को चाटने लगा उसकी गीली और कड़क जुबान मेरी नाभि में अलग एहसास दे रहे थे। वह लगातार मेरी नाभी में जीभ से चोद रहा था। फिर वह मेरी चुचियों पर टूट पड़ा वह पीने लगा मैं पागल हो गई। मेरी मुँह से आहहहहहहहहहहहहह रोहन को आवाज निकली और सिसकारियां अपने आप जोर पकड़ ली। वह किसी बच्चे की तरह मेरी चुचियों को पी रहा था। फिर वह उल्टा हो गया 69 की पोजिशन में। और अपना लंड मेरी मुँह में दी दिया क्या गजब का उसका लंड था। बिल्कुल मोटा और विशाल। ऐसा लंड मैं पहले कभी नही देखी थी। और फिर वह मेरी चूत को चाटने लगा। कभी मेरे चूत के दाने को होंठो से पकड़ कर ऊपर खींचता तो कभी जीभ से पूरा चूत को रगड़ता । मेरी चूत के छेद से दाने तक जबान से दबा के रगड़ रहा था। वह कुत्ते की तरह मेरी चूत से निकले पदार्थ को खा रहा था। और चाट रहा था। और अपनी उँगलियों को छेद में डालकर चोद रहा था। मैं भी उसके लंड को आइसक्रीम की तरह चाट रही थी। उसका लंड मेरे गले से भी नीचे तक घुस जा रहा था। बहुत बड़ा लंड था उसका। तभी मुझे लगा कि मेरी चूत फिर से पानी छोड़ने वाला है। और मेरी कमर जोर जोर से अपने आप हिलने लगी। रोहन का जीभ मेरे चूत में तेजी से अंदर बाहर हो रहा था। फिर मेरी चूत ने लसलसा गर्म पानी छोड़ दिया। चूत से पानी इतने जोर से प्रेशर से निकला कि रोहन के आँखों और नाक में भी घुस गया। फिर रोहन झट से अपना मुँह चूत पर लगा दिया और पानी पीने लगा। सारा पानी वह पी गया और फिर चाटकर मेरी चूत को साफ किया।

फिर रोहन उठ गया और मेरे ऊपर आ गया. मैंने भी अपने दोनों पैर साइड में करके उसका स्वागत किया. रोहन मुझे फिर से किस करने लगा और मेरे चुचियों (बूब्स) को दबाने लगा. रोहन का लंड मेरी चूत पर बार-बार टच होने लगा वह अपने लंड को मेरे चूत पर रगड़ने लगा।  जिससे मैं और ज्यादा गर्म होने लगी.

फिर रोहन ने अपना लंड पकड़ कर मेरी चूत पर रख दिया और धीरे धीरे अपना लंड मेरी चूत के छेद के अंदर घुसाने लगा. लंड घुसाते हुए वो मुझे किस भी करने लगा. जैसे जैसे लंड अंदर घुस रहा था मेरी आग बढ़ती जा रही थी।.

और अब मैं भी पूरे जोश से रोहन का साथ देने लगी। फिर रोहन अपना लंड  धीरे से मेरी चूत से बाहर निकाला और जोर से लंड को मेरी चूत में घुसा दिया.

मेरी चीख निकल गई। रोहन मुझे पूरा अपनी बाहों में जकड़ रखा था। और चोदने लगा। अब मुझे भी बहुत मजा आने लगा। मैं भी अब  नीचे से अपनी कमर हिलाने लगी जिससे लंड आसानी से चूत में अंदर बाहर हो रहा था। तभी नीचे वाला एक आदमी उठा और टॉयलेट के लिए जाने लगा। हम वैसे ही चुपचाप पड़े रहे। जब वो चला गया तो हम एक चादर अपने ऊपर डाल लिए। और चुदाई करने लगे। मैंने रोहन को ऐसे ही रुकने को बोला मगर वो धीरे धीरे चादर के अंदर ही मुझे चोदने लगा. मैं कुछ कहती तब तक उसने मेरे होंठों को अपने होंठों में लेकर मुझे किस करना शुरू कर दिया. फिर वह आदमी वापस आकर सो गया। और फिर रोहन ने चादर हटा दी और मुझे जोर जोर-जोर से चोदने लगा.

 

रोहन का लंड मेरी बच्चेदानी में ठोकर मारता हुआ महसूस होने लगा.

वो सिसकारते हुए बोलने लगा- आह्हहहहहहहहहहहहहहह…. मल्लिकक्काक…. … तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिली? आह्हहहहहहहहहहहहहहहहहह … तुम कितनी सेक्सी हो जान … तुम कुंवारी होती तो मैं तुमसे शादी कर लेता। आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह….बेबीहहहहहहहह….

मैं उसके लंड से चुदते हुए चुदाई का पूरा मजा ले रही थी और बस हम्मममममममममम .. हममममममममम्म … आहहहहहहहहहहहहहहहह… किए जा रही थी. मैं धीरे -धीरे बोल रही थी। चोदो रोहन चोदो। बहुत दिनों बात मैं ऐसा लंड खा रही हूं। तुम्हारा लंड घोड़े जैसा मोटा और तगड़ा है। मेरी चूत को तुम्हारा लंड फाड़ दिया। आह बेबी। चोदो जान चोदो जोर से। मैं ओह्हहहहहहहहह…. याहहहहहहहहहहहहहहहह…. जान चोदो मुझे। फ़क मी रोहन फ़क मी। हार्ड फ़क रोहन। और जोर से चोदो। पूरा लंड अंदर घुसाओं। मारो जोर से। रोहन का लंड मेरी बच्चेदानी पर जोर जोर से ठोकर मार रहा था। उसका प्रहार इतना जबरदस्त था कि मेरी चूत को हिला दे रहा था।

हमारी  चुदाई काफी देर तक चली इस दौरान मैं कई बार झड़ गयी । मुझे एक नही बल्कि कई बार चरमसुख की प्राप्ति हुई। वो भी दसों साल बाद। . जब मैं झड़ती थी तो रोहन को कस कर पकड़ लेती थी। पूरा जोर से उसे भींच लेती थी

फिर वो पल भी आ गया जब रोहन का स्पीड तेज़ हो गया और 15-20 जोरदार झटकों के बाद रोहन ने मेरी चूत में अपना गर्म गर्म माल छोड़ दिया और मेरी चूत पूरी अंदर तक उसके पानी से लबालब भर गया। ना ऐसी चुदाई मेरी चूत की कभी हुई थी। ना ही ऐसा मजा मुझे कभी जीवन मे मिला था।

फिर बहुत देर तक रोहन मेरे ऊपर ही पड़ा रहा. उसका लंड मेरी चूत में ही घुसा रहा. थोड़ी देर बाद जब रोहन मेरे ऊपर से हट कर साइड में हुआ तो उसके लंड का गाढ़ा पानी मेरी चूत से बहने लगा जिसको मैंने अपनी पैंटी से साफ कर दिया

उस रात रोहन ने सुबह तक मुझे 3 बार चोदा। हम दोनों अपने कपड़े पहन लिए। फिर ट्रेन हैदराबाद पहुँची। हम अपने घर आ गए। हम सफर और चुदाई की वजह से काफी थक चुके थे। हमने आते वक्त ही एक रेस्टोरेंट के बाहर टैक्सी रुकवाकर खाना पैक करवा लिया था। फिर हम नहाए फ्रेश हुए और खाना खाए।

लेकिन उससे पहले हम घर आते ही एक और राउंड चुदाई किए जो की चुदाई करते हुए बाथरूम में जाकर नहाए और नहाते हुए शॉवर के नीचे चुदाई किए जो मैं अगले भाग में बताऊंगी।

 

रात भर चुदाई और घर आने के बाद की चुदाई होने की वजह से मैं बहुत थक गयी थी। फिर जब मैं बेडरूम में जाकर अपनी चूत को शीशे में देखी हैरान रह गई। मेरी चूत बहुत सूजी हुई थी और चूत पूरा लाल हो रखा था। मेरी चूत में हल्की दर्द और जलन भी हो रही थी। मगर उस दर्द में अपना एक अलग मजा था।

उसके बाद रोहन का एक्जाम हुआ। हम 3, 4 दिन हैदराबाद घूमे। इस दौरान हम जम के चुदाई का मजा लिए। और अपने जीवन मे पहली बार गांड भी चोदवाया। कैसे मैं रोहन से अपनी गांड का उदघाटन करवाई ये जानने के लिए आप सब कमेंट करिए। तो मैं आपके रिक्वेस्ट पर। अपनी गांड चुदाई की हकीकत लेकर आऊंगी।

अब मैं अक्सर घूमने के बहाने रोहन को हैदराबाद बुलाती हूँ और उससे हफ्तों तक चुदवाती हूँ।

मैं जब पुणे जाती हूँ तो रोहन को कभी अपने घर बुलाकर तो कभी होटल जाकर अपनी चूत चुदवाती हूँ। वो कहते हैं ना शेर के मुँह में इंसानी खून का स्वाद लग जाए। तो वो कैसे भी करके शिकार कर ही लेता है।

तो मिलते हैं चुदाई की अगली कहानी में। तब तक के लिए दीजिए इजाजत।…

नोट-: इस कहानी में सभी नाम काल्पनिक हैं।

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *