डॉक्टर को चरम सुख की प्राप्ति

 64 

डॉक्टर सुमोना की चूत की धमाकेदार चुदाई और चर्मसुख की प्राप्ति

हेलो दोस्तों मेरा नाम राहुल भारद्वाज है, मैं झारखंड के राँची में रहता हूं। मेरा उम्र 24 साल है, और एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करता हूं। मेरे परिवार में हम 4 लोग हैं। मॉम डैड और मेरा बड़ा भाई नीरज। नीरज रेलवे में एक अधिकारी है। हमसब रांची में ही रहते हैं।

ये घटना आज से15 दिन पहले की है। हमसब उस दिन एक साथ रात का डिनर किए और अपने अपने कमरे में सोने चले गए। रात करीब 3 बजे नीरज के पेट में अचानक दर्द होने लगा। तो हमसब जल्दी जल्दी में यहां के एक टॉप हॉस्पिटल में उसे ले गए चुकी रात का समय था तो डॉक्टर की कमी थी, और पेट का इलाज करने वाले डॉक्टर दिन में 10 बजे आते थे। लेकिन इमरजेंसी के डॉक्टर ने चेकअप किया और दर्द का इंजेक्शन लगाकर कुछ दवा लेने को बोला, और कुछ टेस्ट भी लिखा लेकिन वह टेस्ट दिन में ही होना था। तो नीरज को एडमिट कर लिया गया। और डॉक्टर बोले की कल दिन में 10 बजे एक डॉक्टर आयेंगे आपका केस वही देखेंगे अभी के लिए मैं देख ले रहा हूं। नीरज को दर्द से आराम मिल गया था और वह सोने लगा था। फिर सुबह हुआ तो पापा को दिल्ली जाना था उनका शेड्यूल पहले से फिक्स था, तो वह घर जाने लगे तो मैं मॉम को बोला की आप भी जाइए पापा का सामान भी पैक कर दीजिएगा। और आना होगा तो उनके जाने के बाद आ जाइयेगा तो मॉम भी चली गई अब मैं हॉस्पिटल में अकेले बचा।

भाई के इलाज ने कैसे मुझे एक गर्म डॉक्टरनी की प्यासी चूत का अमृत पिला दिया

फिर नीरज का टेस्ट होने लगा, और फिर 10 बज गया। चुकी हमें बताया गया था की 10 बजे डॉक्टर आयेंगे तो मैं वहीं था करीब 10:30 बजे एक लेडी डॉक्टर आई जो करीब 35 साल की रही होगी। देखने में वह इतनी खूबसूरत थी की उसके सामने स्वर्ग की अप्सरा भी शर्मा जाए। सफेद दूधिया बदन, जो चमड़ी लाल था। जींस और शर्ट के ऊपर अप्रोन पहनी हुई क्या गजब की सुंदरी थी। अगर वह मिस यूनिवर्स का खिताब के लिए जाती तो इसके सामने कोई नही टिक पाता।

कमरे में आते ही वह नीरज से बोली आप नीरज हैं, तो वह हां बोला फिर वह उसकी रिपोर्ट देखने लगी मैं तो बस उन्हें ही देखे जा रहा था, मेरी नजर उनपर से हट ही नहीं रहा था। वह नीरज से पूछताछ करने में लगी थी और मैं उन्हें देखने में। फिर वह लास्ट में बोली हमें अंदेशा है की यह अपेंडिक्स का दर्द है, अब रिपोर्ट जब आयेगा तो पता चलेगा। फिर वह मेरी तरफ देखी तो मैं हड़बड़ा गया और उनपर से नजरें हटाने लगा तो वह मुस्कुरा दी और बोली, आप इनके कौन हैं तो मैं बोला यह मेरा बड़ा भाई है। तो वह मुझसे बोली की अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट 12 बजे तक आयेगा उसके बाद आप मुझसे मेरे केबिन में आ के मिल लेना। मैं बोला जी मैम। तो वह फिर से जहरीली मुस्कान के साथ बाहर चली गई।

[adinserter block=”6″]

अब मैं 12 बजे का इंतजार करने लगा, जैसे ही 12 बजा मैं डॉक्टर के केबिन में अन्दर गया। दोस्तों उनका नाम सुमोना था। डॉक्टर सुमोना। उनके नाम में ही जैसे खुशबू छुपी हुई थी और इतना प्यारा खूबसूरत नाम था तो वह इससे लाख गुना ज्यादा खूबसूरत थी।

सुमोना के दूध सी सफेद चुचियों को देखकर मेरा लंड सलामी देने लगा

जब मैं उनके केबिन में गया तो मैंने देखा मैडम चेयर पर बैठी हुई है, उस समय वह अपना अप्रोन उतार दी थी। और उनकी दूध सी सफेद चूचियां मानो शर्ट की बटन तोड़कर बाहर आने को बेताब हो रही थी। उन्होंने मुझे सामने वाले चेयर पर बैठने को बोला, मैं बैठ तो गया लेकिन मेरा निगाह बार बार उनके चुचियों पर ही जा रहे थे। उनकी गोरे गोरे उभार देखते ही मेरा लन्ड सलामी देने लगा था। जब उसने यह महसूस किया कि मैं उसकी चूचियां देख रहा हूँ तो उसने शर्ट को थोड़ा ऊपर करने की कोशिश की लेकिन शर्ट इतना टाइट था की वह टस से मस नहीं हुआ। तो मैं झेंपते हुए नजर दूसरी तरफ कर लिया। तो वह जहरीली मुस्कान के साथ मेरा स्वागत की।

फिर मैं बोला, मैम मेरे भाई के रिपोर्ट में क्या आया, तो वह बोली की मैं रिपोर्ट देख लिया हूं, दरअसल नीरज को अपेंडिक्स है और सर्जरी करना पड़ेगा। अगर आपलोग तैयार होंगे तो सर्जरी आज हो जाएगा। तो मैं बोला की मैं बात करके बताता हूं, तो वह बोली की आपलोग 2 बजे तक डिसाइड करके बता दीजिए। फिर मैं उनको नमस्ते करके बाहर आ गया। लेकिन मेरे दिमाग में उनकी गोल मटोल चूचियां ही घूम रही थी। फिर मैं मॉम को कॉल किया तो वह हॉस्पिटल ही आ रही थी। डैड दिल्ली के लिए निकल चुके थे। मॉम के आने के बाद हम तीनो आपस में डिसाइड किए की सर्जरी आज ही हो जाएगा तो ठीक है। फिर मैं डॉक्टर सुमोना के केबिन में गया तो देखा इस बार उनकी ऊपर के दो बटन खुले थे और इस बार उनकी लाल रंग की ब्रा भी थोड़ी दिख रही थी।

फिर मैं उनसे बोला की मैम सर्जरी आज ही कर दीजिए तो ठीक रहेगा, हम लोग तैयार हैं। फिर सर्जरी भी हो गया और 5 बजे तक सबकुछ ठीक हो गया। तो मैं मॉम को घर भेज दिया और खुद हॉस्पिटल में रुका। फिर डॉक्टर सुमोना एक नर्स से खबर भिजवाई और मुझे अपने केबिन में आने को बोली। मैं गया तो देखा वह मेरा ही इंतजार कर रही थी। फिर हम बातें करने लगे। अब सुमोना भी मुझमें इंट्रेस्ट ले रही थी। और हम एक दोस्त की तरह बात करने लगे थे। नीरज को 3 दिन बाद डिस्चार्ज होना था तो अब सुमोना से मेरी दोस्ती हो गई और वो जब भी आती मुझे अपने केबिन में बुलाती और हम बातें करने लगे।

मैं थोड़ी देर वहीं पर उसके केबिन में ही रुकता और उसके साथ और थोड़ी दोस्ती को आगे बढ़ाने लगता। फ़िर तो क्या था, वो जब भी अस्पताल आती तो मुझे अपने केबिन में बुलाती और हम दोनों साथ में गपशप करते थे। बातों बातों में उन्होंने मुझे मेरे गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा। तो मैंने उसे अपने बारे में सब कुछ बता दिया। यहां तक की वह चुदाई के बारे में भी पूछी तो मैं वो भी बता दिया कि मेरी गर्लफ़्रेन्ड को मैंने किस तरह चोदता था। और यह सब सुन कर वो बहुत गर्म हो रही थी पर फ़िर अचानक वो उदास जैसी हो गई। तो मैने उनसे उदासी के बारे में पूछा तो वह कुछ बताने से मना कर दी लेकिन मेरे जिद करने की वजह से वह सबकुछ बता दी।

सुमोना बोली मेरा पति मुझे चोदता तो है लेकिन नामर्द की तरह छोटे लंड से 4,5 धक्कों में फैल जाता है

उसने मुझे बताया कि उसका पति उसे चोदता तो है पर नामर्द की तरह करता है जिससे उसे पूरा सन्तोष नहीं मिल पाता है, उसका लंड भी छोटा है और वह कभी फोरप्ले भी नही करता है आजतक वह कभी न उसे किस किया ना ही उसकी चूत चाटा, और बस लंड डालकर 8, 10 धक्कों में ही फैल जाता है, और वह प्यासी ही रह जाती है। फ़िर क्या था, मेरे मन में उसे चोदने का जो कीड़ा था वो उछलने लगा, मैं समझ गया की वह मेरी कोई हरकत पर गुस्सा नही करेगी और मैं अपने कुर्सी पर से उठा और सुमोना के पास जाकर एक टाइट हग किया, और फ़िर एक स्माइल के साथ कहा- अगर आप चाहो तो मैं आपकी मदद कर सकता हूँ। तो उसने भी बिना कोई संकोच के मुझे एक मस्त लिप-किस दी और कहा- बिलकुल कर सकते हो, लेकिन आज नहीं, अभी मेरा पीरियड चल रहा है। 2 दिन रुको फिर हम मस्ती करेंगे। फिर वह मुझसे पूछी की क्या तुम मेरे घर आ सकते हो तो मैं बोला आप जहां कहें मैं चला आऊंगा। फिर उसने मेरा नम्बर लिया और कहा- मैं तुम्हें घर पर बुलाऊँगी जब मेरे पति घर पर नहीं होंगे।

दो दिन बाद नीरज को अस्पताल से छुट्टी मिल गई और हम घर आ गये, और एक दिन बाद सुमोना का कॉल आया। और उसने मुझे अगले दिन दोपहर को अपने घर आने को कहा, दूसरे दिन मैं उसके घर पहुँच गया, वह पिंक कलर का टी-शर्ट और पजामा पहनी हुई थी, उसमें वो और भी हॉट दीख रही थी, वो मुझे अपने बेडरूम में ले गई और वहाँ मुझे पकड़ कर सीधा मेरे ऊपर चढ़ गई, मेरे होंठो को चूमने लगी, उसकी हरकतों ने मुझे साफ बता दिया था की वह बहुत दिनों से लण्ड की भूखी थी। फ़िर क्या था, मैं भी उसके साथ चिपट गया और उसके एक एक कर सारे कपड़े निकाल दिए। और उसके शरीर पर चुम्बन करने लगा, और जीभ से चाट भी रहा था।

वो बहुत गर्म होने लगी थी, मैं उसके चुचियों को चूस रहा था, और उसके मुँह से ‘आह आह्ह’सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई की मादक आवाजें आ रही थी। फ़िर मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो पता चला कि वो तो पहले से ही काफी गीली हो चुकी थी। मैंने मेरी दो उंगलियाँ उसकी चूत में घुसा दी और वो चीख पड़ी- आह्ह्ह्ह प्लीज धीरे धीरे घुसाओ, तुम्हारे दो उंगलियां भी मेरे हसबैंड के लंड से मोटा है। फ़िर तो मैंने उसकी चूत को चाटने भी लगा और चूत के दाने को खूब जोर जोर से रगड़ रहा था। उसे बहुत मजा आने लगा और वह जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई करने लगी।

मैने अपना 8 इंच का लंड सीधे उसके चूत में उतार दिया तो वह दर्द से चीख पड़ी

वो अब बहुत गर्म हो गई थी तो मैंने अपने कपड़े निकाले और मेरा 8 इन्च का लम्बा हथियार उसके हाथ में दे दिया, वो तो यह देख कर ही दंग रह गई कि इतना बड़ा लंड? और फ़िर उसने मेरे लण्ड को मुँह में लिया और चूसने लगी। और थोड़ी देर बाद मैं भी बहुत गर्म हो गया तो मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और लन्ड का सुपारा उसकी चूत पर रख दिया, और जैसे ही मैं लण्ड को उसकी चूत में डालने लगा, उसने मेरे लण्ड को पकड़ लिया, बोली- मेरे राजा, आपके इस राजकुमार को मेरे चूत में जरा धीरे से घुसाना क्योंकि मेरी चूत को इतने बड़े लन्ड का अनुभव नहीं है, पहली बार इतना बड़ा हथियार का मार झेलने जा रहा है।

तो मैंने भी कहा- ठीक है जी!

और मैं धीरे से मेरा लण्ड चूत में घुसाने लगा, एक जोरदार जटका मारा और आधा लन्ड चूत में घुस गया और वो चीख पड़ी- आह ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओह्ह्ह प्लीज मेरे राजा धीरे धीरे करो, मार डालोगे क्या मुझे। फिर मैंने मेरे होंठ उसके होंठों पर रख दिये और चूसने लगा, जब मुझे लगा कि अब वो ठीक है तो मैंने एक और जोरदार प्रहार कर दिया और पूरा लन्ड चूत के अन्दर घुस गया और वो फ़िर से ‘आह्ह ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…. करने लगी लेकिन इस बार मैं नहीं रुका, बस चूत में चोदने लगा, बीच बीच में उसके गोरे गोरे कड़क चुचियों को चूस लिया करता था, और मसल देता था। जिससे मेरा लण्ड और भी मस्त हो जाता था और चोदने में और भी मजा आ रहा था। अब उसे भी मजा आने लगा तो वह चिल्लाना शुरू कर दी सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. चोदो राहुल चोदो मेरी चूत, जोर जोर से मेरी चूत को चोदो, अब और नही बर्दाश्त हो रहा, मारो जोर जोर से, ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई मेरे असली हीरो, तुम्ही मेरे असली हमसफर हो आज से, चोदो मुझे

फक मि डार्लिंग फक मि आहहहहहहहहहहहहहहहहह, हार्ड फक बेबी हार्ड फक, बेब फक हार्ड सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…..फक मि डार्लिंग फक मि। आहहहहहहहहहहहहहहहहह, हाफ हार्ड बेब फक हार्ड आहहहहहहहहह.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। चोदो हहहहहहहहहहहह…….. जोर से आहहहहहहहहहहहहहहह……

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह….

इस दौरान सुमोना का चूत 3 बार पानी छोड़ चुका था, लेकिन वह भी अभी मोर्चा नही छोड़ी थी और कमर उठा उठा के चुदवाए जा रही थी।

डॉक्टर सुमोना चीख रही थी चोदो मेरी चूत फाड़ दो मेरी चूत मेरे राजा

थोड़ी देर और उसकी चूत को पेलने के बाद मैंने सुमोना को कुतिया की तरह झुकने को कहा और फ़िर मैंने लण्ड उसकी गान्ड के छेद पर रख दिया, तभी वो जोर से चीखी- नहीं, मेरी गान्ड मत मारना, मैंने पहले कभी नहीं गांड मरवाई, प्लीज मैं मर जाऊंगी। मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं धीरे धीरे ही डालूँगा।

मैंने थोड़ा थूक उसकी गान्ड पे लगाया और लंड का सुपाड़ा उसकी गांड के छेद पर रख कर धीरे से घुसाने लगा लेकिन उसकी गान्ड बहुत टाइट थी तो लन्ड को जाने में तकलीफ़ हो रही थी लेकिन मैंने हिम्मत नहीं हारी और एक जोर का धक्का मारा और अपना लंड उसकी गान्ड में घुसा दिया, और इसके साथ ही सुमोना जोर से चीख पड़ी- उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. इरर्राहहहहहहहहह.. आह्ह्ह्ह्ह्ह, मैं थोड़ी देर वैसे ही उसके ऊपर लेटा रहा और जब मुझे लगा कि उसका दर्द कम हुआ है तो मैंने एक और झटका दिया और पूरा लण्ड उसकी कसी हुई गान्ड को फ़ाड़ कर अन्दर घुस गया, थोड़ी देर में मैंने देखा तो अब वो भी चुदने का मजा ले रही है तो मैं भी और जोर जोर से डॉक्टरनी की गान्ड मारने लगा, वो भी अब तो जोर जोर से बोल रही थी- चोदो मेरे राजा! और जोर से चोदो और मेरी गान्ड को फ़ाड़ दो.

ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई मेरे असली हीरो, तुम्ही मेरे असली हमसफर हो आज से, चोदो मुझे

फक मि डार्लिंग फक मि आहहहहहहहहहहहहहहहहह, हार्ड फक बेबी हार्ड फक, बेब फक हार्ड सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. करीब 10 मिनट बाद वह अपना चूत रगड़ने लगी और एक बार फिर उसका चूत कामरस छोड़ दिया।

और फ़िर मैंने लन्ड उसकी गांड से झटके में खिचा और उसकी चूत में घुसा दिया और सटासट पेलने लगा, थोड़ी देर बाद मुझे महसूस हुआ कि चूत फिर से पानी छोड़ रही है, तो उसने मुझे कस के पकड़ लिया, और पानी छोड़ दिया लेकिन अभी मेरा लन्ड थका नहीं था और मैं उसके चूतड़ों पर थप्पड़ मार मार कर उसे चुदाई का मजा दे रहा था, अब मेरा लन्ड भी वीर्य छोड़ने वाला था तो मैंने पूछा- मेरी डॉक्टरनी रानी मेरा लंड पानी छोड़ने वाला है बताओ कहां छोड़ूं, तो सुमोना ने झट से बोली, मेरे राजा मेरी चूत बहुत दिनो से लंड रस के लिए तड़प गई है बिना देर किए मेरे सुखी चूत को अपने लंड का अमृत पिला दो।

फ़िर तो क्या था, मैंने उसे कस के पकड़ लिया और जोर जोर से चोदने लगा और थोड़ी देर में मैंने सारा माल उसकी चूत में डाल दिया।

[adinserter name=”Video ad Banner”]

जब तक मेरा लण्ड अपने आप चूत में से बाहर न आया तब तक मैं उसके ऊपर ही लेटा रहा।

फ़िर उसने मेरे लण्ड को चूस कर साफ़ किया और हम दोनों बेड पर एक दूसरे की बाहों में सो गये। उस दिन मैंने उसे 3 बार बहुत मस्ती से चोदा। फ़िर जब मैं शाम को घर आने लगा तो वह बोली की रात यही रुक जाओ, कल चले जाना, फिर मैं घर कॉल करके बोल दिया की मैं आज रात दोस्त के यहां रुकूंगा। और फिर रात में हम 4 बार चुदाई किए। और पूरी रात नंगे रहे, हम एक दूसरे के बांहों में नंगे ही सो गए, और अगले दिन 9 बजे उठे और एक बार फिर चुदाई किए और फिर हम साथ में नहाए और नहाते हुए एक बार चुदाई किए। और जब मैं घर वापस जाने लगा तो वह बोली मैं भी हॉस्पिटल जाऊंगी तो मैं अपने गाड़ी में तुम्हे छोड़ते हुए चली जाऊंगी। और फिर वह मुझे पॉकेट खर्च के लिए 20 हजार रुपए दी और एक 1 लाख की घड़ी, और एक आईफोन गिफ्ट में दी, और बोली तुम्हे जब भी किसी चीज की जरूरत पड़े बेझिझक मुझसे कहना। लेकिन बदले में मेरी चूत की आग शांत करते रहना।

ऐसी कयामत भरी चुदास कहानी पढ़ने के लिए https://nightqueenstories.com पर बने रहना। हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “आर्मी ऑफिसर की चूत की हवस

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories

इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

Meet Women Online!!

धन्यवाद।

 

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *