लन्ड की भूखी अमीर औरत गाड़ी में बिठा के घर ले गई

नाईट शिफ्ट से लौटते समय मैं टैक्सी या लिफ्ट का इंतजार कर रहा था। तभी एक मर्सिडीज गाड़ी मेरे पास आकर रुकी उसमें एक अमीर महिला थी. वह महिला लन्ड की भूखी थी, और अपनी चुत की प्यास बुझाने के लिए,  मुझे जिगोलो समझकर गाड़ी में बिठाकर अपने घर ले गई। और जम के चुत चुदवाई।

नमस्कार मित्रो, मेरा नाम वरुण है. मेरी उम्र 25 साल है. मैं लखनऊ का रहने वाला हूं. लेकिन अब मैं नोएडा में रहकर एक प्राइवेट फर्म में जॉब करता हूँ। मेरी जॉब अभी नई है इसलिए मैं गाड़ी नहीं लिया हूँ।

 

दोस्तों मेरा हाइट 5 फिट 10 इंच है, मैं नार्मल बॉडी का इंसान हूँ। सांवला रंग है। मैं जिम नही जाता क्योंकि मुझे पसंद नही है लेकिन मैं घर मे नियमित 1 घण्टा एक्सरसाइज और योगा करता हूँ। इसलिए मैं बिल्कुक फिट हूँ।

 

मेरा ड्यूटी शिफ्ट में चलता है। और घटना तब घटी जब मेरा नाईट शिफ्ट चल रहा था। नाईट शिफ्ट से लौटते समय मुझे एक अमीर घर की महिला मिली. वो मुझे जिगोलो समझकर अपनी गाड़ी में बिठाकर घर ले गई।  फिर पूरी रात हम दोनों ने खूब जम के चुदाई किए। मैं भी पहली बार इतनी अमीर घर की खूबसूरत लेडी को चोद के धन्य हो गया।

 

अमीर औरत मुझसे अपनी चुत की प्यास बुझाई

 

तो दोस्तों यह घटना अभी कुछ ही दिन पहले की है.

 

मैं एक रात मैं अपनी ड्यूटी ऑफ होने के बाद घर के लिए निकला। उस समय रात के 1 बज रहे  थे। रास्ते पर दूर दूर तक कोई टैक्सी नहीं नजर रही थी। तो मैं पैदल ही अपने घर की तरफ चल पड़ा। चूंकि मेरा घर ज्यादा दूर नहीं था फिर भी ऑफिस से करीब 4 km पड़ता था।

 

थोड़े आगे जाने पर देखा रोड के किनारे साइड में दो-तीन VIP कारें गाड़ियां लगी हुई थीं. मैंने सोचा कि एकाध गाड़ी को पूछकर देखता हूँ, अगर उनको भी मेरे घर की तरफ ही जाना हुआ तो लिफ्ट ले लूंगा।

मैंने पहली BMW गाड़ी के पास जाकर खिड़की के कांच पर खटखटाया, तो अन्दर बैठे आदमी ने कांच थोड़ा नीचे किया। मैंने पूछा तो वो ना बोला। और तुरन्त कांच ऊपर चढ़ा लिया। फिर मैं ऐसे चलने लगा और पीछे मुड़कर देख भी रहा था कि कोई गाड़ी आए तो लिफ्ट ले लेंगे। तभी एक मर्सिडीज गाड़ी आ के मेरे पास रुकी। और दरवाजा खोल दिया मैने देखा अन्दर एक बहुत खूबसूरत अमीर महिला बैठी हुई थी,  और मुझे अन्दर बैठने के लिए कह दिया।

Sexy Kahaniya

मैं पहले से ही काफी थका हुआ था, तो बिना कोई सवाल पूछे मैं सीधा गाड़ी में बैठ गया और दरवाजा लगा दिया. जैसे ही मैंने दरवाजा लगाया उस लेडी ने गाड़ी तेजी से दौड़ा दी। लेकिन ये क्या आगे चलकर वो दूसरी तरफ मुड़ गई।  मैं कुछ बोलना चाहा लेकिन उसने मुझे चुप बैठे रहने का इशारा की और मैं भी कुछ नही बोला। मैंने भी सोचा जो होगा देखा जाएगा। वह अमीर महिला गाड़ी फुल स्पीड से चला रही थी और मैं पीछे की खिड़की से अपना सर लगाकर आराम करने लगा।

 

मुझे पता ही नहीं चला की कब मेरी आंख लग गई। अचानक झटके से गाड़ी रुकने की आवाज से मेरी नींद खुली, तो मैंने देखा गाड़ी किसी बंगले के बाहर खड़ी हुई थी। जो बहुत बड़ा संगमरमर का था और चमक रहा था। और तभी चौकीदार गेट खोला। (यह कहानी आप nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं।)

 

तभी उस महिला ने पीछे मेरी तरफ देखकर बोली उठो हम घर पहुँच गए हैं। आज मैं तुम्हे पूरी तह निचोड़ लुंगी।

 

मुझे पहले तो समझ ही नहीं आया कि ये महिला यह सब क्या कह रही है और मुझे कहाँ ले आई है। तभी मेरे दिमाग के घोड़े दौड़े और याद आया, की जिस रास्ते से मैंने लिफ्ट मांगी थी, वो रास्ता तो काले कारनामों के लिए प्रसिद्ध है। अब मुझे थोड़ा समझ आने लगा था। की यह महिला गलती से सेक्स के लिए मुझे जिगोलो समझकर आज रात के लिए अपने घर ले आयी है। मैं तो घबरा गया और सोचने लगा, यह मैं कहां आकर फंस गया आज।

 

लेकिन फिर मैंने उस सेक्सी अमीर महिला को अच्छे से देखा, उसकी उम्र लगभग तीस साल के आसपास की होगी। उसका रंग एकदम दूध की तरह गोरा था। वह स्वर्ग की अप्सराओं की तरह खूबसूरत थी। फिर मैं भी खुद को संभाला और कहा कि चलो इसी बहाने अमीर और इतनी खूबसूरत महिला का भोग करने का अवसर तो प्राप्त हो रहा है।

Sex Stories

उसने अपनी गाड़ी पार्क करने के लिए गार्ड को चाभी दी और मुझे पीछे आने को बोली।  घर अन्दर से और भी ज्यादा आलीशान था। ऐसा घर मैने जीवन में पहले कभी नहीं देखा था। मैं तो देखते ही भौंचक्का रह गया।

 

फिर उस महिला ने मुझे अपने पीछे आने का इशारा किया और खुद आगे को चलने लगी। वो सीधा अपने कमरे में जाकर रुकी। उसका कमरा काफी बड़ा था। और कमरे के ठीक बीचों-बीच एक राउंड डबलबेड था और चारों तरफ सब कुछ अच्छे से सजाकर रखा हुआ था। बहुत महंगी सजावटों से कमरा सजा हुआ था।

 

वो मुझे बिस्तर पर बैठने को बोलयी और खुद नहाने चली गई।

 

थोड़ी देर बाद वो नहाकर कमरे में लौट आई. वो बाथरूम से निकलने के बाद अब तो और भी कयामत ढा रही थी। वह अप्सरा लग रही थी

 

उस महिला ने एक गुलाबी रंग की नाइटी पहनी हुई थी, जो बस नाममात्र के लिए उसके शरीर को ढके हुए थी. उस नाइटी से आर-पार सब दिखाई दे रहा था. अन्दर उसने ना तो ब्रा पहनी हुई थी और ना ही पैंटी। उसके चिकनी चुत और चुचियाँ साफ दिख रहे थे। (यह कहानी आप nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं।)

 

फिर उसने आकर मेरा हाथ पकड़ा और किस करने लगी और मेरे कानों में फुसफुसाकर बोली जानेमन मैं आज तुम्हे पूरा निगल लुंगी। मुझे मजा चाहिए। तो आज तुम मुझे पूरा निचोड़ के पी लो। आज की रात मुझे असली चुदाई का आनन्द दो।

 

अब उसने मेरा हाथ पकड़कर अपनी कमर पर रख दी। और  फिर खुद के हाथों के घेरे बनाकर मेरे गले में डालकर उसने अपना सारा बोझ मुझ पर डाल दिया।

मैंने भी उसे अपनी गोद मे उठाया और उसकी होंठो का रसपान करने लगा। वो तो भूखी शेरनी की तरह मेरे होंठो को चबा रही थी। फिर मैं उसे बेड पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया। उसके ऊपर चढ़ते ही उसकी कड़क और बड़ी बड़ी चुचियां मेरी छाती में धसने लगी तो मैंने अपना एक हाथ उसकी चूचियों पर ले जाकर उन्हें मसलना शुरू कर दिया।

 

उसने भी मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर चूसना शुरू कर दिया। वो बहुत अच्छे से मेरे होंठो को चूस रही थी। अब हम किस करते हुए एक दूसरे के बदन को अच्छे से सहला भी रहे थे। तभी उसने मुझे नीचे की ओर धकेल दी।

 

नीचे जाकर मैंने उसकी नाइटी को ऊपर उठाया और उसकी मोटी मोटी बिल्कुल दूध सी सफेद जांघों को चूमने लगा उसकी जांघो पर अपनी गीली जुबान फिराने लगा। । जैसे ही मैंने उसकी संगमरमर जैसी मुलायम जांघों को चूमना शुरू किया, उसने मेरे सर को पकड़कर अपनी चूत पर लें आयी और जोर से अपनी चुत पर मेरे सर को दबाना शुरू कर दिया।

Erotic Stories 

मैंने भी कहाँ पीछे रहने वाला था। मैंने पहले अपनी जीभ को उसकी चूत के ऊपर से नीचे तक फिराया। , जिससे उसकी एक कामुक आह निकल गई. फिर मैं चूत में जीभ को अन्दर बाहर करने लगा। वह मदमस्त हो चुकी थी और आहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहह करने लगी।

 

धीरे धीरे करके मैंने अपने हाथ उसके चूतड़ों पर ले गया और अपनी हथेलियों में भरकर जोर से मसलना शुरू कर दिया।

 

उसके मुँह से अब तेज सिसकारियां निकलने लगी। ऐसी कामुक आवाजें निकलना शुरू हो गई जैसे वह कराह रही हो। पूरे पैर फैला कर वह अपने पैरों से मेरे सर को पकड़ ली और चुत पर दबाने लगी। मैं भी किसी कुत्ते की तरह उसकी चूत को चाटने में लगा गया। मुझे बेहद मजा आ रहा था।

 

ऐसे ही कुछ देर उसकी चूत चूसने के बाद मैं अपनी एक उंगली को उसकी गांड के छेद में घुसाने लगा। उसकी गांड का छेद खुला हुआ ही था, तो उंगली घुसाने में मुझे कोई खास तकलीफ नहीं हुई। शायद वह गांड मरवाने की बहुत शौकीन थी।

 

अब मैं उसकी चूत चूसने के साथ साथ ही अपनी उंगली उसकी गांड में अन्दर बाहर भी कर रहा था। उसकी मुँह से कामुक आवाजें सुनकर मेरा जोश और भी बढ़ता जा रहा था। मैं बहुत जोश में आ चुका था।

 

फिर मैंने उसको हल्का उठाया और उसकी नाइटी को निकालकर साइड में रख दिया। और फिर अपने भी सारे कपड़े निकालकर खुद ही नंगा हो गया।

 

मुझे नंगा देखते ही उसने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे लंड को अपने हाथों में थाम कर हिलाना शुरू कर दी।

 

अब वो मेरे लंड को हाथों से सहलाते हुए जोर जोर से आगे-पीछे करके हिलाने लगी थी। फिर धीरे से उसने लंड के सुपाड़ा वाली चमड़ी को पीछे हटाकर सुपाड़ा पर किस कर लिया। मैं तो उसके मुलायम होठ का स्पर्श अपने लंड पर पाकर सिहर उठा। मेरे लंड के सुपडे पर उसकी जीभ ने मेरे शरीर मे सनसनी फैला दिया था।

 

वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी।  कभी वो मेरा पूरा लन्ड मुँह में भर लेती, तो उसकी सांस अटकने लग जाती। तब भी वो गले तक घुसा रही थी। कभी सिर्फ सुपाड़ा अपने मुँह में भरकर चूसती, तो कभी मेरे लटकते गोटियों को अपनी हथेली से सहलाते हुए जीभ से चाट देती। वह चुदाई की बहुत माहिर खिलाड़ी थी।

 

आज से पहले मुझे अपना लंड चुसवाने में इतना मजा कभी नहीं आया था। मैं मस्ती से लंड को चुसवा कर जन्नत का लुत्फ उठा रही थी।

 

कुछ देर के बाद मैं उसके कमर के नीचे एक तकिया रखकर उसके ऊपर चढ़ गया, और मैंने अपने लंड को हाथ में पकड़कर उसकी चूत की फांकों में रगड़ने लगा और कई बार जोर जोर से उसके चुत पर अपना लन्ड पटका। वो सिहर उठी और ohhhhhhhhbbhhoohhhhjh aaaaaahhhhhhhhhh करने लगी। अब वो बहुत गर्म हो चुकी थी और चुदने के लिए कमर उचकाने लगी।  तभी मैं अपना लंड उसकी चुत के छेद पे सेट किया और एक जोर के झटके के साथ मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत की गहराई में बच्चेदानी तक उतार दिया।

लंड अंदर घुसते ही उसकी मुँह से सिसकारी निकल गई और वो मुझे गाली देने लगी- उम्म्हहठहठहठहठहम्ममम्मममम्म… अहहहहहहहहहहहहहदछहह… हयहाय्य्य्यहठहठहठहहैय्य्य्य्य्य्य… याहहहहहहहहहहहहह… मादरचोड़ड़ड़ड़ड़… ओहहहहहहहहहहहहहहहह … फाड़ दिया मेरी चुत साले मार ही दिया …मुझहहीईई  आहहहहहहहहहहहहहहहह … चोद भोसड़ी के … आंहहहहहहहहहहहहहहहह … चोद अन्दर तक। और फाड़ मेरी चुत साले। कमीने चोद मेरी भोंसड़ा को।

 

मैं भी उसकी चुत की मस्त चुदाई शुरू कर दिया। मैं जोर जोर के धक्कों के साथ उसकी चूत में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा था। हर धक्के के साथ उसके चुचियाँ फुटबॉल की तरह उछल जाते। अब मैंने अपना एक हाथ उसके चुचियों पर रखकर मसलने लगा।

 

वो भी बड़ी तेजी से गांड उठा उठा कर लंड चूत में ले रही थी।  कुछ देर बाद उसने अपनी टांगें पूरी हवा में उठा दीं और मैंने भी उसकी चूत की जड़ तक लंड की ठोकर देना शुरू कर दिया। मेरा लंड उसकी बच्चेदानी तक पहुचकर ठोकर मार रहा था। अब वो और जोश में आ चुकी थी

 

और अचानक एक झटके में उसने उसने मुझे पलट दिया और मेरे ऊपर आकर मुझे चोदने लगी। और मेरे उपर झुककर वो मुझे अपने चुचियाँ पीने के लिए कह रही थी मैंने भी उसकी चूत में लंड की ठोकर देते हुए बारी बारी से उसकी दोनों चूचियों को खूब जोर जोर से पीने और चूसने लगा।

 

फिर वो तेजी से चोदने लगी और फिर झड़ गई और मेरे सीने पर ही ढेर हो गई। लेकिन मैं नीचे से कमर उठा उठाकर चोद रहा था तो वो मुझे रुकने को बोली।

 

मेरे लंड की गर्मी अभी शांत नहीं हुई थी और उबाल मार रही थी। मैने उससे कहा कि मुझे और चोदने दो। मेरा अभी नही हुआ है उसने कहा कि 2 मिनट रुको मैं बहुत थक गई हूं।  फिर मेरे ऊपर आकर चोद लेना। और अपनी लंड की गर्मी निकाल लेना।

 

2 मिनट बाद वो मेरे बगल में लेट गई और मैं बिना देर किए उसके ऊपर आकर चुदाई फिर से चालू कर दीया।  और करीब 8, 10 मिनट बाद मैं झड़ने को हुआ। तो मैंने उससे पूछा कि मैं झड़ने वाला हूँ। कहाँ निकालू अपने लंड का रस तो वो बोली मैं पीना चाहती हूं। तो मैंने लंड चूत से निकाल कर उसके मुँह में लगा दिया. और उसके मुँह को चोदने लगा। और वीर्य छोड़ने लगा। उसने मेरे अण्डों को सहलाते हुए मेरे लंड का रस चूस ली। और लंड को अपने जीभ से चाटकर साफ की।

 

अब हमदोनो शांत होकर एक दूसरे के बाहों में लेट गए।

 

कुछ देर बाद वो उठी और दो गिलास में रेडवाईन ले आयी।  हम दोनों ने दो दो पैग लिए और साथ मे सिगरेट का कस के मजा लिए।

 

कुछ देर बाद हम फिर गर्म हो गए और दुबारा  चुदाई का खेल शुरू हो गया।

 

उस रात मैंने उस सेक्सी महिला को तीन बार चोदा और एक बार गांड मारा। वो गांड मरवाने का बहुत शौकीन थी बहुत मजे से गांड मरवाई। वो हर बार बार मेरा वीर्य पी गई। और उसने मुझे बताया कि वीर्य पिने से ही मेरी स्किन इतनी दमक रही है और जवानी मुझमें कूट कूट कर भरी है।. उसे वीर्य पीना बहुत पसंद था। (यह कहानी आप nightqueenstories.com पर पढ़ रहे हैं।)

 

हर बार अलग अलग पोजिशन में चुदाई का खेल चला। यहां तक कि हम रात में ही बाथरूम में भी बाथटब में चुदाई किए।

 

रात भर की चुदाई के बाद जब वो पूरी तरह संतुष्ट हो गई थी। उसने मुझे बताया कि अपने जीवनकाल में ऐसी चुदाई का आनंद वो कभी नही ली थी।

 

तब तक सुबह हो गई थी। फिर हम दोनों एक साथ नहाए अच्छे से एक-दूसरे को साफ किया। और एक और राउंड की चुदाई शॉवर के नीचे की।

 

फिर जब मैं निकलने को हुआ, तो उसने मेरे गालों पर एक जोरदार चुम्बन दे दी। और एक लिफाफा लेकर आई और मेरे हाथों में रख दी और बोली ये तुम्हारी मेहनताना है। तुम्हारे उम्मीद से ज्यादा रुपए हैं इसमें।

 

और  बोली की अगर फिर से तुम्हारी जरूरत पड़ेगी, तो मैं तुम्हें कॉल कर लूंगी। तुम मेरे सेवा में हाजिर हो जाना।

 

लेकिन मैंने वो रुपए नही लिए और उसे सच्चाई बताया तो वो दंग रह गई। और बोली कि मैं रातभर तुम्हे जिगोलो ही समझते रही। इसके बाद हमने एक दूसरे को फोन नंबर दिए और उसे अपने बाहों में लेकर किस किया। और फिर मैं अपने घर के लिए निकलने लगा तो बोली थोड़ी देर रुको मैं तैयार होकर आती हूँ मैं खुद तुम्हे छोड़ने चल रही हूँ।

 

तो दोस्तों आपको यह अजनबी से लन्ड की भूखी अमीर औरत की चुदाई कैसी लगी। मुझे कमेंट करके बताना। और इस कहानी को लाइम और शेयर जरूर करना।

धन्यवाद।

 

Tag:

अमीर औरत की चुदाई

जिगोलो से चुदाई

जवान लंड का रस

देसी चुदाई कहानी

सेक्स कहानी

100% LikesVS
0% Dislikes

3 thoughts on “लन्ड की भूखी अमीर औरत गाड़ी में बिठा के घर ले गई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *