चुदाई की कहानी बेटी की जुबानी

माँ की चुदाई की कहानी बेटी की जुबानी

मेरे प्यारे दोस्तों मैं शीतल हूँ। और मैं अब 19 साल की हो चुकी हूँ। और ये कहानी 5 साल पुरानी  है। तब मैं मात्र 14 साल की थी। मेरा घर भोपाल में है। और मेरे पापा के दोस्त का घर जबलपुर में है।

 

दरअसल ये कहानी मेरी नही है बल्कि मेरी माँ की चुदाई की है। मैं अपनी चुदाई की कहानी दूसरे कहानी में अलग से बताऊंगी।

 

ये कहानी है मेरी खूबसूरत सेक्सी माँ और मेरे पापा के दोस्त के लड़के की।

मेरी माँ का नाम सपना है वह बहुत खूबसूरत हैं। नशीली आँखे कर्वी बदन 40 इंच की गांड़, 32 इंच की पतली कमर और 36 इंच की सुडौल चुचियाँ। मानो भगवान ने सांचे में ढाल के बनाया है। माँ अपनी बदन और खूबसूरती की कद्र भी करती है।

Hindi English Sex Stories

और मेरे पापा के के दोस्त के बेटे का नाम शनि है। शनि देखने मे एक एवरेज लड़का है। सांवला शरीर और सामान्य बदन।

 

ये घटना तब घटी जब शनि एक कॉम्पिटिशन का एग्जाम देने भोपाल आया था। तब उसकी उम्र 24 साल थी। और मेरी माँ की उम्र 43 साल की थी। मेरे पापा माँ से 12 साल बड़े हैं। और वह सरकारी अधिकारी हैं। लेकिन वह घर पर कम रह पाते हैं। ज्यादातर घर पर मैं और माँ ही रहते हैं।

कैसे मेरी माँ ने पापा के दोस्त के जवान बेटे से अपनी चुत की प्यास बुझाई

तो एक दिन शनि का एग्जाम भोपाल में पड़ा तो उसके पापा मेरे पापा को कॉल किए और बोले कि शनि एग्जाम देने भोपाल जा रहा है और इतेफाक से उसकी एग्जाम सेंटर मेरे घर से मात्र 5 km दूर था। तो पापा भी बोले कि ठीक है भेज दिजिए मैं यह एग्जाम दिलवा दूँगा। और रहने की भी दिक्कत नहीं होगी।

 

लेकिन शनि जिस दिन मेरे घर आया इतेफाक से उस दिन पापा बाहर ही थे। और 2, 3 दिन बाद आने वाले थे। तो शनि रेलवे स्टेशन से खुद ही कैब लेकर घर आ गया। उस दिन माँ और मैं घर पे थे। चुकी शनि पापा के दोस्त का बेटा था तो मैं उसे भईया कहती थी।

 

दूसरे दिन शनि का एग्जाम था और उस दिन रविवार था। तो मेरा स्कूल ऑफ था। इसलिए मैं और माँ दोनो ही शनि के साथ उसके सेंटर तक गए। उसका एग्जाम 3 घण्टे का था तो फिर मैं और माँ शॉपिंग करने चले गए। फिर शाम 6 बजे तक सेंटर पहुँच गए। और शनि एग्जाम देकर बाहर आया।

 

तो मैंने पूछा भईया आपका पेपर कैसा हुआ तो उसने बताया कि अच्छा हुआ है। और जबसे शनि आया था तबसे मैं नोटिस कर रही थी माँ भी बहुत खुश थी। फिर माँ शनि से पूछी की बेटा घर चले या मार्केट घूमोगे। अगर थक गए होगे तो घर चलते हैं। तो शनि बोला कि आंटी मैं थका नहीं हूँ चलिए घूमते हैं फिर घर चलेंगे।

मूवी में सेक्स सिन देखकर शनि का लन्ड खड़ा हो गया और माँ उसे बार बार देख रही थी

तो हम फिर मॉल में चले गए। वहाँ थोड़ा घूमे फिरे फिर सबने प्लान किया कि मूवी देखते हैं। तो हमसब मूवी देखने चले गए। मैं और शनि किनारे बैठे थे और बीच मे माँ बैठी थी। मूवी में कई किसिंग सीन थे। जिसे देखकर शनि थोड़ा अटपटा से फील कर रहा था। क्योंकि वो हॉलीवुड की मूवी थी। एक सीन में तो हेरोइन ऊपर से बिल्कुल नंगी थी। और चुदाई का सीन था जिसे देखकर शनि बहुत ऑड फील किया। ना जाने क्यों मुझे माँ पर कुछ शक हो रहा था इसलिए मेरी निगाह बार बार उनदोनों पर चला जा रहा था। फिर मैंने नोटिस किया कि उस सेक्स सिन के बाद शनि के पैंट में उभार दिख रहा है। चुकी मैं उस समय 14 साल की थी लेकिन इतना भी अनजान नहीं थी। क्योंकि मैं कान्वेंट स्कूल की छात्रा थी। जहाँ बच्चे बच्चे चुदाई से वाकिफ होते हैं।

 

तो मैंने नोटिस किया कि मेरी माँ बार बार शनि के पैंट के तरफ देख रही है। उसका पैंट के उभार ऊपर नीचे भी हो रहा था। फाइनली मूवी खत्म हुई। और हम सब रेस्टोरेंट से खाना पैक करवा के लिए लिए और घर आ गए।

 

घर आने के बाद हम सबने खाना खाया। और TV देखने लगे। लेकिन चुकी सभी थक चुके थे और मैं भी थक चुकी थी तो मैं बोली कि मैं सोने जा रही हूँ। फिर माँ भी बोली कि मुझे भी नींद आ रहा है। तो वो भी सोने चली गई। शनि गेस्टरूम में सोता था। तो माँ बोली कि बेटा जब सोने जाओगे तो TV बंद कर देना। और फिर सभी सोने चले गए।

 

फिर मैं सो गई और सुबह 5 बजे मेरी नींद खुली क्योंकि 6 बजे मुझे स्कूल के लिए निकलना होता था। और चुकी शनि हमलोगों से घुलमिल गया था तो 2 दिन से हमसब को अच्छा लग रहा था। लेकिन शनि का उसी दिन का वापसी का टिकट था। तो शाम को ही माँ बोली थी कि अब आये हो तो 2, 4 दिन रुककर भोपाल घूम लो फिर जाना।

 

तो मैं स्कूल जाने से पहले माँ से पूछी की शनि भईया घर जाएंगे या रुकेंगे। तो माँ बोली कि अभी तो सो रहा है उठने के बाद फिर बोलूंगी 2, 4 दिन रुके। तो मैं बोली कि हाँ भईया को बोलना रुकेंगे। मैं स्कूल जा रही हूँ। आएंगे तो हमसब मस्ती करेंगे। भईया बहुत अच्छे हैं।

 

फिर मैं स्कूल चली गई और 2 बजे वापस घर आई तो घर बंद था। मैं बेल बजाई तो कोई दरवाजा नहीं खोला। मैं काफी देर इंतजार भी की तो मुझे लगा कि शायद शनि भईया घर चले गए और माँ उन्हें ड्राप करने स्टेशन गई होगी। लेकिन मेरे पास घर के एक चाभी हमेशा रहती थी ताकि कभी इमरजेंसी में मैं खोल लूँ। तो मैं बैग से चाभी निकाली और लॉक खोलकर अंदर चली गयी। तो सबसे पहले हॉल पड़ता है और फिर लेफ्ट साइड में गेस्ट रिओम और फिर आगे मेरा कमरा। तो जाते समय मैं गेस्ट रूम में।देखी तो कोई नही था। तो मैं समझ गई कि भईया चले गए।

सनी कुत्ते की तरह मेरी माँ की चुत चाट रहा था

और मैं फिर अपने रूम में चली गई। लेकिन मेरे रूम में पर्सनल टॉयलेट नही है तो सामने के कॉमन टॉयलेट में जाने लगी। जैसे ही मैं टॉयलेट के दरवाजे पर पहुँची तो माँ के कमरे से हलचल सुनाई दी।

Erotic Romantic Stories

तो मैं उस तरफ बढ़ गई तो माँ की कमरे से सससीईईईईईईसससीईईईईईई…. आहहहहहहहहहहहहहहहहह… ऊँहहहहहहहहहहहहहहहहह…. की आवाज आ रही थी। और ये आवाज किसी और कि नही बल्कि मेरी माँ की थी तो मैं दरवाजे पर पहुँची तो देखी दरवाजा सटा हुआ है तो मैं कीहोल से देखने की कोशिश की लेकिन मुझे कुछ ठीक से नजर नही आया। तो मैं दरवाजे को हल्का पुश की। तो दरवाजा खुल गया। मैं हल्के से दरवाजे के अंदर एक आँख से देखी तो हैरान रह गई। रूम में लाइट ऑन थी। और मेरी माँ पूरी नंगी थी। उनकी दोनो पैर हवा में लहरा रहे थे। उनके चुत पर एक भी बाल नहीं थे। और शनि भईया माँ के चुत को कुत्ते की तरह चाट रहे थे। और माँ सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आहहहहहहहहह…. आहहहहहहहहहहहहहहहहह…. शनि चाटो अच्छे से मेरी चुत बेटा …… आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राजजजाआआआ चाटो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से.. शनि चाटो…। चाटो मेरी चुत। चुत से पानी निकाल दो चाटकर आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजा…राजअअअअअअअ।। चाटो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह शनि मेरी चुत बहुत प्यासी है। चाटो जोर। से …ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सनी चाटो मेरी चुत।..  चाटो और जोर से चाटो।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. खा जाओ मेरी चुत राजज्ज्ज़ा चाटो मेरी चुत।… शनि मुझे बहुत आनंद आ रहा है।

आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह..  तुम कितने अच्छे हो मेरे बेटे…. चाटो राजा चाटो मेरी चुत। …

 

तुम मेरे शेर हो आहहहहहहहहह.. पूरा निगल जाओ मेरी चुत को। आहद हहहहहहहहह। ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. शनि चाटो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से..।  तुम्हारे अंकल अब चुत चाटना तो।दूर अब तो वो मुझे चोदते भी नहीं है…

वो कभी मेरी चुत नहीं चाटते…

 

आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजाआआआ बेटा..  चाटो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राज चाटो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राज चाटो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चाटो जोर से..।

 

मैं वर्षों से चुत नही चुदवाई हूँ और आज मुझे एक कड़क जवान लन्ड मिला है। ऊँहहहहहहहहहहहहहहहहह बेटा…

 

शनि खा जाओ मेरी चुत को राजा… मुझे आज तक ऐसा मजा कभी नही आया। मेरी चुत किसी ने आजतक नही चाटा। आहहहहहहहहहहहहहहहहह … आहहहहहहहहहहहहहहहहह

 

… शनि बेटे चाटो बेटा चाटो… मैं आ रही हूँ। बेटा चिभ रगड़ो अच्छे से आहहहहहहहहह मैं गई मेरे राजजजजजाआआ… और माँ शनि भईया के सर को पकड़ कर जोर से अपने चुत पर दबाने लगी। शनि भईया भी पूरे जोश से माँ की।चुत का पानी पीने लगे।

 

और फिर माँ शांत हो गई।

सनी तुम अपना मोटा लन्ड मेरी चुत में डालकर जोर जोर से चोदो

लेकिन शनि भईया माँ के चुत को चाटे जा रहे थे करीब 5 मिनट बाद एक बार फिर माँ जोश में आ गई। और बोली। शनि बेटा अब मुझसे रहा नहीं जा रहा। क्या फिर से चाटकर ही मेरी चुत से पानी निकाल दोगे क्या

 

अब अपना मोटा लन्ड मेरी चुत में डालो मेरी चुत लन्ड की भूखी है वर्षो से लन्ड के लिए तड़प रही है।

 

शनि भईया बोले, ऑन्टी लास्ट टाइम आप कब चुदी थी तो माँ बोली बेटा कई साल हो गए। कई सालों से मैं बस उँगली से चुत रगड़ती हूँ।

शनि- क्यों आंटी, अंकल जी नहीं चोदते हैं क्या आपको

माँ- बेटा तुम्हारे अंकल जी का लन्ड अब खड़ा नहीं होता। और थोड़ा सख्त होता भी है तो मेरी चुत में डालने से पहले ही उनका लन्ड पानी उगल देता है। वो अब बूढ़े हो चुके हैं बेटा और मैं अभी जवान हूँ। इसलिए मेरी चुत लन्ड की भूखी है। मैं तो अभी रोज कई बार चुदना चाहती हूँ। तुम्हारे जैसा कड़क लन्ड ही मेरी चुत को चाहिए।

 

फिर माँ मानो शनि भईया से मिन्नतें करने लगी और बोली शनि बेटा अब बर्दास्त नहीं हो रहा कितना तड़पाओगे अपना लंड जल्दी से मेरी चूत में डालो ना।

 

फिर शनि भईया बिस्तर के नीचे आ गए और माँ की टांगे पकड़ के माँ को किनारे खिंच लिए। और माँ की दोनो टांगों को अपने कंधे पर रखे और अपना लन्ड माँ की चुत पर रगड़ने लगे। उनका लन्ड काला से था और बहुत बड़ा था। फिर माँ सिहर गई और

सससीईईईईईईसससीईईईईईई… करने लगी। तभी शनि भईया एक करारा शॉट मारे और समूचा लन्ड एक ही बार मे माँ की चुत में घुस गया। और अब भईया जोर जोर से माँ को चोदने लगे। माँ तो मानो पागल हो गई और गंदी गंदी बातें बोलने लगी और बड़बड़ाने लगी आहहहहहहहहह ओहहहहहहहहह की आवाजें आने लगी। ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. शनि फाड़ तो मेरी चुत चोदो मेरी चुत।…  आआआहहहहहहह चोदो जोर से..।  मारो मेरे राजा आआआ हहहहहहहहहहहहह…….. पूरा लन्ड मेरी चुत में डाल के चोदो।… आहहहहहहहहहहहहहहह……  ……ओहहहहहहह हहहहहहह शनि क्या चुदाई करता है तू। चोदो जान चोदो…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेबी मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह बहुत प्यासी थी मेरी चुत।  ओह मेरे राजा हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…

 

आआहहहहहहहहहहहहहह….. शनि बेटा मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो बेटे चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो अपनी आंटी की चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बहुत दिनों से लन्ड के लिए मैं तड़प रही थी।  चोदो अपने आंटी को बेटा मेरी प्यासी चुत को अपने लन्ड का रस पिलाओ मेरे सईंया।।…

 

आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेबी कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…..शनि आहहहहहहहहह…  मेरी जान चोदो…………तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है…. तुम्हारा लन्ड मेरी बच्चेदानी में धक्का मार रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चोदो। तुम्हारा लन्ड मेरी चुत को फाड़ दिया।…

 

आहहहहहहहहह आहहहहहहहहह…. मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। चोदो मेरे राजा आआआहहहहहहहहह हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. ओह मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजाआआआ हहहहहहहहहहहहह……..

Juicy Sex Stories

यह चुदाई पिछले आधे घंटे से चल रही थी। और माँ कई बार झड़ चुकी थी। और एक बार फिर झड़ने वाली थी तभी शनि भईया का भी लन्ड पानी छोड़ने वाला था।

 

भईया बोले मेरी रानी मेरा लन्ड अब नही टिक पाएगा अपना रस उल्टी करने वाला है बोलो जल्दी कहाँ रास निकाले

 

माँ बोली बेटा मेरी चुत बहुत दिनों से लन्ड का पानी नही पी है मेरी चुत को अपना एंड का रस पिलाओ मेरे राजा।

 

और फिर आहहहहहहहहह आहहहहहहहहह… सससीईईईईईईसससीईईईईईई… करते हुए माँ और शनि भईया एक साथ झड़ गए।

और शनि भईया माँ के ऊपर लुढ़क गए। दोनो की सांसे बहुत तेज तेज चल रही थी।

 

अब मैं अपने रूम में आ गई और सोचने लगी कि माँ लन्ड की कितनी भूखी है। शनि भईया करीब एक हफ्ते मेरे यहां रुके और रोज रात दिन माँ की चुदाई किये। अब शनि भईया अक्सर मेरे यहाँ आते हैं और माँ की चुदाई करते हैं। और कई कई दिन रुकते हैं।

 

तो यह थी मेरी माँ की चुदाई की कहानी बेटी की जुबानी तो दोस्तों यह कहानी आपको कैसी लगी मुझे कमेंट करके जरूर बताना। और कहानी को।लाइक।और ज्यादा से ज्यादा शेयर करना ताकि मुझे और कहानियां लिखने के लिए और प्रेरणा मिले। और मैं आपसब के लिए ऐसी ही चुदाई भरी कहानियां लेकर आती रहूँ।

 

तो अपना ख्याल रखिए। नमस्कार

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *