चुदाई की कहानी बेटी की जुबानी

 332 

मॉम डैड की चुदाई की कहानी बेटी की जुबानी

दोस्तों मेरा नाम कविता है। मैं 15 साल की हूँ। और मेरी फिगर 28 की चुचियाँ, 26 की कमर और 32 की गांड़ है। मेरी हाइट 5,4 है। मैं झारखंड के जमशेदपुर में रहती हूँ। मैं 10th स्टैंडर्ड में हूँ। मेरे डैड स्टील प्लांट में अधिकारी हैं। मेरे और पापा के बीच एक दोस्त वाला रिश्ता है। हम बाप बेटी की तरह कभी नही रहे। बल्कि एक दोस्त की तरह रहे हर बात कहना सुनना। मेरे पापा ही तो मेरे सबकुछ थे। और मैं पापा की भी सबकुछ थी। मेरे पापा बचपन से ही मुझे नहलाना धुलाना सर में तेल लगाना कंघी करना। स्कूल के लिए तैयार करना सब पापा ही करते थे। मैं अभी भी पापा के लिए 1 साल की बच्ची ही थी वह सबकुछ मेरा करते थे। बहुत ध्यान रखते थे। मेरे कपड़े तक साफ करते थे। मेरे पीरियड की पैड तक वही लाते थे।

दोस्तों मैं कई कहानियां लिख चुकी हूँ लेकिन यह कहानी मेरी नहीं बल्कि क्लासमेट और मेरी सबसे अच्छी सहेली सुनैना की है। उसके मम्मी पापा के चुदाई की कहानी। वह मुझे बताई और मैं आपलोगों के समक्ष रख रही हूँ। सुनैना भी 15 साल की है लेकिन वह इनसब चीजो को पहले से और मेरे से ज्यादा जानती है।

अगले दिन मैं स्कूल गई तो मेरी सहेली से हमारी इनसब मुठ मारना, चुदाई टॉपिक पर बात होने लगी। तो मेरी सहेली सुनैना मुझसे पूछी की तू कभी किसी की असली लन्ड देखी है। तो मैं मना कर दी लेकिन बोली कि हां मैं इंटरनेट पर देखी हूँ। फिर मैं उससे पूछी की तु कभी किसी कि लन्ड देखी है तो वह मुस्कुरा दी और ना में सर हिलाई। लेकिन उसके हाव भाव से मैं समझ गई कि यह जरूर किसी का लन्ड देखी है। फिर मैं बोली कि बता न किसका देखी है। तो वह बोली यार मैं कैसे बताऊँ। तो मैं बोली बता न यार क्या तू मुझसे शर्मा रही है। बताओ न किसका देखी है। तो वह बोली तू किसी को ये बात बताएगी तो नही न। मैं बोली नही बताऊंगी बिस्वास कर। तो वह मेरा हाथ पकड़ी और अपने सर पर रख दी और बोली कि मेरा कसम खा की तू किसी को नही बताएगी https://nightqueenstories.com

तो मैं बोली तेरी कसम नही बताऊंगी। अब बताओ किसका देखी है। तो वह बोली यार मैं अपने पापा का लन्ड देखी हूँ। मैं तो चिहुँक गई। और उससे बोली क्या बोल रही है तू। तो वह बोली सच्ची यार मैं अपने पापा का ही देखी हूँ। तो मैं बोला कैसे। तो वह बोलि की यार मैं लगभग हर दूसरे तीसरे दिन देखती हूँ। मेरे पापा और मेरी मम्मी पूरी तरह नंगे होकर चुदाई करते हैं। तभी मैं अपने पापा का लन्ड देखी हूँ। और मैं मम्मी की चुत भी देखी हूँ। मैं तो ये सुनकर हैरान हो गई। और मेरी चुत बिल्कुल गीली। बहुत पानी रिस चुका था मेरी दोस्त की बातें सुनकर।

अब आप यह कहानी सुनैना के जुबान से ही सुनिए

कैसे माँ-बाप की चुदाई बेटी ने देख ली

सुनैना-: दोस्तों मेरे पिताजी का नाम अयोध्या भार्गव है उनका उम्र 40 साल है और मेरी मॉम का नाम कनिका है। वो 35 साल की एक जवान खूबसूरत महिला हैं। मेरी मम्मी की दूध बड़े बड़े हैं। मेरी मम्मी बहुत हॉर्नी है। वो मेरे पापा से कभी कभी जबरदस्ती चुदवाती है। कभी कभी तो पापा नींद में भी होते हैं तो मम्मी पापा का लन्ड चूस कर खड़ा कर देती है और ऊपर चढ़ के चोदने लगती है। पापा दवा खा खा के माँ को चोदकर संतुष्ट करते हैं।

मैं अपने माँ डैड को एकलौती संतान हूँ तो मेरे पेरेंट्स मुझे बहुत प्यार करते हैं। मेरे क़वार्टर में 2 बेडरूम है। एक मे मैं और दूसरे में माँ डैड रहते हैं। लेकिन जब कोई गेस्ट आ जाता है तो वो मेरे रूम में ही रहता है तब मुझे मम्मी पापा के साथ ही सोना पड़ता है। हमारा गांव यहां से 100 km की दूरी पर है। तो कोई ना कोई आते रहता है।

पापा पसीने से लथपथ थे और माँ को जोर जोर से चोद रहे थे माँ चिल्ला रही थी चोदो राजन चोदो

एक बार मेरे गांव से दादाजी आए थे। तो दादाजी मेरे रूम में रहने लगे। तो मैं मम्मी पापा के साथ ही सोने लगी। 2 दिन तो सब ठीक था। लेकिन तीसरे दिन लगभग 1 बजे रात मेरी नींद खुली क्योंकि पलंग चर्र चर्र की आवाज कर रहा था। और मेरे कानों में मादक सिसकारियां और कुछ आवाजें सुनाई दी जैसे हहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. इरर्राहहहहहहहहह.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। चोदो आहहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो आहहहहहहहहहहहहहहह……

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ईईर्ररर्राहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी…..

यह आवाज मेरी माँ की थी। तो मैं हल्की सी चादर नीचे की तो मेरे पापा ऊपर थे और पसीने से लथपथ थे। और हाँफते हुए माँ को चोद रहे थे। और माँ जोर जोर से चिल्ला रही थी।

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… यह करीब 7, 8 मिनट तक चला पापा हुमाच हुमाच के मम्मी को चोद रहे थे। और फिर पापा हाँफते हुए मम्मी के ऊपर लुढ़क गए। लेकिन मम्मी बोली मेरे राजा थोड़ी और चोदो मेरा भी पानी बस निकलने ही वाला है। लेकिन मेरे पापा सुस्त पड़ गए थे। तो मम्मी पापा को धक्का देकर नीचे की और अपनी चुत रगड़ने लगी। अभी वह 1 मिनट भी चुत नही रगड़ी होगी कि जोर से चिलाई आहहहहहहहहहहहहहहह……

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… और इसी के साथ मम्मी भी शांत हो गई। मतलब मम्मी की चुत भी पानी छोड़ चुका था। मेने देखा पापा का लन्ड धीरे धीरे छोटा होने लगा था। और मम्मी के चुत पर काले काले हल्के बाल थे।

पापा को अब नींद आने लगा था तो मम्मी बड़बड़ाई की तुम्हारी रोज की यही आदत है ढंग से आजतक नही चोद पाए मेरे चुत को कभी तृप्त नही करते हो। और अपना पानी झाड़कर लुढ़ककर सो जाते हो। मेरी तो किस्मत ही फूटी हुई है।

अब उठ के कपड़े पहनो तब सोना सुनैना का नींद खुलेगा तो वह नंगा देख लेगी। लेकिन पापा शायद नींद में हो चुके थे या नींद में होने का नाटक कर रहे थे। तो मम्मी उठी उनकी चुचियाँ नीचे लटक रही थी बड़ी बड़ी चुचियाँ है मेरी माँ का। उनके चुत से उनका चुत का दाना बाहर निकला हुआ था। फिर माँ पापा का पायजामा उठाई और दोनो पैरो में डाल कर ऊपर कमर तक खींच दी। https://nightqueenstories.com

और खुद एक शॉर्ट् ड्रेस पहनकर पैंटी पहनी और सो गई। मैं सारा नजारा देख चुकी थी।

यह नजारा मेरे सामने ही घूमे जा रहा था। और मेरी चुत में सुरसुरी दौड़ने लगी थी। बड़ी मुश्किल से मुझे नींद आयी और जब खुली तो सुबह के 7 बज रहा था। फिर मैं पूरे दिन उस मंजर को याद करती रही।

चुकी दादाजी महीने भर के लिए आये थे तो जाहिर था मुझे महीने भर यह चुदाई देखने को मिलता।

अगले दिन मैं सोने का नाटक की लेकिन मैं जग रही थी। लेकिन मम्मी पापा दोनो सो गए मैं 2 बजे रात तक वेट की। फिर सो गई। अगले दिन भी यही हुआ। दोनो सो गए और मैं इंतजार करते रहे गई।

लेकिन तीसरे दिन जब हमसब डिनर कर रहे थे तो मैं कुछ नोटिस की दरअसल मम्मी पापा को देखे जा रही थी। और फिर खाना खाते समय ही वह टेबल के नीचे से उनके पैर में अपना पैर से सहला रही थी। वे दोनों मेरे सामने बैठे थे लेकिन वो बिल्कुल पास थे। दादाजी पहले ही खाना खा लेते हैं। और फिर मैं गौर से देखने लगी तो मेरी मम्मी पापा के लन्ड को पायजामे के ऊपर से सहला रही थी एक हाथ से। और मुस्कुरा भी रही थी। फिर मैं झट से खाना खाई भर पेट खाई भी नही और मैं बोली मेरा हो गया और मैं उठ गई और सीधा किचन में चली गई। और किचन से छुप के देखी तो मम्मी पापा को अपने हाथों से खिला रही थी। और पापा के लन्ड को अभी भी सहला रही थी।

मैं बहुत खुश हुई। कि जिस चीज का मैं 3दिन से इंतजार का रही आज वो मन्नत पूरा होने वाला है। थोड़ी देर में वे भी खा लिए और मैं टीवी देखने लगी तो मम्मी पापा के कान में बोली सोना आज हम चुदाई करेंगे। तुम्हारा हल मेरे खेत को जोतेगा।

मैं समझ गई कि मैं जितना जल्दी सोऊंगी मुझे मम्मी पापा का चुदाई उतना ही जल्दी देखने को मिलेगा। जब मम्मी पापा वहां आये तो मैं बोली मुझे नींद आ रहा मैं सोने जा रही। फिर मैं चली गई। और बिस्तर पर लाइट ऑफ कर नाईट बल्ब ऑन कर सो गई। मैं मुँह ढक ली थी लेकिन अंदर से सब दिख रहा था। करीब आधा घंटा बाद दोनो आये और मुझे गौर से देखा तो मम्मी धीरे से बोली शायद सो गई है नींद में। फिर मम्मी आवाज लगाई। हनी क्या तुम सो रही या जग रही। लेकिन मैं कोई प्रतिक्रिया नही की तो उन्हें लगा मैं गहरी नींद में सो चुकी हूँ।

और तभी माँ डैड पर मानो भूखी शेरनी की तरह झपट पड़ी। वो डैड के गले मे हाथ डाल के होंठो को किस करने लगी और लगा जैसे वह दांतो से चबा रही हो। शायद माँ ने पापा के होंठ को दांतों से चबा दी थी जिससे पापा को दर्द हुआ था।

वे दोनों एक दूसरे को किस कर रहे थे। फिर पापा माँ के चूतड़ों को पकड़ के दबाने लगे। और माँ पापा का बनियान उतार दी। और शॉर्ट्स नीचे कर दी। और पापा खुद ही पैरो से शॉर्ट्स निकाल दिए।

माँ बिस्तर पकड़ के आगे झुक गई और गांड़ हिलाकर बोली आओ राजन आज मैं तुम्हारी घोड़ी हूँ चोदो मेरी चुत और फाड़ दो अपने लन्ड से चोदक़र

फिर माँ अपना गाउन उतारी दोस्तों मेरी माँ की गांड़ देखने लायक थी। वो अंदर ब्रा पैंटी कुछ भी नही पहनी थी। फिर पापा माँ के पैरों को पकड़े और गोद मे उठा लिए माँ दोनो पैरो का घेरा बनाकर पापा से लटक गई। और तभी मुझे पापा का लन्ड माँ के गांड़ के नीचे दिखाई दिया। वह ऐसे झांक रहा था जैसे पर्दे के पीछे से कोई झाँकता है। फिर पापा माँ को बिस्तर पर लेटा दिए और माँ के पैरों को फैला दिए। और चुत पर मुँह रख दिये। माँ तड़प गई और इतनी तेजी से गांड़ उछाली और पापा का सर चुत पर दबाई की मैं देखकर हैरान रह गई।

इधर ये नजारा देखकर मेरी भी चुत गीली होने लगी थी।

अब पापा जोर जोर से माँ की चुत चाट रहे थे और माँ कह रही थी आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राजजजाआआआ चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से.. मेरे सनम। चाटो मेरी चुत। चुत से पानी निकाल दो चाटकर आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजा…राजअअअअअअअ।। चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह बाबू मेरी चुत बहुत प्यासी है। चाटो जोर।से।…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जानेमन चाटो मेरी चुत।.. चाटो और जोर से चाटो।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..।

रोज की तरह आज भी मुझे प्यासी मत छोड़ देना। आज मेरी चुत को तृप्त कर दो साजन आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. खा जाओ मेरी चुत राजज्ज्ज़ा चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह.. तुम कितने अच्छे हो मेरे सइयाँ जी…. चाटो राजा चाटो मेरी चुत। पूरा निगल जाओ मेरी चुत को। आहद हहहहहहहहह। ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जानेमन चाटो मेरी चुत।… चाटकर पानी निकाल दो एक बार फिर अपना लन्ड मेरी चुत में डालना ताकि मैं तृप्त हो पाउँ राजा।

पापा पिछले 10 मिनट से माँ के चुत चाट रहे थे। तभी माँ बोली हां राजा अब मैं झड़ रही हूं। चाटो राजा चाटो और माँ की चुत पानी छोड़ दी। इधर मेरी भी चुत बहुत गर्म हो चुकी थी। दिल कर रहा था मैं भी जोर जोर से चुत को रागड़ू लेकिन ऐसा नही कर सकती थी सो मन मसोस कर रह गई।

फिर मम्मी बोली तुम बहुत अच्छे हो बेबी। आज तुम मुझे बहुत मजा दिए।

और फिर माँ उठी और पापा के लन्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी। पापा का लन्ड माँ के मुंह के लार से चमकने लगा।

अब मम्मी बिस्तर को पकड़ के आगे झुक गई। और बोली राजा आज मैं तुमहारी घोड़ी हु। मुझे बेदर्दी से चोदो। फाड़ दो मेरी चुत और माँ गांड़ को हिलाकर निमंत्रण दी। अब पापा पीछे से खड़े खड़े माँ के चुत में लन्ड डाल दिये और चोदने लगे। और माँ बड़बड़ाने लगी आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राजजजाआआआ चोदो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चोदो जोर से.. मेरे सनम। चोदो मेरी चुत। चुत से पानी निकाल दो चोदक़र आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजा…राजअअअअअअअ।। चोदो जोर से मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह बाबू मेरी चुत बहुत प्यासी है मेरी चुत। चोदो जोर से।…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जानेमन चोदकर फाड़ दो मेरी चुत।.. चोदो जोर से साजन और जोर से चोदो।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..।

मेरी चुत की धज्जियां उड़ा दो बाबू आज मेरी चुत को तृप्त कर दो साजन आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. फाड़ दो मेरी चुत राजज्ज्ज़ा चोदो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चोदो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह.. तुम कितने अच्छे हो मेरे सइयाँ जी…. चोदो मेरे सनम मेरे राजा जोर से चोदो मेरी चुत। पूरा अंदर तक लन्ड डालो आहहहहहहहह हहहहहहहहह। ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चोदो जोर से राजा और अपना लन्ड का पानी मेरी चुत में ही छोड़ देना ताकि मैं तृप्त हो पाउँ राजा।

दोनो की चुदाई पिछले 20, 25 मिनट से चल रही थी। तभी माँ बोली साजन आज तो तुमने गजब कर दिया मैं तीसरी बार झड़ने वाली हूँ तभी पापा का रफ्तार भी बढ़ गया और फिर माँ जकड़ ली पापा को और दोनो एकसाथ झड़ गए। माँ पैरो से पापा को कमर पे लपेट कर दबाई और हाथों का घेरा बनाकर जकड़ ली। और बोली राजन हटना मत आज तुम्हारी पूरा पानी मे सोखना चाहती हूं। और पापा को किस करने लगी। आज माँ तृप्त हो चुकी थी।

इधर पापा मम्मी का ताबड़तोड़ चुदाई देख मेरी चुत में भी ज्वालामुखी भड़क चुकी थी अब मैं उनलोगों का सोने का इंतजार करने लगी। और एक घण्टा बाद जब दोनो गहरी नींद में सो गए तो मैं उठी और बाथरूम में जाकर चुत को रगड़ के शांत की।

दोस्तों ये थी मेरी माँ डैड की चुदाई। आपको यह सच्ची घटना कैसी लगी। कमेंट करना ताकि मैं कुछ और सच्ची घटना लेकर आऊं। कहानी अच्छी लगे तो लाइक और शेयर जरूर करना। और https://nightqueenstories.com की अन्य कहानियों का मजा लेते रहना। अब मुझे दीजिए इजाजत। धन्यवाद। नमस्कार।

 

92% LikesVS
8% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *