Aunty ki chudai Aunty mom sex Balo wali chut Behan chudai Bhabhi ke sath jordar sex Erotic Stories Gand chudai Garm chut Hindi sex stories Hindi Stories Lust Stories Nangi ladki pyasi chut Rasili chut Moms Romantic Sex Kahani Sex stories Sexstory अमीर औरत की चुदाई इंडियन बीवी की चुदाई ऑफिस सेक्स कमसिन कली किचन में चुदाई कोई देख रहा है कोई मिल गया गर्म चुत गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड की चुदाई जिगोलो से चुदाई दर्दभरी चुदाई देसी चुदाई कहानी देहाती लड़का पुलिसवाली की चुदाई बस में चुदाई बहन की रसीली चुत बाथटब चुदाई बालकनी में चुदाई बुआ की चुदाई बड़ी चूचिया भाई बहन की चुदाई भाभी की चुदाई भूखी मलाईदार चुत माँ की प्यासी चुत रंडी बनी माँ रसदार चुत रसीली चुत राजनीति और हवस शहर की चुत सामूहिक चुदाई सिनेमा हॉल में चुदाई सीलबंद गांड की चुदाई सीलबंद चुत सीलबंद चुत की चुदाई सेक्स कहानी सेक्स स्टोरी सेक्सी कहानी

चुदक्कड़ परिवार

पवित्र धाम सोसाइटी में अपवित्र भरा काम : चुदक्कड़ परिवार

फिर हँसमुख नीचे बैठ गया और राजश्री के गाउन को ऊपर उठा दिया। ऐसा करते देखते ही राजश्री अपने हाथों से गाउन ऊपर की। और कमर के पास टाइट बांध दी। लेकिन हैरानी की बात ये थी कि राजश्री पैंटी नही पहनी थी गाउन ऊपर होते ही उसकी गोरी चिकनी चुत चमक उठी। मतलब साफ था कि या तो राजश्री पैंटी नहीं पहनती थी या फिर वो चुदवाने के लिए पहले से प्लानिंग कर रखी थी। ताकि हँसमुख आये तो बिना कोई प्रॉब्लम और देरी की उसकी चुत की चुदाई हो सके।

उधर हँसमुख राजश्री के चुत पर टूट पड़ा और जोर जोर से चाटने लगा कभी वो अपना जीभ राजश्री के चुत में डालकर अंदर बाहर करता

तो कभी 3 उंगलियां चुत में डाल के चोदने लगता

तो कभी जोर जोर से राजश्री के चुत को रगड़ता।

और सबसे मनमोहक और राजश्री को तड़पाने वाला वाकया तब होता जब हँसमुख उसके चुत के बड़ी से दाने को होंठो से पकड़ कर खिंचने लगता

और राजश्री सिहर जाती और हँसमुख के सर को जोर से चुत पर दबाने लगती।

https://nightqueenstories.com के प्रिय पाठकों तो आप सब कहानी का शीर्षक देखकर ही समझ गए होंगे कि कहानी में क्या है और कहानी किस चीज पर आधारित है।

दोस्तों तो आपने सही पकड़ा। यह कहानी गुजरात के सूरत के उस सोयायटी का है जिसका नाम पवित्र धाम है। और पवित्र धाम इसलिए नाम पड़ा क्योंकि वहां सभी परिवार सिर्फ वेजिटेरिअन हैं हाँ दोस्तों वेजिटेरिअन लेकिन मेरे दोस्तों वहाँ सिर्फ चिकन मटन नही खाया जाता बल्कि वेजिटेरिअन से भी बड़े मांसाहारी हैं उस पवित्र धाम सोसायटी के और हरेक परिवार में अवैध रिश्ते मतलब सभी एक दूसरे के बीवियों के पीछे पागल हैं बीवियां तो छोड़ो बेटियां भी अपने पिता के उम्र के पिता के दोस्त से ही चुदवाती हैं।

कुल मिलाकर पवित्र धाम सोसायटी एक रंडीबाज सोसायटी बन चुकी है। यह सोसायटी करीब 22 लोगों की है।

और यहाँ सभी एक दूसरे के बीवी, बेटियों को चोदते हैं। माँ के साथ बेटियां भी चुदक्कड़ हैं।

दोस्तों मेरा नाम स्वनिल दास गुप्ता है। और प्यार से मुझे सब दीपू नाम से बुलाते हैं। मैं 21 साल का जवान हैंडसम लड़का हूँ। और मेरे मौसा जी का नाम देवराज शर्मा और मौसी जी का नाम राजश्री शर्मा है।

पवित्र धाम सोसायटी की चुदक्कड़ औरतें कैसे सोसायटी में ही एक दूसरे के पतियों से चुदवाती है

वैसे तो पवित्र धाम सोसायटी की हरेक महिला पुरुष के ऊपर कहानियां बनती है। और मैं धीरे धीरे सभी का कहानी लेकर आऊंगा। लेकिन अभी जो कहानी मैं सुनाने जा रहा हूँ वो शुरू करते हैं। अपनी ही मौसी की चुदाई से।

दोस्तों मेरी मौसी एक पीढ़ी लिखी महिला हैं उनका नाम राजश्री शर्मा है। पूरे सोसायटी में राजश्री सबसे ज्यादा पढ़ी लिखी और दिमागदार है। वह पवित्र धाम सोसायटी की सेक्रेटरी है। सभी महिलाएं पुरुष उनको बड़े आदर के साथ देखते हैं। मेरी मौसा जी का जमीन डीलिंग का धंधा है मेरी मौसी की एक बेटी है।

दोस्तों मैं भरूच में रहता हूँ। हमारे कॉलेज में गर्मी की छुट्टी थी तो राजश्री मौसी बोली की आ जाओ सूरत।

मैं सूरत राजश्री मौसी के घर पहुँच गया। वहाँ पूरे सोसायटी के लोग बहुत खुश हुए क्योंकि सबलोग दूर दूर के थे इस कारण बहुत कम रिश्तेदार वहां जाते थे। मेरी मौसी घर मे अकेली रहती थी। क्योंकि मौसा जी सुबह 7 बजे निकल जाते थे और रात को 8, 9 बजे ही वापिस आते थे। और मौसी की बेटी स्नेहा पुणे के एक कॉलेज से इंजीनियरिंग कर रही थी। दूसरे दिन मैं देखा कि राजश्री सुबह 10 बजे गई तो दिन के 1 बजे घर आई। जबकि वो तैयार होकर नही गई थी। बल्कि घर की ड्रेश में ही थी। मुझे लगा सोसायटी में गपशप करने गई होगी। लेकिन शाम को 4 बजे मैं देखा कि मेरे घर सोसायटी के एक 45, 46 साल के अंकल मेरे घर आये जिनका नाम हँसमुख था। वह एक पत्रकार थे।

लेकिन राजश्री बहुत खुश हुई और उनको बड़े आदर से बैठाकर खुद किचन में जाने लगी तो अंकल बोले दीपू कहाँ है तो राजश्री इशारा की की वो अपने कमरे में है। फिर वो मुझे आवाज दी तो मैं चुप रहा तो उन्हें लगा कि मैं सो रहा हूँ। वह ये देखने के लिए मेरे रूम तरफ आने लगी तो मैं चादर ओढ़ लिया और सोने का नाटक करने लगा। राजश्री आकर आवाज दी तो मैं चुप ही रहा तो उन्हें लगा मैं गहरी नींद में हूँ।

फिर वो वापस गई और बोली कि सो रहा है। फिर राजश्री सीधा मेन दरवाजे के तरफ बढ़ी और अंदर से दरवाजा लॉक कर दी। और सीधा किचन में चली गई।

किचन मेरे रूम के जस्ट सामने था लेकिन मेरे रूम में पर्दा लगा था तो कुछ दिख नही रहा था। तभी मैं उठा और दरवाजे के ओट लेकर हल्का सा पर्दा हटा दिया और देखने लगा। मेरे रूम की लाइट ऑफ थी तो मैं नही दिख रहा था। तभी देखा अंकल उठे और सीधा किचन में चले गए। और जाते ही राजश्री को दबोच लिए। लेकिन वो विरोध नही की बस बोली कि क्या कर रहे हो दीपू घर मे है देख लेगा। तो वो बोले कि तुम्ही तो बोली वो सो रहा है। फिर अंकल राजश्री के कंधों को किस करने लगे।

हँसमुख राजश्री के चुचियों को बाहर खिंचकर चूसने लगा

ये नजारा देखकर मैं शॉक्ड हो गया कि पवित्र धाम सोसायटी में ऐसी अपवित्र कहानियां होती है

फिर उन्होंने राजश्री को सीधा किए और किस करने लगे। अब दोनो गुथमगुत्था होकर एक दूसरे को हबसी की तरह किस कर रहे थे। मौसी का ये रूप देखकर मैं हैरान था। वे दोनों एक दूसरे को बेतहासा किस किये जा रहे थे। अब अंकल राजश्री के चुचियों को मिसना शुरू कर दिया था। फिर देखते देखते वह गाउन के ऊपर से ही राजश्री की चुचियों को बाहर खिंच दिया और पीने लगा। राजश्री की चुचियाँ तो बिल्कुल गोरी थी लेकिन उसके चुचियों के निप्पल गहरे रंग के थे। लेकिन थे बहुत कड़क और बिल्कुल गोल।

शायद राजश्री अपने चुचियों पर तेल की मालिश करती होगी जिससे उसकी चुचियाँ बिल्कुल ढीली नही हुई थी। अब अंकल बारी बारी से राजश्री के चुचियों को मुँह में लेकर पीने लगा और जोर जोर से दबाने लगा।

राजश्री के मुँह से मादक सिसकारियां फूटने लगी आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ईहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी…..

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह…

राजश्री पैंटी नही पहनी थी वो तो पहले से चुदवाने के लिए तैयार थी

फिर हँसमुख नीचे बैठ गया और राजश्री के गाउन को ऊपर उठा दिया। ऐसा करते देखते ही राजश्री अपने हाथों से गाउन ऊपर की। और कमर के पास टाइट बांध दी। लेकिन हैरानी की बात ये थी कि राजश्री पैंटी नही पहनी थी गाउन ऊपर होते ही उसकी गोरी चिकनी चुत चमक उठी। मतलब साफ था कि या तो राजश्री पैंटी नहीं पहनती थी या फिर वो चुदवाने के लिए पहले से प्लानिंग कर रखी थी। ताकि हँसमुख आये तो बिना कोई प्रॉब्लम और देरी की उसकी चुत की चुदाई हो सके।

उधर हँसमुख राजश्री के चुत पर टूट पड़ा और जोर जोर से चाटने लगा कभी वो अपना जीभ राजश्री के चुत में डालकर अंदर बाहर करता

तो कभी 3 उंगलियां चुत में डाल के चोदने लगता

तो कभी जोर जोर से राजश्री के चुत को रगड़ता।

और सबसे मनमोहक और राजश्री को तड़पाने वाला वाकया तब होता जब हँसमुख उसके चुत के बड़ी से दाने को होंठो से पकड़ कर खिंचने लगता

और राजश्री सिहर जाती और हँसमुख के सर को जोर से चुत पर दबाने लगती।

राजश्री हँसमुख को लगातार उकसा रही थी और बोल रही थी आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राजजजाआआआ चाटो मेरी चुत।… तुम्ही तो मेरे असली राजा हो।

आआआहहहहहहह चाटो जोर से.. । चाटो मेरी चुत। चुत से पानी निकाल दो चाटकर आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजा…राजअअअअअअअ।। चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..।

आहहहहहहहहहहहहहहहहह मेरी चुत बहुत प्यासी है। चाटो जोर से।…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चाटो मेरी चुत।.. चाटो और जोर से चाटो।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. खा जाओ मेरी चुत राजज्ज्ज़ा चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..।

आहहहहहहहहहहहहहहहहह.. तुम्ही मेरे असली सुहाग हो मेरे राजा।. तुम मेरी दिल की धड़कन हो… चाटो राजा चाटो मेरी चुत। पूरा निगल जाओ मेरी चुत को। आहद हहहहहहहहह। ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। चुत चाटने का असली सुख तो सिर्फ तुमसे मुझे मिला है जानेमन। वरना तुम्हारे भाई साहब चुत चाटना तो छोड़ो कभी ठीक से चुचियों को भी टच नही करते।

तुम्हारे भाईसाहब कभी मेरी चुत नहीं चाटते… आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे राजाआआआ बेटा.. चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। आहहहहहहहहहहहहहहहहह…ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. चाटो मेरी चुत।… आआआहहहहहहह चाटो जोर से..। मैं झड़ने वाली हूँ चाटो जान चाटो और राजश्री हँसमुख के सर को दबाने लगी। और थोड़ी देर में ही वो शांत होने लगी। फिर वो हँसमुख को उठाई और किस करने लगी।

उधर हँसमुख का लन्ड भी पूरे गुस्से में उछल कूद कर रहा था। अब राजश्री नीचे बैठी और हँसमुख के 5 इंच के लन्ड को मुंह मे ले ली और जोर जोर से हिलाने लगी। राजश्री के मुंह से इतना लार निकल रहा था कि लार बाहर भी आने लगा था। अब हँसमुख का कमर अपने आप हिलने लगा और वह राजश्री के मुँह को चोदने लगा।

हँसमुख पीछे से अपना लन्ड राजश्री के चुत में डाल दिया और जोर जोर से चोदने लगा।

राजश्री एक हाथ से अपने चुत को भी रगड़ रही थी।

तभी हँसमुख राजश्री को उठाया और उसका मुंह आगे कर दिया। और उसकी एक टांग को पकड़कर किचन के स्लैब पर रखा। तो राजश्री खुद ब खुद आगे झुक गई। https://nightqueenstories.com

और हँसमुख पीछे से अपना लन्ड राजश्री के चुत में डाल दिया। और जोर जोर से चोदने लगा। राजश्री लगातार चिल्लाए जा रही थी आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहहह चोदो मेरे सइयाँ फाड़ दो मेरी बुर…. । मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेबी कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…. मेरी जान चोदो………… मैं झड़ने वाली हूँ मारो झटका मेरे शेर मारो और तेज मैं आ रही हूं मेरी जान आ रही हूँ। हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहह और राजश्री का चुत पानी छोड़ दिया और वह किचन के स्लैब पर निढाल हो गई।

लेकिन हँसमुख राजश्री को चोदे जा रहा था। तो राजश्री हाथ पीछे कर उसे रोकना चाही तो हँसमुख रुक गया। और अपना लन्ड बाहर खिंच लिया लन्ड बाहर आते ही राजश्री के चुत से पानी फर्श पे टपकने लगा। फिर वह नीचे बैठी और हँसमुख के लन्ड को मुँह में लेकर चूसने लगी। थोड़ी ही देर में हँसमुख उसे उठाया और किचन के स्लैब पर बैठा दिया। और उसके दोनों पैरों को खोलकर अपना लन्ड फिर से डाल दिया। जैसे ही लन्ड अंदर गया राजश्री उसे पकड़ ली और दोनो पैरों को उसके कमर पर कस के लपेट ली। अब हँसमुख चोदना शुरू किया तो राजश्री फिर से उसे भड़काते हुए चिल्लाने लगी।

तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है…मेरे राजा… मेरी बच्चेदानी में धक्का मार रहा है। आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. सच मे बहुत बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… मेरी बुर फाड़ दिया।

आआहहहहहहहहहहहहहह….. बेबी चोदो जोर से… चोदो मेरी चुत चोदो. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर जोर से चोदो मेरे शेर….. चोदो जान चोदो…. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहहह चोदो मेरे सइयाँ फाड़ दो मेरी बुर…. । मारो मेरे राजा आआहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेबी कितना अच्छा चुत चोदता है तू। …… और तभी हँसमुख बोला मैं झड़ने वाला हूँ बेबी तो राजश्री उसके कमर को पैरो से पकड़ के खिंचने लगी और अपने गांड़ पूरा दबा के आगे पीछे करने लगी और हँसमुख के लन्ड का पानी चुत में सोखने लगी।

थोड़ी देर शांत रहने के बाद हँसमुख लन्ड बाहर खिंचा तो राजश्री की चुत बिल्कुल चमक रही थी। अब हँसमुख चुत में उँगली से चोदने लगा। वह मानो मशीन की तरह उँगली से चोद रहा था। और थोड़ी ही देर में राजश्री चिल्लाते हुए झड़ने लगी ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह…. मेरी जान चोदो………… मैं झड़ने वाली हूँ मारो झटका मेरे शेर मारो और तेज मैं आ रही हूं मेरी जान आ रही हूँ। हहहहहहहहहहहहह….. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. चोदो राजा चोदो… ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई… आआआहहहहहह और राजश्री का चुत पानी छोड़ दिया। और वह हँसमुख को पकड़कर चिपक गई। थोड़ी देर ऐसे ही चिपके रहने के बाद वे अलग हुए और अपने अपने कपड़े ठीक किए। और फिर राजश्री चाय बनाने लगी। फिर वे दोनों बाहर आए और राजश्री मेरे कमरे की तरफ आ रही थी तो मैं फट से बिस्तर पर चादर ओढ़ लिया। तो वो आकर जैसे मुझे जगाई और बोली उठो शाम हो गया है चाय पियो। दोस्तों जैसे मैं चाय का कप मुँह से लगाया चुत की खुशबू उसमें से आई। अब मैं रोज यह चुदाई देखने लगा।।

और एक दिन मैं भी राजश्री को चोद दिया। और राजश्री भी बड़े मजे से चिपक के मेरे जवान लन्ड से चुदवा ली।

तो दोस्तों कैसी लगी पवित्र धाम सोसायटी की अपवित्र चुदाई। मुझे कमेंट करना और कहानी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करना। और ऐसे ही मस्त चुदाई की कहानियों को https://nightqueenstories.com पर पढ़कर मजे करना।

तो मिलते हैं जल्द ही एक और तड़कती भड़कती चुदाई की कहानी में।

 

75% LikesVS
25% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *