विधायक जी की कुँवारी बेटी को चोदा। भाग-3

विधायक जी की कुँवारी बेटी के बाद बीवी को भी चोदा। भाग-3

 

4 बार ऑन्टी झड़ चुकी थी। जब आखिरी बार झड़ रही थी तो बोली। बंटी जब तेरा लंड पानी छोड़ने लगेगा तो बताना मैं तुम्हारे लंड का पानी पीना चाहती हूँ। जवान लंड का पानी कभी नहीं पिया।

और ऑन्टी चोदते रही। करीब 5 मिनट बाद मैं बोला कि ऑन्टी मेरा लंड पानी छोड़ने वाला है। तो साक्षी ऑन्टी फट से उतरी और मेरे लन्ड को अपने मुँह में ले ली। और मैं उनकी मुँह में ही झड़ गया। ऑन्टी पूरा वीर्य निगल गई। और लंड को चाटते हुए बोली। बेटा तू बहुत अच्छा है। ना जाने कब से मेरी चुत लंड के लिये तड़प रही थी। आज तुमने सालों की चुत की प्यास बुझा दी।

 

तेरा लंड बहुत कड़क और बिल्कुल जवान मर्द वाला है।

 

फिर हम उस रात पूरी रात चुदाई करते रहे। फिर हमदोनों सुबह करीब 5 बजे एक दूसरे के बांहों में नंगे ही सो गए।

गांड चुदाई

10 बजे करीब मेरी नींद खुली तो ऑन्टी बिस्तर पर नही थी और मैं रजाई में नंगे था। फिर मैं उठा तो देखा ऑन्टी पूरी नंगी होकर गर्म पानी के शॉवर के नीचे नहा रही है। तो मैं पीछे से जाकर उनको दबोच लिया। और बाथरूम में ही उनको घोड़ी बनाकर चुदाई किया।

 

उस रात ऑन्टी ने इतना जोर जोर से कई बार चोदी थी कि पूरे दिन मेरा लंड में जलन और दर्द होते रहा।

 

हेलो दोस्तो, जैसा कि आपसब जानते हैं मेरा नाम बंटी है और एक बार फिर आपके लिए एक कहानी ले कर हाजिर हूं। मैं मथुरा का रहने वाला हूँ। और  ये कहानी मेरे क्षेत्र के विधायक जी की बेटी वन्दना और उसकी हॉट सेक्सी माँ साक्षी की चुदाई की है।

 

मैं https://nightqueenstories.com के नए पाठकों को कहानी के पहले और दूसरे भाग के बारे में थोड़ा बता दूं। और आपसे निवेदन है। इस कहानी विधायक जी की कुँवारी बेटी के बाद बीवी को भी चोदा के कहानी के पहले और दूसरे भाग को अवश्य पढ़ें तभी कहानी की असली मर्म समझ मे आएगा।

 

 दरअसल विधायक जी 2 शादी किये थे। तो पहली पत्नी और उनकी बेटी गाँव मे रहती थी। तो वन्दना भी शुरू से ही शहर में पलीबढ़ी थी। लेकिन कुछ साल पहले विधायक जी दूसरी शादी कर लिए तो उनकी पहली पत्नी बेटी को लेकर गांव गयी। और यहीं रहने लगी।  वन्दना 18 साल की मस्त चुलबुली लड़की थी। उसकी फिगर किसी हेरोइन से भी ज्यादा अच्छी थी 30-26-32 कि भरे बदन, पतली कमर, और विशाल गांड किसी को भी दीवाना बना देती थी। https://nightqueenstories.com

 

वो बेहद गोरी और सुंदर है। चुकी वो बचपन मे शहर में रही और पली बढ़ी तो उसे मॉडर्न ड्रेस पहनने का बहुत शौक है।

……

फिर हम उस रात पूरी रात चुदाई करते रहे। फिर हम।दोनों सुबह करीब 5 बजे एक दूसरे के बांहों में नंगे ही सो गए। 10 बजे करीब मेरी नींद खुली तो ऑन्टी बिस्तर पर नही थी और मैं रजाई में नंगे था। फिर मैं उठा तो देखा ऑन्टी पूरी नंगी होकर गर्म पनिनके शॉवर के नीचे नहा रही है। तो मैं पीछे से जाकर उनको दबोच लिया। और बाथरूम में ही उनको घोड़ी बनाकर चुदाई किया।

 

उस रात ऑन्टी ने इतना जोर जोर से कई बार चोदी थी कि पूरे दिन मेरा लंड में जलन और दर्द होते रहा।

 

तो आगे पढ़िए

वन्दना और साक्षी ऑन्टी की चुत चोदने के बाद माँबेटी ने कैसे एक साथ चुदवाया

तो करीब एक हफ्ते तक मेरी माँपापा मामाजी के यहाँ रहे और उस दौरान मैं और साक्षी ऑन्टी रातदिन चुदाई करते रहे। हम रात को तो नंगे रहते ही थे। दिन में भी हम एक हफ्ते तक पूरे नंगे रहे। जितनी देर हम घर मे रहते थे साक्षी ऑन्टी और मैं नंगे ही रहते थे। मैं एक हफ्ते तक साक्षी ऑन्टी के घर मे ही रहा। कभी मैं साक्षी ऑन्टी के चुत को रगड़ देता था तो कभी साक्षी ऑन्टी अपना चुत और गांड मेरे लंड पर रगड़ देती थी। जिससे मेरा लंड काला नाग की तरह फुंफकारने लगता था। और फिर मैं साक्षी ऑन्टी को चोद देता था। कई बार मैं साक्षी ऑन्टी का गांड भी मारा। वो गांड भी चुत की तरह ही पूरे जोश और मस्ती के साथ मरवाती थी।  वो भी चुदने के लिए हमेशा तैयार रहती थी। 45, 46 की उम्र में भी वो किसी 18, 20 साल की लड़की की तरह चुदवाने के लिए हमेशा तैयार रहती थी। साक्षी ऑन्टी मुझे महंगी घड़ी, आईफोन, और ब्रान्डेड जूत्ते और कपड़े दिलवाए।

उबलता चुत

एक दिन मैं साक्षी ऑन्टी से बोला कि ऑन्टी वन्दना को बुला लो। तो ऑन्टी बोली अच्छा बेटा माँ को चोद के पेट नही भर रहा तो बेटी को भी चोदेगा। चल ठीक है कल ही उसे बुला लेती हूँ। और फिर मेरे सामने ही अपने भाई को कॉल की की राजू मुझे अकेले घर काटने को दौड़ रहा है। मैं वन्दना के बिना नही रह पा रही हूँ। और अगर 2 दिन वो मेरे आँखों से दूर रही तो मैं मर जाऊँगी और रोने का नाटक करने लगी। उसका भाई बोला कि ठीक है दीदी मैं कल ही वन्दना को घर पहुँचा देता हूँ। अगले दिन मेरे माँ-पापा करीब दोपहर को 12 बजे घर पहुँचे, और 1 बजे के आस पास वन्दना भी आ गई।

 

लेकिन जैसे ही शाम को 6 बजा मेरे पापा के पास कॉल आया कि मेरे नानाजी का अचानक दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। तो तुरंत ही साक्षी ऑन्टी के 4 व्हीलर से माँ-पापा वापस मामाजी के घर चले गए।

 

उस रात मैं वन्दना और साक्षी ऑन्टी साथ ही सोए। रात को करीब 2 बजे साक्षी ऑन्टी मुझे जगाई और धीरे से बोली कि बाथरूम में जाओ मैं थोड़ी देर में वहीं आती हूँ। मैं चला गया और करीब 5 मिनट बाद साक्षी ऑन्टी भी गई। और हमदोनों जमके चुदाई किए। उस टाइम वन्दना गहरी नींद में सो रही थी। वेसे जब साक्षी ऑन्टी किचन में खाना बना रही थी तो मुझसे बोली कि जो वन्दना को चोद लो। वो कई दिनों से तुम्हारे लंड के लिए तड़पी है। मैं एक घंटे तक नही आऊंगी। तो मैं उसे चोद चुका था। फिर बाथरूम में साक्षी ऑन्टी चुदवाने के बाद मुझसे बोली कि कल तुम्हे जिंदगी का सबसे बड़ा सरप्राइज दूँगी।

 

फिर हम आकर बिस्तर पर सो गए। लेकिन करीब 4 बजे मेरी नींद खुली तो मेरा लंड पूरी तरह खड़ा था। और वन्दना का गांड मेरी तरफ था। और साक्षी ऑन्टी गहरी नींद में थी। तो मैंने देखा वन्दना पैंटी नहीं पहनी है बल्कि सिर्फ मिनी स्कर्ट पहनी है। शायद वो जानबूझ के सोने से पहले पैंटी निकाल दी थी। तो मैं पीछे से उसकी चुत में लंड घुसा दिया। और चोदने लगा। लेकिन वन्दना पहले ही जाग चुकी थी। फिर चुदाई में वो भी भरपूर साथ दी।

 

फिर मैं सुबह करीब 9 बजे उठा तो हम तीनों ने नास्ता किए। और साक्षी ऑन्टी मुझे और वन्दना को बोली कि तुम दोनों बंटी के घर जाओ। मुझे कुछ काम है तो शाम में आना। हमदोनों के लिए ये तो सोने पर सुहागा था। मैं वन्दना का हाथ पकड़ा और अपने घर आ गया। और दिन में कई बार चुदाई किए। उधर रात को करीब 8 बजे साक्षी आंटी का कॉल आया की डिनर रेडी है आ जाओ। हम डिनर किये और साथ मे सब टीबी देखने लगे। 10 मिनट बाद साक्षी ऑन्टी उठी और चली गयी और बोली कि मैं अभी आती हूँ। फिर वो जब 10 मिनट बाद वापिस आयी तो मेरी वन्दना की आँखे फ़टी की फटी रह गई। साक्षी ऑन्टी एक बड़ा बड़ा होल वाला काले रंग की जालीदार गाउन में थी। और उनकी चुचियों के निप्पल गाउन के होल से बाहर आये हुए थे। और उनकी चुत की बड़ा सा दाना क्लाइटोरिस साफ दिख रहा था।

 

ऑन्टी आयी और बोली कैसी लग रही हूँ मैं। फिर ऑन्टी ने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी गाउन उठाकर चुत पर रख दी। और रगड़ने लगी। ये सब वन्दना देखकर हैरान रह गई। उसके जुबान से कोइनवाज नहीं निकल रही थी। उसका मुँह खुला का खुला रह गया। फिर ऑन्टी वन्दना का हाथ पकड़ी और उसे उठाई और उसके मिनी स्कर्ट को ऊपर कर उसके पैंटी में हाथ डाल दी। मैं और वन्दना दोनो साक्षी ऑन्टी के इस हरकत से आश्चर्य में थे। फिर ऑन्टी बोली कैसा लगा मेरा सरप्राइज?

 

ऑन्टी वन्दना से बोली हां बेटी। अब से मैं और तुम दोनों ही साथ मे बंटी के लंड से चुदवाएँगे।

 

इतना सुनकर वन्दना भी अब सजह हो गई। और साक्षी ऑन्टी को गले से लगा ली। और मुझे भी। हमतीनों एक दूसरे के गले लगकर किस करने लगे। मैंने बोला ऑन्टीहहहहहह आप सच में बहुत हॉट और सेक्सी हो। तो साक्षी ऑन्टी बोली कि आज से मैं तुम्हारा सिर्फ साक्षी हूँ। लोगों के सामने सिर्फ ऑन्टी कहना। और बिस्तर में रंडी साक्षी। मैंने भी झट से बोला ठीक है साली रंडी साक्षी। वो बहुत खुश हो गई। और मेरे होंठो को जोर जोर से किस करने लगी। मैं भी साक्षी के मुँह में अपना जीभ दे दिया। वो मी जीभ को आइस क्रीम की तरह चूस रही थी। कभी वो अपना जीभ मेरे मुँह में दे देती थी।

Sex Hindi

और वन्दना हमदोनों के बीच मे नीचे बैठ गयी। और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी और एक हाथ की तीन उंगलिया साक्षी के भोसड़े में डाल कर जोर जोर से हिलाने लगी।

 

मैं साक्षी के चुचियों को मुँह में लेकर पीने लगा। वो आहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहहहहहहहहहह….. बंटी मेरी जान….. ओह बेबी पी जाओ मेरी चुचियों को…. जोर से पियो…. मेरी चुचियों को दोनो हाथों से भींचकर पियो…. मैं ऐसा ही करने लगा। उधर वन्दना अब मेरे लंड को हाथों में लेकर जोर जोर से हिलाने लगी। और साक्षी के एक पैर को कंधे पर लेकर उसके चुत में जीभ से चोदने लगी। साक्षी पूरी तरह से पागल हो चुकी थी।

 

और बोले जा रही थी ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेटा खा आआआ जाओ मेरी चुत….. आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चाटती है तू। चाटो रानी चाटो मेरी चुत………… (साक्षी प्यार से वन्दना को रानी बुलाती थी)… ओहहहहहहहहहहहहह बेटा।… तेरी माँ रंडी बन चुकी है बेटा….. निकाल दो अपनी माँ के चुत का सारा रस।…. और फिर साक्षी की चूत पूरी प्रेशर के साथ पानी छोड़ने लगा। …. और साक्षी वन्दना का सर जोर से अपनी चुत पर दबा दी…..  और अओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. रानी खा आआआ जाओ मेरी चुत….. आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चाटती है तू। चाटो चाटो रानी….  चाटो मेरी चुत………… ओहहहहहहहहहहहहह बेटा मैं झड़ रही हूँ…. बेटाहहहहहह…. चाटो और जोर से मेरे लाल……. खा जाओ अपनी माँ की चूत…….  तेरी बाप भड़वा है। मेरी बेटी, मेरी अभिमान…… तू बहुत अच्छी है। तेरे बाप का चुत अब तुम दोनों के नाम हुई ओहददददद……. ओहहहहहहहहहहहहह…… आहहहहहहहहहहहहहहहह…. मेरे राजा बेटे……… और साक्षी एक बार फिर झड़ गई।

 

अब वन्दना ने बोला कि बंटी मेरे से अब नही जा रहा। मेरी चुत में बहुत तगड़ी आग लगी है। मेरी चुत की कीड़े को मिटा दे। मुझे कुतिया बनाकर चोद डाल। तभी साक्षी बोली यहाँ नही, बेडरूम में चलो, असली सरप्राइज अभी बाकी है। और साक्षी मेरा लंड पकड़े बेडरूम में जाने लगी तो मैं वन्दना के चुत में उंगली डाला और उसे अपने पीछे आने को बोला।

 

जैसे ही हम बेडरूम का दरवाजा खोल प्रवेश किये हमारे ऊपर 5 किलो गुलाब के पंखुड़िया गिरी। और पूरे कमरे में सिर्फ गुलाब की पंखुड़िया थी। न तो जरा भी फर्श खाली था ना ही बिस्तर पर चादर दिख रहा था। दरअसल साक्षी दिन में ही 10 किल गुलाब मंगाई थी। कुछ गुलाब वो मसल दी थी इसलिए रूम में शिरडी गुलाग की खुशबू आ रही थी।

 

पूरा कमरा दुल्हन की तरह सजा हुआ था। साक्षी बोली कैसा लगा तुमदोनो को मेरा सरप्राइज? आज हम तीनों मिलकर एक नई जीवन की शुरुआत करेंगे। सुहागरात मनाएंगे।

Hindi sex

अब तक हमतीनों नंगे हो चुके थे। साक्षी ने वन्दना को बोली कि बेटा तुम लेटो। फिर मैंने वन्दना को थोड़ा और बेड के किनारे खींच लिया और उसकी दोनो टांगो को अपने कंधे पर रखा और एक ही झटके में पूरा लन्ड वन्दना के चुत में घुस गया। अब मैं जोर जोर से वन्दना को चोदने लगा। तो साक्षी बिस्तर पर गई और वन्दना के मुंह पर चुत रखकर रगड़ने लगी। वन्दना साक्षी के चुत को चाट रही थी, मैं वन्दना के चुत को चोद रहा था  और साक्षी वन्दना के चुचियों को दबा रही थी

 

करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद वन्दना 2 बार झड़ी और अब वो चुदना नही चाहती थी। तो मैंने उसके चुत से लंड निकाला तब तक साक्षी घोड़ी बन गई

और बोली ले बेटा अपनी रंडी साक्षी की चिकनी चुत चोद ले।

मैं बिना देर किए उसके चुत में लंड डाल के चोदने लगा।

 

वन्दना मेरी अंडकोषों को सहला रही थी, और कभी कभी साक्षी के चुत के दाने क्लिटोरिस को मसल रही थी। साक्षी जोर जोर से चिल्लाने लगी…… ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बंटी मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजाआआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… बहुत प्यासी है मेरी चूत……आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. जान मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजाआआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह… तू तो सच्चा मर्द निकला मेरे शेर….. चोदो मेरे शेर. चोदो मेरी चुत……. फाड् दो मेरी चुत को… मेरी चुत को चोद के भोसड़ा बना दो…आज मैं रंडी बन गई। इस रंडी को रोज चोदना…….ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेबी मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजाआआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. हनी मेरी जान चोदो. चुत को…………तुम्हारा लंड मेरे चुत से होते हुए अंदर मेरी गांड तक जा रहा है.. बहुत बड़ा लंड है तुम्हारा… ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. राजा मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजाआआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा चुत चोदता है तू। ……ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. बेटा मेरी जान चोदो.  आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत।  मारो मेरे राजाआआआ हहहहहहहहहहहहह…….. जोर से झटके मारो… अंदर तक धक्का मार रहा है…… बहुत मजा आ रहा है मेरे लाल……फाड् दो मेरी चुत मेरी धड़कन…… मेरी चुत की धज्जियां उड़ा दो। और ऑन्टी झड़ने लगी। साक्षी 2 बार झड़ चुकी थी। फिर वो बोली

hard sex

बंटी अब अपना लन्ड मेरी गांड में डालो। और चोदो जोर जोर से। मैं झट से बिना देर के ढेर सारा थूक साक्षी के गांड और अपने लंड पर लगाया। और चोदने लगा। साक्षी बोले जा रही थी।

 

ओहहहहहहहहहहहहह बेटा। …..  अओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. मेरे शेर मारो मेरी गांड… आआआ चोदो मेरी गांड……. आहहहहहहहहहहहहहहह…… बेटा कितना अच्छा गांड मारता  है तू। मारो बंटी …. अपने मोटे लंड से मेरी चुत फाड़ दे।. तेजी से मारो मेरी गांड और………… उधर वन्दना भी एक बार फिर से झड़ने वाली थी।… करीब 10 मिनट बाद साक्षी फिर झड़ने लगी… फिर से झड़ने लगी। ओहहहहहहहहहहहहह बेटा मैं झड़ रही हूँ बेटा…. चोदो और जोर से मेरे लाल……. चोद ले अपनी रुखसाना की चूत और गांड……. ये चुत और गांड अब तेरा नाम हुई मेरे राजा……. ओहहहहहहहहहहहहह…… आहहहहहहहहहहहहहहहह…. मेरे राजा बेटे………. तभी मेरा लंड भी साक्षी के गांड में वीर्य छोड़ने लगा। और फिर हमदोनों शांत हो गए।

 

तो ये थी थ्रीसम चुदाई। तो देखा आपने पहले मैंने वन्दना को कैसे चोदा, फिर साक्षी मुझसे कैसे चुदवाई, फिर साक्षी और वन्दना दोनो एकसाथ चुदवाई।

 

तो ये थी विधायक जी की कुँवारी बेटी और बीवी की चुदाई की कहानी।

 

तो दोस्तों कहानी को शेयर करना और कमेंट करके बताना कहानी कैसी लगी। और इस कहानी का सबसे अच्छा भाग कौन सा है।

विधायक जी की कुँवारी बेटी को चोदा। भाग-1

विधायक जी की कुँवारी बेटी को चोदा। भाग-2

विधायक जी की कुँवारी बेटी को चोदा। भाग-3

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं |

0% LikesVS
100% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *