चाची की प्यासी चूत की चुदाई

 1,222 

चाची की प्यासी चूत की चुदाई

मेरे चाचा दिल्ली में सरकारी अधिकारी थे। अच्छा सैलरी था आउट इनकम भी जबरदस्त था। इस कारण वह दिल्ली के पॉश इलाके में बड़ा सा मकान ले लिए थे। उस बंगलो में सारी सुख सुविधाएं थी। यहां तक कि बाद से गार्डन और स्विमिंग पूल भी।  मेरे चाचा की उम्र 53 साल है और मेरी चाची की उम्र 42 साल। मेरी चाची का नाम साधना है। मेरी चाची भी दिल्ली में आयकर विभाग में अधिकारी हैं।

मेरे चाचा चाची के एक लड़की थी जिसकी शादी हो गयी थी उसका हस्बैंड को अमेरिका में जॉब मिल गया तो वो उसे लेकर वही शिफ्ट हो गए। आज से करीब 15 साल पहले जब चाचा 38 साल के थे तब उनका रोड एक्सीडेंट हुआ था। तब से ही उनकी तबियत खराब रहने लगी। और पिछले 7, 8 सालों से तो वो बीएड रेस्ट में ही है। हालांकि उनको सैलरी अभी भी मिलती है और भी कमाई होती है। अब चाचा को अक्सर हॉस्पिटल ले जाना पड़ता है। इसलिए चाची को बहुत परेशानी होने लगी।

word image 5071 3

चाचा एक तो उम्र में चाची से काफी बड़े थे। ऊपर से ढेर सारी बीमारियां और चाची अभी बिल्कुल जवान थी उन्हें तो रोज चुदाई होता तब भी कम पड़ता। ऐसी थी मेरी चाची। चाची अक्सर मुझसे हंसी मजाक करती थी। और मुझे। ही चाची बहुत अच्छी लगती थी। मैं चाची को पसंद करने लगा था। मुज्बे दिल्ली का हवा लग गया था। मैं अक्सर उन्हें नहाते हुए और कपड़े चेंज करते हुए देखता था। कई बार मैं उन्हें नंगे देखा था। यहाँ तक कि उनको हस्तमैथुन करते हुए भी अब मैं कई बार देख चुका था। वो कभी उँगलियों से तो कभी नकली लंड से अपने चूत को चोदती थी। अब मैं चाची को चोदने का प्लान बनाने लगा। उनके चुदाई के सपने देखने लगा।

तो चलते हैं चाची की चूत की चुदाई की ओर

चाची की प्यासी चुत की चुदाई: हेलो दोस्तों मेरा नाम विशाल है मैं 21 साल का हूँ। हम बिहार के रहने वाले हैं। एक दिन साधना चाची का मेरी मॉम के पास कॉल आया और वो बोली कि दीदी विशाल को दिल्ली भेज दो यही एडमिशन करवा देंगे पढ़ाई भी करेगा और हमारे साथ रह भी लेगा। अब इनकी (चाचा जी) की तबियत ज्यादा खराब रहती है तो हमारा थोड़ा हेल्प भी हो जाएगा। तो मम्मी बोली की विशाल जाना चाहे तो हमे कोइ प्रॉब्लम नहीं है। फिर माँ मुझसे बोली और करीब एक हफ्ते बाद का चाची ने राजधानी एक्सप्रेस में मेरा टिकट करवा दी। मैं दिल्ली पहुँच गया। चाची मुझे स्टेशन लेने आयी थी। मैंने काफी दिन से चाची को नही देखा थ। लेकिन जब देखा तो देखते रह गया। क्योंकि मैंने सोचा कि चाची बूढ़ी हो गई होगी। लेकिन वो तो 30 साल की जवान खूबसूरत लड़की लग रही थी।

चाची ने मेरा नीट में एडमिशन करवा दिया। मैं दिल्ली में रहने लगा। धीरे धीरे मेरी चाची की ओर मेरा आकर्षण बढ़ने लगा।और धीरे धीरे मेरे चाचा की समस्या बढ़ती गयी और डॉक्टर ने उनको कुछ महीने के लिए बेड रेस्ट बोल दिया. चाचा को अक्सर हॉस्पिटल ले जाना होता था। और चाचा को बेड से उठाने और बिठाने में मदद चाहिए होती थी.

चाचा को उठाते समय कई बार चाची के बूब्स मेरे बदन से टच हो जाते थे. कई बार तो मैं बहाने से चाची के चुचियों को टच कर लेता था. चाची कुछ नहीं बोलती थी. शायद उनको भी अच्छा लगता था। आखिर उनकी चूत की भी चुदाई तो पिछले 10 , 12 सालों से ठीक से नही हुआ था।

Meet Women Online!!
InstaSexBanner

एक दिन चाचा को लेकर कार में हॉस्पिटल जा रहे थे तो मेरे बगल में चाची मुझसे चिपक के बैठी थी। क्योंकि चाचा को आराम से बैठना होता था। तो चाची की बूब्स मेरे हाथों में टच हो रहे थे उनके जांघे भी मेरे जांघो से सटा हुआ था इस कारण मेरा लंड खड़ा हो गया। और वो साफ दिख रहा था। और चाची इस चीज को नोटिस कर ली उनका ध्यान मेरे खड़े लंड की ओर गया तो वो धीरे से अपने दुपट्टे से उसे ढक दी ताकि चाचा की नजर ना पड़े। अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था तो मैं धीरे धीरे अपने कोहनी से चाची की बूब्स को रगड़ने लगा चाची कुछ नही बोल रही थी।

रात का समय था चाचा तो एक तरफ सर करके सो गए थे और अंधेरे के कारण ज्यादा कुछ दिखाई भी नहीं दे रहा था इसका फायदा मैंने उठाया और धीरे से मैं चाची के दुपट्टे के अंदर से  बूब्स की ओर हाथ बढ़ा दिया.

जैसे ही मेरा हाथ चाची के बूब्स पर लगा तो वो थोड़ी हिल सी गयी. मगर उन्होंने कुछ कहा नहीं.

अब मैंने धीरे धीरे चाची के बूब्स पर हाथ से सहलाना शुरू कर दिया. मैं एक हाथ से चाची के मोटी जांघो को भी सहला रहा था। .

मन कर रहा था कि अभी चाची को चोद दूं  चाची कुछ नहीं बोल रही थी. मैं लगातार चाची के चुचियों और जांघो को मसल रहा था।

अब चाची भी गर्म होने लगी थी। लेकिन तभी हॉस्पिटल आ गया. हमारा मजा खराब हो गया.वो कहते है ना सब गुड़ गोबर हो गया।

मगर जब चाची कार से नीचे उतरी तो वो मुझे देख कर मुस्करा रही थी. मैं समझ गया कि चाची के अंदर भी प्यास है.

चाचा के चेकअप के बाद हम लोग फिर से घर की ओर चलने के लिए तैयार थे. मुझसे तो अब सब्र नही हो रहा था। जैसे ही हम लोग कार में बैठे चाचा सो गए।

word image 4860 5

और मैं अपना खेल शुरू किया। अब मैं काफी कस कर चाची के बूब्स को दबा रहा था. चाची भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. अब धीरे से मेरा एक हाथ चाची की चूत पर पहुंच गया था. मैं अपने हाथ से धीरे धीरे चाची की गीली चूत को मसलने लगा.

दस-पंद्रह मिनट में ही मैंने चाची की चूत को रगड़ कर उनकी चूत का पानी निकाल दिया. उनकी चूत गीली हो गयी. उसके बाद हम लोग घर आ गये। मैं तो चाची को चोदने के लिए बेकरार हो रहा था मुझसे इंतजार नहीं हो रहा था। उस दिन रात में चाची चाचा के सेवा में ही बीता दी तो ज्यादा टाइम नहीं मिला

अगले दिन सुबह मैं क्लास नहीं जाने का प्लान बनाया। और चाची को बताया कि आज मेरा मन कॉलेज जाने का नही कर रहा है। वो बोली ठीक है आज तुम आराम करो। फिर मैं नाहा धोकर चाची के पास चला गया, चाची मेरे चाचा को नाश्ता करवा रही थी.

मेरे जाने पर चाची ने मुझे भी नाश्ता करने के लिए कहा. मैंने भी नास्ता किया। अब मैं इंतजार कर रहा था कि जल्दी से चाची मेरे चाचा को दवाई दे दे। क्योंकि दवाई खाने के बाद चाचा को नींद आ जाती थी. उनकी दवाईयां काफी हैवी डोज की थीं. और फिर वो 4, 5 घंटे सोते थे।

मैं भी थोड़ी देर चाचा के पास ही बैठा। थोड़ी देर के बाद मैंने चाचा से कहा- आप आराम कर लो और सो जाओ.

अब मैं सीधा चाची के रूम में पहुंचा तो वो पहले से ही बेड पर पेट के बल लेटी हुई थी. मैं बिना समय गवाएं चाची के ऊपर चढ़ गया। और उनकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया। पलट कर चाची ने कहा- मुझे तुम्हारा ही इंतजार था.

बस फिर क्या था, हरा सिग्नल मिल चुका था।  मैंने चाची को अपनी बांहों में ले लिया और उन्होंने भी मुझे कस लिया अपने आगोश में, हम दोनों एक दूसरे से लिपटने लगे और एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे.

फिर मैंने चाची के चुचियों को दबाना चालू किया. कभी मैं उनके होंठों को चूस रहा था तो कभी उनके बूब्स को दबा कर उनको किस कर देता था. उनकी गर्दन पर कभी काट लेता तो कभी गाल पर चूम लेता. फिर हम।लंबा किस करने लगे मैं अपना जुबान चाची के मुँह में दे दिया वो मजे से मेरे जिभ को चूसने लगी। चाची को भी मजा आने लगा.

चाची सिर्फ जालीदार मैक्सी पहनी थी उसके नीचे ना ब्रा ना पैंटी पहनी थी। जब मैं चाची को सीधा किया तो दंग रह गया उनकी चुचियाँ साफ दिख रही थी उनकी चूत बिल्कुल साफ दिख रही थी। अब मैं बिना देर किए उनकी मैक्सी को उतार दिया.. मैक्सी उतारते ही चाची पूरी की पूरी नंगी हो गयी. चाची के चूत पर  एक भी बाल नही थे। वो आज ही शेव की थी। शायद वो भी चुदवाने के लिए तैयार थी।

word image 4813 2

दोस्तो, जिस चाची के बदन को मैं छुप-छुप कर देखा करता था, आज वो मेरे सामने पूरी नंगी लेटी हुई थी. जिस चाची की चूत के बारे में सोच कर मैं मुठ मारा करता था, वह चूत आज मेरे लंड से चुदने के लिए तैयार थी.

चाची बोली- विशाल मैं बहुत सालों से प्यासी हूँ मेरी चूत रेगिस्तान की तरह तप रही है कई सालों से इस बंजर जमीन में पानी की बूंदे नहीं पड़ी। आज मेरी प्यास को बुझा दो, कल जब मैंने तुम्हारा लंड गाड़ी में महसूस किया था, तब से ही मेरी चूत में आग लगी हुई है. इसको चोद कर शांत कर दो अब। मेरी गर्म प्यासी चूत की ज्वाला बुझा दो।

ये सुन कर मैं चाची के नंगे जिस्म पर टूट पड़ा. कभी उनके बूब्स को चूसने लगा तो कभी उनको जोर से दबाने लगा. वो भी मस्ती में सिसकारियां भरने लगी. और aahhhhaaaahhhb aaaahhhhhh aaahhhhhhh uuufffffff, uuhffffffffff yeah baby i like this  जैसी आवाजे निकालने लगी।

15 मिनट तक यही चलता रहा. मैं चाची के बूब्स को मसलकर लाल कर दिया. फिर मैं उनके पूरे बदन को चूमते हुए नीचे जाने लगा. उनकी नाभि को चूमा और उसमें अपनी गीली जुबान से काफी देर चाटा।  फिर मैं नीचे उनकी चूत पर पहुंच गया।

उनकी जांघों के बीच में चाची की खुशबूदार चूत को सूंघा. फिर मैंने अपने मुँह को चाची की चूत पर रख दिया. उनके बदन में करंट सा दौड़ गया. मैं जीभ डाल कर चाची की चूत को चाटने लगा। मैं पूरा जुबान अंदर तक डाल रहा था।

चाची ने मेरे मुंह को अपनी जांघों के बीच में दबा दिया. मैं भी पूरे जोश में चाची की चूत को चाटता रहा. उनकी चूत में जीभ को अंदर डाल डाल कर जीभ से चूत को चोदता रहा. कभी उँगलियों से तो कभी जुबान से चोदता रहा। करीब   दस मिनट बाद चाची झड़ गयी।

मैंने चाची की चूत से निकला सारा रस पी लिया। बहुत मजेदार बहुत टेस्टी पानी था। क्या बताऊँ दोस्तों ऐसी जन्नत मुझे कभी नसीब नहीं हुआ था।  उसके बाद चाची शांत हो गयी. मगर मेरा लंड अभी तना हुआ था. मैंने चाची के हाथ में अपना लंड दे दिया। चाची मेरा लंड अपने मुँह में ले ली। और मेरा लंड चूसने लगी। अब मैं चाची के सिर को पकड़ा और उनके गले तक लंड को धकेलते हुए उनके मुंह को चोदने लगा।

इससे चाची की आंखों में पानी आने लगा और उनका मुंह लाल हो गया लेकिन फिर भी ऐसा लग रहा था कि जैसे उनको इसमें मजा आ रहा है. मेरा 7 इंच का लंड चूसते हुए चाची मजा ले रही थी और 10, 15 मिनट के बाद मैं भी चाची के मुंह में ही झड़ गया.

चाची बोली- ये सब कहां से करना सीखा है तूने? मैंने कहा- चाची, मैं तो बहुतों को अपना लंड का पानी पिला चुका हूं. बहुत एक्सपीरियंस है मुझे लंड चुसवाने का।

चाची ने मेरे लंड को छेड़ते हुए कहा- तभी इतना मोटा हो गया है। तुम्हारा लंड मूसल की तरह मोटा है। यह जब जिसकी चूत में गई होगी वो तो चुदाई का मस्त आनंद ली होगी

अब चाची फिर से  मेरे लंड से खेलने लगी। और मेरे लंड को हाथों में लेकर सहलाने लगी। फिर मुंह में लेकर चूसने लगी. मेरा लंड  थोड़ी ही देर में फिर से खड़ा हो गया।

फिर चाची बोली- विशाल अब मेरी चूत की प्यास को बुझा दो. अपने लंड से चोद कर इसको खुश कर दो। तुम्हारे चाचा ने तो मुझे 5,6 सालों से नहीं चोदा है। मेरी चूत बहुत प्यासी है। अपनी चूत में उंगलियां डाल डाल के थक गई हूं। आज मुझे कड़क लंड मिल ही गया।

चाची की तड़प देख कर मैं भी हैरान रह गया।  फिर मैंने पूछा चाची कौन सी स्टाइल में चुदना चाहोगी। तो उन्होंने खुद कहा कि सबसे पहले मैं तुम्हारी कुतिया बन जाती हूं। और तुम पीछे से मेरे पयासी चूत को कुत्ते की तरह चोदो। चाची तुरंत  गांड उठाकर झुक गयी. मैंने अपने लंड को चाची की चूत पर सेट किया। चूत पर लंड लगा कर मैं उनकी चूत को सहलाने लगा.

चाची के मुंह से तड़प भरी सिसकारियां निकलने लगीं- आह्हहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहठहहहहहहह  अब और मत तड़पाओ मेरे राजा। मेरी चूत लंड की बहुत भूखी है। उसे अपने लंड से फाड़ डालो। मेरी चूत की धज्जियां उड़ा डालो। मेरी चूत में अपना ये लंड दे दो. जल्दी से चोद दो. अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है मेरे  हमदम। चोद दो मुझे।

मैंने एक करारा धक्का चाची की चूत में मारा और अपना लंड उनकी चूत में घुसा दिया. मेरा लंड आधा ही अंदर जा पाया. चाची आज तक सिर्फ चाचा के लंड से ही चुदी थी। और वो बताई थी कि चाचा का लंड 4 इंच से भी छोटा है।

शायद इसीलिये चाची की चूत में लंड पूरा नहीं गया था।  चाची की चूत बहुत टाइट थी बिल्कुल किसी 12 साल की लड़कीं की तरह। . एक तो चाचा का लंड पतला था और वो ज्यादा चोद भी नहीं पाते थे. इसलिए जब मैंने लंड उनकी चूत में डाला तो चाची की चीख निकल गयी।

word image

चाची बोली- तुम्हारा लंड बहुत मोटा और लंबा है। धीरे धीरे करों। दर्द हो रहा है

उनके मुंह से दर्द भरी आहें सुनकर मैं और ज्यादा जोश में आ गया. मैंने एक धक्का और मार दिया. उस धक्के में मैंने पूरा लंड चाची की चूत में घुसेड़ दिया.

अब चाची को अपनी चूत में मेरा लन्ड बच्चेदानी तक महसूस हो रहा था. अब मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी। और चाची की चूत को चोदने लगा. चाची को दर्द तो हो रहा था लेकिन वो चाचा के उठ जाने के डर से ज्यादा जोर से नहीं आवाज कर रही थी.

चाची के मुंह से अब धीरे धीरे आवाजें आने लगीं- आह्हहहहहहहहहहहहहह … आहहहहहहहहहहहहहहह… ओहहहहहहहहहहहहह… आईसीई ईईईकीईईई … आह्हहहहहहहहहहहहहहह… आराम से बेटा आराम से चोदो।… ऊन्हहदहठहजहदहठहज … हाह्हहहहहहहहहहहहहह … धीरे से, उफ्फफ़फ़फ़फ़…ऐसा करते हुए चाची मेरे लंड से चुदने लगी.

कुछ ही देर में चाची शेरनी की तरह गुर्राने लगी।. अब वो सिसकारते हुए कह रही थी- आह्हहहहहहहहहहहहहह … और तेज मेरे राजा और तेज चोदो। जीवन में आज पहली बार असली मर्द मिला है। ये लंड मुझे जवानी में क्यों नहीं मिला। चोदो विशाल चोदो मेरे राजा aahhhhhhhhhhhhh chodo. … आह्हhhhhhhhhhhh  और तेज … करो … जोर से …chodoo आह्हहहहहहहठहहज … अम्म mmmhhhhhहहहह… yeah baby fuck me. Hard fuck baby fuck my king. Fuck may pussy. Oh yeah baby hard fuck. …. हाय बहुत मजा आ रहा है जान चोदो पूरा जोर लगा के  चोदो जान चोदो।…बहुत मजा आ रहा है.

चाची के ये कामुक सिसकारियां अब मुझे भी चरम सीमा की ओर ले जा रहे थे. मैं पूरे जोश में चाची की चूत में लंड को घुसेड़ रहा था। चाची भी पुर जोर जोर से अपनी गांड उछाल उछाल के चुदवा रही थी। करीब 25 मिनट की चुदाई के बाद। चाची 3 बार झाड़ चुकी थी।

उसके बाद मैं भी चाची की चूत में ही झड़ गया. मैंने अपना माल चाची की चूत में गिरा दिया. जब चुदाई रुकी तो हम दोनों ही बुरी तरह से हाँफ रहे थे. मैं चाची के ऊपर बेसुध पड़ा था। और चाची मेरे गालों को गर्दन को होंठो को।चूम रही थी और हांफ रही थी।

चाची बोली- तुम तो गजबनके मर्द हो। तुम्हारी बीवी तो तुमसे हमेशा ही खुश रहेगी। जिस लड़की के चूत में तुम्हारा लंड घुसेगा वह बहुत खुशनसीब होगी।

ये बोल कर चाची ने मेरे लंड की ओर हाथ बढ़ाया और उसको चूम लिया. चूमते हुए चाची बोली- तुम्हारा ये औजार तो बहुत काम का है. ये तो मस्त चोदता है.

फिर चाची ने मेरे लंड को मुंह में ले लिया और चूसने लगी. मेरा लंड एक बार फिर से खड़ा हो गया चाची की चूत को चोदने के लिए. मैंने एक बार फिर से चाची की चूत चोदी। और गांड भी मारा। उनकी गांड चोदने में तो और ज्यादा मजा आया। क्योंकि वो बिल्कुल टाइट था। अब हमारी चुदाई का सिलसिला रोज कई कई बार चलता है।

दोस्तो, ये थी मेरी स्टोरी चाची की चुदाई की।. आपको मेरी चाची की चुदाई कैसी लगी, मुझे इसके बारे में जरूर बतायें. मुझे आप लोगों की राय का इंतजार रहेगा।।

तो दोस्तों ऐसे ही मजेदार चुदाई सेक्स कहानियों के लिए https://nightqueenstories.com के अन्य पेज पर जाएं।

हम आपको पूरा यकीन दिलाते हैं आपकी पसंद की हर कहानियां लेकर आएंगे। और चुत औऱ लन्ड की गर्मी शांत करते रहेंगे।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें। मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “उड़ते प्लेन में चुदाई”

हिंदी की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे Indian Antarvasna Sexy Hindi Seductive Stories

इंग्लिश की कहानियों के लिए यहां क्लिक करे  Best Real English Hot Free Sex Stories

93% LikesVS
7% Dislikes

3 thoughts on “चाची की प्यासी चूत की चुदाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *