कैमरामैन कि चुदाई की कहानी

 298 

पत्रकार की चुत की तपिश ने कैमरा मैन का लन्ड पिघला दिया।

https://nightqueenstories.com के सभी प्यारे पाठकों को मेरा नमस्कार। कैसे हो दोस्तों उम्मीद करता हूँ सब खैरियत से होंगे।

दोस्तों ये कहानी मेरी और मेरा कैमरामैन सौरव का है।

दोस्तों मेरा नाम अरफा खान है और मैं एक पत्रकार हूँ। पूरी दुनिया मे भ्रमण करती हूँ। मेरी उम्र 42 साल है। लेकिन मेरी फिटनेस मेरी उम्र छिपा देती है। और मैं 30 के आस पास की दिखती हूँ। वेसे तो मैं भरे बदन की हूँ लेकिन बिल्कुल फिट हूँ। जो मेरे बदन में सबसे खास है वो है मेरी गांड़ मेरी गांड़ की साइज 42 इंच है। लेकिन कमर 30 इंच की होने के कारण मेरी गांड़ बहुत चौड़ी दिखती है। और मैं जिम में सबसे ज्यादा अपनी गांड़ को चौड़ा करने और कमर को पतला करने पर ध्यान देती हूँ।

मेरे प्यारे दोस्तों मेरे हस्बैंड से हमारा तलाक हो गया है। मैं 20 साल की उम्र में उनसे शादी की थी तब वे मुझसे 22 साल बड़े थे। हमारा लव मैरिज हुआ था। मेरे कॉलेज में वो पढ़ाने आते थे और तब मैं उनकी तरफ अट्रैक्ट हो गई। और जल्द ही हम शादी कर लिए। वैसे तो वो पहले से शादी शुदा थे। लेकिन मुझसे मिलने के बाद वो अपने बेगम को तलाक दे दिए।

हमारी शादी शुदा जिंदगी शुरू में तो अच्छी कटी लेकिन 4,5 साल बाद खत्म होने लगा। क्योंकि मेरे शौहर अब मुझे चोद नही पाते थे। मैं जब 25 कि हुई तो वो 47 के हो चुके थे और उन्हें शुगर की बीमारी भी पहले से ही थी। तो अब उनके लन्ड में थोड़ा भी जोर नही था। ऐसा नही था कि उनका लन्ड नही खड़ा होता था। लेकिन वो 5, 6 धक्के मारने के बाद ही झड़ जाते थे। कब तक मेरी चुत चुदाई के लिए तैयार होती थी तब तक वो खल्लाश होकर सो जाते।

अब मुझे खुद पर शर्मिंदगी होने लगी कि मैं अपने घरवालों के खिलाफ जाकर एक बूढ़े से शादी करके गलती की थी।

मैं जब 27 कि हुई तो मैं उनसे तलाक ले ली। मेरा एक बेटा है जो दरअसल मेरे शौहर का नही है बल्कि जब मैं 24 साल की थी तो मेरी एक लोकल न्यूज़ चैनल में जॉब लगी तो उसका मालिक मुझे चोदकर ही नौकरी दिया था बाद में वो मुझे कई बार चोदा था। तो मेरा बेटा भी उसी का है।

और एक दिन मैं इसका खुलासा कर उससे जबरदस्त पैसे ऐंठने वाली हूँ क्योंकि मेरे बेटे को उसका हक मिलना चाहिए।

कैसे मैं अपनी चुत की तपिश अपने कैमरामैन के लन्ड से शांत करवाई

दरअसल मैं एक पत्रकार हूँ और चुत के दम पर ही नौकरी पाई तो और शौहर के हिंजड़ेपन ने मुझे पूरा रंडी बना दिया। मैं अब कभी भी किसी से चुद जाती हूँ। मैं बहुत सेक्सी और हॉर्नी हूँ। मैं भले 42 की हो चुकी हूं लेकिन मेरा तन और मन आज भी 20 साल का ही है। और मैं रोज 3, 4 बार अपनी चुत में गाजर मूली डालकर चुत की प्यास बुझती हूँ। मैं अपने चुत के दम पर आज दुनिया के टॉप पत्रकारों में गिनती होती है। और अब मैं एक पोस्ट के लाखों रुपए लेती हूँ। और मुझसे आर्टिकल लिखवाने के लिए लम्बी इंतजार करना पड़ता है।

ये कहानी आज जे 8 साल पहले की है। मैं एक प्रोग्राम के लिए ऑस्ट्रेलिया गई हुई थी। मैं भारत के प्रधानमंत्री का दौरा कवर करने गई थी। उस वक़्त मैं एक बड़े चैनल में काम कर रही थी। और मेरे साथ एक कैमरामैन गया हुआ था जिसका नाम सौरव था। और वो मात्र 22 साल का था। और नया नया चैनल में आया था।

तो मैं फुरसत पाकर एक सुनसान समंदर बीच ओर मजे करने चली गई। सोची वहां एकांत में बैठकर एन्जॉय करूँगी और तैर भी लेंगे। तो मैं 10 बजे बीच पर पहुच गई। वहां बहुत ज्यादा भीड़। भाड़ नही थी क्योंकि वो बीच थोड़ा दूर था। और वहां वही जाते थे जो एकांतवास पसन्द करते थे। जो कपल थे वे बिल्कुल अर्धनग्न थे। ज्यादातर लड़कियां बिना ब्रा के सिर्फ पैंटी में थी और लड़के अंडरवियर या शॉर्ट्स में थे।

पत्थर के आड़ में एक कपल चुदाई कर रहे थे और लड़की चीला रही थी फक मि…. बेबी… हार्ड फक हनी ……

तो मैं भी बिकनी में आ गई। और पानी मे तैरने चली गई। काफी देर तैरने के बाद मैं रेत पर आकर लेट गई और सनबाथ लेने लगी। फिर मेरा मन थीदा टहलने का हुआ तो मैं थोड़ी दूर तक टहलते हुए चली गई। वहां एक पत्थर था। मैं उधर बिना ध्यान दिए उससे आगे बढ़ी तभी मेरे

कानों में फक मि…. बेबी… हार्ड फक हनी ……..

की आवाज सुनाई दी। और मैं जब उधर मुड़ के देखी तो मेरे होश उड़ गए। वहां एक लड़की पत्थर के ओट में लेटी थी और लड़का उसे चोद रहा था। वे दोनों अंग्रेज ही थे। शायद वे लोकल रहे हों।

और मैं तेजी से वहाँ से आगे बढ़ गई। और आगे जाकर एक नारियल पेड़ के ओट में होकर उनका चुदाई देखने लगी। और मेरे भी चुत में खुजली होने लगी। मन तो किया कि अभी जॉन और उस लड़की को हटाकर उसका लन्ड अपने चुत में ले लूं। और फिर मेरी हाथ अपने आप ही चुत पर चली गई। मैं अपनी चुत को सहलाने लगी। वे करीब 10 मिनट तक चुदाई किये और फिर थोड़ी देर रुकने के बाद वहां से चले गए। तो मैं भी थोड़ी देर बाद ही वहां से वापस आने लगी। और उस पत्थर के पास पहुँची तो मुझसे रहा नही गया तो मैं उसी जगह पहुच ही जहाँ वे चुदाई कर रहे थे। वहां एक कंडोम पड़ा हुआ था और वह बिल्कुल चमक रहा था उसपर अभी अभी गाढ़ा द्रव लगा हुआ था और जिसमे वीर्य भरा हुआ था। जाहिर था वो बिल्कुक ताजा था और उन्होंने ही चुदाई करने के बाद फेंक दिया था। मैं उस कंडोम को उठाई और सूंघने लगी। दोस्तों उस कंडोम से आ रही मादक खुशबू मुझे मदहोश कर दी। अगर अभी कोई मर्द आकर मुझसे चुदाई के बारे में कहता तो मैं बिना कुछ बोले चुदवा लेती।

फाइनली मैं होटल पहुँची तो शाम के 4 बज चुके थे। तभी सौरव आया और बोला कि तैयार हो जाओ हमे 6 बजे का समारोह कवर करने जाना है। फिर हम चले गए। चुकी मैं ऑस्ट्रेलिया में थी तो मैं भी खुल के जीना चाहती थी सो मैं बिल्कुक डीप गले की ब्लाउज पहनी जिसमे से मेरी आधी से ज्यादा चुचियाँ दिख रही थी। मैं साड़ी भी बिल्कुल नीचे बंधी थी जिससे मेरी पीछे की कमर के पास की टैटू दिखाई दे रही थी। मैं रास्ते मे गाड़ी में नोटिस किया था कि मेरा कैमरामैन सौरव बार बार मेरी चुचियों और नाभि को देख रहा था।

वहां पहुँचने के बाद मैं ओवर कोट पहन ली थी जिसे मैं विसुद्ध संस्कारी भारतीय नारी लग रही थी।

और जब और इसकी मुझे काफी तारीफ भी मिली और वापस इंडिया आने के बाद मेरी प्रोमोशन भी जो गई। कबीर ये अलग विषय है।

तो हम कार्यक्रम खत्म होने के बाद वापस गाड़ी में आई तो ओवरकोट उतार दी। और फिर से मैं सौरव को अपनी कड़क चुचियों का दर्शन देने लगी। वह बार बार मेरे चिकनी कमर और नाभी को भी देख रहा था।

और फिर हम होटल पहुँचे तो रात के 12 बज चुके थे। होटल पहुँचने के बाद मैं अपने रूम में आ गई जो 7 फ्लोर पर थी और सौरव का रूम 11वीं मंजिल पर था। तो वह चला गया। अब मैं अपने कपड़े उतार कर फोल्ड करने लगी मैं सिर्फ पैंटी में उस टाइम थी। क्योंकि मैं ब्रा पहन के गई नही थी। तो ब्लाउज उतारने के बाद मैं ऊपर से नंगी हो गई थी। चुकी कार्यक्रम खत्म हो गया था तो लेकिन हमारा प्लानिंग एक दिन रुककर घूमने का था। तो मैं साड़ी फोल्ड कर ब्रीफकेस में डाली और बीएड पर बैठ के सिगरेट सुलगा ली। लेकिन सामने जब मेरी नजर गई तो अनायास हसी आ गई। सामने मिरर था जिसमे मेरी गोल मटोल नंगी चुचियाँ साफ दिख रही थी। फिर मैं अपने चुचियों को मसलते।हुए सिगरेट का आनंद लेने लगी। लेकिन जल्द ही मेरी चुत गीला होने लगा। और मुझे दिन का वो चुदाई का सीन दिखने लगा। और उस कंडोम की खुशबू। अब मैं अपनी पैंटी में हाथ डालकर चुत मसलने लगी तभी मेरा ध्यान सौरव पर गया।

और मुझे निर्णय लेने में।एक सेकंड का भी देर नही लगा। वेसे सौरव मुझसे करीब 12 साल छोटा था। लेकिन मुझे उसकी फिक्र नही थी। मैं फोन उठाई और उसका नम्बर मिला दी। वो कॉल पिक किया तो मैं बोली क्या कर रहे हो। तो वो बोला कुछ नही बस लेटा हूँ। तो मैं बोली मेरे रूम में आ सकते हो मैं बोर हो रही हूँ। चुकी मैं उससे काफी सीनियर थी तो वो मना नही किया। और बोला जी मैम आ रहा हूँ। तो मैं फट से गाउन पहन ली। और दरवाजा का लॉक खोल दी और बिस्तर पर आ के बैठ गई।

वह आया तो नॉक किया तो मैं बोली खुला है आ जाओ। वह अंदर आया तो मैं देखी वह टी शर्ट और शॉर्ट्स में है। फिर मैं बोली बैठो। तो वह चेयर पर बैठ गया। हलाक़े मैं चाहती थी वो बिस्तर पर बैठे। मौ जो गाउन पहनी थी दरअसल वो गाउन का अंदर का हिस्सा था जो सिर्फ गांड़ तक ही रहता है तो मेरी टांगे बिल्कुल नंगी थी। और वह मेरे मोटी मोटी जांघो को घूर रहा था। फिर वह बोला क्या हुआ मैम मुझे क्यो बुलाया है। तो मैं बोली कि यार मैं बोर हो रही थी तो सोचा तुम्हारा कम्पनी मिल जाए। बस इसीलिए। फिर मैं उससे पूछी की तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है तो वह शर्माते हुए हाँ बोला। तो मैं पूछी कौन है कहाँ रहती है। तो वह बताया कि वह मेरी क्लासमेट थी और अब वो भी जॉब पा गई है और मुम्बई में रहती है। हमारी बातचीत होती है। और कभी का ही मुलाकात भी। तो मैं सीधे पॉइंट पर आ गई और बोली तुम देखने मे बहुत सीधे सादे लगते हो और बहुत चॉकलेटी हो। तुम्हारी गर्लफ्रेंड खुशनसीब है। फिर मैं बोली बिस्तर पर बैठो उतना दूर हो तेज बोलना पड़ रहा। तो वह आ गया और मेरे पैरों साइड बैठ गया। तो मैं पूछी उसके साथ क्या क्या किये हो तो वो शर्मा गया और नजरें नीची कर ली। तो मैं बोली ओह कम ऑन सौरव इसमें शर्माने की कोई बात नही। भूल जाओ की मैं तुमसे सीनियर हूँ यहां हम ही हैं तो बस एक दोस्त समझो मुझे।

फिर मैं दुबारा वही पूछी तो वो बोला कि सबकुछ। तो मैं बोली नॉटी बॉय। फिर रुककर मैं पूछी सबकुछ में क्या क्या बताओ ना। वज शर्मा रहा था। तो मैं ही बोली उसके साथ कितनी बार सेक्स किये हो तो वह बोला 2 बार। मैं इतना सुनते ही मस्त हो गई। और अपनी टांगो को फैला दी ताकि उसको मेरी पैंटी दिख सके। फिर मैं ऐसे ही सेक्सी बातें उससे पूछते रही और वो शरमाकर बताता रहा। और बार बार मेरी पैंटी को देख रहा था। और उसका लन्ड खड़ा हो गया और उसके शॉर्ट्स ।के ऊपर की ओर दिखने लगा।

मैं समझ गई वह अब काफी उत्तेजित हो गया है तो मैं उसका हाथ पकड़ी और अपने ऊपर खिंच ली। और उसके होंठो को चूसने लगी वह। ही मेरा साथ देने लगा तो मैं समझ गई अब मैं।आराम से इससे अपनी चुत की गर्मी शांत कर्व्य सकती हूँ। मैं उससे काफी देर तक किस करते रही। और फिर उसकी टी शर्ट खिंच के निकाल दी। उसका जिस्म बिल्कुल टाइट था।

फिर मैं उसके शॉर्ट्स और अंडरवियर को निकाल दी। दोस्तों उसका लन्ड बहुत बड़ा था। और बिल्कुल गोरा था। इतना गोरा लन्ड मैं जीवन मे नही देखी थी। और उसे नीचे गिरा दी। और मैं अपनी गाउन उतार के फेंक दी और पैंटी भी। और उसके लन्ड पर टूट पड़ी उसका लन्ड इतना मोटा था कि मेरे मुंह मे भी नही आ रहा था। फिर मैं उसके ऊपर आ गई और उसका लन्ड अपने चुत पर सेट कर एक करारा शार्ट मारी और पूरा नीचे तक दबा दी। उसका समूचा लन्ड मेरी चुत में आ गया। तो मैं उछल उछल के चोदने लगी वह भी नीचे से अब शार्ट मारने लगा। मैं 15, 20 मिनट तक ऊपर से ही चुदाई की। और 2 बार झड़ी। दूसरी बार झड़ने के बाद मैं नीचे हुई और उसकी लन्ड चूसने लगी। उसके लन्ड से मेरे चुत की खुशबू मेरी नाक में जा रही थी। थोड़ी ही देर में उसका शरीर ऐंठने लगा और लन्ड से बरसात शुरू हो गई। मैं एक बूंद भी बाहर नही गिरने दी। और सारा माल पी गई।

उस रात मैं सौरव को अपने रूम में ही रोक ली। और रात भर चुदाई की। अब मैं तृप्त हो चुकी थी और सौरव भी खुश था।

फिर हम इंडिया आये तो हमेशा के लिए चुत लन्ड के रिलेशन में हो गए। जब तक हम दोनों उस चैनल में थे। जैम के चुदाई किये। यहां तक कि अक्सर मैं ऑफिस में भी उससे चुद जाती थी।

Meet Women Online!!

तो दोस्तों एक पत्रकार और कैमरामैन कि चुदाई की कहानी कैसी लगी। मुझे कमेंट करना तभी मैं अगली चुदाई की दास्तान लेकर आऊंगी। धन्यवाद।।

 

67% LikesVS
33% Dislikes

One thought on “कैमरामैन कि चुदाई की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *