बस से बेडरूम तक का सफर

 268 

विधवा गर्लफ्रेंड की चुत की तपिश और बस से बेडरूम तक का सफर

यह कहानी उस समय की है जब मैं बस में तिमारपुर से चढ़ा। बस में भीड़ थी तो मैं पीछे जाकर खड़ा हो गया। और मेरे पीछे पीछे और भी लोग बस में चढ़े मैं जब आगे मुड़कर खड़ा हुआ तो देखा मेरे सामने एक बुर्के वाली महिला है बस उसकी आँखें ही दिखाई दे रही थी जो बहुत खूबसूरत थी। उसकी हल्की सी चमड़ी दिख रही थी जो बेहद गोरी और मखमली थी। वह बिल्कुक फिट थी। और फिर हमारी नजरें मिली। और तभी वह भी आगे की ओर मुड़ गई। बस में इतनी भीड़ थी कि उसकी जिस्म मेरे जिस्म से सटा हुआ था। उसकी करारी गांड़ बिल्कुल मेरे पैंट में टच कर रहा था। और बस के हिलने के कारण मेरा लन्ड उसकी गांड़ में टच होने लगा जिसका नतीजा हुआ कि मेरा लन्ड पूरे 7 इंच का हो गया। उस समय मैं कॉटन का ट्राउजर पैंट पहना हुआ था जो थोड़ा लूज़ भी था। अब मेरा लन्ड उसकी गांड़ पर जुम्बिश करने लगा।

थोड़ी देर इस तरह ही रहे मुझे पता था कि उसे भी मेरे लन्ड का एहसास हो रहा है लेकिन वह हिल नही रही थी। तो मुझे कुछ शैतानी सूझी और मैं सोचा जब मजा ही लेना है तो 2 कदम आगे का ट्राई करते हैं और मैं और भी नजदीक हो गया।

लेकिन यह तरकीब शायद काम कर गया था। क्योंकि मैं देखा मेरा लन्ड का उछल कूद उसे शायद पसन्द आ रहा था और वह भी अब और पीछे हो गयी। और कभी कभी गांड़ हिला के लन्ड को रगड़ दे रही थी। https://nightqueenstories.com

अब मैं कमर हिला हिला के लन्ड उसके गांड़ पर रगड़ने लगा। थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि कुछ हो रहा है जब मैं नीचे देखा तो वह अपना हाथ पीछे कर मेरे लन्ड को सहलाने लगी थी। तो मेरा हौसला बढ़ गया और मैं अपना मोबाइल निकाला और उसके कान के पास जाकर धीरे से बोला नम्बर बोलो। तो वह बता दी और मैं सेव कर लिया। और अगले स्टॉप पर वह उतर गई। मुझे आगे जाना था सो मैं बस में ही रहा।

एक विधवा मुस्लिम औरत को बस के सफर से बिस्तर तक पहुँच के कैसे चोदा और उसे कैसे अपनी दुल्हन बनाया

रात को जब मैं घर पहुँचा तो खाना खाने के बाद बिस्तर पर उसके बारे में ही सोचने लगा। और फिर मैं व्हाट्सप्प पर चेक किया तो उसके नम्बर पर व्हाट्सप नही था। मैं मायूश हो गया सोचा कही गलत नम्बर तो नही दे दी है। फिर मैं हिम्मत करके उसको कॉल किया। पहली बार पूरा रिंग हुआ लेकिन कॉल पिक नही हुआ। तो फिर मैं एक बार डायल किया। इस बार कॉल पिक हो गया। लेकिन उधर से कोई बोल नही रहा था। तो मैं ही हेलो बोला। तो उधर से एक महिला की आवाज आई और बोली कौन।

तो मैं बोला आपका दोस्त। तो वह बोली सॉरी कौन दोस्त मैं नही पहचानी। तो मैं बोला मैं आपका नया दोस्त हूँ बस वाला तो वह बोली। ओह आप हैं। कहिए क्यों कॉल किया है। तो मेरी जान में जान आई। और मैं बोला एक दोस्त के पास कोई कॉल क्यो करता है। फिर मैं पूछा कैसी हो आप। तो वह बोली शानदार हूँ। आप कैसे हो तो मैं भी बोल जब मेरी दोस्त शानदार है तो मैं भी शानदार हूँ।

फिर मैं पूछा क्या मैं अपनी गॉर्जियस दोस्त का नाम जान सकता हूँ। तो वह बोली नूरी। मेरा नाम नूरी है। और आपका क्या नाम है। तो मैं बोला मेरा नाम अनुराग सिंह है और प्यार से मुझे लोग पप्पू कहते हैं।

तो वह बोली मैं आपको क्या बुलाऊँ। तो मैं बोला आप इन दोनों के अलावा कोई और नाम दे दो। जो मैं सिर्फ आपके जुबान से सुनु। तो वह बोली बातें तो आप बहुत अच्छी करते हैं। फिर वह बोली ठीक है आज से मैं आपको अनुराग ही बुलाऊंगा क्योंकि यह आप पर सूट करता है और नाम भी अच्छा है।

फिर वह बोली तो अनु आप क्या करते हैं। तो मैं बोला मैं एक प्रिंटिंग प्रेस में मैनेजर हूँ। यही दिल्ली में ही हमारा ऑफिस है। कभी कभी मुझे आगरा और मेरठ भी जाना पड़ता है। क्योंकि वहां का भी काम मैं देखता हूँ। फिर वह मेरे फैमिली के बारे में पूछी। तो मैं बताया कि हम 2 भाई हैं मेरे बड़े भाई मुम्बई में रहते हैं अपनी फैमिली के साथ। और मेरे माँ पिताजी अब इस दुनिया मे नही हैं।

दिल्ली में आप किसके साथ रहते हैं। तो मैं बोला मैं अकेले ही रहता हूँ। मैं तिमारपुर में ही रेंट पर रहता हूँ।

फिर मैं बोला क्या मेरी गॉर्जियस दोस्त अपने बारे में कुछ बताएगी। तो वह बोली मेरे पास बताने के लिए कुछ नही है वेसे आपको मेरा नाम तो पता चल ही गया है। मैं अकेली ही रहती हूँ। दरअसल मैं एक विधवा हूँ। शादी के एक साल बाद ही मेरे हस्बैंड का रोड एक्सीडेंट में डेथ हो गया था। मेरा मायका भी दिल्ली में अंसारी नगर में है लेकिन मैं अपने घर पर रहती हूँ।

तो मैं पूछा आप क्या करती हैं तो वह बोली के मेरा दिल्ली में 2 बड़े बड़े रेस्टोरेंट और 3 मकान है जिसमे से 2 रेंट पर है। और मैं यमुना विहार में अपने घर मे रहती हूँ।

तो मैं पूछा कि आप इतने दौलत वाली हो फिर बस में सफर क्यो तो वह बोली दरअसल आज मैं मजबूरी में बस में सफर कर रही थी। वेसे तो मेरे पास 4 गाड़ियां हैं। लेकिन हुआ ये की मेरे हाथ मे एक जख्म हो गया है जिस कारण मैं गाड़ी नही चला पा रही हूँ। और जाना जरूरी था सो बस में चली गई थी।

नूरी ने जो बस में हरकत की थी वो एक प्यासी और अय्यास औरत वाली थी। लेकिन हम जब बात कर रहे थे तो वो बहुत सुलझी हुई और नापतोल कर बोल रही थी।

उस रात हम पूरी रात बात करते रहे। यहां तक कि हम पहली बार मे ही फोन सेक्स किये। उस रात हम तीन बार फोन सेक्स किए। और अगले दिन हम मिलने का प्लान किये।

तो नूरी बोली कि आप मेरे घर आ जाइए अगले दिन मैं दिन में 10 बजे तैयार होकर निकला और जहाँ बताया था नूरी खुद मुझे अपनी गाड़ी से लेने आई। मैं अभी तक उसे सामने से चेहरा नही देखा था। मैं खड़ा था। और मेरे ठीक सामने एक काले रंग की BMW गाड़ी आकर रुकी। और ग्लास जब डाउन हुआ तो मैं अंदर देखा एक बहुत खूबसूरत महिला ड्राइविंग सीट पर बैठी थी। वो काले रंग का सनग्लास लगाई थी उस कारण और भी ज्यादा वो सेक्सी लग रही थी। वह ब्लू जीन्स और रेड टॉप पहनी थी उसकी गठीला बदन देखते ही ललचाने वाला था।

और फिर उसकी मुँह से कोयल की तरह आवाज आई। क्या आपको लिफ्ट चाहिए और वह मुस्कुरा दी। लेकिन मैं उसकी आवाज पहचान गई। वह कोई और नही नूरी थी। तो मैं बोला यस नूरी जी। और फिर वह मुस्कुराते हुए डोर खोल दी। मैं उसकी गाड़ी में बैठ गया। गाड़ी कुछ सेकंड में ही 100 से ज्यादा स्पीड में दौड़ गया। पहले वह मुझे कनॉट प्लेस ले गई। और एक रेस्टोरेंट में हम लंच किए। फिर वह मुझसे पूछी घूमना है या घर चलें। तो मैं बोला इतना काफी है। और फिर किसी और दिन हम घूमेंगे अब घर चलिए। https://nightqueenstories.com

हम दोनों वहाँ से निकले और अगले 20 मिनट में एक शानदार बड़ा सा घर मे गाड़ी रुकी। वह एक एकड़ में फैला हुआ एक शानदार बंगलो था। जिसमे शानदार गार्डन भी था। हर तरह के फूल लगे हुए थे। फिर वह बोली चलो हम घर पहुच गए ये मेरा घर है।

मैं गाड़ी से निकला और बोला नूरी जी आपका घर शानदार है तो वह बोली अनु हम अच्छे फ्रेंड है तुम मुझे सिर्फ नूरी कहकर बुला सकते हो। मेने कहा ओके नूरी।

और फिर वह मेरा हाथ पकड़ी और घर के अंदर जाने लगी। दरवाजे सेंसर से काम करते थे सो उसके जाते ही खुल गए और जैसे ही हम अंदर गए दरवाजा आने आप लॉक हो गया।

मैं 5 मिनट में ही झड़ गया तो नूरी बोली इतनी जल्दी अगर मेरे चुत में झड़ गए होते तो मैं तुम्हारा कत्ल कर देती

जैसे ही हम अंदर गए नूरी मुझपर टूट पड़ी वह गाड़ी का चाभी एक तरफ उछाली थी और उछल कर मेरे गोद मे आ गई थी। और मुझे किस करने लगी। मैं भी उसका पूरा साथ देने लगा। हम बेतहाशा एक दूसरे को किस किये जा रहे थे।

वह बहुत चुदासी थी। रात को हमदोंनो के फोन सेक्स ने नूरी के चुत में आग लगा दी थी। और फिर मेरी ऑंखें खुली तो देखा सामने रूम में शानदार बिस्तर है। मैं उसे गोद मे उठाये हुए उसे किस करते हुए उस तरफ बढ़ गया और उसको बिस्तर पर पटक दिया तो वह मुझे खिंच ली। और मेरे होंठो को फिर से चूसने लगी। उसकी जुबान मेरे मुँह में आ गई और मैं चूसने लगा।

फिर वह मुझे नीचे की और खुद ऊपर आ गई और अपनी टॉप उतार दी। वह ब्रा नही पहनी थी। लेकिन उसकी चुचियाँ बिल्कुल टाइट थी। और फिर वह मेरी शर्ट को उतारने लगी। और फिर मेरे जीन्स को उतारकर अलग कर दी। साथ मे वह मेरे अंडरवियर को भी उतारी थी। और फिर वह मेरे लन्ड पर टूट पड़ी। मेरे लन्ड को पकड़कर मेरे सुपाड़े पर ढेर सारा थूक दी। और हिलाने लगी। उसकी इस हरकत ने मेरे शरीर मे चुदाई का ज्वालामुखी फोड़ दिया था। अब वह मेरे अंडकोषों को भी चाटने लगी। दोस्तों वह लन्ड की सच मे बहुत भूखी थी। फिर वह अपना जीन्स और ब्लू रंग की पैंटी उतारी और और उल्टा हो गई और मेरे मुँह पर चुत रख दी।

और आगे झुककर मेरे लन्ड को चूसने लगी। वह मेरे मुँह पर चुत तेजी से रगड़ रही थी। उसकी चुत पर एक भी झांट नही थे वह आज ही चुत को साफ की थी। उसकी चुत से एक मदहोश करने वाली खुशबू मेरी नाक में आ रही थी।

अभी 5 मिनट भी नही हुए थे कि मेरा लन्ड पानी छोड़ दिया। और फिर वो पूरा वीर्य पी गई और चाटकर लन्ड को भी साफ की। और सीधी हुई तो बोली साले अच्छा हुआ अभी ही झड़ गया अगर मेरी चुत में इतना जल्दी झड़ता तो मैं तेरा कत्ल कर देती।

और हँसने लगी। और बोली मैं खुद चाहती थी तुम मेरी चुत में लन्ड डालने से पहले ही एक बार झड़ जाओ।

नूरी ने रेड वाइन मेरे लन्ड पर उड़ेल दी और उसे चूसने लगी

फिर वह उठी और रूम से बाहर जाने लगी दोस्तों उसकी जिस्म पीछे से किसी कयामत से कम नही लग रही थी। इतना सुडौल साँचे में ढला जिस्म मैं पहले कभी नही देखा था। फिर वह 2 मिनट में ही वापस आयी तो उसके हाथ मे रेड वाइन की बोतल और 2 ग्लास थे। फिर वह रेड वाइन मुझे भी सर्व की हमदोंनो बिल्कुल नंगे थे। तो मैं उसके हाथ से वाइन का गिलास पकड़ते हुए उसकी चुत को रगड़ दिया। वह आहहहहहहहहहहहहहहहहह… की।

फिर हम चिर्यस कर पीने लगे। हम धीरे धीरे पी रहे थे। वो अभी आधी ग्लास ही खाली की थी फिर वह सीधी हुई और मेरे हाथ से मेरा ग्लास पकड़ ली और दूसरे तरफ रख दी। और मेरी उंगलियो को अपने ग्लास में डुबोई और मेरे उंगलियो को चूसने लगी।

नूरी चिल्लाई चोदो अनु अब मत तड़पाओ चोदो मेरी चुत

उसकी इस हरकत से साफ हो गया था कि वह चुत चुदवाने की बहुत शौकीन है। फिर वह मुझे धक्का देकर बेड पर लेटा दी और मेरे लन्ड पर शराब उड़ेल दी और मुँह में लेकर चूसने लगी। क्या बताऊँ दोस्तों जीवन मे यह अनुभव मैं पहली बार कर रहा था।

अब जोर जोर से वह मेरे लन्ड को चूसने लगी। मेरा लन्ड भी अब पूरे जोश में आ चुका था। तो वह बोली अब नही रहा जा रहा तुम मुझे चोदो। और मुझे पकड़कर उठाई और खुद घुटनो के बल कुतिया बन गई और बोली डाल दो अपना लन्ड मेरी चुत में।

मैं भी बिना देरी के उसके चुत पर लन्ड रखा और एक धक्का मारा मेरा आधा लन्ड उसकी चुत में समा गया और दूसरे धक्के में पूरा लन्ड जड़ तक उसकी चुत में उतर चुका था।

तभी वह चिल्लाई चोदो अनु अब मत तड़पाओ चोदो मेरी चुत मैं भी बिना देर जोर जोर से चोदने लगा। वह चिल्लाने लगी। उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. ओहहहहहहह हहहहहहह…… आह हहहहहहहहहहहहह….. इरर्राहहहहहहहहह.. चोदो मेरी जान चोदो…. आआआहहहहहहह चोदो मेरी चुत। चोदो इरर्राहहहहहहहहहहहहहह…….. जोर से अनु और जोर से चोदो।.. आहहहहहहहहहहहहहहह……

आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ईईर्ररर्राहहहहहहहहह… ऊँहऊँहऊँहउहहहहहहहहहहह बेबी…..

मैं लगातार उसकी चुत मारे जा रहा था और उसकी चुत से फच फचक की आवाज आ रही थी। यह चुदाई पिछले 20, 25 मिनट से चल रहा था। इस दौरान वह 3 बार झड़ चुकी थी और चौथी बार झड़ने वाली थी तो वह बोली राजा तुम्हारा कब निकलेगा पानी मैं फिर से झड़ने वाली हूँ। अब मैं तुम्हारे लंड का पानी चुत में लेना चाहती हूँ चोदो जल्दी जल्दी

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह… और 8, 10 धक्कों के बाद मेरा लन्ड और उसकी चुत एक साथ पानी छोड़ दिये। मैं उसके चुत में ही झड़ गया था। वह बोली मुझे जोर से दबाव उपर से। मैं उसे बाहों में जकड़ लिया उसकी चुचियाँ भी मेरे हाथों में दब चुकी थी। हम दोनों हांफ रहे थे।

फिर हम 10 मिनट बाद अलग हुए और फिर हमदोंनो एक दूसरे को किस करने लगे। और एक और राउंड की चुदाई किए। उस दिन मैं रात को भी उसी के यहां रुका। और हम नंगे ही रहे। जबरदस्त चुदाई का खेल चला। अब नूरी मेरी वाइफ है हमदोंनो शादी कर चुके हैं। https://nightqueenstories.com

Meet Women Online!!

तो दोस्तों यह थी बस से बिस्तर तक का सफर। कहानी आपको कैसे लगी कमेंट में लिखना और कहानी को लाइक और शेयर करना। मैं जल्द ही एक और चुदाई की कहानी लेकर आऊंगा। तब तक के लिए नमस्कार।

 

80% LikesVS
20% Dislikes

One thought on “बस से बेडरूम तक का सफर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *