रिश्तों की टूटती मर्यादा

 171 

रिश्तों की टूटती मर्यादा: बुआ के चूत में भतीजे के लन्ड का रेल

https://nightqueenstories.com/ के सभी पाठकों और मेरे प्रिय मित्रों को मेरा सादर नमस्कार। कैसे हो दोस्तों उम्मीद करता हूँ अच्छे होंगे। फ्रेंड्स मेरा नाम शांतनु गर्ग है मैं बिहार के कटिहार का रहने वाला हूँ। लेकिन पटना में रहता हूँ मेरे पिताजी रेलवे में अधिकारी हैं। हम 2 भाई एक बहन है मेरे बड़े भाई की रेलवे में ही नौकरी लग गई है वो भी पटना में ही तैनात हैं। मेरी बहन की शादी एक IPS ऑफिसर से हुई है। मेरी मॉम हाउस वाइफ हैं।

मैं अभी 18 साल का हूँ और यह कहानी चंद दिनों पहले का है। यह कहानी है मेरी बुआ और मेरे बीच हुई चुदाई की। मेरी बुआ रेलवे में क्लास 1 अधिकारी हैं। और उनकी पोस्टिंग झारखंड के धनबाद में है। मेरी बुआ की एक लड़की है जो विदेश में रहती है। वह US में पढ़ाई कर रही है। मेरे फूफा जी का 11 साल पहले देहांत हो गया है। उनको कैंसर था और लाख कोशिश के बाद भी वह नही बचे।

मेरी बुआ की उम्र 41 साल है। और उनका नाम सुमन लता है। और वह 6 फिट की लंबी चौड़ी औरत हैं। खूबसूरती उन्हें विरासत में मिला है क्योंकि मेरी दादी भी बेहद खूबसूरत थी। आप सब को पता है कोविड कि वजह से स्कूल कॉलेज का क्या हाल है। मेरी भी छुट्टी चल रही थी। एक बार मैं माँ और डैड बुआ से मिलने धनबाद गए। तो वापसी में सुमन बुआ मेर मॉम डैड से बोली कि शांतनु को कुछ दिन रहने दीजिए यहां घूम फिर लेगा बहुत दिनों से मैं भी अकेली हूँ मेरा भी मन लग जाएगा। तो मेरी मॉम बोली ठीक है। फिर माँ डैड चले गए। अब मैं और बुआ ही थे। बुआ ऑफिस जाती थी उनका कोई फिक्स टाइमिंग नही था वह तो 24 घंटे कभी भी इमरजेंसी में ड्यूटी जाती थी लेकिन जनरली 12 बजे तक आफिस जाती थी और शाम 4 बजे से कभी कभी रात 9 , 10 बजे तक भी वापिस आती थी। लेकिन जबसे मैं आया था वह मुझे कम ही अकेले छोड़ती थी। और जब वो ऑफिस जाती थी तो उनके रेलवे के कर्मचारी मेरा हुक्म बजाने के लिए खड़े रहते थे।

कैसे बुआ अपनी चूत की वर्षों से धधक रही ज्वाला को मेरे जवान कड़क लन्ड से शांत की

वैसे मैं दिन भर घर मे अकेले बोर भी हो जाता था। लेकिन मुझे https://nightqueenstories.com/ पर चुदाई की कहानी पढ़ने की लत लग चुकी थी। सो मैं जब भी अकेले रहता था चुदाई की मस्त कहानियां पढ़ते रहता। एक दिन कहानी पढ़ते पढ़ते एक कहानी मिली जो बुआ भतीजे की चुदाई की कहानी थी। और वह भी बुआ काफी ज्यादा उम्र और भतीजा कम उम्र का था। क्या बताऊँ दोस्तों ऐसा लग जैसे वह कहानी मेरे और बुआ के बीच की लिखी गई है। उस दिन से मेरी जिंदगी बदल गई। अब मेरे अंदर एक नया आत्मविस्वास आ गया। और खूद को जवान समझने लगा। और उस दिन से मेरे बुआ के प्रति मेरा सोच भी बदल गया। अब बुआ में मुझे एक सेक्सी औरत दिखाई देने लगी जिसको चोदने का मैं कल्पना करने लगा। मैं जब भी चुदाई की कहानियां पढ़ता बस बुआ भतीजे की कहानियां ढूंढने लगता।

बुआ मुझे छोटा बच्चा समझती थी इस कारण वो बेझिझक मेरे सामने कपड़े बदलने लगती। मेरे सामने बाथरूम से तौलिया लपेट के निकलती और कपड़े पहनने लगती। लेकिन अब मैं उन्हें गौर से देखने लगता और हमेशा इसी फिराक में रहता कि उनकी चूत, चुचियाँ, मोटी जांघे या उनकी बड़ी से करारेदार गांड दिख जाए। जो कभी कभी मुझे दर्शन हो भी जाते थे। अब अक्सर मैं बुआ के पैंटी में मुठ मारने लगा और वापिस वाश करके रख देता। लेकिन एक दिन मैं बुआ के पैंटी में मुठ मारा और उसे वाश करना भूल गया। और जब दूसरे दिन बुआ पैंटी पहनने लगी तो उसपर उनको वीर्य दिखाई दे दिया। लेकिन बुआ कुछ नही बोली और अब अक्सर ऐसा होने लगा कि मैं बुआ के पैंटी में मुठ मारता और उसे बिना वाश किये रख देता। धीरे धीरे बुआ इसपर हँसने लगी। वो जब भी मेरा वीर्य अपने पैंटी पर देखती हँसने लगती मैं इस चीज को चुप चुप के देखता था। अब तो ये आलम था कि बुआ को देखते ही मेरा लन्ड सलामी मारने लगता था।

बुआ के व्हाइट मिल्की चुचियो के गहरे निप्पल को देखकर मैं पागल हो गया और बाथरूम में जाकर मुठ मार के लन्ड का गर्मी निकाला

और तभी बुआ की तबियत खराब हो गई। मैं बहुत उदास हो गया क्योंकि 2 दिन से मुझे बुआ के कपड़े बदलती हुए अच्छे से देखने को नही मिला था। उस दिन डॉक्टर घर पर आए थे और बुआ को चेकप कर दवा दिए। और ब्लड निकालकर टेस्ट के लिए ले गए। शाम को रिपोर्ट आया तो उनको टाइफाइड और जॉन्डिस था। तो डॉक्टर उन्हें कुछ दिन आराम करने का सलाह दिया। बुआ अब घर मे ही रहने लगी और मैं उनका ख्याल रखने लगा चुकी बुआ मुझे भी बहुत मानती थी इसलिए मैं भी बुआ का भरपूर ख्याल रख रहा था। ऐसे ही 3 दिन बीत गए और तीसरे दिन बुआ को रात 1 बजे तेज फीवर हो गया बुआ की शरीर तप रहा था। जबसे बुआ की तबियत खराब थी मैं बुआ के पास ही सोता था। तो मुझे समझ नही आ रहा था कि मैं क्या करूँ। तेज बुखार के कारण बुआ पूरी तरह होश में नही थी। तो मैं माँ को कॉल किया और बताया कि बुआ की तबियत ठीक नही है और उनका शरीर तप रहा है। तो माँ वीडियो कॉल करने बोली और मुझे बताने लगी कि क्या करना है। और मैं उनके बताए अनुसार बुआ के सर पे ठंडे पानी का पट्टी करने लगा। और फीवर की दवा भी खिला दिया था। थोड़ी देर में बुआ की फीवर कम होने लगा। तो बुआ को नींद आ गई।

पट्टी करते समय ही मेरी नजर बुआ के चुचियो पर गई थी। लूज गाउन में उनकी व्हाइट मिल्की चुचियो पर गहरे रंग का निप्पल साफ देखा था मैं। फिर बुआ जब सो गई तो मैं बाथरूम में जाकर मुठ मारा। अगले 2,3 दिन ऐसे ही बीता और मैं बुआ का खूब ख्याल रखा अब बुआ धीरे धीरे ठीक होने लगी। लेकिन उन्हें बहुत कमजोरी महसूस होने लगा। बुआ थोड़ा सुस्त रहती थी। तो एक दिन माँ बुआ को बोली कि सुमन तुम पटना आ जाओ जब तक पूरी तरह से ठीक नही हो जाती। लेकिन बुआ किसी को परेशान नही करना चाहती थी तो वह मना कर दी। तो माँ मुझसे बोली कि बेटा बुआ बहुत कमजोर हो गई हैं उनका ख्याल रखो वो भी एक तरह से तुम्हारी माँ ही है तो अच्छे से ख्याल रखो और शाम सुबह हो सके तो उनकी हाथ पैरों को तेल से मालिश करो और शरीर दबा दिया करो ताकि उनकी कमजोरी कम हो।

तो मैं उसी दिन से बुआ को तेल मालिश शुरू कर दिया। और अब जब मुझे उनकी पैरों जांघो को टच करने का मौका मिला तो मेरे अंदर की शैतान भी जागने लगा। अब मैं रोज बुआ का मालिश करने लगा मैं उनकी शरीर का भी मालिश करने लगा और तब वो नंगी होती थी बस केवल गांड पर और चुचियो पर तौलिया रख लेती थी। मैं कई बार उनकी चूत गांड और चुचियो को टच भी कर देता था। धीरे धीरे बुआ ठीक होने लगी। और इसी तरह 4,5 दिन बीत गए। अब बुआ पूरी तरह स्वस्थ फील कर रही थी।

तो एक दिन मैं ऐसे ही बुआ को मालिश कर रहा था बुआ पूरा नंगा थी और जब वो पेट के बल थी तो मैं मालिश करते हुए उनके चूत को जबरदस्त टच किया जिससे बुआ मचल गई। मैं महसूस किया था बुआ की चूत गीली हो चुकी थी और बहुत गर्म थी। मेरे उंगलियों में उनकी चुत का पानी लग चुका था। और जब मालिश खत्म कर मैं उठने लगा तभी बुआ झट से मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपनी ऊपर खींच ली मुझे कुछ भी समझ में आता उससे पहले ही बुआ अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दी और चूसने लगी। यह देख मैं चौंक गया मैं भी मौके का फायदा उठाया और उनको दबोच कर उन्हें किस करने लगा अब बुआ जोर से सिसकारियां लेने लगीं https://nightqueenstories.com/

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई.. सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई थोड़ी देर बाद बुआ ने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और उसको पैंट के ऊपर से ही सहलाने और रगड़ने लगीं बुआ का नंगा बदन संगमरमर से चमक रहा था वह बहुत खूबसूरत लग रही थीं अब मैं उनके बदन को एकटक निहारने लगा और फिर चाटते हुए किस करने लगा।

बुआ बोली बेटा कब तक अपनी बुआ को तड़पायेगा मुझपर रहम कर अपना मोटा लन्ड मेरी चूत में डालकर मेरी वर्षों की सूखी चूत में लन्ड के पानी की बरसात कर दे

काफी देर तक मैं उनको चाटा और किस किया अब वो पूरी गर्म हो चुकी थी सो उन्होंने मुझे नीचे धकेला और मेरे सारे कपड़े एक झटके में उतार दिए। मेरा तो खड़ा लन्ड उनके सामने सलामी देने लगा। मेरे मोटे लन्ड को देखते ही बुआ मुंह में ले ली और मस्त हो के चूसने लगीं अब मैं उनके दोनों चूचियां को पकड़ कर मसलने लगा। थोड़ी देर बाद हम 69 की पोजीशन में आ गए जैसे ही मैंने बुआ की चूत पर अपनी जीभ लगाया वह कांप उठीं मैं उनकी चूत चाटने लगा बीच – बीच में मैं अपने होंठों से उनकी चुत के दाने पकड़ के खींच लेता था जिससे वो एक दम उत्तेजित हो जातीं। वो https://nightqueenstories.com/

सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. आहहहहहहहहहहहहहहहहह….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई….. ओहहहहहहहहहहहहहहहहह…. उममहःहहहहहहहहहहहहहहहह….सससीईईईईईईसससीईईईईईई कर रही थी।

फिर मैंने अपनी जीभ को टाइट और नुकीला किया और बुआ के चूत में घुसेड़ दिया और तेज तेज अंदर बाहर करने लगा उनकी चूत से नमकीन पानी रिस रहा था जिसे मैं पूरा चाट कर मजे दे रहा था अब वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और उनसे रहा नहीं गया तो उन्होंने मेरा लन्ड छोड़ दिया और कहा बेटा कब तक अपनी बुआ को तड़पायेगा मुझपर रहम कर अब मुझसे बर्दाश्त नही हो रहा अब और देर मत करो जल्दी से अपना मोटा लन्ड मेरी चुत में घुसेड़ डालो और मेरी चुत की वर्षों की प्यास बुझा दो।

इतना सुनते ही मैं सीधा हुआ और लन्ड को उनकी चूत के छेद पर रख दिया। और जोरदार धक्का मारा मेरा लन्ड बुआ के चुत को चीरता हुआ उनकी चूत में समा गया सालों से ना चुदने की वजह से उन्हें थोड़ा दर्द हुआ लेकिन वह पहले भी चुद चुकीं थीं इसलिए उन्हें सब पता था कि आगे तो जन्नत का मजा है उनकी चूत सच में बहुत टाइट थी लग रहा था जैसे बुआ पहली बार चुदवा रही हो। अब मैं जोर जोर से धक्के लगा के उनको चोदने लगा मेरे हर धक्के के साथ बुआ आहहहहहहहहहहहहहहह ह आहहहहहहहहहहहहहहह.. ऊहहहहहहहहहहहहहहहहह ऊहहहहहहहहहहहहहहह ऊफ आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii .. और जोर से चोद चोद मुझे।।। ..आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii अपने बुआ को रंडी बना ले अपनी .. और जोर से चोद.. आह फाड़ डाल मेरी चुत। आहहहहहहहहह मेरा सोना बेटा … आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii .. और जोर से चोद चोद मुझे।।। ..आहहहहहहहहहहहहहहहहहः ओहहहहहहहहहहहहहहहहह iiiसससीईईईईईईiii.. और जोर से चोद.. आह फाड़ डाल मेरी चुत। आहहहहहहहहह मेरे राजा… चोदो जोर से……. आहहहहहहहहहहहहह पूरे ताकत से चोदो…. मेरी चुत को फाड़ डालो…..

मैं जोर जोर से दीदी को चोदे जा रहा था। वो भी गांड उठा उठा के नीचे से धक्के दे रही थी और मैं ऊपर से पूरा प्रहार कर रहा था बस कमरे में आहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहह उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ आहहहहहहहहहहहहह की आवाजें गूंज रही थी।

बुआ बोली बेटा आज तूने अपनी बुआ की चूत की वर्षो की प्यास बुझाकर तृप्त कर दिया आज से तू ही इस चूत का मालिक है

बुआ के चूत से फच फच की आवाज आ रही थी। बुआ लगातार आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह फक बेटा फक हार्ड.. आहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह आहहहहहहहहहहहहह बेटा चोदो अपनी बुआ को फाड़ दो अपनी बुआ की चुत उफ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़फ़ की आवाज निकाल कर मेरा जोश बढ़ा रही थी। मैं लगातार तेज तेज धक्के पे धक्के दे रहा था और साथ में ही उनके चुचियाँ भी मसल रहा था। वो एकदम पागल हो चुकी थी और मुझे बोल रही थी। चोदो बेटा चोदो। मेरी चुत चोदो अपनी बुआ की प्यासी चुत को चोदके सारा पानी निकाल दो। तेरी बुआ की चुत बहुत प्यासी है। लन्ड की भूखी है। चोद मेरे राजा। आहहहहहहहहहहहहहहहह मैं पिछले 35 मिनट से बुआ को ताबड़तोड़ चोद रहा था। बुआ 5 बार खड़ चुकी थी और अंत मे जब मुझे लगा कि मैं भी झड़ जाऊंगा तो मैं बोला बुआ मेरा लन्ड पानी छोड़ने वाला है तो बुआ बोली बेटा अपना लन्ड मेरी मुँह में दे मैं तुम्हारे लंड का पहला पानी पीना चाहती हूँ और मैं झटके में लन्ड चूत से खिंचा और बुआ के मुँह में दे दिया बुआ आगे पीछे कर चूसने लगी और मेरा लन्ड बुआ के मुँह में माल छोड़ने लगा। बुआ सारा वीर्य पी गई। मेरी सांसे तेज चल रही थी तो मैं बुआ को पकड़ा और उनकी चुचियो में मुँह छिपा के लेट गया। वो भी मुझे प्यार से सहलाने लगी। बुआ तृप्त हो चुकी थी। सालो बाद बुआ की जोरदार चुदाई हुई थी।

अब तो मैं और बुआ पति पत्नी की तरह घर मे रहते हैं साथ नंगे सोते हैं और जम के चुदाई करते हैं। बुआ मुझपर बहुत दौलत लुटाती है और वह मेरे मॉम डैड से बात करके हमेशा के लिए अपने पास रख ली।

तो दोस्तों कमेंट करके मुझे जरूर बताना की यह बुआ भतीजे की चुदाई कैसी लगी। कहानी को लाइक और शेयर करना मत भूलना। तो मिलते हैं किसी अगले कहानी में। और ऐसे ही अन्य कहानियों के लिए https://nightqueenstories.com के अन्य पेज पर विजिट करें।

इस तरह की और कहानियाँ पाने के लिए nightqueenstories.com पर जाएं।

कमेंट और लाइक करना न भूलें।

मेरी अगली कहानी का शीर्षक है “एक अनोखी चुदाई”

धन्यवाद।

नमस्कार।।

50% LikesVS
50% Dislikes

One thought on “रिश्तों की टूटती मर्यादा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *